बसंत पंचमी एवं मां सरस्वती

बसंत पंचमी एवं मां सरस्वती  

व्यूस : 4840 | जनवरी 2012
बसंत पंचमी एवं माँ सरस्वती की कथा के. के. निगम मन भावन बसंत ऋतु का आगमन शीत ऋतु की समाप्ति पर होता है। वैदिक कालों से इस उमंग, उल्लास और उत्साह से भरे बसंत पंचमी पर्व को मनाने का प्रचलन है। माघ शुक्ल पंचमी को मनाया जाने वाला पर्व बसंत पंचमी माँ सरस्वती का जन्म दिन भी है। ब संत पंचमी के दिन प्रकृति की रमणीयता तथा अद्भुत सौंदर्य को देखकर सभी प्राणियों के हृदय में उमंगों का संचार होने लगता है, इस बसंत ऋतु को काम अनुरागी भी कहा जाता है। सुखी दाम्पत्य जीवन के लिए बसंत पंचमी के दिन चावल से स्त्रियां अष्टदल कमल बनाकर उस जल से परिपूर्ण कलश रखती हैं और पूजन करती हैं या इसी प्रकार के माली द्वारा दिये ‘बसंत गढ़वा’ का पूजन कर कामना करती हैं कि उनका सुहाग अक्षुण्ण एवं दाम्पत्य जीवन सुखमय रहे। इस दिन हरे, पीले वस्त्रों को धारण करने का रिवाज है। वस्तुतः पीला रंग शुभता और ज्ञान का प्रतीक होता है। माघ शुक्ल पंचमी को मन, बुद्धि, ज्ञान, संगीत व ललित कलाओं की अधिष्ठात्री देवी सरस्वती का जन्म दिवस भी है। उनको प्रसन्न करने एवं उनका आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए ऐसा किया जाता है। इस दिन विष्णु, सूर्य, शिव और पार्वती की भी पूजा करने का विधान है। बसंत पंचमी के दिन से ही होली की लकड़ियां चैराहे पर इकट्ठी किये जाने का प्रचलन है। बसंत पंचमी हमारे जीवन में आनंद, उल्लास, उमंग का सर्वोŸाम पर्व है। ब्रह्मा जी ने सृष्टि की रचना की तो यह सृष्टि मूक थी। यह देखकर ब्रह्मा जी ने अपने कमंडल से जल छिड़का, जिससे पेड़-पौधे फूल खिल उठे तथा उनसे एक शक्ति उत्पन्न हुई। उस देवी ने वीणा वादन प्रारंभ किया तो सारी सृष्टि, पेड़ पौधे, झूमने लगे और इससे मधुर वाणी निकलने लगी, सभी पशु-पक्षी कलरव करने लगे। प्रकृति मोहक, वाणी युक्त संगीत से ओतप्रोत तथा सुहावनी हो गई। इन्हीं देवी को माँ सरस्वती कहा गया। उसी दिन से बसंत पंचमी पर्व मनाने की परिपाटी चल पड़ी। एक अन्यकथा के अनुसार आद्याशक्ति ने अपने को पांच भागों में बांट लिया। ये पांच भाग क्रमशः दुर्गा, सरस्वती, पदमा, सावित्री, राधा कहलाईं। श्रीमद देवी भागवत और दुर्गा सप्तशती में कुछ इसी प्रकार का वर्णन है। माँ सरस्वती का पूजन करने हेतु बसंत पंचमी के दिन प्रातःकाल उठकर दैनिक क्रियाओं से निवृŸा होकर पीले वस्त्र धारण कर पूजा स्थल पर परिवार के साथ सफेद या पीले आसन पर बैठें। सामने माँ सरस्वती जी की मूर्ति या चित्र लगाएं। उसके सामने बसंत गड़वा रखें। फिर षोडशोपचार पूजा अर्चनकर सरस्वती का मंत्र ‘‘ऊँ ऐं सरस्वत्यै ऐं नमः’’ का 108 बार जप करें। फिर अपने बच्चों को तिलक कर पीले पुष्पों की माला पहनाकर उनकी जीभ पर केसर से चांदी की सलाई द्वारा ‘ऐं’ बीज मंत्र लिखें। इस क्रिया को करने से बच्चों की वाणी में मिठास, बुद्धि में बढ़ोŸारी, पढ़ाई में मन लगने लगेगा। बसंत पंचमी के शुभ मुहूर्त के बारे में मान्यता है कि कार्यों को करने में जब मन में उत्साह हो तो वह कार्य सिद्ध होता है और बसंत पंचमी के दिन मनुष्य ही क्या, सारी प्रकृति में उल्लास, उमंग और आनंद व्याप्त होता है और ज्ञान वाणी की देवी सरस्वती का जन्म दिन भी उसी दिन होने के कारण इस स्थिति से अधिक शुभ मुहूर्त और क्या हो सकता है? इसे सर्वमान्य शुभ फलदायी मुहूर्त घोषित करते हुए कहा गया कि इस दिन कोई भी मांगलिक कार्य बिना पंचांग एवं ज्योतिषीय परामर्श के सम्पन्न किया जा सकता है। इस तरह बसंत पंचमी अनपूछा मुहूर्त के अंतर्गत आता है।

Ask a Question?

Some problems are too personal to share via a written consultation! No matter what kind of predicament it is that you face, the Talk to an Astrologer service at Future Point aims to get you out of all your misery at once.

SHARE YOUR PROBLEM, GET SOLUTIONS

  • Health

  • Family

  • Marriage

  • Career

  • Finance

  • Business

मार्च 2020 विशेषांक  March 2020

फ्यूचर समाचार के इस विशेषांक में - दिल्ली में केजरीवाल - एक सुनहरे भविष्य की ओर, नागरिकता संसोधन कानून (CAA) 2019, टैरो कार्ड-कैरियर का मार्गदर्शन, मानव जीवन पर रंगों का प्रभाव, शनि प्रदत्त कष्टों का निवारण आदि सम्मिलित हैं ।

सब्सक्राइब


.