गुरु बढ़ायेगा वजन - डाईट से करें कंट्रोल

गुरु बढ़ायेगा वजन - डाईट से करें कंट्रोल  

व्यूस : 1807 | मई 2017

आप अक्सर स्वयं को फिट रखने की प्लानिंग करते होंगे, इसे लेकर आपने कई बार योजनाएं भी बनाई होंगी। कसरत व संतुलित आहार के द्वारा मोटापे को कम करने के लिए आपने कई बार कोशिशें भी की होंगी। स्वयं को फिट रखना इतना कठिन नहीं है जितना फिट रखने की ‘शुरुआत’ करना है। फिटनेस प्लानिंग के शुरूआती चरण में आपको कुछ दिक्कतें या असहजता अवश्य महसूस होगी, इसी कारण हम हेल्थ योजनाएं बनाते तो अवश्य हैं परन्तु उनका पालन न कर पाने के कारण ये योजनाएं विफल हो जाती हैं। योग कक्षाएं या नियमित रूप से जिम में जाकर की गई कोई भी एक्सरसाईज तभी हमारा वजन कम कर सकती है जब हम मिठाई, चॉकलेट, फास्ट फूड का सख्ती से विरोध करें। हम अपनी जीवनशैली में बदलाव और नियमित शारीरिक क्रियाओं से ही वजन में कमी कर सकते हैं तथा अपने को आकर्षक व आकार में बनाए रखने में कामयाब हो सकते हैं।

परंतु कोई भी स्वास्थ्य क्रिया शुरू करने से पहले आपको स्वास्थ्य विशेषज्ञ से अवश्य परामर्श करना चाहिए। मोटापा का कारण ज्योतिष शास्त्र में तलाश करने पर हम पाते हैं कि ग्रहों के अशुभ प्रभाव से व्यक्ति मोटा हो जाता है। मुख्य रूप से बृहस्पति ग्रह मोटापे का मुख्य कारण माना गया है। इसके अतिरिक्त शुक्र ग्रह मीठे खाद्य पदार्थों का प्रतिनिधित्व करता है और चंद्रमा व्यक्ति को फूडी बनाता है। दोनों का प्रभाव जन्मराशि या लग्न पर होने पर मोटापे की समस्या सामने आ जाती है जबकि शनि, राहु और केतु शरीर को छरहरा और पतला रखते हैं। जन्मकुंडली के ग्रहों की दशा, योग और गोचर के प्रभाव के फलस्वरुप ही हमारा वजन घटता-बढ़ता रहता है। ज्योतिष शास्त्र मानता है कि मोटापा बढ़ने की वजह ग्रह-नक्षत्रों का कमजोर होना है। अन्य कारणों के अलावा आपके मोटे होने में ग्रह, योग और जन्म राशि की भी विशेष भूमिका रहती है।


Consult our astrologers for more details on compatibility marriage astrology


इसे संतुलित और व्यवस्थित आहार के द्वारा कंट्रोल किया जा सकता है। सभी ग्रहों में गुरु का गोचर एक निश्चित वर्षावधि में आपके मोटापे में विशेष कमी या बढ़ोत्तरी का कारण बनता है। इसे नियंत्रित करने के लिए आप अपनी राशि के अनुसार खान-पान कर मोटापे से मुक्त रह सकते हैं। आईये जानें यह कैसे संभव है- मेष राशि - अग्नि तत्व राशि होने के कारण आप जोश, ऊर्जा और उग्रता से भरे रहते है। यही कारण है कि आप गर्म और मसालेदार भोजन अधिक पसंद करते हैं। आयुर्वेद के अनुसार आप पित्त प्रकृति के हंै। वत्र्तमान 2017 में गुरु आपके छठे भाव पर गोचर कर रहे हैं, सितम्बर माह 2017 से गुरु आपके सप्तम भाव पर गोचर कर जन्म राशि को प्रभावित करने लगेंगे। इस स्थिति में आपको अपने मोटापे को नियंत्रण में रखने के लिए और अधिक प्रयास करने होंगे। इसके लिए भोजन के रूप में आपको अधिक सलाद, ठंडी (मलाई रहित) लस्सी, कम उबली हुई सब्जियां, ब्राउन ब्रेड, सादा दही, छाछ, गाजर और सब्जियों का रस, सोया पनीर तथा सोया दूध का सेवन करना चाहिए।

इससे आपके शरीर को पौष्टिक आहार भी मिलेगा और शरीर में फैट भी जमा नहीं हो पाएगा। वृषभ राशि - आप पृथ्वी तत्त्व राशि के हैं। सभी चीजों को आनंद के साथ खाना पसंद करते हैं। पौष्टिक भोजन आपकी विशेष रुचियों में से एक है। भोजन का सुंदरता के साथ परोसा जाना और सलाद का होना आपके लिए आवश्यक है। आप वात या कफ प्रकृति के व्यक्ति हंै। गोचर में गुरु का आपकी जन्मराशि को दृष्टि देना, वर्षावधि में मोटापा अधिक तेजी से बढ़ने का संकेत दे रहा है। शुक्र की राशि आपको मीठी चीजों का शौकीन बना रही है और मीठे का अधिक प्रयोग भी आपको मोटापा दे रहा है। अपने मोटापे को कम करने के लिए आप खाने में हरी सब्जियां, सलाद, गुनगुने पानी में नींबू और शहद मिलाकर पीना, मौसमी फल, सलाद, फलियां, पत्ता गोभी, पालक आदि सब्जियों का सेवन करें। चीनी, मिठाई की जगह आप शहद या शुगर फ्री शक्कर का प्रयोग करने की आदत डालें। मिथुन राशि - आप खाने-पीने का शौक रखते हैं। वात, पित्त और कफ तीनों तत्त्व आपमें पाए जाते हैं। गुरु इस समय गोचर में आपके चतुर्थ भाव पर गोचर कर रहे हैं, ऐसे में इस समय मोटापा आपके नियंत्रण में रहेगा। सितम्बर माह से तुला राशि से गुरु की नवम दृष्टि आपकी जन्मराशि पर रहेगी, इस अवधि से आपके वजन में शीघ्र बढ़ोत्तरी होने की संभावनाएं रहेंगी फिर भी आप सोया पनीर, सोयाबींस, पार्सेले, मशरुम और उबले हुए आलू का भोजन के रुप में प्रयोग करें। इसके साथ ही आप देर रात खाना खाने से बचें, बर्गर, पिज्जा और मैदा ब्रेड बिल्कुल न खायें। साथ ही मक्खन, तले-भुने भोजन को सख्ती से इंकार करें। कर्क राशि - एक्टिव जीवन शैली का पालन न करने की प्रवृत्ति आपमें पाई जाती है। आपकी कफ प्रकृति है।


अपनी कुंडली में सभी दोष की जानकारी पाएं कम्पलीट दोष रिपोर्ट में


वर्तमान वर्ष में गुरु आपकी राशि को प्रभावित नहीं कर रहे हैं, ऐसे में इस साल मोटापा आपके नियंत्रण में रहेगा। चंद्रमा की राशि आपको मीठा खाना पसंद करने का स्वभाव दे रही है। इसके कारण आप पर मोटापा शीघ्र प्रभावी हो सकता है। इसे निष्प्रभावी रखने के लिए सोया युक्त दूध, पनीर आपको खाना चाहिए। आप रात में चावल खाने से बचें, आवश्यक हो तो आप ब्राउन राइस ले सकते हैं। नमक का सेवन कम करें। आलू और ब्रेड की जगह हरी पत्तेदार सब्जियां लें तथा हर्बल टी और सूप ले सकते हैं। सिंह राशि - आप अग्नि तत्व राशि के व्यक्ति हंै। आप अपनी फिटनेस और शारीरिक रख-रखाव के प्रति सचेत रहते हैं। आपकी पित्त प्रकृति है। इसके कारण आपका मोटापा भी तेजी से बढ़ता है।

आपकी शारीरिक क्षमता शीघ्र वजन ग्रहण करने की होती है। वत्र्तमान में गुरु वक्री अवस्था में हैं और जून माह से मार्गी होंगे। इस अवधि में आपको अपने मोटापे को कंट्रोल में रखने की विशेष आवश्यकता होगी। बैलेंस डाईट के रुप में बादाम खाना आपके लिए अच्छा रहेगा। ग्रील्ड वेजीटेब्ल्स भी अपने खाने में शामिल करें। फलों में स्ट्रॉबेरी, नारंगी या कीवी लें, सलाद और रस अवश्य लें। खाने में तेल के रुप में आप जैतून का तेल, बादाम या सूरजमुखी के तेल को शामिल कर सकते हैं। कन्या राशि - आप व्यवस्थित जीवन शैली का पालन करने के आदी हैं। वात, पित्त और कफ तीनों प्रकृति आपमें पाई जाती है। गुरु गोचर में इस समय आपकी जन्मराशि पर है जिसके कारण यह साल आपके मोटापे को बढ़ाने का काम करेगा। सितम्बर माह से इसमें कमी होगी, तब तक आपको हरी सब्जियां, साबुत अनाज और हरी सलाद लेनी चाहिए। साथ ही हर्बल चाय, काली मिर्च, जैविक खाद्य पदार्थ की जगह प्राकृतिक खाद्य पदार्थों का अधिक प्रयोग करें। तुला राशि - आप वायु तत्त्व के व्यक्ति हंै। आप अपने शारीरिक रुप और आकार का खास ध्यान रखना पसंद करते हैं।

आपके शरीर में वायु तत्त्व की प्रधानता है। गुरु इस साल सितम्बर माह से आपकी राशि पर गोचर करेंगे। यह साल आपके मोटापे में सामान्य से अधिक बढ़ोत्तरी करेगा। अतः सावधानी रखनी होगी। इसे रोकने के लिए आप हरी सब्जियों का प्रयोग करें। केक, पेस्ट्री और पुडिंग खाने से बचें। शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने के लिए आपको बहुत पानी या किसी अन्य तरल पदार्थ को पीना चाहिए। वृश्चिक राशि - आप शारीरिक रुप से फिट रहना पसंद करते हैं। आप सामान्य रुप से एक्टिव रहते हैं। पित्त प्रकृति अधिक प्रभावी रहती है। गोचर में गुरु की स्थिति आपकी जन्मराशि पर इस साल विशेष प्रभाव नहीं डालने वाली है। अतः समयावधि में मोटापा आपको अधिक परेशान नहीं कर पाएगा। स्वयं को फिट बनाए रखने के लिए अनार और सलादों में आप बीटरुट (इममजतववज) का प्रयोग करें। सलाद के रुप में टमाटर, लाल चेरी और संतरे लें तथा गैर-शाकाहारी भोजन, सूखे फल और नट्स के सेवन से आपको बचना चाहिए। धनु राशि - आपके शरीर के निचले हिस्से पर वजन बढ़ने की प्रवृत्ति अधिक है। आपकी कफ प्रकृति है। गुरु ग्रह का विशेष प्रभाव इस वर्ष प्रत्यक्ष नहीं पड़ेगा परन्तु अन्य ग्रहों के प्रभाव से भी आपका मोटापा बढ़ सकता है। अतः सतर्कता रखनी होगी। भोजन में आप गाजर का रस, कच्चे फल, भुना हुआ भोजन, सोया, साबुत अनाज लें। पैक और संरक्षित खाद्य पदार्थ से बचना चाहिए।


अपनी कुंडली में राजयोगों की जानकारी पाएं बृहत कुंडली रिपोर्ट में


मकर राशि - आप अपने स्वास्थ्य के प्रति बहुत अधिक सचेत नहीं रहते हैं तथा आप वात प्रकृति के हंै। वजन कम करने के अपने निध्र् ाारित लक्ष्यों का सख्ती से पालन करें। शनि की राशि होने के कारण आप पर मोटापे का प्रभाव धीरे-धीरे होगा। कई बार आपको देर से पता चलता है कि आप पर मोटापा अपना प्रभाव डाल रहा है। गुरु इस समय सितम्बर तक आप पर अपनी पंचम दृष्टि डाल रहे हंै। यह आपके शरीर पर मोटापा जल्द बढ़ाएगा। अपनी जीवनशैली में सुधार कर आप इसके प्रभाव को कम कर सकते हैं। पेय व खाद्य पदार्थों में जूस की बजाय पूरा कच्चा सेब खाएं, मल्टीग्रेन आटा या आटे का उपयोग करें। अपने भोजन का मुख्य भाग फल और सब्जियों के रुप में लें। बेक्ड सब्जियां और भोजन को बार-बार न खायें। आहार की एक डायरी बनाएं और उसके अनुसार ही भोजन करें। कुंभ राशि - आप अप्रत्याशित और अपरंपरागत व्यायाम करना पसंद करते हैं।

परंतु आप निर्धारित आहार चार्ट का पालन नहीं कर सकते हैं। आप वात प्रकृति के हैं। आपकी राशि पर मोटापे का असर बहुत अधिक न होने की संभावनाएं बन रही हैं। शनि की राशि आपके मोटापे का असर कम करेगी। परन्तु वर्तमान वर्ष में सितम्बर माह से गुरु की पंचम दृष्टि आपकी राशि पर पड़ने लगेगी। यह आपके मोटापे में बढ़ोत्तरी करेगी और खाने में आपको योजना बनाकर खाने की आदत बिल्कुल नहीं है।

वजन पर अपना नियंत्रण बनाए रखने के लिए अपने आहार में अधिक हरी पत्तेदार सब्जियों को शामिल करें, आप बादाम, अखरोट आदि जैसे सूखे नट्स शामिल न करें, जैतून के तेल का इस्तेमाल करें, स्किम्ड दूध, सलाद, व फलों या सब्जी का सलाद, काले अंगूर, सेब लें। मीन राशि - आप जलीय राशि के व्यक्ति हैं। नियमित शारीरिक व्यायाम आपको स्फूर्ति देंगे। आपकी कफ प्रकृति है। मोटापे का असर आप पर भी बहुत जल्द होता है। यही कारण है कि कम खाने से भी आप मोटापे के प्रभाव में शीघ्र आ सकते हैं। साथ ही गुरु गोचर का प्रभाव भी इस समय आपकी जन्मराशि पर आ रहा है। इसलिए संभावित है कि इस वर्ष आपके वजन और मोटापे में सामान्य से अधिक बढोत्तरी हो।

आप पौष्टिक ताजे खाद्य पदार्थ खाएं और जंक फूड छोड़ दें। सेब, मूली, सलाद, अनानास, आलू, शलजम, गाजर, कद्दू इत्यादि का सेवन करें। इससे आपका मोटापा कम होगा और आप स्वयं को फिट रखने में सफल हो सकेंगे।


Navratri Puja Online by Future Point will bring you good health, wealth, and peace into your life


Ask a Question?

Some problems are too personal to share via a written consultation! No matter what kind of predicament it is that you face, the Talk to an Astrologer service at Future Point aims to get you out of all your misery at once.

SHARE YOUR PROBLEM, GET SOLUTIONS

  • Health

  • Family

  • Marriage

  • Career

  • Finance

  • Business

ज्योतिष एवं वेट लाॅस विशेषांक  मई 2017

स्वस्थ शरीर स्वस्थ मस्तिष्क को जन्म देता है। मोटापा एक ऐसा अभिशाप है जिसके कारण शरीर विभिन्न प्रकार के रोगों के प्रति संवेदनशील हो जाता है तथा अनेक रोग एक-एक कर व्यक्ति को घेर लेते हैं। मधुमेह, हृदय रोग, उच्च रक्त चाप तथा थकान जैसी बीमारियों से व्यक्ति आक्रान्त हो जाता है। फ्यूचर समाचार का वर्तमान विशेषांक इस विकट समस्या से ही सम्बन्धित है तथा मोटापा रोग के ज्योतिषीय दृष्टिकोण को वर्णित करने हेतु विभिन्न उल्लेखनीय आलेखों को सम्मिलित किया गया है। इन आलेखों में महत्वपूर्ण हैं- मोटापा पर ज्योतिष विचार एवं विभिन्न योग, हस्त रेखा से जानें मोटापा बढ़ने के कारण, ज्योतिष की नजर में मोटापा, मोटापा बढ़ाने वाले ग्रह योग, गुरु बढ़ाएगा वजन, डाइट से करें कन्ट्रोल आदि। आवरण कथा में सम्मिलित इन सारगर्भित आलेखों के अतिरिक्त सदैव की भांति स्थायी स्तम्भों में भी जीवन के हर क्षेत्र से जुड़े पहलुओं जैसे राजनीति, मनोरंजन आदि विषयों से सम्बद्ध उल्लेखनीय आलेख भी सन्नहित हैं।

सब्सक्राइब


.