अन्य संस्कारों के समान कर्णवेध संस्कार का भी बहुत अधिक महत्त्व माना गया है। इस संस्कार के अंतर्गत बालक एवं बालिका के कानों को छिदवाया जाता है। बालिकाओं का कान छिदवाने के साथ-साथ नाक भी छिदवाया जाता है। पुरुष को पूर्ण पुरुषत्व तथा स्त्री को पूर्ण स्त्रीत्व की प्राप्ति हो, इसके लिये कर्णवेध संस्कार किया जाता था। अन्य संस्कारों की भांति इसे भी आवश्यक माना जाता था। प्राचीन काल में कर्णवेध की इतनी अधिक महत्ता मानी गई है कि जिस व्यक्ति का कर्णवेधन संस्कार नहीं किया जाता, उसे शास्त्रों में श्राद्ध का अधिकारी ही नहीं माना जाता। बालक के जन्म के छः मास से लेकर सोलहवें मास तक अथवा तीन-पांच अथवा सात आदि विषम वर्षों में अथवा कुल की रीत-परंपरा के अनुसार कर्णवेधन संस्कार किया जाना आवश्यक बताया गया है। प्रत्येक संस्कार को करने के पीछे उसके लिए ठोस तथा अकाट्य कारण बताये गये हैं। कर्णवेध संस्कार को किये जाने के भी कुछ कारण बताये गये हैं जिन्हें समझ लेना आवश्यक होगा। भगवान सूर्यदेव समस्त सृष्टि के प्राणियों को नवजीवन प्रदान करने वाले देव हैं। कर्णछेदन के पीछे भी यह धारणा प्रमुख है। सूर्य की किरणें कानों के छिद्र से प्रविष्ट होकर बालक अथवा बालिका को पवित्र करें, तेज संपन्न बनायें, इसलिये कानों को छिदवाना आवश्यक बताया गया है। प्रारंभ में वर्ण व्यवस्था होने के कारण प्रत्येक कार्य में वर्ण के महत्व को देखा जाता था और उसी के अनुरूप ही कार्य संपन्न किये जाते थे। इस स्थिति को कर्णवेध संस्कार में भी देखा गया है। इसलिये ब्राह्मण तथा वैश्य का कर्णवेधन रजतशलाका (चांदी की सुई) से, क्षत्रिय का स्वर्णशलाका (सोने की सुई) से तथा शूद्र का लौहशलाका (लोहे की सुई) से कान छेदने का विधान बताया गया है। आजकल लोग अपनी सुविधा के अनुसार स्वर्ण, रजत अथवा लोहे की सुई से काना छिदवा लेते हैं किंतु शास्त्रों में उल्लेख है कि वैभवशाली लोगों को अपने बच्चों के कान छिदवाने की क्रिया स्वर्णशलाका से ही संपन्न करनी चाहिए। प्रारंभ में इस क्रिया को शुभ समय में देवताओं का पूजन करने के पश्चात सूर्यदेव की पवित्र किरणों में बालक अथवा बालिका का कान छिदवाया जाता था। इस क्रिया के अंतर्गत अग्रांकित मंत्र द्वारा अभिमंत्रण किया जाता था- भद्रं कर्णेभिः श्रृणुयाम देवा भद्रं पश्येमाक्ष-भिर्यजन्नाः। स्थिरै रगैंस्तुष्टवां सस्तनूभिव्र्यशेमहि देवहितं यदायुः।। इसके पश्चात बालक के पहले दाहिने कान में, इसके पश्चात बायें कान में छिद्र किया जाता है। बालिका के पहले बायें कान में, तत्पश्चात दायें कान में छिद्र किया जाता है। इसी के साथ बायीं नासिका में छेद करने का विधान है। छिद्र करने के तत्काल पश्चात कानों में रजत की छोटी शलाका डालकर उस पर हल्दी को तिल के तेल में डालकर कान पर लेपन किया जाता था ताकि किये गये छिद्र बंद न हो जायें। जो रजत शलाका का प्रयोग नहीं कर पाते थे वे लकड़ी की बारीक सींक को उपयोग में लाया करते हैं। इसके तीन दिन बाद बालक-बालिका को स्नान करवाया जाता है। कहीं-कहीं पर यह तीन के स्थान पर सात दिन बाद किया जाता है। इसके पश्चात् बालकों को कुंडल तथा बालिकाओं को कर्णाभूषण के रूप में बालियां एवं नाक में लौंग धारण करवाई जाती है।


वास्तु विशेषांक  दिसम्बर 2014

फ्यूचर समाचार के वास्तु विषेषांक में अनेक रोचक व ज्ञानवर्धक लेख जैसे भवन और वास्तु, वास्तु शास्त्र का वैदिक स्वरूप, वास्तु शास्त्र के मूलभूत तत्व, वास्तु शास्त्र व दाम्पत्य जीवन, उद्योग धन्धे क्यों बन्द हो जाते हैं?, फ्लैट/प्लाॅट खरीदने हेतु वास्तु तथ्य, अनुभूत प्रयोग एवं सूत्र, वास्तु सम्मत सीढ़ियां भी देती हैं सफलता, घर में क्या न करें?, विभिन्न दिषाओं में रसोईघर, वास्तुदोष समाधान, वास्तु संबंधी कहावतें, वास्तु दोष दूर करने के सरल उपाय, पंचतत्व का महत्व तथा स्वास्थ्य संबंधी वास्तु टिप्स। इसके अतिरिक्त वास्तु पर हुए एक शोध कार्य पर लिखा गया सम्पादकीय, करियर परिचर्चा, सुखी दाम्पत्य जीवन का आधार: शादी के सात वचन, सत्य कथा, हैल्थ कैप्सूल, पावन स्थल में बांसवाड़ा का प्राचीन मां त्रिपुरासुन्दरी मन्दिर, ज्योतिष व महिलाएं तथा ग्रह स्थिति एवं व्यापार, पंचपक्षी के रहस्य, मंत्र व तंत्र साधना का स्वरूप, कर्णबेधन संस्कार, गृह सज्जा एवं वास्तु फेंगसुई आदि लेखों को समायोजित किया गया है।स्थायी स्तम्भ विचार गोष्ठी के अन्तर्गत ‘पिरामिड का वास्तु में प्रयोग’ विषय पर विभिन्न विद्वानों के विचारों को प्रस्तुत किया गया है। आषा है फ्यूचर समाचार के पाठकों को यह विषेषांक विषेष पसंद आयेगा।

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.