शेयर बाजार में मंदी-तेजी

शेयर बाजार में मंदी-तेजी  

ग्रहों की गोचर स्थिति सूर्य 17 अगस्त को 6 बजकर 15 मिनट पर कर्क राशि से सिंह राशि में प्रवेश करेगा। मंगल मासभर तुला राशि में गोचर करेगा। बुध 12 अगस्त 21 बजकर 3 मिनट पर कर्क राशि से सिंह राशि में प्रवेश करेगा। 22 अगस्त को बुध 21 बजकर 58 मिनट पर उदय होगा। 29 अगस्त को बुध 15 बजकर 38 मिनट पर सिंह राशि से कन्या राशि में प्रवेश करेगा। गुरु मासभर कर्क राशि में गोचर करेगा। शुक्र 7 अगस्त को 16 बजकर 5 मिनट पर मिथुन राशि से कर्क राशि में गोचर करेगा। शनि मासभर तुला राशि में गोचर करेगा। राहु मासभर कन्या राशि में व केतु मासभर मीन राशि में गोचर करेंगे। 1 अगस्त: 1 अगस्त को बाजार में मंदी रहेगी और लगभग सभी क्षेत्रों में मंदी के संकेत मिलते हैं। 4 अगस्त से 8 अगस्त तक 4 अगस्त को बाजार पर कुछ दबाव के संकेत मिलते हैं। 5 अगस्त को बाजार में कुछ बदलाव देखने को मिलेंगे। 6 अगस्त को बाजार की स्थिति कुछ अच्छी होगी। 7 अगस्त व 8 अगस्त को बाजार में तेजी के संकेत मिलते हैं। इस सप्ताह बैंकिंग, एफ. एम. सी. जी., ऊर्जा, सरकारी, रसायन तकनीकी क्षेत्रों में तेजी रहेगी। निवेश, इस्पात, जमीन-जायदाद, कच्चे तेल, चीनी, मनोरंजन, वाहन, दूर संचार, सेवा क्षेत्रों में मिला जुला झुकाव रहेगा। सप्ताह बैंकिंग, एफ. एम. सी. जी., ऊर्जा, सरकारी, रसायन तकनीकी क्षेत्रों में तेजी रहेगी। निवेश, इस्पात, जमीन-जायदाद, कच्चे तेल, चीनी, मनोरंजन, वाहन, दूर संचार, सेवा क्षेत्रों में मिला जुला झुकाव रहेगा। 18 अगस्त से 22 अगस्त तक 18 अगस्त को बाजार की स्थिति अच्छी बनेगी, 19 अगस्त को बाजार में तेजी का रूख रहेगा। 20 अगस्त से 22 अगस्त तक बाजार में तेजी ही बनेगी। इस सप्ताह बैंकिंग, सीमेंट, फार्मास्यूटिकल, रसायन, तकनीकी क्षेत्रों में तेजी रहेगी। जमीन जायदाद इस्पात व कच्चा तेल, सेवा क्षेत्र में मिलाजुला झुकाव रहेगा। निवेश, मनोरंजन, वाहन, चीनी, ऊर्जा, सरकारी, एफ. एम. सी. जी. क्षेत्रों पर दबाव बनेगा। 25 अगस्त से 29 अगस्त तक 25 अगस्त को बाजार में तेजी बनी रहेगी। 26 अगस्त को बाजार में तेजी का रूख ही बनेगा। 27 अगस्त को बाजार में तेजी रहेगी। 28 अगस्त को बाजार पर विदेशी बाजारों का प्रभाव ज्यादा देखने को मिलेगा। 29 अगस्त को भी इसी तरह का रूख रहेगा। इस सप्ताह बैंकिंग, फार्मास्यूटिकल, सीमेंट, रसायन, तकनीकी, जमीन जायदाद, कच्चा तेल, इस्पात व सेवा क्षेत्रों में तेजी रहेगी। ऊर्जा, सरकारी, चीनी, मनोरंजन, एफ. एम. सी. जी., निवेश, वाहन क्षेत्रों पर दबाव बनेगा।


शारीरिक हाव भाव एवं लक्षण विशेषांक  आगस्त 2014

सृष्टि के आरम्भ से ही प्रत्येक मनुष्य की ये उत्कट अभिलाषा रही है कि वह किसी प्रकार से अपना भूत, वर्तमान एवं भविष्य जान सके। भविष्य कथन विज्ञान की अनेक शाखाएं प्रचलित हैं जिनमें ज्योतिष, अंकषास्त्र, हस्त रेखा शास्त्र, शारीरिक हाव-भाव एवं लक्षण शास्त्र प्रमुख हैं। हाल के वर्षों में शारीरिक हाव-भाव एवं अंग लक्षणों से भविष्यवाणी करने का प्रचलन बढ़ा है। वर्तमान अंक में शारीरिक हाव-भाव एवं अंग लक्षणों से भविष्यवाणी कैसे की जाती है, इसका विस्तृत विवरण विभिन्न लेखों के माध्यम से समझाया गया है।

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.