नाभि चढ़ना : एक वास्तविक समस्या

नाभि चढ़ना : एक वास्तविक समस्या  

नाभि चढ़ना: एक वास्तविक समस्या आचार्य अविनाश सिंह नाभि का अपने स्थान से हट जाना, मानव शरीर में अस्वस्थता पैदा कर, कई प्रकार की शारीरिक व्याधियां उत्पन्न करता है, जिनका समाधान नाभि को पुनः यथास्थान पर ला कर ही होता है, औषधियों से नहीं। इस रोग को नाभि खिसकना, नाभि चढ़ना, धरण का टलना आदि नामों से जाना जाता है। शिशु रूप में जब मानव गर्भावस्था में होता है, तब नाभि ही एकमात्र वह मार्ग होता है, जिसके माध्यम से वह अपनी सभी महत्त्वपूर्ण क्रियाओं, जैसे सांस लेना, पोषक तत्वों को ग्रहण करना तथा व्यर्थ और हानिकारक पदार्थों का निष्कासन करता है। जन्मोपरांत शिशु के गर्भ से बाहर आते ही सबसे पहला कार्य उसकी नाभि और मां के प्लेसेंटा का संबंध विच्छेदन करना तथा शिशु की नाभि-रज्जू को कस कर बांधना होता है। उदर और आंतों से संबंधित रोगों में, जैसे कब्ज और अतिसार आदि का जब सभी प्रकार के निरीक्षण करने पर भी रोग के कारण मालूम न हों, मल-परीक्षण करने से भी किसी जीवाणु का पता न चले, रोगी में पाचक रस, पित्त और पुनःसरण गति सामान्य हो, लेकिन उसके उदर के शारीरिक परीक्षण में नाभि पर धमनी की तीव्र धड़कन महसूस न हो कर उससे कुछ हट कर प्रतीत होती हो, जबकि सामान्य अवस्था में यह धड़कन नाभि के बिल्कुल मध्य में महसूस होती है और इसके अतिरिक्त रोगी के दोनों स्तनों के केंद्र की नाभि के मध्य से दूरी एक समान न हो कर अलग-अलग होती हो, रोगी के हाथ की दोनों कनिष्ठा अंगुलियों की लंबाई भी समान न हो कर कुछ छोटी-बड़ी मालूम होती हो, जबकि सामान्य और स्वस्थ व्यक्ति में कनिष्ठा अंगुलियों की लंबाई एक समान ही होती है, तो कुछ विशेष प्रयासों के द्वारा जब नाभि के केंद्र को उसके केंद्र में पुनः स्थापित कर दिया जाता है, तो रोगी को, बिना किसी औषधि उपचार से, इन रोगों से मुक्ति मिल जाती है। प्रमुख लक्षण: नाभि चढ़ना, नाभि खिसकना, धरण का टलना आदि नामों से जाने जाने वाले रोग का सबसे प्रमुख लक्षण तो यही है कि नाभि अपने केंद्र में न हो कर उसके आसपास होती है, जिसके कारण आंत में मल सामान्य गति से आगे नहीं बढ़ता और आंत में अस्थायी अवरोध आ जाने से व्यक्ति को कब्ज रहने लगती है, अंतड़ियों में मल जमा होने लगता है। इसी कारण नाभि का स्थान स्पर्श करने से कठोर प्रतीत होता है। आंतों में मल के अधिक जमाव से नाभि स्पंदन कुछ मध्यम होता जाता है और रोगी के पेट में भारीपन तथा धीमा दर्द रहने लगता है। कभी-कभी आंत में अवरोध के बजाय उनके अपने विस्थापन, या किसी अन्य अंग के दबाव से आंत में तीव्र उत्तेजना उत्पन्न होने लगती है, जिससे छोटी आंत की पुनःसरण गति तथा बृहत आंत की समूह गति तीव्र हो जाती है। मल पर्याप्त समय तक अंतड़ियों में रुक नहीं पाता है। उसके पोषक पदार्थों एवं जल अंश का अवशोषण न हो पाने से रोगी को मरोड़ के साथ दस्त आने लग जाते हैं। ऐसी स्थिति में आंतें कठोर तो प्रतीत नहीं होतीं, किंतु, उनमें तरल भरा होने के कारण, नाभि की स्पंदन की एक तरंग सी कई स्थानों पर महसूस होता है। रोगी में अतिसार वाली यह अवस्था यदि अधिक समय तक बनी रहे, तो उसके कारण रोगी के शरीर में विभिन्न पोषक तत्त्वों और जल का अभाव नजर आने लगता है। नाभि प्रदेश में स्थित आंत के किसी भाग के विस्थापन से कई बार उदर में स्थित किसी महत्वपूर्ण अंग को रक्त की आपूर्ति करने वाली रक्त धमनी, अथवा रक्त शिरा पर दबाव पड़ने से वह दबने लग जाती है। ऐसा होने पर उस अंग विशेष की रक्त की पूर्ति घट जाने से उस अंग की कार्यप्रणाली प्रभावित होने लग जाती है तथा तत्संबंधित रोगों का जन्म होता है। यदि उन अंगों से रक्त की निकासी प्रभावित होती है और उन अंगों की विभिन्न रासायनिक क्रियाओं के कारण उत्पन्न हुए व्यर्थ पदार्थ, रक्त के साथ वापिस न जा कर, उन्हीं अंगों में संचित होने लग जाते हैं। इससे उन अंगों का आकार बढ़ने लगता है और, कई प्रकार के विकार उत्पन्न हो कर, तत्संबंधी रोगों को जन्म देते हैं। कारण: नाभि खिसकने के कई कारण हैं, जैसे आचानक चलते समय ऊंची-नीची जगह पर पांव पड़ना, शरीर को संतुलित किये बिना जल्दबाजी में वजन उठाना, ऊंचाई से छलांग लगाना, स्कूटर, कार, बस आदि में सफर करते समय वाहन का कई बार उछलने से झटका लगना। पेट में किसी प्रकार का आघात होना। स्त्रियों में कई बार गर्भावस्था में नाभि पर आंतरिक दबाव से भी नाभि अपने स्थान से हट जाती है। उपचार: आयुर्वेदिक चिकित्सा प्रणाली के अतिरिक्त किसी अन्य चिकित्सा पद्धति ने इसे मान्यता प्रदान नहीं की है। लेकिन जब विशेष प्रकार की तकनीकों से इन रोगों में स्थायी लाभ मिलते देखा जाता है, तब इस रोग की कल्पना को स्वीकार करना पड़ता है। नाभि को अपने स्थान पर पुनःस्थापित करने के लिए भारत में सैकड़ों विधियां प्रचलित हैं। इनमें से कुछ परीक्षित विधियां इस प्रकार हैं: प्रातः काल एक चम्मच आंवले का चूर्ण, एक गिलास गुनगुने पानी से, अथवा गुनगुने पानी में एक नींबू निचोड़ कर पी लें। यदि शौच विसर्जन की हरकत हो, तो शौच के लिए जाएं, अथवा एक-दो किलोमीटर सैर करने के लिए किसी खुले स्थान, बाग-बगीचे में जाएं। लगभग एक घंटे के उपरांत किसी भी चीज, जैसे पेड़ की शाखा, को दोनों हाथों से पकड़ कर लटक जाएं। लटकने पर पैर जमीन से एक फुट ऊंचें रहें और लटके-लटके पैरों को जोर से चार-पांच बार झटका दंे और पैरों को पूरी शक्ति से जमीन की तरफ खीचते हुए तानें। ऐसा कर के, नीचे उतर कर, लेट जाएं और लेटे-लेटे अपने पेट पर स्वयं के हाथों से, या किसी से मालिश करवाएं। दोनों हाथों की हथेलियों को नाभि पर रखें तथा हल्के दबाव के साथ हाथों को दोनों तरफ फैलाते हुए पसलियों के पास लाएं। फिर, हाथों को बिना हटाए, पसलियों के ंमध्य जोड़ें तथा हल्के दबाव के साथ सीधे नाभि की तरफ ले जाएं। इस विधि से नाभि अपने स्थान पर स्थित हो जाती है। श्वसन में लेट कर, पेट पर नाभि के ऊपर जलता हुआ दीपक रख कर, एक लोटा, या गड़वी को उसपर उल्टा रख दें। थोड़ी देर में दीपक बुझ जाएगा और लोटा नाभि क्षेत्र की त्वचा पर चिपक जाएगा तथा त्वचा लोटे में उभर जाएगी। इससे भी नाभि यथास्थान पर आ जाती है। अन्य उपचारों में रोग के लक्षणों के आधार पर चिकित्सा करें। हल्का व्यायाम, योगासन, या एक्युप्रेशर, कुशल चिकित्सक की देखरेख में, करें। आहार चिकित्सा: आंतों की दुर्बलता से यह रोग बार-बार होता है। आंतों को सबल बनाने के लिए फल, सब्जियां भरपूर खाएं। फलो में संतरा, मौसमी, बेल, अनार, तरबूज, नाशपाती, सेब आदि का भरपूर उपयोग करें। ज्योतिषीय दृष्टिकोण: काल पुरुष की कुंडली में पंचम भाव नाभि का माना गया है। लेकिन अनुभव के अनुसार पंचम भाव में इसका स्थान पंचम भाव के अंतिम अंशों पर है, अर्थात् पंचम और षष्ठ भाव की संधि के निकट। इसलिए पंचम भाव, पंचमेश, पंचम भाव के स्थिर कारक गुरु के साथ-साथ लग्न और लग्नेश जब दुष्प्रभावों में रहते हैं, तो नाभि से संबंधित शारीरिक समस्याएं बनती हैं। इसी तरह सिंह राशि का अंतिम चरण भी नाभि का है, क्योंकि सिंह राशि के स्वामी सूर्य के दुष्प्रभावों में रहने से भी ऐसा रोग हो जाता है। विभिन्न लग्नों में नाभि खिसकनाः मेष लग्न: बुध पंचम भाव में, लग्नेश मंगल अष्टम भाव में, शनि से युक्त गुरु लग्न में, राहु नवम भाव में, सूर्य षष्ठ भाव में हों, तो नाभि संबंधी रोग होता है। वृष लग्न: लग्नेश शुक्र दशम, या नवम भाव में बुध युक्त सूर्य से अस्त हो, अकारक गुरु पंचम भाव में हो, शनि तृतीय भाव में हो, मंगल द्वितीय भाव में हो, तो नाभि अपने स्थान से विचलित हो जाती है। मिथुन लग्न: लग्नेश बुध, अकारक मंगल पंचम भाव में समान अंशों पर हों, पंचमेश शुक्र सप्तम भाव में एकादश भाव में बैठे गुरु से दृष्ट हो, सूर्य षष्ठ भाव में हो और केतु से युक्त, या दृष्ट हो, तो नाभि संबंधी विकार पैदा होते हैं। कर्क लग्न: लग्नेश चंद्र सूर्य से अस्त हो, बुध पंचम भाव में राहु से युक्त हो, गुरु षष्ठ भाव में, पंचमेश मंगल अष्टम भाव में, शनि ग्यारहवें भाव में हो, तो नाभि से संबंधित विकार होते हैं। सिंह लग्न: पंचमेश गुरु, सूर्य से अस्त हो कर, नवम दशम, या एकादश भाव में हो, शनि राहु से युक्त पंचम भाव में हो, मंगल षष्ठ भाव में हो, तो नाभि की व्याधि होती है। कन्या लग्न: पंचमेश शनि अष्टम भाव में हो, लग्नेश बुध सूर्य से अस्त हो कर द्वितीय भाव में हो, मंगल पंचम भाव में हो, गुरु षष्ठ भाव में चंद्र से युक्त, या दृष्ट हो, तो नाभि में कष्ट होता है। तुला लग्न: पंचमेश शनि, सूर्य से अस्त हो कर, दशम, या एकादश भाव में हो, लग्नेश शुक्र नवम भाव में हो, गुरु पंचम भाव में चंद्र से युक्त, या दृष्ट हो, तो जातक को नाभि संबंधी रोग होता है। वृश्चिक लग्न: बुध पंचम भाव में, सूर्य चतुर्थ में, लग्नेश मंगल दशम, या ग्यारहवें भाव में हों, शनि षष्ठ भाव में, या अष्टम भाव में हो, राहु लग्न में हो, तो जातक को नाभि विकार होता है। धनु लग्न: शुक्र-चंद्र पंचम भाव में हों, गुरु अष्टम भाव में सूर्य से अस्त अंजीर एक मीठा, मुलायम, गूदेदार तथा स्वास्थ्यवर्द्धक फल है। इसका गूदा मीठा होता है और बीज छोटे होते हैं। इसके कई आकार और रंग होते हैं। इसमें नमी, प्रोटीन, चिकनाई और कार्बोहाइड्रेट् तत्त्व होते हैं। सूखी अंजीर में पोषक तत्व अधिक होते हैं। इसमें सबसे महत्वपूर्ण पोषक तत्व शर्करा है। अंजीर में अनेक रोगनाशक गुण होते हैं, जो, बीमारी से आयी कमजोरी को दूर कर, सामान्य स्वास्थ्य प्राप्त करने में सहायता करते हंै। यह, शारीरिक और मानसिक तनाव दूर कर, शरीर को स्फूर्ति और शक्ति प्रदान करता है। अंजीर को दूध में उबाल कर पीने से शारीरिक शक्ति में वृद्धि होती है। यह एक उत्तम शक्तिवर्द्धक औषधि है। जिनके होंठ फूल जाते हैं और जीभ पर छाले हो जाते हैं, उन्हें अंजीर के सेवन से लाभ होता है। यह हृदय रोगों में उपयोगी है और नाक से खून गिरना बंद करता है। सूखे अंजीर में मधुमेह और श्वास रोगनाशक गुण हैं। अंजीर सब सूखे मेवों से अधिक लाभदायक है। यह चेहरे की कांति बढ़ाता है, बलगम को पिघला कर बाहर करता है। वह पुरानी खांसी में हो, बुध सप्तम भाव में, राहु लग्न में, पंचमेश मंगल द्वितीय भाव में हांे, तो जातक को नाभि से संबंधित विकार होता है। मकर लग्न: पंचमेश शुक्र अस्त हो कर त्रिक भावों में, गुरु पंचम भाव में मंगल से युक्त, या दृष्ट हो, लग्नेश शनि सूर्य से षष्ठ, सप्तम, या अष्टम हो, तो जातक को नाभि से संबंधित रोग होता है। कुंभ लग्न: लग्नेश शनि लग्न में हो और किसी ग्रह से दृष्ट, या युक्त नहीं हो, गुरु षष्ठ भाव और पंचम भाव की संधि के निकट हो कर षष्ठ भाव में हो, पंचमेश बुध त्रिक भावो में सूर्य से अस्त हो, षष्ठेश चंद्र पंचम भाव में हो, तो जातक को नाभि से संबंधित रोग होता है। मीन लग्न: लग्नेश गुरु लग्न में अपने ही नक्षत्र में हो, पंचमेश चंद्र सूर्य से अस्त हो कर षष्ठ भाव में हो, बुध-शुक्र पंचम भाव और शनि के नक्षत्र में हों, तो जातक को नाभि से संबंधित रोग विकार होता है। रोग, संबंधित ग्रह की दशा, अंतर्दशा और गोचर के प्रतिकूल रहने से उत्पन्न होता है। जबतक संबंधित ग्रह प्रभावी रहेगा, तबतक रोग देगा। उसके उपरांत रोग से राहत मिलेगी।
क्या आपको लेख पसंद आया? पत्रिका की सदस्यता लें
nabhi charhna:ek vastavik samasyaacharya avinash sinhnabhi ka apne sthan se hat jana, manav sharir men asvasthata paida kar, kaiprakar ki sharirik vyadhiyan utpann karta hai, jinka samadhan nabhi ko punahythasthan par la kar hi hota hai, aushdhiyon se nahin. is rog ko nabhikhiskna, nabhi charhna, dharan ka talna adi namon se jana jata hai.shishu rup men jab manavagarbhavastha men hota hai,tab nabhi hi ekmatravah marg hota hai, jiske madhyam sevah apni sabhi mahattvapurn kriyaon,jaise sans lena, poshak tatvonko grahan karna tatha vyarth aurhanikarak padarthon ka nishkasnkrta hai. janmoprant shishu ke garbhase bahar ate hi sabse pahla karyauski nabhi aur man ke plesenta kasanbandh vichchedan karna tatha shishuki nabhi-rajju ko kas kar bandhnahota hai.udar aur anton se sanbandhit rogon men,jaise kabj aur atisar adi kajab sabhi prakar ke nirikshan karnepar bhi rog ke karan malum n hon,mal-parikshan karne se bhi kisijivanu ka pata n chale, rogi menpachak ras, pitt aur punahsaran gatisamanya ho, lekin uske udar kesharirik parikshan men nabhi par dhamniki tivra dharakan mahsus n ho karausse kuch hat kar pratit hotiho, jabki samanya avastha men yahadharakan nabhi ke bilkul madhya menmhsus hoti hai aur iske atiriktarogi ke donon stanon ke kendra kinabhi ke madhya se duri ek saman naho kar alg-alag hoti ho, rogike hath ki donon kanishtha anguliyonki lanbai bhi saman n ho kar kuchchoti-bari malum hoti ho, jabkisamanya aur svasth vyakti men kanishthaanguliyon ki lanbai ek saman hihoti hai, to kuch vishesh prayason kedvara jab nabhi ke kendra ko uskekendra men punah sthapit kar diya jatahai, to rogi ko, bina kisi aushdhiupchar se, in rogon se mukti miljati hai.pramukh lakshana: nabhi charhna, nabhikhiskna, dharan ka talna adinamon se jane jane vale rog kasbse pramukh lakshan to yahi hai kinabhi apne kendra men n ho kar uskeaspas hoti hai, jiske karnant men mal samanya gati se agenhin barhta aur ant men asthayiavrodh a jane se vyakti ko kabjarahane lagti hai, antriyon men mal jamahone lagta hai. isi karan nabhi kasthan sparsh karne se kathor pratithota hai.anton men mal ke adhik jamav senabhi spandan kuch madhyam hota jatahai aur rogi ke pet men bharipan tathadhima dard rahne lagta hai. kabhi-kabhiant men avrodh ke bajay unkeapne visthapan, ya kisi anya angke dabav se ant men tivra uttejnautpann hone lagti hai, jisse chotiant ki punahsaran gati tatha brihtant ki samuh gati tivra ho jatihai. mal paryapt samay tak antriyonmen ruk nahin pata hai. uske poshkpdarthon evan jal ansh ka avshoshanan ho pane se rogi ko maror kesath dast ane lag jate hain. aisisthiti men anten kathor to pratit nahinhotin, kintu, unmen taral bhara honeke karan, nabhi ki spandan ki ektrang si kai sthanon par mahsushota hai.rogi men atisar vali yah avasthaydi adhik samay tak bani rahe,to uske karan rogi ke sharir menvibhinn poshak tattvon aur jal kaabhav najar ane lagta hai. nabhipradesh men sthit ant ke kisi bhagke visthapan se kai bar udar mensthit kisi mahatvapurn ang ko raktaki apurti karne vali rakt dhamni,athva rakt shira par dabav parnese vah dabne lag jati hai. aisahone par us ang vishesh ki raktaki purti ghat jane se us ang kikaryapranali prabhavit hone lag jatihai tatha tatsanbandhit rogon ka janmahota hai. yadi un angon se raktaki nikasi prabhavit hoti hai auraun angon ki vibhinn rasaynikakriyaon ke karan utpann hue vyarthapadarth, rakt ke sath vapis n jakar, unhin angon men sanchit hone lagjate hain. isse un angon ka akarbrhne lagta hai aur, kai prakar kevikar utpann ho kar, tatsanbandhirogon ko janm dete hain.karn: nabhi khiskne ke kaikaran hain, jaise achanak chaltesamay unchi-nichi jagah par panvprna, sharir ko santulit kiye binajaldabaji men vajan uthana, unchaise chalang lagana, skutar, kar, basadi men safar karte samay vahan kakai bar uchlne se jhatka lagna.pet men kisi prakar ka aghathona. striyon men kai bar garbhavasthamen nabhi par antrik dabav se bhinabhi apne sthan se hat jati hai.upchar: ayurvedik chikitsa pranalike atirikt kisi anya chikitsapaddhati ne ise manyata pradan nahinki hai. lekin jab vishesh prakarki taknikon se in rogon men sthayilabh milte dekha jata hai, tab isrog ki kalpana ko svikar karnaprta hai.nabhi ko apne sthan par punahsthapitkrne ke lie bharat men saikronvidhiyan prachlit hain. inmen se kuchprikshit vidhiyan is prakar hain:pratah kal ek chammach anvle ka churn,ek gilas gungune pani se, athvagungune pani men ek ninbu nichor karpi len. yadi shauch visarjan ki harktho, to shauch ke lie jaen, athvaek-do kilomitar sair karne kelie kisi khule sthan, bag-bagichemen jaen. lagabhag ek ghante ke uprantkisi bhi chij, jaise per ki shakha,ko donon hathon se pakar kar latkjaen. latkne par pair jamin se ekfut unchen rahen aur latke-latke paironko jor se char-panch bar jhatkadane aur pairon ko puri shakti se jaminki taraf khichte hue tanen. aisakar ke, niche utar kar, let jaenaur lete-lete apne pet par svayanke hathon se, ya kisi se malishkrvaen. donon hathon ki hatheliyonko nabhi par rakhen tatha halke dabavke sath hathon ko donon taraf failatehue pasliyon ke pas laen. fir,hathon ko bina hatae, pasliyon kenmadhya joren tatha halke dabav ke sathsidhe nabhi ki taraf le jaen. isvidhi se nabhi apne sthan par sthitho jati hai.shvasan men let kar, pet par nabhike upar jalta hua dipak rakhakar, ek lota, ya garvi ko uspraulta rakh den. thori der men dipkbujh jaega aur lota nabhi kshetraki tvacha par chipak jaega tathatvacha lote men ubhar jaegi. issebhi nabhi yathasthan par a jati hai.anya upcharon men rog ke lakshanon keadhar par chikitsa karen. halkavyayam, yogasan, ya ekyupreshar,kushal chikitsak ki dekhrekh men,karen.ahar chikitsa: anton ki durbalatase yah rog bar-bar hota hai.anton ko sabal banane ke liefal, sabjiyan bharpur khaen. falo mensantra, mausmi, bel, anar, tarbuj,nashpati, seb adi ka bharpuraupyog karen.jyotishiya drishtikon: kal purushki kundli men pancham bhav nabhi kamana gaya hai. lekin anubhav keanusar pancham bhav men iska sthanpancham bhav ke antim anshon par hai,arthat pancham aur shashth bhav kisandhi ke nikat. islie pancham bhav,panchmesh, pancham bhav ke sthir karkguru ke sath-sath lagn aur lagneshajab dushprabhavon men rahte hain, to nabhise sanbandhit sharirik samasyaen bantihain. isi tarah sinh rashi ka antimacharan bhi nabhi ka hai, kyonki sinhrashi ke svami surya ke dushprabhavon menrhne se bhi aisa rog ho jata hai.vibhinn lagnon men nabhi khisknaahmesh lagna: budh pancham bhav men, lagneshmangal ashtam bhav men, shani se yuktaguru lagn men, rahu navam bhav men, suryashashth bhav men hon, to nabhi sanbandhi roghota hai.vrish lagna: lagnesh shukra dasham, yanavam bhav men budh yukt surya se astaho, akarak guru pancham bhav men ho,shani tritiya bhav men ho, mangal dvitiyabhav men ho, to nabhi apne sthan sevichlit ho jati hai.mithun lagna: lagnesh budh, akarkmangal pancham bhav men saman anshonpar hon, panchmesh shukra saptam bhav menekadash bhav men baithe guru se drisht ho,surya shashth bhav men ho aur ketu seyukt, ya drisht ho, to nabhi sanbandhivikar paida hote hain.kark lagna: lagnesh chandra surya seast ho, budh pancham bhav men rahu seyukt ho, guru shashth bhav men, panchmeshmangal ashtam bhav men, shani gyarhvenbhav men ho, to nabhi se sanbandhitvikar hote hain.sinh lagna: panchmesh guru, surya se astaho kar, navam dasham, ya ekadash bhavmen ho, shani rahu se yukt pancham bhav menho, mangal shashth bhav men ho, to nabhiki vyadhi hoti hai.kanya lagna: panchmesh shani ashtamabhav men ho, lagnesh budh surya se astaho kar dvitiya bhav men ho, manglpancham bhav men ho, guru shashth bhav menchandra se yukt, ya drisht ho, to nabhi menkasht hota hai.tula lagna: panchmesh shani, surya seast ho kar, dasham, ya ekadshbhav men ho, lagnesh shukra navam bhav menho, guru pancham bhav men chandra se yukt,ya drisht ho, to jatak ko nabhisanbandhi rog hota hai.vrishchik lagna: budh pancham bhav men,surya chaturth men, lagnesh mangal dasham,ya gyarhven bhav men hon, shani shashthabhav men, ya ashtam bhav men ho, rahulagn men ho, to jatak ko nabhivikar hota hai.dhnu lagna: shukra-chandra pancham bhav menhon, guru ashtam bhav men surya se astaanjir ek mitha, mulayam, gudedarttha svasthyavarddhak fal hai. iskaguda mitha hota hai aur bij chote hotehain. iske kai akar aur rang hotehain. ismen nami, protin, chiknai aurkarbohaidret tattva hote hain. sukhi anjirmen poshak tatva adhik hote hain. ismensbse mahatvapurn poshak tatva sharkara hai.anjir men anek rognashak gun hotehain, jo, bimari se ayi kamjori kodur kar, samanya svasthya prapt karnemen sahayta karte hanai. yah, sharirikaur mansik tanav dur kar, sharirko sfurti aur shakti pradan karta hai.anjir ko dudh men ubal kar pine sesharirik shakti men vriddhi hoti hai. yahaek uttam shaktivarddhak aushdhi hai. jinkehonth ful jate hain aur jibh par chale hojate hain, unhen anjir ke sevan se labhhota hai. yah hriday rogon men upyogihai aur nak se khun girna band kartahai. sukhe anjir men madhumeh aur shvasrognashak gun hain. anjir sab sukhemevon se adhik labhdayak hai. yah chehreki kanti barhata hai, balagam ko pighlakar bahar karta hai. vah purani khansi menho, budh saptam bhav men, rahu lagn men,panchmesh mangal dvitiya bhav men hane, tojatak ko nabhi se sanbandhit vikarhota hai.makar lagna: panchmesh shukra ast hokar trik bhavon men, guru pancham bhav menmangal se yukt, ya drisht ho, lagneshshni surya se shashth, saptam, ya ashtamaho, to jatak ko nabhi se sanbandhitrog hota hai.kunbh lagna: lagnesh shani lagn men hoaur kisi grah se drisht, ya yukt nahinho, guru shashth bhav aur pancham bhav kisandhi ke nikat ho kar shashth bhav menho, panchmesh budh trik bhavo men surya seast ho, shashthesh chandra pancham bhav menho, to jatak ko nabhi se sanbandhitrog hota hai.min lagna: lagnesh guru lagn menapne hi nakshatra men ho, panchmesh chandrasurya se ast ho kar shashth bhav men ho,budh-shukra pancham bhav aur shani kenakshatra men hon, to jatak ko nabhi sesanbandhit rog vikar hota hai.rog, sanbandhit grah ki dasha, antardashaaur gochar ke pratikul rahne seutpann hota hai. jabatak sanbandhitagrah prabhavi rahega, tabatak rogdega. uske uprant rog se rahtmilegi.
क्या आपको लेख पसंद आया? पत्रिका की सदस्यता लें


दीपावली विशेषांक   अकतूबर 2011

दीपावली पर्व की प्राचीनता, इतिहास व् धर्म, विभिन्न देशों दीपावली जैसे अन्य प्रकाश पर्व, दीपावली ऋतु पर्व धार्मिक पर्व के रूप में, दीपावली पूजन: कब और कैसे?

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.