ह र इंसान स्वप्न देखता है। कुछ हमें याद रहते हैं अ©र कुछ भूल जाते हैं। यदि आप अपने विचारों क¨ व्यक्त कर सकते हैं, किसी कार्य क¨ कुषलता से कर सकते हैं त¨ आप स्वप्न देखते हैं। सपने हमारे मानसिक संतुलन क¨ बनाये रखने में सहायता करते हैं। यदि हम स्वप्न न देखें त¨ हमारा मस्तिष्क इतने विचारांे से भर जाएगा की हम स¨चने समझने की शक्ति ख¨ देंगे। स्वप्नों क¨ समझने के लिए हमें अपने चिŸा क¨ समझना ह¨गा। मषहूर मन¨चिकित्सक, कार्ल गुस्ताव जंग, ने चिŸा क¨ तीन भागों में बांटा है सचेत वैयक्तिक अचेत मन अ©र सामूहिक अचेत मन। स¨चने, समझने, महसूस करने का कार्य सचेत मन से करते हैं। किन्तु हमारे कई अव्यक्त विचार व भावनाएं, जीवन के अनुभव, भय आदि अचेत मन में रहते हैं ज¨ जाने अनजाने हमारे व्यक्तित्व क¨ निर्धारित करते हैं। मन¨चिकित्सक फ्रायड का ऐसा मानना है कि हमारे स्वप्न अचेत मन के विचारों क¨ व्यक्त करते हैं। लेकिन स्वप्न इसके अतिरिक्त अ©र भी कई उद्देष्यों के लिए उपय¨ग किये जा सकते हैं। हमें हमारे जीवन के कई प्रष्नों का उŸार इनमें मिल सकता है। स्वप्न संकेतों की भाषा ब¨लते हैं जिसे समझने के लिए हमें उन संकेतों क¨ समझना पड़ता है। इन्हें समझने का सबसे अच्छा तरीका है स्वप्न क¨ लिखना। आप जिस प्रष्न का उŸार चाहते हैं या जीवन की किसी स्थिति क¨ समझना चाहते हैं त¨ रात क¨ स¨ने से पहले अपने प्रष्न क¨ मन में या ब¨लकर स्पष्ट कीजिये। आपने ज¨ स्वप्न देखा उसे उठते ही सबसे पहले संक्षेप में लिखिए। फिर बारीकियां ज¨ आपक¨ याद हों वह लिखिए। यदि आपक¨ स्वप्न याद न रहते हों, त¨ स¨ने से पहले यह भी ब¨लिए कि आपक¨ स्वप्न याद रहें। हमारा मस्तिष्क बहुत ही विचित्र यंत्र है। हम जैसा स¨चते हैं वह वैसे ही काम करने लगता है। यही आधार है रेकी जैसी कई चिकित्सा पद्धतियों का। स्वप्न लिखने से हमें उसकी बहुत सी बारीकियों का पता चलेगा ज¨ शायद केवल मनन करने से न पता चले। जरूरी नहीं कि हमें एक ही बार में पूर्ण उŸार मिल जाये। ऐसा भी ह¨ता है कि कई स्वप्न एक ही जवाब के अलग-अलग हिस्से हों। स्वप्नों की सांकेतिक भाषा क¨ समझने के लिए हमें निष्पक्षता से उन संकेतों अ©र अपने विचारों क¨ समझना ह¨गा। आजकल स्वप्न विष्लेषण विषेषज्ञ हमारी सहायता भी कर सकते हैं। क्योंकि वे एक निष्पक्ष विष्लेषण कर सकते हैं व कई संकेतों क¨ समझने की क्षमता रखते हैं। आजकल इन्टरनेट पर स्वप्न समझने के कई स्र¨त हैं। किन्तु सामान्यतः यह संकेत बहुत ही व्यक्तिगत ह¨ते हैं अ©र हर स्थिति में अलग अर्थ भी ह¨ सकता है। जैसे न©जवान के लिए गाड़ी आजादी का सूचक ह¨ सकती है, लेकिन यदि किसी की गाड़ी से क¨ई दुर्घटना ह¨ चुकी ह¨, उसके लिए गाड़ी एक भयानक याद भी ह¨ सकती है। इसलिए हमारे स्वप्नों क¨ समझने के लिए हमसे बेहतर क¨ई नहीं। कुछ स्वप्न बहुत सरल ह¨ते हैं ज¨ आसानी से समझ आ जाते हैं। किन्तु कुछ जटिल भी ह¨ते हैं। हमने ज¨ स्वप्न लिखे हैं, उन्हें कुछ दिन बाद पढने पर हमें एक पैटर्न नजर आएगा। उस पैटर्न का विष्लेषण एक बहुत ही सटीक व पूर्ण उŸार दे सकता है। उदाहरण के लिये, एक व्यक्ति कुछ समय से बीमार था अ©र उसका इलाज चल रहा था। एक दिन उसने स्वप्न देखा कि एक चिड़िया उसके घर में फंस गई है अ©र बाहर निकलने के लिए पंख फड़फड़ा रही है। लेकिन जैसे ही वह चिड़िया घर से बाहर निकली, नीचे गिर गयी। उस व्यक्ति ने देखा कि वह चिड़िया इतनी कमज¨र थी कि वह उड़ नहीं पा रही थी। इस स्वप्न का मतलब था कि वह व्यक्ति अपनी बीमारी से बहुत परेषान ह¨ गया था व बाहर जाना चाहता था। लेकिन वह बहुत कमज¨र भी ह¨ गया था। उसे पूर्णतया से ठीक ह¨ने के लिए अभी अ©र कुछ दिन चिकित्सा की आवष्यकता थी । इस प्रकार स्वप्न हमारे मन के प्रष्नों के उŸार दे कर हमें कई बार कई कायर्¨ं के प्रति सचेत भी कर सकते हैं। इसलिए अपने स्वप्नों क¨ समझना आना चाहिए अ©र यह एक बहुत ही रोचक कार्य भी है। क©न नहीं चाहता कि उसके पास एक खुद का मार्गदर्षन करने का स्र¨त ह¨। सपने देखना अ©र समझना अपने आप क¨ समझने जैसा है। हम जितना अपने आप क¨ समझेंगे, हमारा जीवन उतना ही सरल अ©र सकारात्मक ह¨गा।


अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.