ज्योतिषीय व वास्तु उपायों का संबंध

ज्योतिषीय व वास्तु उपायों का संबंध  

प्रत्येक व्यक्ति में यह स्वभाविक इच्छा होती है कि मैं सदा सुखी, धनी व स्वस्थ रहूं। जब उसकी किसी भी इच्छा की पूर्ति नहीं होती तो वह विचलित हो जाता है। अपनी इच्छाओं की पूर्ति के लिए वह ज्योतिषीय वास्तु उपायों का सहारा लेता है। हम सभी अपने पूर्व कर्मों का फल भोगने के लिए बाध्य है। भगवान ने हमारे कर्मों का फल देने के लिए ग्रहों को नियुक्त कर रखा है। जन्म के समय हमारी कुंडली में जैसे ग्रह होंगे, वैसा ही फल हमें भोगना होगा। अपने ग्रहों के हिसाब से ही हमें रहने का निवास, पुत्र, स्त्री व धन की प्राप्ति होती है। नवग्रह किस प्रकार हमें प्रभावित करते हैं। इसे जानने के लिए जन्म मृत्यु चक्र पर विचार करिए। हमारा जन्म पूर्व जन्म में की गई किसी अतृप्त कामना की पूर्ति के लिए होता है। वह कामना धन के लिए भी हो सकती है या किसी स्त्री-पुरुष के लिए भी हो सकती है। काल पुरुष की कुंडली में धन भाव का स्वामी शुक्र है और स्त्री/पुरुष भाव का स्वामी भी शुक्र है , अर्थात कुंडली का दूसरा व सातवां भाव दोंनों को मारक भाव कहा जाता है और दोनों का स्वामी शुक्र ही मैथुनी प्रकृति का आधार है। शुक्र ही सौंदर्य, काम व ऐश्वर्य का प्रतीक है। जब हमारा मन किसी वस्तु, व्यक्ति, सौंदर्य या धन को देखकर आकर्षित हुआ, तो शुक्र ने अपना कार्य कर दिया। हृदय में विचार तरंगे उठनी शुरु हो गई, तो सूर्य का कार्य पूर्वा हुआ। मन उसकी कल्पना में खो गया, तो चंद्र को कार्य मिल गया। बुद्धि द्वारा वस्तु को पाने की इच्छा हुई, तो बुध ने कार्य किया। इच्छा की पूर्ति के लिए हम वेग से आगे बढ़े, पराक्रम किया तो मंगल ने कार्य किया। उसका दिन-रात चिंतन किया, गुरु का कार्य हुआ। उसे पाने के लिए कठिन परिश्रम किया- शनि ने साथया। वस्तु के मिलने पर अहंकार हो गया तो राहू खुश हुआ। अब अगर किसी भी वस्तु को पाने की तमन्ना शेष नहीं रही तो मोक्ष का कारक ग्रह केतू मोक्ष दिलवा देगा। यह नौ ग्रह आपको कुछ देना चाहते हैं। हमें उसको पाने की योग्यता अपने अंदर विकसित करनी है। आप सभी ग्रहों को अपने लिए शुभकर बना सकते हैं, अपने कर्मों द्वारा, उनकी पूजा अर्चना द्वारा व विभिन्न उपायों द्वारा। आमतौर पर छठे, आठवें व बारहवें भाव को शुभ नहीं कहा जाता है। छठे भाव को शुभ किए बिना आप आज्ञाकारी नौकर प्राप्त नहीं कर सकते। आठवें भाव को शुभ किए बिना लंबी आयु कैसे मिलेगी। बारहवां भाव तो व्यय करवाएगा ही, यदि उस व्यय को शुभ कर्मों की ओर मोड़ दोगे, तो मानसिक शांति मिलेगी वह हम अपने भविष्य को उज्जवल बनाएगें। अगर उस व्यय को शराब, वेश्या व जूए आदि में लगाएंगे तो शुभ फल कैसे पाएंगे। अब वास्तु शास्त्र के विषय में विचार करते हैं। अथर्ववेद का एक उपवेद है स्थापत्य वेद। यह उपवेद ही हमारे वास्तु शास्त्र का आधार है। परमयिता परमात्मा ने हमारे कल्याण के लिए हमें बहुत सी विद्याएं दी हैं। यदि आप वेदों पर और भगवान पर विश्वास करते हैं तो कोई कारण नहीं कि वास्तु पर विश्वास करें। जिस प्रकार हमारा शरीर पंचमहाभूतों से मिलकर बना है, उसी प्रकार किसी भी भवन के निमाण में पंच महाभूतों का पर्याप्त ध्यान रखा जाए तो भवन में रहने वाले सुख से रहेंगे। ये पंचमहाभूत हैं- पृथ्वी, अग्नि, जल, वायु और आकाश। जब पंचमहाभूतों से शरीर बन जाता है तो मन, बुद्धि और अहंकार के सहित आत्मा का उसमें प्रवेश होता है। पंचम महाभूतों के लिए पांच ग्रहों को प्रतिनिधित्व दिया गया है। पृथ्वी के लिए मंगल, जल के लिए शुक्र, अग्नि के लिए सूर्य, वायु के लिए शनि और आकाश के लिए बृहस्पति को माना गया है। मन के लिए चंद्रमा, बुद्धि के लिए बुध और अंहकार के लिए राहू को माना गया है। केतु मोक्ष का कारक है। इसी प्रकार इन नौ ग्रहों का हमारे वास्तु से भी अटूट संबंध हैं। पूर्व दिशा का स्वामी ग्रह सूर्य, आग्नेय का शुक्र, दक्षिण का मंगल, नैत्त्य का राहू-केतू, पश्चिम का शनि, वायव्य का चंद्रमा, उŸार का बुध और ईशान का बृहस्पति स्वामी है। किसी दिशा विशेष मंे दोष होने पर उस दिशा से संबंधित ग्रह पीड़ित होता है और अपने अशुभ फल देता है। किसी दिशा के पीड़ित होने या किसी ग्रह के पीड़ित होने पर व्यक्ति को एक समान ही कष्ट मिलते हैं। मानलीजिए किसी व्यक्ति कुंडली में सूर्य पीड़ित है तो उस व्यक्ति को सरकार से परेशानी, सरकारी नौकरी में परेशानी, नाम व प्रतिष्ठा पर आंच, पिता से संबंध ठीक न होना, सिरदर्द, नेत्र रोग, हृदय रोग, चर्म रोग, अस्थि रोग व मस्तिष्क की दुर्बलता आदि हो सकती है। उसी प्रकार किसी व्यक्ति के घर में पूर्व दिशा में दोष होने पर, वहां शौचालय होने पर, कूड़ा करकट व कबाड़ इकट्ठा होने पर सूर्य देवता पीड़ित होते हैं और उस व्यक्ति को वे सभ्ीा कष्ट हो सकते हैं जो कुंडली में सूर्य पीड़ित होने पर होते हैं। सूर्य से संबंधित उपायन करने पर पूर्व दिशा के वास्तु दोष से होने वाले कष्टों में कमी आती है। दूसरी तरफ अगर पूर्व दिशा के वास्तु दोषों के वास्तु उपायों से ठीक कर दिया जाए, तब भी सूर्य से संबंधित कष्टों में कमी आती है। इसी प्रकार आप सभी दिशाओं से संबंधित ग्रहों की पूजा पाठा मंत्र, जप, यंत्र स्थापन आप वास्तु उपायों द्वारा सभी इन ग्रहों को पीड़ित होने से बचा सकते हैं और उनसे होने वाले कष्टों से छुटकारा पा सकते हैं। नवग्रहों के उपाय: 1. सुखी समाज का आधार: यदि कोई व्यक्ति अपने नवग्रहों द्वारा पीड़ित है तो उसे सबसे पहले अपने सामाजिक परिवेश को सुधारना चाहिए। आज हर व्यक्ति सुखी की चाह में वह कहां-कहां नहीं भटकता। धन, विचाग्रा, शराब, योगा इत्यादि। इन सबके पीछे भागते-भागते वह अपने समजा से दूर होता जा रहा है। सुखी समाज सुखी परिवारों से बनता है और सुखी परिवार, सुखी व्यक्ति से। आज व्यक्ति के पास अपन ेपरिवार के लिए ही समय नहीं है। भाई-बहन, माता-पिता, गुरु, स्त्री, नाना, दादा आदि के साथ संबंधों की गरिमा समाप्त होती जा रही है। सूर्य से पीड़ित व्यक्ति को अपने पिता की सेवा करनी चाहिए, उनका आशीर्वाद लेना चाहिए। चंद्र से पीड़ित व्यक्ति माता की सेवा करे व उनका आशीर्वाद लें। भाई की सेवा करने से मंगल शुभफल देता है। बन, बैटी, बुआ व मौसी की सेवा करने से बुधदेव प्रसन्न होते हैं। स्त्री का सम्मान करने से शुक्र शुभ फलदायी होगा। नौकरों को खुश रखने से शनिदेव प्रसन्न होते हैं। दादा की सेवा करने से राहू व नाना की सेवा करने से केतु शुभ फलदायी होगा। समाज के इन व्यक्तियों से संबंध सुधारकर आप स्वयं तो सुखी होंगे ही, आपका परिवार और समाज भी सुखी हो जाएगा। सुखी समाज ही हमारे सुख का आधार है। 2. दान द्वारा उपाय: दान का मतलब है- अपनी इच्छा से किसी वस्तु को किसी दूसरे को अर्पित करना। दान यदि सुपात्र दिया जाए तो अति उŸाम है। दान को तीन श्रेणियों में बांटा जा सकता है- Û सात्विक दान- बिना किसी फल की इच्छा से किसी कोई वस्तु दान या उपहार देना। Û राजसिक दान- नवग्रहों की शांति के लिए किसी को कोई वस्तु दानन या उपहार देना। Û तामसिक दान- किसी का अहित करने के लिए उसे तामसी वस्तुओं का दान देना। यथा- शराब, सिगरेट, मीट, चरस व गांजा इत्यादि। दान देने के लिए कुछ उŸाम वस्तुएं इस प्रकार हैं- गाय दान: गाय के शरीर में सभी देवी देवता व चैदह भुवन निवास करते हैं इसलिए गो दान करने से इस लोक और परलोक में भी कल्याण होता है। शुक्र संबंधी दोषों को दूर करने के लिए गो दान उŸाम उपाय हैं। भूमि दान: भूमि के दानको सर्वोŸाम दान माना गया है। मंगल संबंधी दोषों की शांति के लिए भ्ूामिदान का उपाय बताया जाता है। दशांश का दान: अपनी कमाई का दसवां हिस्सा किसी सुपात्र को दान देना या शुभ कर्मों में लगाना आत्म शुद्धि व धन शुद्धि के लिए बहुत ही अच्छा उपाय है। नवग्रहों की शांति के लिए दान: किसी पीड़ित गह की शांति के लिए उस ग्रह से संबंधित वस्तुओं का दान शुभ फलदायी होता है। इसके अतिरिक्त अन्न व भोजनदान, जल का दान, तुला दान, शय्या दान, स्वर्ण दान, पादुका दान, धार्मिक पुस्ताकं का दान भी शुभ फलदायी कहा गया है। 3. स्नान द्वारा उपाय: शास्त्रों में कहा गया है कि पवित्र गंगा नदी में स्नान करने से कई जन्मों के पाप नष्ट हो जाते हैं। विशेषकर पूर्णिमा, अमावस, संक्रांति, शिवरात्रि, बसंत पंचमी, मकर संक्रांति, सूर्य ग्रहण व चंद्र ग्रहण आदि पर्वों पर स्नान, दान, जप, अनुष्ठान आदि करने से विशेष पुण्य प्राप्त होते हैं। अर्धुर्कुभ व कुंभ आदि महापर्व पर लाखों की संख्या में लोग हरिद्वार, काशी, उज्जैन आदि तीर्थों पर सामिहिक स्नान व दान आदि करते हैं। सोमवी अमावस, शनिवारी अमावस आदि पर भी स्नान दान का विशेष महत्व है। 4. व्रत का महत्व: किसी भी देवी देवता की कृपा पाने के लिए उस देवी देवता के वार या त्यौहार विशेष पर नियम संयम पूर्वक उपवास करना व्रत कहलाती है। सप्ताह के दिनों को सात ग्रहों की शांति के लिए व्रत रखे जाते हैं। संक्रांति व पूर्णिमा को सत्यनारायण भगवान की प्रसन्नता के लिए व्रत किया जाता है। रामनवमी, जन्माष्टमी, महाशिवरात्रि आदि पर्वों पर करोड़ों लोग व्रत रखते हैं। शुक्ल पक्ष व कृष्ण पक्ष की एकादशियों को विष्णु भगवान की प्रसन्नता के लिए फलाहारी या निराहारी व्रत रखने का विधान है। करवाचैथ को महिलाएं अपने पति की लंबी आयु के लिए व्रत रखती है। अहोई अष्टमी को महिलाएं अपने बच्चों की लंबी आयु के लिए व्रत रखती हैं। चैत्र व आश्विन शुक्ल पक्ष में मां दुर्गा की प्रसन्नता के लिए नवरात्रों के फलाहारी व्रत रखे जाते है। 5. तीर्थ यात्रा का महत्व: हिंदू धर्म में तीर्थों का बड़ा महत्व है। नदी तटों पर बने स्नान घाट हो या देवी या देवताओं के सिद्ध तीर्थ स्थल होें सभी की बड़ी महŸाा व मान्यता है। शिव ज्योर्तिलिंगों के दर्शन हों, मां दुर्गा के विभिन्न रूपों के सिद्ध स्थान हों, हनुमान जी के सिद्ध तीर्थ हों या सप्तपुरियां हों सभी की महिमा अपरंपार है। चातुर्मास में सप्तपुरियों का दर्शन मोक्ष प्रदान करने वाला है। ये सप्तपुरियां हैं- हरिक्षर, मथुरा, द्वारिका, अयोध्या, कांचीपुरम, वाराणसी व उज्जैन। इसके अतिरिक्त चार धाम तीर्थ यात्रा का भी बहुत महत्व है- पूर्व में जगन्नाथपुरी, पश्चिम में द्वारकापुरी, उŸार में बदरीधाम व दक्षिण में रामेश्वरम धाम। 6. यज्ञ का महत्व: यज्ञ का अर्थ सिर्फ मंत्रों द्वारा हवन करना ही नहीं है। यह एक विस्तृत संदर्भ में प्रयोग होता है। वेदों में पांच प्रकार के यज्ञ कहे गये हैं। इन यज्ञों को करने से हम देव ऋण, ऋषि ऋण व पितृ ऋण से मुक्त होते हैं। ये पांच यज्ञ इस प्रकार हैं- Û ब्रह्म यज्ञ: निर्गुण या सगुण ब्रह्म की उपासना कर हम ईश्वर को याद करते हैं। ब्रह्म मुहूर्त व संध्या समय में ईश्वर की आराधना, वेद पाठ, स्वाध्याय व आरती इसी श्रेणी में आते हैं। Û देव यज्ञ: देव ऋण से मुक्ति दिलाने वाले कर्म यथा देवताओं की पूजा, सत्संग व अग्निहोत्र कर्म इसी श्रेणी में आते हैं। Û पितृ यज्ञ: सृष्टि की वृद्धि करने के निमिŸा संतान की उत्पŸिा करके हम अपने पितृ ऋण से उऋण होते हैं। अपने दिवंगत पितरों की शांति के लिए श्राद्ध, तर्पण व दान आदि भी इसी श्रेणी में आते हैं। Û वैश्व देव यज्ञ: जिस अग्नि से हमने भोजन बनाया है उस भोजन का कुछ अंश अग्नि को अर्पित करना वैश्वदेव यज्ञ कहलाता है। गाय, कुŸो व कौवे को भोजन का अंश देना भी इसी श्रेणी में आता है। Û अतिथि यज्ञ: अतिथि को देवता तुल्य समझने वाले भारतीय समाज में अतिथि को सर्वोपरि माना गया है। याचिका को दान देना, धर्म की रक्षा के लिए धर्म स्थल की पूजा, सेवा व दान देना, साधु सन्यासियों की सेवा व सहायता करना इसी श्रेणी के यज्ञ कहलाते हैं। Û सत्कर्मों का महत्व: प्रभु कृष्ण ने गील के सोहलवें अध्याय के पहले से तीसरे श्लोक में कहा गया है कि देव तुल्य पुरुषों में ये गुण होते हैं। निर्भयता, आत्म शुद्धि, आध्यात्मिक ज्ञान शनि का अनुशीलन, दान, आत्म संयम, यज्ञ परायणता, वेदाध्ययन, तपस्या, सरलता, अहिंसा, सत्यता, क्रोध विहिनता, त्याग, शांति दूसरों के दोष न देखना, समस्त जीवों कर करुणा, लोभविहिनता, भद्रता, लज्जा, संकल्प, तेज, क्षमा, धैर्य, पवित्रता, ईष्र्या तथा मान की अभिलाषा से मुक्ति। हमें अपने अपने अंदर इन गुणों को विकसित करते हुए शुद्ध भक्त बनने की कोशिश करनी चाहिए। जो निश्चय पूर्वक मन और बुद्धि को परमात्मा में स्थित करके भक्ति में लगाए रहता है, हर्ष शोक आदि द्वंद्वों से रहित है, प्रभु से कोई इच्छा नहीं करता, मा-अपमान, सर्दी-गर्मी, सुख-दुख, यश-अपयश में सम रहता है, ऐसे भक्त प्रभु को अत्यधिक प्रीय हैं। यज्ञ, दान, तप, तीर्थ व व्रत आदि जो भी सत्कर्म किए जाते हैं, कर्म योगी को वह केवल संसार के हित के लिए ही करने चाहिए। शुद्ध भक्ति निष्काम होती है, वही परम कल्याणकारी है। जो परमज्ञानी है और शुद्ध भक्ति में लगा रहता है, वह सर्वश्रेष्ठ है। प्रभु श्री कृष्ण ने गीता में कहा है कि शुद्ध भक्त मुझे अत्यंत प्रिय है। जिसकी बुद्धि भौतिक इच्छाओं द्वारा प्रभावित हे, वे देवताओं की शरण जाते हैं और अपने-अपने स्वभाव के अनुसार पूजा के विशेष विधि-विधानों का पालन करते हैं। देवता विशेष की पूजा द्वारा अपनी इच्छा की पूर्तिे करते हैं। किंतु वास्तविकता तो ये है कि ये सारे लाभ केवल मेरे द्वारा ही प्रदŸा है। देवताओं की पूजा करने वाले देवलोक को जाते हैं किंतु मेरे भक्त अन्ततः मेरे परमधाम को प्राप्त होते हैं। आध्यात्मिक उन्नति करने के लिए हमें अपना स्वभाव सतोगुणी बनाना और सतोगुणी स्वभाव विकसित करने के लिए हमें कुछ नियमों का पालन करना चाहिए। सबसे पहले हमें सभी प्रकार के नशीले पदार्थों का त्याग करना चाहिए जैसे- सिगरेट, शराब, भांग, गांजा इत्यादि। दूसरे हमें शाकाहारी भोजन करना चाहिए। तीसरे पराई स्त्री/पुरुष से संपर्क नहीं बनाएं। चैथे किसी प्रकार का जुआ, सट्टा आदि नहीं खेलना चाहिए। इस प्रकार से जीती गई राशि गलत कार्यों में ही खर्च होगी। इसके अतिरिक्त प्रतिदिन कुछ समय भगवद स्मरण में लगाना चाहिए। भगवद स्मरण करने के लिए आप प्रतिदिन गीता या भागवत् के कुछ अंश पढ़ सकते हैं। दूसरों से भगवत ज्ञान की चर्चा कर सकते हैं। श्री विग्रह की पूजा कर सकते हैं। भगवान को प्रेम सहित फल-फूल व जल अर्पिण कर सकते हैं। प्रतिदिन महामंत्र का जप करें। हरे कृष्ण हरे कृष्ण कृष्णा हरे हरे, हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे यह आत्मा शुद्धि के लिए सर्वश्रेष्ठ मंत्र है। इन विधि विधानों का पालन करते हुए आप स्वयं महसूस करेंगे कि आप आध्यात्मिक उन्नति कर रहे हैं और ग्रह जनित कष्टों से छुटकारा पाते जा रहे है। अपने कष्टों से छुटकारा पाने के लिए भगवान से प्रार्थना और भगवान की भक्ति से अच्छा कोई उपाय नहीं है। नव ग्रहों से मिलने वालु सुख इस प्रकार हैं- सूर्य राज्य लक्ष्मी नाम प्रतिष्ठा, सरकार से लाभ चंद्र आरोग्य लक्ष्मी स्वास्थ्य मंगल उऋण लक्ष्मी ऋणों से मुक्ति बुध सुज्ञान लक्ष्मी अच्छा ज्ञान गुरु सुपुत्र लक्ष्मी आज्ञाकारी पुत्र शुक्र सुभार्या लक्ष्मी आज्ञाकारी पत्नी शनि श्रेष्ठ लक्ष्मी पापरहित कमाई, मेहनता का फल राहु सुमित्र लक्ष्मी अच्छा मित्र केतु सुकीर्ति लक्ष्मी यश व सम्मान इसी प्रकार कुंडली के बारह के बारह भाव व्यक्ति को कुछ न कुछ देना चाहते हैं। प्रत्येक भाव से मिलने वाले सुख इस प्रकार हैं- भाव फल 1 निरोगी काया 2 धन व माया, अच्छा कुटुंब 3 मित्र व छोटे भाई 4 सुंदर घर 5 आज्ञाकारी पुत्र 6 आज्ञाकारी नौकर (कोई रोग व शत्रु) 7 कुलवंती वार (अच्छे कुल से पत्नी) 8 लंबी आयु व पत्नी का कुटुंब 9 पूजा पाठ व धर्म का पालन 10 कर्मशील रहो 11 पाप रहित कमाई 12 शभु कार्यों पर व्यय (कमाई का दसवां हिस्सा दान करों)


परा विद्यायें विशेषांक  अकतूबर 2010

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.