लॉकेट द्वारा बाधा निवारण

लॉकेट द्वारा बाधा निवारण  

लॉकेट द्वारा बाधा निवारण मोती चांद लॉकेट यह लॉकेट मोती रत्न अर्द्धचंद्र की आकृति में बना होता है। इस लॉकेट को विशेषकर छोटे बच्चों को धारण कराया जाता है। इसके धारण करने से छा बच्चों की हर प्रकार से रक्षा होती है। इस यंत्र को सफेद, पीले या काले धागे में सोमवार के दिन धारण करना चाहिए। जिन बच्चों का चंद्रमा कमजोर हो उन्हें इस लॉकेट को धारण करना चाहिए। कालसर्प यंत्र लॉकेट यह यंत्र कालसर्प योग शांति के लिए धारण किया जाता है। जिन लोगों की जन्म कुंडली में कालसर्प योग बन रहा हो उन्हें इस लॉकेट को धारण करने से सुख, शांति प्राप्त होती है। इस लॉकेट को सोम, बुध या शुक्र के दिन धारण करना चाहिए। इस लॉकेट को पीले, सफेद या हरे धागे में धारण कर सकते हैं। सरस्वती यंत्र लॉकेट यह लॉकेट शुद्ध चांदी में निर्मित होता है, यह विद्या बुद्धि की देवी सरस्वती का प्रतीकात्मक यंत्र माना जाता है। इस यंत्र को अच्छी विद्या एवं बुद्धि की प्राप्ति के लिए धारण किया जाता है। इसके शुभ प्रभाव से पढ़ाई लिखाई के क्षेत्र में अच्छी सफलता प्राप्त होती है। जिन लोगों की कुंडली में बृहस्पति ग्रह अथवा बुध ग्रह कमजोर, हो उन्हें इस यंत्र को धारण करने से लाभ होता है। इसे बृहस्पतिवार को गंध, अक्षत से पूजा करके काले या पीले धागे में धारण करना शुभ होता है। बगलामुखी लॉकेट यह लॉकेट दशमहाविद्याओं में एक बगलामुखी देवी का सूक्ष्म स्वरूपात्मक यंत्र होता है। इस यंत्र को शुद्ध मन से धारण करने से शत्रु-भय से रक्षा होती है, कोर्ट कचहरी आदि विवादों से छुटकारा मिलता है। जिन लोगों की कुंडली में मंगल ग्रह कमजोर हो उन्हें इसे धारण करने से लाभ होता है। इसे मंगलवार को पीले अथवा लाल धागे में धारण करना शुभ होता है।


भगवत प्राप्ति  फ़रवरी 2011

भगवत प्राप्ति के अनेक साधन हैं। यह मार्ग कठिन होते हुए भी जिस एक मात्र साधन अनन्यता के द्वारा प्राप्त किया जा सकता है, आइए ,जानें सहज शब्दों में निरुपित साधना का यह स्वरूप।

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.