हस्तरेखा शास्र


हस्तरेखा शास्त्र का इतिहास एवं परिचय

मार्च 2015

व्यूस: 4731

‘‘शब्दकल्पद्रुम खंड’’ के 14 वंे खंड के पृष्ठ 334 के अनुसार द्वापर युग में भगवान श्रीकृष्णजी ने देवाधिदेव उमापति महादेव जी के समक्ष मानव के शुभाऽशुभ लक्षण जानने की इच्छा प्रकट की। श्रीकृष्ण बोले -‘‘ की दृशः पुरुषो, अवन्द्यो व... और पढ़ें

हस्तरेखा शास्रग्रह पर्वत व रेखाएंभविष्यवाणी तकनीक

हस्त रेखा में चिह्नों का प्रभाव

अप्रैल 2011

व्यूस: 4640

यह तीन रेखाओं को मिला कर बनता है। अगर त्रिश्ुज का आकार बड़ा तथा रेखाएं सीधी और स्पष्ट हों, तो यह शुश् फलदायक है... और पढ़ें

हस्तरेखा शास्रग्रह पर्वत व रेखाएं

हस्तरेखा एवं नवग्रहों का सम्बन्ध

मार्च 2015

व्यूस: 4584

हस्तरेखा विष्ेाषज्ञ का कार्य एक डाॅक्टर जैसा होता है। डाॅक्टर दवाई देकर शरीर का रोग दूर करता है हस्त रेखा विष्ेाषज्ञ को मन की चिकित्सा करनी होती है। हस्त रेखा विशेषज्ञ हाथ की रेखायंे देख कर भीतर छिपी संभावनाओं को समझ सकता ह... और पढ़ें

हस्तरेखा शास्रग्रहभविष्यवाणी तकनीक

हस्तरेखा द्वारा विवाह मिलाप

मार्च 2015

व्यूस: 4314

विवाह एक बहुत महत्वपूर्ण सामाजिक संयोग है जिसमें दो लोग मिलकर नई कल्पनायें और आषाओं के साथ एक नये जीवन का प्रारंभ करते हैं। इस जीवन को और सुखद और खुषमय बनाने के लिये आवष्यक है दोनांे व्यक्तियों के बीच में विवाह मिलाप करना। यह अ... और पढ़ें

हस्तरेखा शास्रविवाहभविष्यवाणी तकनीक

हस्त रेखाओं से जानिए अपनी रुचि

अप्रैल 2011

व्यूस: 4205

इस लेख में विभिन्न प्रकार की बनावट वाले हाथों और उनमें विद्यमान पर्वतों के आधार पर किस विषय में रुचि हो सकती है, इसकी सटीक जानकारी दी गई है।... और पढ़ें

हस्तरेखा शास्रउपायभविष्यवाणी तकनीक

हस्तरेखा शास्त्र के सिद्धान्त

मार्च 2015

व्यूस: 4198

प्राथमिक तौर पर हम ‘हस्तरेखा विज्ञान’ अर्थात् पामिस्ट्री को दो भागों में बांट सकते हैं- प्रथम, हाथ की रचना (बनावट)- इसमें हम व्यक्ति की मूल प्रवृत्तियों का ज्ञान करते हैं। जैसे - प्यास, भूख, क्रोध, भय, काम आदि इच्छाएं, हस्त ... और पढ़ें

हस्तरेखा शास्रहस्तरेखा सिद्धान्त

हस्तरेखा से अनुमानित आयु की गणना

अप्रैल 2017

व्यूस: 4138

हस्त परीक्षण के समय तक मनुष्य के जीवन में कितनी घटनाएं घटित हो चुकी हैं और कितनी आने वाले समय में घटित होंगी, इसका सटीक कथन करने के लिए उसकी वर्तमान आयु की गणना कार्य में प्रवीण् ाता प्राप्त कर लेना उचित होगा। इस कार्य में ... और पढ़ें

हस्तरेखा शास्रभविष्यवाणी तकनीक

हस्त रेखा द्वारा भविष्यकथन

अकतूबर 2016

व्यूस: 4071

सामुद्रिक शास्त्र के सिद्धांतों के आधार पर सूक्ष्म रूप से अध्ययन कर भविष्य बताया जाता है। मान्यतानुसार जातक के दोनों हाथों की रेखाएं अलग-अलग होती हैं क्योंकि बायें हाथ की रेखा व्यक्ति के पूर्व जन्म और दायें हाथ की रेखाएं इस ... और पढ़ें

हस्तरेखा शास्रभविष्यवाणी तकनीकहस्तरेखा सिद्धान्त

हस्त रेखाएं व बोलने की कला

मार्च 2015

व्यूस: 3944

जिस प्रकार उठना बैठना, चलना फिरना प्रत्येक इंसान जानता है अगर हम इन क्रियाओं में शिष्टाचार का उपयोग करते हैं तो उसमें चार चांद स्वभाविक रूप से लग जाते हैं। ठीक उसी प्रकार बोलना तो हर कोई जानता है लेकिन बोलते समय अगर एक ‘भाषा शैल... और पढ़ें

हस्तरेखा शास्रभविष्यवाणी तकनीकस्वर सुधार/हकलाना

न्युमेरो-पामिस्ट्री द्वारा मधुमेह रोग की पहचान

अकतूबर 2008

व्यूस: 3916

हस्तरेखा विज्ञान के आधार पर रोगों की पहचान 1. चंद्र पर्वत पर क्राॅस का चिन्ह हो। 2. हथेली के चंद्र पर्वत पर आड़ी-तिरछी रेखाएं हों। 3. निम्न चंद्र पर्वत पर जीवन रेखा की तरफ जाल, द्वीप या तारा का चिन्ह हो। 4. हथेली के अंगूठे और प... और पढ़ें

स्वास्थ्यअंक ज्योतिषहस्तरेखा शास्रचिकित्सा ज्योतिष

Ask a Question?

Some problems are too personal to share via a written consultation! No matter what kind of predicament it is that you face, the Talk to an Astrologer service at Future Point aims to get you out of all your misery at once.

SHARE YOUR PROBLEM, GET SOLUTIONS

  • Health

  • Family

  • Marriage

  • Career

  • Finance

  • Business

लोकप्रिय विषय

करियर बाल-बच्चे चाइनीज ज्योतिष दशा वर्ग कुंडलियाँ दिवाली डऊसिंग सपने शिक्षा वशीकरण शत्रु यश पर्व/व्रत फेंगशुई एवं वास्तु टैरो रत्न सुख गृह वास्तु प्रश्न कुंडली कुंडली व्याख्या कुंडली मिलान घर जैमिनी ज्योतिष कृष्णामूर्ति ज्योतिष लाल किताब भूमि चयन कानूनी समस्याएं प्रेम सम्बन्ध मंत्र विवाह आकाशीय गणित चिकित्सा ज्योतिष Medicine विविध ग्रह पर्वत व रेखाएं मुहूर्त मेदनीय ज्योतिष नक्षत्र नवरात्रि व्यवसायिक सुधार शकुन पंच पक्षी पंचांग मुखाकृति विज्ञान ग्रह प्राणिक हीलिंग भविष्यवाणी तकनीक हस्तरेखा सिद्धान्त व्यवसाय पूजा राहु आराधना रमल शास्त्र रेकी रूद्राक्ष श्राद्ध हस्ताक्षर विश्लेषण सफलता मन्दिर एवं तीर्थ स्थल टोटके गोचर यात्रा वास्तु परामर्श वास्तु दोष निवारण वास्तु पुरुष एवं दिशाएं वास्तु के सुझाव स्वर सुधार/हकलाना संपत्ति यंत्र राशि
और टैग (+)