सफलता की गारंटी ‘‘शुभ मुहूर्त’’ पाना मुश्किल नहीं है

मुहूर्त की गणना उन लोगों के लिए भी लाभदायक है जो अपना जन्म विवरण नहीं जानते। ऐसे लोग शुभ मुहूर्त की मदद से अपने प्रत्येक कार्य में सफल होते देखे गए हैं। दैनिक जीवन में शुभ कार्यों के लिए सरल शुभ मुहूर्त का विचार निम्न प्रकार से कि... और पढ़ें

ज्योतिषमुहूर्तपंचांगभविष्यवाणी तकनीक

जून 2011

व्यूस: 68752

पंचांग देखे बिना तिथि बताना

क्या पंचांग या कैलेण्डर देखे बिना हिंदी महीना, पक्ष (पखवाड़ा) और तिथि बताई्र जा सकती है? इस प्रकार का उत्तर हां में दें तो यह एक प्रकार का चमत्कार ही माना जाएगा। किंतु वास्तव में यह कोई चमत्कार नहीं बल्कि एक पूर्णतया शास्त्र... और पढ़ें

ज्योतिषपंचांगभविष्यवाणी तकनीक

आगस्त 2015

व्यूस: 21776

पंचांग इतिहास - विकास - गणना विधि

इस अनुपम विशेषांक में पंचांग के इतिहास विकास गणना विधि, पंचांगों की भिन्नता, तिथि गणित, पंचांग सुधार की आवश्यकता, मुख्य पंचांगों की सूची व पंचांग परिचय आदि अत्यंत उपयोगी विषयों की विस्तृत चर्चा की गई है। पावन स्थल नामक स्तंभ के अं... और पढ़ें

ज्योतिषखगोल-विज्ञानआकाशीय गणितपंचांग

अप्रैल 2010

व्यूस: 21469

शुक्ल पक्ष शुक्रवार, शनिवार एवं पंच पक्षी के कार्य

प्रत्येक मनुष्य का जन्म या तो दिन अथवा रात्रि, कृष्ण पक्ष अथवा शुक्ल पक्ष एवं सप्ताह के किसी एक वार को होता है। पंच पक्षी पांच तात्त्विक स्पंदन के आधार पर पांच तरीके से शुक्ल पक्ष एवं कृष्ण पक्ष में चंद्र के बढ़ते एवं घटते कल... और पढ़ें

अन्य पराविद्याएंपंचांग

सितम्बर 2014

व्यूस: 12117

ब्रह्मांड की उत्पत्ति

संपूर्ण चराचर भूतगण ब्रह्मा के दिन के प्रवेशकाल में अव्यक्त से अर्थात् ब्रह्मा के सूक्ष्म शरीर से उत्पन्न होते हैं और ब्रह्मा की रात्रि के प्रवेशकाल में उस अव्यक्त नामक ब्रह्मा के सूक्ष्म शरीर में लीन हो जाते हैं।... और पढ़ें

ज्योतिषखगोल-विज्ञानपंचांग

आगस्त 2012

व्यूस: 11977

कैसे करें पंचांग गणना

कैसे करें पंचांग गणना

प्रेमपाल कौशिक

तिथि, वार, नक्षत्र, योग और करण की जानकारी जिसमें मिलती हो, उसी का नाम पंचंाग है। पंचांग अपने प्रमुख पांच अंगों के अतिरिक्त हमारा और भी अनेक बातों से परिचय कराता है।... और पढ़ें

ज्योतिषआकाशीय गणितपंचांग

अप्रैल 2010

व्यूस: 11682

उत्तर भारत में पंचांग निर्माण के स्थल

इस अनुपम विशेषांक में पंचांग के इतिहास विकास गणना विधि, पंचांगों की भिन्नता, तिथि गणित, पंचांग सुधार की आवश्यकता, मुख्य पंचांगों की सूची व पंचांग परिचय आदि अत्यंत उपयोगी विषयों की विस्तृत चर्चा की गई है। पावन स्थल नामक स्तंभ के अं... और पढ़ें

ज्योतिषपंचांग

अप्रैल 2010

व्यूस: 11139

मुहूर्त बोध में भद्रा विचार

भद्रा पंचांग के पांच अंगों में से एक अंग करण पर आधारित है यह एक अशुभ योग है। भद्रा में विष्टिकरण, किसी को दंड देना इत्यादि दुष्ट कर्म तो किये जा सकते हैं परंतु किसी भी मांगलिक कार्य के लिए भद्रा सर्वथा त्याज्य है।... और पढ़ें

ज्योतिषमुहूर्तपंचांगभविष्यवाणी तकनीक

जून 2011

व्यूस: 10013

मुहूर्त ज्ञान

मुहूर्त ज्ञान

डॉ. अरुण बंसल

जीवन की महत्वपूर्ण कार्यों जैसे-विवाह, गृह प्रवेश, नया पद या नई योजना के क्रियान्वयन के लिए शुभ मुहूर्त निकालकर कार्य करने से सफलता प्राप्त होती है और जीवन सुखमय बनता है व बिना मुहूर्त के कार्य करने पर निष्फलता देखी है।... और पढ़ें

ज्योतिषमुहूर्तपंचांगभविष्यवाणी तकनीक

जून 2011

व्यूस: 9952

पंचांग

पंचांग

विनय गर्ग

‘लियोपाम' द्वारा पंचांग की जानकारी भी एक महत्वपूर्ण उपलबिध है। आपको भिन्न भिन्न प्रकारों के पंचांगों को खरीदने एवं उनके रख रखाव आदि की चिंता से हटकर, शुद्धता की गारंटी भी मिलती है।... और पढ़ें

ज्योतिषविविधमुहूर्तपंचांग

अप्रैल 2010

व्यूस: 9523

Ask a Question?

Some problems are too personal to share via a written consultation! No matter what kind of predicament it is that you face, the Talk to an Astrologer service at Future Point aims to get you out of all your misery at once.

SHARE YOUR PROBLEM, GET SOLUTIONS

  • Health

  • Family

  • Marriage

  • Career

  • Finance

  • Business

लोकप्रिय विषय

करियर बाल-बच्चे चाइनीज ज्योतिष दशा वर्ग कुंडलियाँ दिवाली डऊसिंग सपने शिक्षा वशीकरण शत्रु यश पर्व/व्रत फेंगशुई एवं वास्तु टैरो रत्न सुख गृह वास्तु प्रश्न कुंडली कुंडली व्याख्या कुंडली मिलान घर जैमिनी ज्योतिष कृष्णामूर्ति ज्योतिष लाल किताब भूमि चयन कानूनी समस्याएं प्रेम सम्बन्ध मंत्र विवाह आकाशीय गणित चिकित्सा ज्योतिष Medicine विविध ग्रह पर्वत व रेखाएं मुहूर्त मेदनीय ज्योतिष नक्षत्र नवरात्रि व्यवसायिक सुधार शकुन पंच पक्षी पंचांग मुखाकृति विज्ञान ग्रह प्राणिक हीलिंग भविष्यवाणी तकनीक हस्तरेखा सिद्धान्त व्यवसाय पूजा राहु आराधना रमल शास्त्र रेकी रूद्राक्ष श्राद्ध हस्ताक्षर विश्लेषण सफलता मन्दिर एवं तीर्थ स्थल टोटके गोचर यात्रा वास्तु परामर्श वास्तु दोष निवारण वास्तु पुरुष एवं दिशाएं वास्तु के सुझाव स्वर सुधार/हकलाना संपत्ति यंत्र राशि
और टैग (+)