महिलाएं एवं आभूषण

महिलाएं एवं आभूषण  

व्यूस : 5024 | मई 2014

मुख्यतया सभी महिलाओं को सजने संवरने का शौक होता है और जब बात आभूषण की आए तो यह रूचि और भी बढ़ जाती है।

किसी को पारंपरिक डिजाइन ही अच्छे लगते हैं तो कोई किसी ठवसक च्पमबम या नवीनतम डिजाइन की तलाश में लगी रहती हैं। किसी को सिर्फ सोने के बने आभूषण ही लुभाते हैं तो कोई काॅस्ट्यूम ज्वैलरी को अपनाने में हिचकते नहीं। इनमें रत्नों का विशेष महत्व आ जाता है। किसी को रूबी रत्न भाता है तो किसी को डायमंड अधिक पसंद आता है।

♣ मेष
महत्वाकांक्षी, अग्रणी और उत्साही स्वभाव के साथ-साथ आपको साज शृंगार में विशेष रूचि होती है। नए-नए तरह के आभूषण जैसे मैचिंग रंगों की मालाएं अथवा ब्राइट कलर के स्टोन आपको पसंद आते हैं। रत्नों में आपके लिए लग्नेश और योगकारक मंगल एवं सूर्य के रत्न मूंगा और रूबी काफी भाग्यशाली साबित होते हैं। इनकी अंगूठी सोने में बनवाकर पहन सकती हैं। शुक्र मारकेश होने के कारण डायमंड के आभूषण से परहेज रखें।
♣ वृषभ
आप स्पष्टवादी, आत्मनिर्भर और प्रसन्न स्वभाव वाले व्यक्तित्व की जातिका हैं। आपका लग्नेश शुक्र है जिसका रत्न हीरा है, आपको आभूषणों का विशेष शौक होता है। अपनी कमाई या जोड़े हुए धन का एक बड़ा हिस्सा आप इन पर खर्च करती हैं। आपको मूल्यवान डायमंड के आभूषण सूट करेंगे, डायमंड की अंगूठी भी पहनना आपके लिए लक्की साबित होगा। साथ में ओपल पहनना अति शुभ होगा। आपके लिए च्संजपदनउ, ॅीपजम ळवसकए ैपसअमत के आभूषण सोने से ज्यादा लाभदायक हैं। सेंटर में नीलम व चारांे ओर डायमंड जड़ित अंगूठी विशेष प्रभावशाली रहेगी।
♣ मिथुन
आप परिवर्तनशील मिजाज, वार्तालाप में उत्कृष्ट महिलाएं होती हैं जो सामाजिक उत्सवों में भाग लेने के लिए तत्पर रहती हैं। बदल-बदल कर ज्वैलरी पहनना आपको पसंद होता है, एक ही डिजाइन से जल्दी बोर हो जाती हंै। मध्यम आकार का पन्ना आपके लिए विशेष लाभदायक रत्न है। पन्ने को डायमंड के साथ जड़वाकर पहनने से खूबसूरती के साथ भाग्य लाभ व आत्मविश्वास में लाभ प्राप्त होता है।
♣ कर्क
उत्तम कल्पना शक्ति से परिपूर्ण और नए विचारों में रूचि रखने वाला आपका अनोखा व्यक्तित्व है। आपको मोती के आभूषण पसंद भी हैं और ये आपके लिए शुभ भी होते हैं। आपको मोती की अंगूठी भी चांदी में पहननी चाहिए । भाग्य वृद्धि के लिए पुखराज की अंगूठी धारण करें। आप मूंगे के गणेश का लाॅकेट भी धारण कर सकती हैं। स्वर्ण के जड़ाऊ आभूषण संपन्नता लाते हैं।
♣ सिंह
आप स्पष्टवादी, दयालु और संकल्पशील महिला हैं। आत्मविश्वास और वस्तुओं का संग्रह आपका मूलाधार है। आपको सोने से बने आभूषण काफी लुभाते हैं। एन्टीक स्वर्ण आभूषण भी आपको काफी सूट करेंगे। आपके लिए माणिक्य और सोने में जड़ित आभूषण विशेषकर लाभदायी हैं। आपको रत्नों में माणिक्य धारण करना चाहिए। यदा-कदा आप क्पंउवदक भी पहन सकती हैं।
♣ कन्या
आप सुव्यवस्थित विचार, गणितज्ञ एवं वैज्ञानिक दृष्टिकोण से परिपूर्ण होती हैं। हीरे-पन्ने के जेवरात, क्योंकि ये आपके भाग्येश और योगकारक ग्रह बुध और शुक्र के रत्न हैं, आपके लिए शुभ होंगे। आपको लग्नेश बुध की पन्ने की अंगूठी धारण करनी चाहिए। पार्टी या उत्सव में आप हरे रंग के बड़े रत्न जड़े डनसजपसंलमतपदह में श्रमूमससमतल पहनना या डपग डंजबी करके पहनना पसंद करती हैं।
♣ तुला
आप भावुक, नम्र और कुशल व्यवहार से परिपूर्ण होती हैं। आपकी सबसे अलग और क्मेपहदमत स्ववा में दिखने की चाह आपको पारंपरिक स्टायलिश आभूषणों की ओर आकर्षित करती है। भीड़ में अलग दिखने की चाह आपको नीलम एवं हीरे के बने आभूषण जिसमें नीलम सेंटर में हो और चारांे ओर डायमंड जड़े हों काफी सूट करेगा। आप क्मेपहदमत श्रमूमससमतल की तरफ आकर्षित होती हंै। ॅीपजम हवसकए ैपसअमत या च्संजपदनउ या त्ीवकपनउ च्वसपेी के आभूषण आपको अच्छे लगते हैं।
♣ वृश्चिक
आप आत्मविश्वास और उच्चकोटि की प्रशासनिक क्षमता और सर्वोच्च कोटि के ज्ञान से युक्त होती हैं। आपको मूंगे की अंगूठी सूट करेगी या डिजाइनर लाॅकेट भी पहन सकती हैं। मोती-मूंगे के भी टाॅप्स या लाॅकेट पहनना शुभ है क्योंकि ये आपके लग्नेश मंगल और भाग्येश चंद्रमा के रत्न हैं। पुखराज की अंगूठी सोने में अवश्य धारण करें। डायमंड से पूर्णरूप से परहेज करेंए ॅीपजम डमजंस न इस्तेमाल करें।
♣ धनु
सुंदर, सुविकसित आकृति, हरफनमौला स्वभाव, प्रत्येक विषय सीखने के इच्छुक और प्रसन्नचित्त स्वभाव आपके गुण हैं। आपको सोने के आभूषण लुभाते हैं। ज्तंकपजपवदंस क्मेपहदे आपको पसंद आते हैं। आपको माणिक्य और पुखराज सूट करते हैं। विशेषकर लग्नेश होने के कारण आपको पुखराज की अंगूठी पहननी चाहिए। भारी-भारी आभूषण पहनना आपको पसंद है। अत्यधिक कीमती आभूषण के प्रति आपका कम आकर्षण है। सोना पहनना आपको पसन्द भी है और आपके लिए शुभ भी।
♣ मकर
ईमानदार, संगठन क्षमता से युक्त, आत्मनिर्भर आपका व्यक्तित्व होता है। नीलम और पन्ना दोनों ही आपको सूट करते हैं। इनके ब्वउइपदंजपवद में बनी क्पंउवदक श्रमूमससमतल आपको लुभाएगी भी और शुभ भी होगी। काॅस्ट्यूम ज्वैलरी से आपको ज्यादा लगाव रहता है। सोने को कम पसंद करते हैं। भ्मंअल श्रमूमससमतल आपको पसंद आती है। ॅीपजम उमजंस में ।उमतपबंद क्पंउवदकए पन्ना, च्मतपकवज पहनना शुभ है। चांदी में ओपल अवश्य धारण करें।
♣ कुंभ
मानवीय दृष्टिकोण, प्रगतिशील जीवनशैली को अपनाने वाली आप सतर्क और धैर्यपूर्ण स्त्री होती हैं। धन लाभ के लिए संपूर्ण संपन्नता हेतु मूंगे का लाॅकेट पहनें। नीलम और हीरे की अंगूठी ॅीपजम ळवसक में पहनना श्रेयस्कर होगा। आपको सोने से ज्यादा चाँदी या ब्वेजनउम श्रमूमस में भारी आभूषण पसन्द आते हंै।
♣ मीन
आपका कल्पनाशील, रोमांटिक और अत्यधिक सहानुभूतिपूर्ण व्यक्तित्व होता है। आपको पारंपरिक सोने के आभूषण पसंद आते हैं। आप आॅक्शन और म्गीपइपजपवद में से श्रमूमससमतल लेना पसंद करती हैं। पुखराज और मंूगा आपको सूट करता है। आपको पुखराज, सुनैला के लाॅकेट और अंगूठी पहननी चाहिए। आप मोती व मोती माला पहन सकती हैं। हीरे से परहेज रखें- यह स्वास्थ्य खराब कर सकता है। डवकमतद स्पहीज ॅमंत श्रमूमससमतल आपकी रोजमर्रा की पसन्द को झलकाती है।

उपरोक्त लेख में अपने बारे में जानने के लिए अपनी लग्न अनुसार पढ़ें। यदि लग्न न मालूम हो तो चन्द्र राशि अनुसार। यह भी न मालूम हो तो जन्म तारीख अनुसार सूर्य राशि ज्ञात कर लेख पढ़ें । लग्न जो कि जन्म तारीख, समय व स्थान पर निर्भर करता है आपकी छवि को 100 प्रतिशत चरितार्थ करती है जबकि चन्द्र राशि जो केवल जन्म तारीख पर निर्भर करती है केवल 50 प्रतिशत और सूर्य राशि जो केवल जन्म माह पर निर्भर करती है केवल 25 प्रतिशत छवि का दर्शाती है।


Navratri Puja Online by Future Point will bring you good health, wealth, and peace into your life


Ask a Question?

Some problems are too personal to share via a written consultation! No matter what kind of predicament it is that you face, the Talk to an Astrologer service at Future Point aims to get you out of all your misery at once.

SHARE YOUR PROBLEM, GET SOLUTIONS

  • Health

  • Family

  • Marriage

  • Career

  • Finance

  • Business

रत्न एवं रूद्राक्ष विशेषांक  मई 2014

फ्यूचर समाचार के रत्न एवं रूद्राक्ष विशेषांक में अनेक रोचक और ज्ञानवर्धक आलेख हैं जैसे- रूद्राक्ष की ऐतिहासिक पृष्ठ भुमि, रूद्राक्ष की उत्पत्ति, रूद्राक्ष एक वरदान, रूद्राक्ष धारण करने के नियम, ज्योतिष में रत्नों का महत्व, रत्न धारण का समुचित आधार, रत्न धारण से रोगों का निदान, उपरत्न, लग्नानुसार रत्न निर्धारण, रत्नों का महत्व और स्वास्थ्य आदि। इसके अतिरिक्त पंच पक्षी के रहस्य, वट सावित्री व्रत, अक्षय तृतिया एवं आपकी राशि, ग्रह और वकालत, एक सभ्य समाज के निर्माण की प्रक्रिया, अगला प्रधानमंत्री कौन, कुण्डली के विभिन्न भावों में केतु का फल, सत्य कथा, पुंसवन संस्कार, हैल्थ कैप्सूल, शंख थेरेपी, ज्योतिष और महिलाएं तथा वास्तु प्रश्नोत्तरी व वास्तु परामर्श जैसे अन्य रोचक आलेख भी सम्मिलित किये गये हैं।

सब्सक्राइब


.