सुखी दांपत्य जीवन का आधार शादी के 7 वचन

सुखी दांपत्य जीवन का आधार शादी के 7 वचन  

प्राचीनकाल से हिंदू समाज में सात वचनों का बहुत अधिक प्रभाव रहा है। ये सात वचन वर एवं वधू को सुखी दांपत्य जीवन की ओर प्रेरित करते हैं। चूंकि विवाह संपन्न होने के साथ ही कन्या अपने पिता का घर छोड़कर अपने पति के यहां जाती है इस कारण वह अपने अच्छे एवं सुरक्षित भविष्य के लिये पति से सात वचन मांगती है। ऐसा समझा जाता है कि अग्नि के समक्ष तथा समस्त देवों की उपस्थिति में पत्नी द्वारा मांगे गये तथा पति द्वारा दिये गये वचनों का बहुत अधिक महत्त्व है। संक्षिप्त रूप मंे सप्तपदी के सातों वचनों की व्याख्या इस प्रकार की जा सकती है:- पहला वचन कन्या वर से कहती है कि यदि आप कभी तीर्थयात्रा को जाओ तो मुझे भी साथ लेकर जाना। किसी व्रत का उद्यापन अथवा अन्य धर्म कार्य यदि आप करें तो आज के समान मुझे भी अपने वाम भाग में अवश्य स्थान दें। यदि आप इसे स्वीकार करते हैं तो मैं आपके वाम अंग में आना स्वीकार करती हूं। दूसरा वचन कन्या वर से दूसरा वर मांगती है कि जिस प्रकार आप अपने माता-पिता का सम्मान करते हैं, उसी प्रकार मेरे माता-पिता का भी सम्मान करें तथा कुटुंब की मर्यादा के अनुसार धार्मिक कार्यों को करते हुए ईश्वर के भक्त बने रहें तो मैं आपके वाम अंग में आना स्वीकार करती हूं। तीसरा वचन तीसरे वचन में कन्या देश की भलाई का वचन मांगती है। वर्तमान में लोग अपनी सभ्यता-संस्कृति तथा वेशभूषा का त्याग कर पाश्चात्य शैली को अपनाने लगे हैं। इसलिये कन्या वचन मांगती है कि आप चाहे कितनी ही अंग्रेजी पढ़ जायें परंतु भारतीय सभ्यता एवं संस्कृति को कभी न छोड़ें। यदि आप इस वचन को स्वीकार करें तो मैं आपके वाम अंग में आना स्वीकार करती हूं। चैथा वचन कन्या वर से चैथा वचन मांगती है कि अब तक आप घर-परिवार की चिंता से पूरी तरह मुक्त थे। अब जबकि आपका विवाह हो गया है तो भविष्य में परिवार की समस्त आवश्यकताओं की पूर्ति करने का दायित्व आपको ही संभालना है। यदि आप इस भार को वहन करने की प्रतिज्ञा करते हैं तो मैं आपके वाम अंग में आना स्वीकार करती हूं। पांचवां वचन पांचवें वर में कन्या जो वचन पति से मांगती है वह आज के परिपे्रक्ष्य में अत्यंत महत्त्व रखता है। कन्या वर से कहती है कि अपने घर के कार्यों में, विवाह में, लेन-देन अथवा अन्य किसी प्रकार के शुभ कार्यों में अथवा सगाई एवं विवाह के कार्यों में, खर्च करते समय यदि आप मेरी भी मंत्रणा लिया करें तो मैं आपके वाम अंग में आना स्वीकार करती हूं। छठा वचन छठे वचन में कन्या वर से वचन मांगती है कि यदि मैं मेरी सखियों में अथवा अन्य स्त्रियों के बीच में बैठी हूं तब आप वहां आकर किसी भी कारण से मेरा अपमान नहीं करेंगे तथा यदि आप जुआ अथवा किसी भी प्रकार के दुव्र्यसन से अपने आपको दूर रखेंगे तो मैं आपके वाम अंग में आना स्वीकार करती हूं। सातवां वचन कन्या अंतिम तथा सातवें वचन के रूप में वर से वचन मांगती है कि आप पराई-स्त्रियों को माता के समान समझेंगे और अपना संपूर्ण प्यार सदा मुझ पर रखेंगे। मुझ पर कभी भी क्रोध नहीं करेंगे। यदि आप यह वचन देते हैं तो मैं आपके वाम अंग में आना स्वीकार करती हूं। पत्नी द्वारा मांगे गये इन सात वचनों को सुनकर पति अपनी पत्नी से वचन मांगता है और कहता है कि यदि तुम्हें मेरा वचन स्वीकार है तो मैं भी तुम्हारे वचनों को स्वीकार करने का वचन देता हूं। यदि तुम बाग-बगीचे में, वन में तथा पराये घरों में अकेली न जाओ और दूसरे पुरुषों के साथ एकांत में वार्तालाप न करो तथा पुरुषों के सामने मर्यादाहीन होकर न हंसो, इन बातों के साथ-साथ सुशील तथा मीठी भाषा से अपने सास-ससुर को सम्मान दो और पतिव्रता धर्म का पालन करो, धर्म हित एवं ईश्वर भक्तिपरायण रहते हुए आज्ञा का पालन करो तो मैं तुम्हारा स्वागत करता हूं।


वास्तु विशेषांक  दिसम्बर 2014

फ्यूचर समाचार के वास्तु विषेषांक में अनेक रोचक व ज्ञानवर्धक लेख जैसे भवन और वास्तु, वास्तु शास्त्र का वैदिक स्वरूप, वास्तु शास्त्र के मूलभूत तत्व, वास्तु शास्त्र व दाम्पत्य जीवन, उद्योग धन्धे क्यों बन्द हो जाते हैं?, फ्लैट/प्लाॅट खरीदने हेतु वास्तु तथ्य, अनुभूत प्रयोग एवं सूत्र, वास्तु सम्मत सीढ़ियां भी देती हैं सफलता, घर में क्या न करें?, विभिन्न दिषाओं में रसोईघर, वास्तुदोष समाधान, वास्तु संबंधी कहावतें, वास्तु दोष दूर करने के सरल उपाय, पंचतत्व का महत्व तथा स्वास्थ्य संबंधी वास्तु टिप्स। इसके अतिरिक्त वास्तु पर हुए एक शोध कार्य पर लिखा गया सम्पादकीय, करियर परिचर्चा, सुखी दाम्पत्य जीवन का आधार: शादी के सात वचन, सत्य कथा, हैल्थ कैप्सूल, पावन स्थल में बांसवाड़ा का प्राचीन मां त्रिपुरासुन्दरी मन्दिर, ज्योतिष व महिलाएं तथा ग्रह स्थिति एवं व्यापार, पंचपक्षी के रहस्य, मंत्र व तंत्र साधना का स्वरूप, कर्णबेधन संस्कार, गृह सज्जा एवं वास्तु फेंगसुई आदि लेखों को समायोजित किया गया है।स्थायी स्तम्भ विचार गोष्ठी के अन्तर्गत ‘पिरामिड का वास्तु में प्रयोग’ विषय पर विभिन्न विद्वानों के विचारों को प्रस्तुत किया गया है। आषा है फ्यूचर समाचार के पाठकों को यह विषेषांक विषेष पसंद आयेगा।

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.