कुंडली विश्लेषण के कुछ महत्वपूर्ण नियम

कुंडली विश्लेषण के कुछ महत्वपूर्ण नियम  

कुंडली का विश्लेषण करते हुए कुछ महत्वपूर्ण तथ्यों जैसे- सभी ग्रहों की स्थिति, डिग्री, दृष्टि, गति, नवांश और चलित की स्थिति आदि को अवश्य ही ध्यान में रखना चाहिए और उन्हीं के अनुसार भविष्यकथन करना चाहिए। इन सभी पहलुओं को देख कर अगर भविष्य कथन होगा तो निश्चित रूप से ज्योतिष के वैज्ञानिक दृष्टिकोण को हम सार्थक कर सकते हैं।

ज्योतिष शास्त्र मनुष्य को अंधकार से प्रकाश की ओर ले जाता है और अपरा तथा परा विद्याओं को जोड़ने वाले पुल की तरह कार्य करता है।

इस शास्त्र से ही हम किसी के प्रारब्ध और भविष्य के बारे में कुछ जान सकते हैं। हर व्यक्ति का जन्म उसके प्रारब्ध के अनुसार ही होता है और इस जन्म के लेखे-जोखे के अनुसार ही अगला जन्म होता है। प्रायः इसी तरह यह जीवन चक्र चलता रहता है।

ज्योतिष शास्त्र जो खगोलीय शास्त्र पर आधारित है हमारे भविष्य कथन में बहुत सहायक सिद्ध होता है। इसमें कोई संशय नहीं है कि खगोल शास्त्र की तरह ज्योतिष भी विज्ञान है परंतु इसमें कुछ अपवाद भी हैं। यह एक संभावनाओं का शास्त्र अधिक है। कोई भी भविष्यवाणी पूर्ण सत्यता से करना असंभव तो नहीं पर काफी कठिन है। जहां एक ओर कुंडली में ग्रहों की स्थिति दृष्टि, दशा, गोचर आदि के आधार पर भविष्यवाणी की जाती है वहीं ज्योतिषी की छठी इंद्री अर्थात अंतज्र्ञान तथा उसकी ईश्वरीय शक्ति भी बहुत महत्वपूर्ण होती है। कुछ ज्योतिषी केवल कुंडली से ही देख कर बता देते हैं तो कुछ कुंडली के प्रत्येक पहलू को अच्छी तरह परख कर बताते हैं।

अलग-अलग ज्योतिषियों के भविष्यकथन में भी काफी फर्क होता है क्योंकि उनके अनुभव व तरीके भी भिन्न होते हैं। भविष्य कथन के व्यवहारिक पक्ष को देखें तो कुछ बातों का ध्यान अवश्य रखना चाहिए जैसे -

1. देश काल परिस्थिति

2. चलित

3. नवांश

4. राजयोग, दशा व गोचर का समन्वय

5. षड्बल

6. नीच भंग राज योग

7. वक्री ग्रह

8. स्तंभित ग्रह

9. शनि शुक्र दशा का विचित्र नियम

10. दृष्टि संबंध

11. ग्रहों का परस्पर परिवर्तन योग (विनिमय)

12. काल सर्प योग

13. पंचमहापुरुष योग

14. पुरुष जातक या स्त्री जातक

1. देश, स्थान, काल, परिस्थिति का महत्व

भविष्यकर्ता को देश, काल, स्थान व परिस्थितियों के अनुसार ही भविष्यकथन करना चाहिए। हर देश/समाज व्यक्ति विशेष की संस्कृति, वैभव, समृद्धि आदि का ध्यान रख कर ही कुंडली देखनी चाहिए। किसी धनाढ्य व्यक्ति की कुंडली का लक्ष्मी योग या राजयोग उसे अरबपति बना देगा जबकि गरीब व्यक्ति की कुंडली का वही योग उसे लखपति बनाएगा।

इसी प्रकार सामाजिक स्थिति और संस्कृति भी भविष्य कथन में जरूरी है क्योंकि विदेश में सप्तम भाव में यदि पाप ग्रह स्थित हों और किसी भी शुभ ग्रह की दृष्टि न हो तो तलाक की भविष्यवाणी काफी सही सिद्ध होगी। पर भारत में इस विषय पर काफी सोच समझ कर बोलना चाहिए क्योंकि अब भी प्रौढ़ उम्र के व्यक्ति तलाक के बारे में नहीं सोचते।

कुंडली-1 में सप्तम भाव में दो पृथकतावादी ग्रह सूर्य और राहु बैठे हैं। सप्तम भाव पर किसी भी शुभ ग्रह की दृष्टि नहीं है। सप्तमेश अष्टम भाव में स्थित है। इन सज्जन का विवाह विपरीत परिस्थितियां होते हुए भी चल रहा है। विदेश में शायद अलग हो गये होते।

कुंडली-2 में सप्तम भाव में चार ग्रह स्थित है जिनमें सूर्य और मंगल पृथकतावादी ग्रह हैं विदेश में इस कुंडली को देखने से फौरन कह सकते हैं कि तलाक हो जाएगा और एक से अधिक विवाह होंगे। परंतु भारत में इसी कुंडली वाले जातक का विवाह घिसट रहा है। अच्छे संबंधों में खटास होते हुए भी विवाह चल रहा है।

2. चलित का महत्व

कुंडली का आकलन करते हुए चलित को अवश्य देखना चाहिए क्योंकि लग्न कुंडली में ग्रह त्रिकोण या केंद्र में होते हुए भी यदि चलित में षष्ट, अष्टम या द्वादश में चले जाएं तो फलादेश भिन्न हो जाता है और उसमें न्यूनता आ जाती है; अथवा अष्टम या द्वादश में स्थित शुभ ग्रह सप्तम या केंद्र में आ जाएं तो फल की शुभता में वृद्धि होती है। लग्न कुंडली में ग्रह उसी भाव के फल देता है जिसमें कि चलित में जाता है।

कुंडली-3 में स्थित सभी ग्रह चलित में एक घर पीछे चले गये हैं अर्थात् सभी की राशि हम लग्न से लेगें पर भावफल भाव चलित से लिया जाएगा। इस लग्न के अनुसार इस जातक का वर्चस्व बहुत अधिक होना चाहिए परंतु फल लग्न कुंडली के अनुसार नहीं मिला। सूर्य, बुध और शुक्र के नवम में आने से उसे जीवन में विशेष सफलता नहीं मिली।

3. नवांश की महत्ता

जन्मकुडली के अतिरिक्त नवांश कुंडली को देखना अत्यंत आवश्यक है। सप्तम भाव के अतिरिक्त अन्य ग्रहों की नवांश में स्थिति जैसे उच्च, नीच, स्वगृही या मूलत्रिकोण आदि को देखने से कुंडली के अतिरिक्त बल का ज्ञान होता है जिससे सही फलादेश में बहुत सहायता मिलती है।

कुंडली-4 में जातक बचपन में ही राहु की दशा के कारण ज्यादा नहीं पढ़ पाया परंतु अपने भाग्य के बल पर आज अरबपति है।

कुंडली में धनेश, लाभेश तथ लग्नेश एकादश भाव (लाभ स्थान) में गुरु से केंद्र में युति बना रहे हैं। धन कारक गुरु धन स्थान में स्थित है तथा नवांश में सूर्य और गुरु उच्च राशि में तथा शुक्र मंगल स्वगृही होकर कुंडली को अत्यंत बलशाली बना रहे हंै।

4. ग्रह बल

फलादेश करते हुए ग्रह बल का ध्यान रखना भी आवश्यक है क्योंकि कई बार कुंडली में योग होते हुए भी ग्रह के हीन बली होने से योग फलीभूत नहीं होता और भविष्यकथन की सटीकता प्रभावित होती है जैसे- अनेक बार ऐसी कुंडली देखने को मिलती है जिसे देख कर कहा नहीं जा सकता कि विवाह नहीं होगा। विवाह कारक ग्रह की स्थिति अच्छी होते हुए भी विवाह नहीं होता क्योंकि कलत्र कारक ग्रह शुक्र/गुरु सप्तमेश होकर कहीं भी शून्य अंश में हों, शुभ ग्रह की दृष्टि में न हो, पाप ग्रह की दृष्टि या युति में हांे अथवा पापकत्र्तरी से पीड़ित हो तो विवाह की संभावना कम हो जाती है।

कुंडली-5 में जातक की आयु 81 वर्ष की हो चुकी है परंतु विवाह अभी तक नहीं हुआ क्योंकि जाया कारक शुक्र सप्तमेश होकर शून्य अंश का है तथा शनि से दृष्ट है। सप्तम पर चंद्र और राहु की दृष्टि है इसलिए विवाह चाह कर भी नहीं हो पाया।

5. स्थान परिवर्तन का राजयोग तथा दशाफल का विचित्र नियम

कवि कालिदास द्वारा रचित उत्तरकालामृत के अनुसार शुक्र और शनि यदि दोनों उच्च, स्वक्षेत्री तथा वर्गोत्तमी होकर बलवान स्थिति में हांे, तो एक दूसरे की दशा तथा अंतर्दशा में खराब फल देते हैं। लेकिन दोनों में से एक बलवान और दूसरा बलहीन हो तो अपने योग का फल देते हैं।

इंदिरा गांधी: इनकी कुंडली अत्यंत बलवान है। शनि और चंद्र, गुरु और शुक्र एवं सूर्य और मंगल का परिवर्तन अर्थात सभी ग्रहों के परिवर्तन योग से बहुत बड़े राजयोग बन रहे हैं। शुक्र और शनि दोनों ही बलवान हैं। लेकिन शनि की महादशा और शुक्र की अंतर्दशा में इंदिरा जी को चुनावों में जबरदस्त हार और बदनामी का सामना करना पड़ा।

कुंडली-7 में शुक्र तृतीयेश एवं दशमेश होकर स्वगृही है और शनि षष्ठेश, सप्तमेश और अकारक होकर चतुर्थ भाव में (शत्रु राशि में) सूर्य और राहु के साथ स्थित होकर अशुभ स्थिति बना रहा है। शुक्र की महादशा और शनि की अंतर्दशा में जातक को अच्छे फल प्राप्त हुए और शिक्षा के क्षेत्र में विशेष प्रगति हुई।

6. नीच भंग राज योग

इसी तरह से भविष्य कथन करते हुए नीच ग्रह और उच्च ग्रह का काफी विचार किया जाता है। उसमें भी नीच भंग राज योग का ध्यान रखना चाहिए। यदि नीच ग्रह वक्री हो जाए तो उच्च ग्रह के समान फल देता है और उच्च ग्रह वक्री हो जाए तो वह अपने बल में क्षीण हो जाता है और अपेक्षित फल नहीं दे पाता।

शरद पवार: नीच के शनि ने अपनी दशा में इन्हें केंद्र सरकार में अत्यंत महत्वपूर्ण पद प्रदान किए और साथ ही शारीरिक कष्ट (लकवा) भी दिया। पर उच्च भाग्य देखिये कि चेहरे का लकवा होते हुए भी वह आज देश के कृषि मंत्री के पद पर आसीन हैं।

श्याम सुंदर भरतिया: धनेश सूर्य को धनकारक ग्रह गुरु की पूर्ण दृष्टि है इसलिए सूर्य ने नीच राशि में होते हुए भी अपनी दशा में भरतिया जी को अरबपति बना दिया।

अनिल अंबानी: अनिल अंबानी को कौन नहीं जानता। इनकी कुंडली में दो प्रकार से नीच भंग राजयोग बन रहे हंै। चंद्र और मंगल का आपस में परिवर्तन योग है तथा मंगल अधिष्ठित राशि कर्क का स्वामी चंद्रमा मंगल से दशम अर्थात केंद्र में है।

7. स्तम्भित ग्रह

गुरु बलवान होने के बावजूद अगर स्तम्भित होता है तो भी फल नहीं देता। जैसे अर्जुन सिंह जी को गुरु की महादशा में विपरीत परिस्थितियों का सामना करना पड़ा और इनके राजनैतिक कैरियर को बड़ा झटका लगा।

8. वक्री ग्रह

कालिदास के अनुसार उच्च ग्रह वक्री होकर क्षीण फल देते हैं।

मोरार जी देसाई: इनकी कुंडली में गुरु और शनि दोनों अपनी उच्च राशि में बैठे हैं लेकिन वक्री हैं। इसलिए जिदंगी में काफी उथल-पुथल रही और अपनी आकांक्षाओं की पूर्ति के लिए उन्हें अत्यधिक संघर्ष करना पड़ा।

इनके अतिरिक्त ग्रहों के अंश, अस्त अथवा परास्त स्थिति, दृष्टि संबंध तथा दशाफल व गोचर का ध्यान भी रखना चाहिए। क्योंकि उचित दशा आने पर जन्मकुंडली के योगों द्वारा बनाई गई कर्मफल की पोटली लाने का काम गोचर ही करता है। बहुत बार ऐसा भी होता है कि अच्छे योग देने वाले ग्रहों की दशा आने पर भी सही गोचर के अभाव में पूर्ण रूप से संतोषजनक फल नहीं मिल पाते।

निष्कर्ष: भविष्य कथन करते हुए यदि ज्योतिष के इन महत्वपूर्ण नियमों का पालन किया जाए और सभी तथ्यांे का ध्यान रखा जाए तो निश्चित रूप से फलकथन में सटीकता आ जाएगी।



परा विद्यायें विशेषांक  अकतूबर 2010

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.