मकर संक्रांति पर दूर करें कुंडली के कमजोर ग्रहों के अशुभ प्रभाव

मकर संक्रांति पर दूर करें कुंडली के कमजोर ग्रहों के अशुभ प्रभाव  

मकर संक्रांति के पावन पर्व पर पूजा, दान, व्रत द्वारा आप सिर्फ पुण्य ही नहीं कमायेंगे बल्कि आप अपनी कुंडली के कमजोर ग्रहों के अषुभ प्रभाव को भी दूर कर सकते हैं। इसके लिए विषेष रूप से कुण्डली के कमजोर ग्रहों से सम्ब्ंाधित दान अवष्य करें। सूर्य ग्रह से सम्बंधित माणिक्य, गेहूं, स्वर्ण, तांबा, बर्तन, गुड़, गाय, लाल वस्त्र, लाल फूल, लाल चंदन आदि वस्तुओं का दान अपनी सामथ्र्य के अनुसार 15 जनवरी को सुबह के समय कर सकते हैं। यह दान किसी पुजारी या ब्राह्मण या गरीब व्यक्ति को ही देना चाहिए। चंद्र ग्रह से संबंधित चांदी की वस्तुएं, मोती, चावल, दूध, बांस की टोकरी, शंख, कपूर, सफेद कपड़ा, जल, दूध, चावल की खीर आदि वस्तुएं सामथ्र्य के अनुसार सायंकाल को किसी महिला को दान कर सकते हैं । मंगल ग्रह से सम्बंधित मसूर की दाल, लाल कपड़ा, गेहंू, सोना, तांबा की वस्तुएं, लाल चंदन, मंूगा, गुड़, लाल बैल, भूमि, मीठी रोटी, बताषा सामथ्र्यानुसार दोपहर के समय किसी ब्राह्मण या गरीब व्यक्ति को दान किया जा सकता है। बुध ग्रह से सम्बंधित वस्तुएं साबूत मंूग, स्वर्ण, हरा वस्त्र, पन्ना, कस्तूरी, हरी घास, हरी सब्जियां आदि का दान सुबह के समय किसी ब्राह्मण या गरीब व्यक्ति को कर सकते हैं। हरे रंग की चूड़ी और वस्त्र का दान किन्नरों को देना भी शुभ होता है । बृहस्पति ग्रह से सम्बंधित वस्तुएं पीली मिठाइयां, चीनी, केला, हल्दी, पीला धान्य, पीला कपड़ा, पुखराज, नमक, स्वर्ण, चने की दाल, घोड़ा, शहद, केसर, चांदी, शक्कर आदि किसी ब्राह्मण, पुरोहित या गुरू को दिया जा सकता है । शुक्र ग्रह से सम्बंधित वस्तुएं सफेद रेषमी कपड़ा, चावल, दही, घी, सफेद घोड़ा, गाय-बछड़ा, हीरा, इत्र, कपूर, शक्कर, मिश्री, मेकअप का सामान, चांदी, जरकिन स्टोन आदि अपनी सामथ्र्य के अनुसार सायंकाल स्त्री को दान कर सकते हैं । शनि ग्रह से सम्बंधित काली उड़द, तेल, काले वस्त्र, लोहे की वस्तुएं तथा बर्तन, काला तिल, कंबल, जूता, नीलम, चांदी आदि वस्तुएं सायंकाल किसी गरीब वृद्ध व्यक्ति को दान करें । राहु ग्रह से सम्बंधित वस्तुएं काले-नीले फूल, कोयला, गेहूं, नीला वस्त्र, कम्बल, गोमेद, उड़द, तेल, लोहा, अभ्रक, मदिरा आदि सायंकाल किसी गरीब व्यक्ति को दान दें। केतु ग्रह से संबंधित काला फूल, चाकू, लोहा, छतरी, सीसा, लहसुनिया, तिल, दुरंगा कंबल, कपिला गाय, बकरा, नारियल, कस्तूरी आदि वस्तुएं सायंकाल दान की जा सकती हैं। मकर संक्रांति के पावन पर्व पर ग्रहों के अनुसार दान कर आप अपने जीवन को उज्ज्वल बना सकते हैं तथा सफलता प्राप्त कर सकते हैं। दान देते समय जिस व्यक्ति को दान दिया जा रहा है उसका भी ग्रह के अनुसार ध्यान रखें क्योंकि दान का फल तभी उत्तम होता है जबकि यह शुभ समय में किसी सुपात्र को दिया जाता है।


नववर्ष विशेषांक  जनवरी 2015

फ्यूचर समाचार पत्रिका के नववर्ष विशेषांक में नववर्ष की भविष्यवाणियों में आपकी राशि तथा भारत व विश्व के आर्थिक, राजनैतिक व प्राकृतिक हालात के अतिरिक्त 2015 में भारत की अर्थव्यवश्था, शेयर बाजार, संतान भविष्य आदि शामिल हैं। इसके साथ ही आपकी राशि-आपका खानपान, ज्योतिष और महिलाएं, जनवरी माह के व्रत-त्यौहार, क्यों मानते हैं मकर सक्रांति?...

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.