ऋतुराज का स्वागतोत्सव वसंत पंचमी

फ़रवरी 2014

व्यूस: 9408

वसंत पंचमी का उत्सव माघ मास शुक्ल पक्ष पंचमी तिथि को धूमधाम से मनाया जाता है। इस वर्ष अंग्रेजी तारीख के अनुसार, 4 फरवरी 2014 को यह उत्सव है। यह पर्व ऋतुराज वसंत के आने की सूचना देता है। इस दिन से ही होरी तथा धमार गीत प्रारंभ किये ... और पढ़ें

देवी और देवपर्व/व्रत

लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लाभकारी सूत्र

अकतूबर 2008

व्यूस: 9265

दीपावली महापर्व है-अनेक संप्रदायों के लोग इस पर्व पर धन प्राप्ति हेतु लक्ष्मी की साधना करते है। धन त्रयोदशी से लेकर भैया दूज तक पांच दिन चलने वाला यह पर्व मां लक्ष्मी की शाश्वत कृपा प्राप्ति के लिए मनाया जाता है।... और पढ़ें

देवी और देवउपायसंपत्ति

दुर्गाद्वात्रिंशन्नाममाला (देवी दुर्गा के बत्तीस नाम)

अकतूबर 2010

व्यूस: 9195

यदि मां दुर्गा के इन 32 नामों का हम प्रतिदिन स्मरण करें तो सुख-शांति मिलती है एवं सभी प्रकार के भय दूर होते हैं। मां दुर्गा के इन 32 नामों का उच्चारण सारे दुख दूर कर देता है।... और पढ़ें

देवी और देवमंत्र

दक्षिणामूर्ति स्तोत्र

जुलाई 2013

व्यूस: 8871

गुरुओं के गुरु भगवान दक्षिणामूर्ति की आराधना में आदि गुरु शंकराचार्य द्वारा विरचित दक्षिणामूर्ति स्तोत्र को गुरु भक्ति के स्तोत्र साहित्य में अद्वितीय स्थान प्राप्त है। गुरु कृपा की प्राप्ति हेतु इसे सर्वश्रेष्ठ माना जाता है। यह स... और पढ़ें

देवी और देवउपायअध्यात्म, धर्म आदिविविध

ग्रह पीड़ा निवारण हेतु - शक्ति उपासना

अकतूबर 2010

व्यूस: 8706

नवरात्रि के प्रथम तीन दिन मां श्री काली, बीच के तीन दिन मां लक्ष्मी एवं आखिरी तीन दिन मां सरस्वती का आहवान किया जाता है। इस त्रिशक्तित्व भगवती दुर्गा के तीनों स्वरूपों को ध्यान में रखकर नवरात्रों में मां को सदैव अपने समीप महसूस कर... और पढ़ें

देवी और देवग्रह

भागवत कथा

मार्च 2014

व्यूस: 8658

भागवत कथा

ब्रजकिशोर शर्मा ‘ब्रजवासी’

सनकादि ने नारद जी से कहा- देवर्षि पापियों के पाप का नाष करने हेतु एक प्राचीन इतिहास श्रवण करो। पूर्वकाल में तुंगभद्रा नदी के तटपर अनुपम नगर में समस्त वेदों का विषेषज्ञ श्रोत-स्मार्त कर्म में निपुण आत्मदेव ब्राह्मण अपनी प्यारी कुली... और पढ़ें

देवी और देवअध्यात्म, धर्म आदि

पदमावती यंत्र / पदमावती मंत्र

फ़रवरी 2013

व्यूस: 8582

कष्टोंपचार के त्रिविध साधनों में से यंत्र एवं मंत्र दो अति महत्वपूर्ण साधन माने गए हैं। वैदिक काल से ही इनकी श्रेष्ठता किसी न किसी रूप में इनके कुशल एवं लाभदायक अनुप्रयोगों द्वारा स्पष्ट होती रही हैं।... और पढ़ें

देवी और देवउपायमंत्रसंपत्तियंत्र

जैन धर्म में आहार

अप्रैल 2016

व्यूस: 8493

जैन धर्म में आहार

फ्यूचर पाॅइन्ट

आहार को संतों ने, पूर्वाचार्यों ने, तीन भागों में विभाजित किया है। 1. तामसिक भोजन 2. राजसिक भोजन 3. सात्विक भोजन ‘जैसा खाओ अन्न वैसा होवे मन‘ ‘अच्छा होवे मन तब बन जाओ भगवन‘ आचार्यों के अनुसार सात्विक भोजन बनाने में हिंस... और पढ़ें

देवी और देवविविध

आदि शक्ति मां शारदा

मई 2011

व्यूस: 8467

शक्तिपीठों में आदि शक्ति मां शारदा का मंदिर आलौकिक ऊर्जा का केंद्र है। मां शारदा देवी मंदिर में मनौती पूरी होने का रहस्य पिरामिड एवं यंत्र है। मां शारदा की प्रतिमा के ठीक नीचे स्थित शिलालेख अपने अंदर मां का हिमा तथा इतिहास की अनेक... और पढ़ें

देवी और देवमन्दिर एवं तीर्थ स्थल

अनंत चतुर्दशी व्रत: कब, क्यों और कैसे करें?

सितम्बर 2014

व्यूस: 8421

भविष्य पुराण में कहा गया है कि भाद्रपद के अंत की चतुर्दशी तिथि में पौर्णमासी के योग में अनंत व्रत को करें। स्कंद पुराण में भी कहा गया है कि भाद्रपद मास की पूर्णिमा तिथि में मुहूर्त मात्र की चतुर्दशी हो, तो उसको संपूर्ण तिथि जा... और पढ़ें

देवी और देवअध्यात्म, धर्म आदिपर्व/व्रत

Ask a Question?

Some problems are too personal to share via a written consultation! No matter what kind of predicament it is that you face, the Talk to an Astrologer service at Future Point aims to get you out of all your misery at once.

SHARE YOUR PROBLEM, GET SOLUTIONS

  • Health

  • Family

  • Marriage

  • Career

  • Finance

  • Business

लोकप्रिय विषय

करियर बाल-बच्चे चाइनीज ज्योतिष दशा वर्ग कुंडलियाँ दिवाली डऊसिंग सपने शिक्षा वशीकरण शत्रु यश पर्व/व्रत फेंगशुई एवं वास्तु टैरो रत्न सुख गृह वास्तु प्रश्न कुंडली कुंडली व्याख्या कुंडली मिलान घर जैमिनी ज्योतिष कृष्णामूर्ति ज्योतिष लाल किताब भूमि चयन कानूनी समस्याएं प्रेम सम्बन्ध मंत्र विवाह आकाशीय गणित चिकित्सा ज्योतिष Medicine विविध ग्रह पर्वत व रेखाएं मुहूर्त मेदनीय ज्योतिष नक्षत्र नवरात्रि व्यवसायिक सुधार शकुन पंच पक्षी पंचांग मुखाकृति विज्ञान ग्रह प्राणिक हीलिंग भविष्यवाणी तकनीक हस्तरेखा सिद्धान्त व्यवसाय पूजा राहु आराधना रमल शास्त्र रेकी रूद्राक्ष श्राद्ध हस्ताक्षर विश्लेषण सफलता मन्दिर एवं तीर्थ स्थल टोटके गोचर यात्रा वास्तु परामर्श वास्तु दोष निवारण वास्तु पुरुष एवं दिशाएं वास्तु के सुझाव स्वर सुधार/हकलाना संपत्ति यंत्र राशि
और टैग (+)