कुछ उपयोगी टोटके

कुछ उपयोगी टोटके  

कुछ उपयोगी टोटके डाॅ. उर्वशी बंधु छोटे-छोटे उपाय हर घर में लोग जानते हैं, पर उनकी विधिवत् जानकारी के अभाव में वे उनके लाभ से वंचित रह जाते हैं। इस लोकप्रिय स्तंभ में उपयोगी टोटक धन समृद्धि में वृद्धि हेतु स महालक्ष्मी की पूजा में एक छहमुखी रुद्राक्ष चांदी की कटोरी में रखें और पूजन कर मां के चरणों में अर्पित करने के उपरांत आने वाली द्वितीया तिथि को उसे श्रद्धा से गले में धारण कर लें। चमत्कार अनुभव करेंगे, शीघ्र ही धनागमन शुरू हो जाएगा। गृह क्लेश निवारण हेतु स दीपावली के दिन शुरू करके प्रत्येक महीने के प्रथम शुक्रवार को नौ साल से छोटी कन्या को देवी स्वरूप समझ कर भोजन कराएं और दान-दक्षिणा भी दें। उसके चरण धोकर उस जल को अपने घर में छिड़कें, लाभ होगा। भाग्य वृद्धि के लिए स धनतेरस के दिन चांदी की कम से कम 6 ग्राम की दो ठोस गोलियां बनवाएं और दीपावली के दिन उनकी पूजा-अर्चना कर सदैव अपने पास रखें। भाग्य में वृद्धि होगी, धीरे-धीरे सभी कार्य सफल होते जाएंगे। स दीपावली के दूसरे दिन पीपल के पांच पŸो लेकर सूखे कुएं में डाल दें व कुएं को पीछे मुड़कर देखे बिना वापस आ जाएं, शीघ्र ही धन लाभ होगा। स दीपावली के दिन पर काली हल्दी का पूजन करें और श्रीं श्रीं मंत्र का कमलगट्टे की माला से 108 बार जप कर लाल कपड़े में बांधकर तिजोरी में रखें। धन में वृद्धि होगी, किसी प्रकार की कमी नहीं होगी। मनोकामना पूर्ति के लिए स दीपावली के दिन लक्ष्मी पूजन में घी के 21 दीपकों का प्रयोग करें। इनमें 20 दीपक सामान्य व एक दीपक बड़ा रखें। बड़े दीपक में पांच काली गुंजा भी रखें। प्रातः काल इन काली गंुजाओं को भी लक्ष्मी का प्रसाद समझकर धन स्थान में रखें। पूजन के समय अपनी मनोकामना एक सफेद कागज पर लाल पेन से लिखकर लक्ष्मीनारायण के चरणों में रखें व अपनी मनोकामना पूर्ण करने की प्रार्थना करें या कोई प्रतिज्ञा करें, जैसे- प्रतिदिन मंदिर जाना, घर में हवन या कीर्तन करना या गरीबों को भोजन कराना। मनोकामना शीघ्र पूर्ण होगी। स अगर धन संचय नहीं हो पा रहा हो तो दीपावली के दिन लाल रेशमी रुमाल में हत्था जोड़ी, लौंग और कपूर बांधकर अपने घर में रख दें, धन निरंतर बढ़ता जाएगा। व्यापार में उन्नति हेतु स दीपावली के दिन दुकान में कमलगट्टे की माला बिछाकर उसके ऊपर धनदा यंत्र व भगवती लक्ष्मी का चित्र स्थापित करें। व्यापार में निरंतर उन्नति होती है। स दीपावली के दिन गणेश शंख स्थापित करें। चांदी की थाली में चावल (साबुत) रखें, केसर का तिलक लगाएं, देसी घी का दीपक और गुलाब की अगरबŸाी जलाएं, खीर का भोग लगाएं। फिर मूंगा, मोती या शंख की माला से निम्न मंत्र का एक माला जप प्रतिदिन श्रद्धापूर्वक करें, ‘‘¬ नमः गणेश शंखायः मम गृह धन वर्षा कुरु-कुरु स्वाहा।’’ इससे ऋिद्धि-सिद्धि का भंडार भरा रहता है। इस मंत्र के प्रभाव से बंद उद्योग भी चल पड़ते हैं। घर में लक्ष्मी का स्थायी वास हो जाता है तथा कर्ज, वास्तु दोष और दुःख से मुक्ति मिलती है। यह एक चमत्कारिक टोटका है। स दीपावली पूजन के समय मां लक्ष्मी की पुरानी तस्वीर पर अपनी पत्नी के द्वारा पूर्ण सुहाग सामग्री में इत्र डालकर अर्पित करवाएं। अगली सुबह पत्नी स्नानादि से निवृत्त होकर पूजा-अर्चना करंे और मां लक्ष्मी को चढ़ाई गई सुहाग सामग्री को लक्ष्मी कृपा मान कर प्रयोग करें। पूजा करते समय घर में स्थायी रूप से वास करने की लक्ष्मी से प्रार्थना करें। यह एक अचूक टोटका है। इसके फलस्वरूप वर्ष भर मां लक्ष्मी की कृपा बनी रहती है। स दीपावली के दिन खीर, पूड़ी का भोग लगाएं। सूजी के हलवे का भोग भी लगा सकते हैं। इससे वर्ष भर सुख-समृद्धि बनी रहती है।



दीपावली विशेषांक  अकतूबर 2008

पंच पर्व दीपावली त्यौहार का पौराणिक एवं व्यावहारिक महत्व, दीपावली पूजन के लिए मुहूर्त विश्लेषण, सुख समृद्धि हेतु लक्ष्मी जी की उपासना विधि, दीपावली की रात किये जाने वाले महत्वपूर्ण अनुष्ठान एवं पूजा, दीपावली पर विशेष रूप से पूज्य यंत्र एवं उनका महत्व

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.