बेशकीमती ऐतिहासिक‘रवि’ देवालय

बेशकीमती ऐतिहासिक‘रवि’ देवालय

राकेश कुमार सिन्हा ‘रवि’

तकरीबन तीन सौ वर्षों तक बिहार, बंगाल व झारखंड क्षेत्र में शासन सत्ता स्थापित कर अपने गौरवनामा का परचम लहराने वाला पालवंश भारतीय कला संस्कृति के अभ्युदय काल के स्वरूप का स्पष्ट दिग्दर्शन है। इस युग में जहां एक ओर तथागत और उ... और पढ़ें

देवी और देवस्थानमन्दिर एवं तीर्थ स्थल

अप्रैल 2015

व्यूस: 3277

आस्था और विश्वास का महातीर्थ श्री वासुकीधाम

ऐतिहासिक और पौराणिक गाथाओं से अलंकृत पुरातन प्रज्ञा का प्रदेश बिहार भले ही 15 नवंबर सन् 2000 को विभक्त होकर झारखंड राज्य बन गया पर यहां के कंकड़-कंकड़ में शंकर विराजमान हैं जहां का चप्पा-चप्पा शिव विभूति से संपृक्त है। प्राची... और पढ़ें

देवी और देवस्थानमन्दिर एवं तीर्थ स्थल

जुलाई 2015

व्यूस: 3720

अनूठा है जलमंदिर

अनूठा है जलमंदिर

राकेश कुमार सिन्हा ‘रवि’

आदि अनादि काल से धर्म सम्मत रहे भारतवर्ष में गया की भूमि मोक्ष धाम है। इस पुण्य धरा पर प्रकारान्तर से ही श्राद्ध, पिंडदान और तर्पण की निर्बाध परंपरा रही है और इस घोर कलियुग में भी यहां की महिमा अक्षुण्ण है। हजारों बर्षों ... और पढ़ें

देवी और देवस्थानमन्दिर एवं तीर्थ स्थल

फ़रवरी 2015

व्यूस: 3729

पितृभक्तों का पुण्यमय तीर्थ: गया

पितृभक्तों का पुण्यमय तीर्थ: गया

राकेश कुमार सिन्हा ‘रवि’

धरती पर कुछ ऐसे विशिष्ट तीर्थ स्थल भी हैं, जहां परमपिता परमात्मा ने अपनी उपस्थिति दर्ज कराकर लोककल्याणार्थ न सिर्फ अपनी लीलाओं का संचालन किया वरन् अपने भक्तों को दर्शन-उपदेश से चमत्कृत भी किया।... और पढ़ें

देवी और देवस्थानमन्दिर एवं तीर्थ स्थल

सितम्बर 2010

व्यूस: 3624

सीतामढ़ी

सीतामढ़ी

राकेश कुमार सिन्हा ‘रवि’

संसार भर के ऐतिहासिक, पुरातात्विक और सांस्कृतिक प्रदेश में जम्बूद्वीप के धराधाम पर अवस्थित मगध की महिमा अक्षुण्ण है। मगध की पवित्र भूमि न सिर्फ विपुल नैसर्गिक सौंदर्य व गौरवमय ऐतिहासिक पृष्ठभूमि के लिए प्रसिद्ध है वरन् इस देवभ... और पढ़ें

देवी और देवस्थानविविधमन्दिर एवं तीर्थ स्थल

जुलाई 2014

व्यूस: 4416

खरगोन - नवग्रह कृत अरिष्टों के निवारण के लिए जहाँ पूजी जाती हैं. माता बगलामुखी

खरगोन का भी श्री नवग्रह मंदिर संपूर्ण भारतवर्ष में अपना एतिहासिक महत्व रखता हैं. इस मंदिर में माता बगलामुखी देवी स्थापित हैं. यहाँ नवग्रहों की शान्ति के लिए माता पीताम्बरा की पूजा अर्चना एवं आराधना की जाती हैं.... और पढ़ें

देवी और देवस्थानमन्दिर एवं तीर्थ स्थल

मार्च 2009

व्यूस: 4467

तीर्थ गुरु पुष्कर का माहात्म्य

कहते हैं तीर्थ गुरु पुष्कर में शुभ समय एवं ग्रह योग में जाकर पूजा उपासना करने से जातक विवाह, पुत्र संतान, ज्ञान, यश, धन के सुख प्राप्त कर अपना जीवन सुखमय बना सकता है। इस लेख में पूजा की सरल विधि व पुष्कर जी के महात्म्य का वर्णन कि... और पढ़ें

देवी और देवस्थानअध्यात्म, धर्म आदिमन्दिर एवं तीर्थ स्थल

जनवरी 2010

व्यूस: 6924

लक्ष्मी कृपा के ज्योतिषीय आधार

लक्ष्मी कृपा के ज्योतिषीय आधार

राजेंद्र शर्मा ‘राजेश्वर’

दीपावली महापर्व की परंपरा कब से प्रारंभ हुई है यह बताना व जानना प्रायः दुष्कर है इस दीपावली पर्व परंपरा का इतिहास अलग-अलग ढंग से प्राप्त होता है। हमारी भारतीय संस्कृति वेद प्रधान है। वेदों को लेकर पौराणिक साहित्य में ब्रह्म की चर्... और पढ़ें

ज्योतिषदेवी और देवसंपत्तियंत्र

नवेम्बर 2013

व्यूस: 5893

मकर संक्रांति का महत्व और सूर्योपासना

मकर संक्रांति के दिन पूर्वजों को तर्पण और तीर्थ स्नान का अपना विशेष महत्व हैं। इससे देव और पितृ सभी संतुष्ट होते हैं। सूर्य पूजा से और दान से सूर्य देव की रश्मियों का शुभ प्रभाव मिलता हैं।... और पढ़ें

घटनाएँदेवी और देवपर्व/व्रत

जनवरी 2013

व्यूस: 11629

गणपति - साधना द्वारा ग्रह शांति

गणपति - साधना द्वारा ग्रह शांति

भगवान सहाय श्रीवास्तव

गणपति को तैतीस करोड़ देवी देवताओं में प्रथम स्थान प्राप्त है। गणेश पूजन किए बिना कोई शुभ व मांगलिक कार्य आरंभ नहीं होते। अतः यहां गणेश साधना के अनेक प्रयोग बताए जा रहे हैं जो जीवनोपयोगी है।... और पढ़ें

ज्योतिषदेवी और देवउपायभविष्यवाणी तकनीक

सितम्बर 2010

व्यूस: 21009

सिंहस्थ गुरु एवं कुम्भ स्नान

कुंभ और मेष राशि में सूर्य होने पर हरिद्वार में, मेष राशि में गुरु और मकर राशि में सूर्य होने पर प्रयाग तथा सिंह राशि में गुरु और मेष राशि में सूर्य होने पर उज्जैन में कुंभ पर्व होता है। सिंह राशि में गुरु और सिंह राशि में ही सूर्... और पढ़ें

ज्योतिषदेवी और देवअध्यात्म, धर्म आदिपर्व/व्रतमन्दिर एवं तीर्थ स्थलगोचर

आगस्त 2015

व्यूस: 3843

भद्रा एवं दोष परिहार

किसी भी मांगलिक कार्य में भद्रा का योग अशुभ माना जाता है। भद्रा में मांगलिक कार्य का शुभारंभ या समापन दोनों ही अशुभ माने गये हैं। पुराणों के अनुसार भद्रा भगवान सूर्य देव व देवी छाया की पुत्री व राजा शनि की बहन है।... और पढ़ें

ज्योतिषदेवी और देवज्योतिषीय विश्लेषणग्रहणमुहूर्तभविष्यवाणी तकनीक

अकतूबर 2015

व्यूस: 9227

Ask a Question?

Some problems are too personal to share via a written consultation! No matter what kind of predicament it is that you face, the Talk to an Astrologer service at Future Point aims to get you out of all your misery at once.

SHARE YOUR PROBLEM, GET SOLUTIONS

  • Health

  • Family

  • Marriage

  • Career

  • Finance

  • Business

लोकप्रिय विषय

करियर बाल-बच्चे चाइनीज ज्योतिष दशा वर्ग कुंडलियाँ दिवाली डऊसिंग सपने शिक्षा वशीकरण शत्रु यश पर्व/व्रत फेंगशुई एवं वास्तु टैरो रत्न सुख गृह वास्तु प्रश्न कुंडली कुंडली व्याख्या कुंडली मिलान घर जैमिनी ज्योतिष कृष्णामूर्ति ज्योतिष लाल किताब भूमि चयन कानूनी समस्याएं प्रेम सम्बन्ध मंत्र विवाह आकाशीय गणित चिकित्सा ज्योतिष Medicine विविध ग्रह पर्वत व रेखाएं मुहूर्त मेदनीय ज्योतिष नक्षत्र नवरात्रि व्यवसायिक सुधार शकुन पंच पक्षी पंचांग मुखाकृति विज्ञान ग्रह प्राणिक हीलिंग भविष्यवाणी तकनीक हस्तरेखा सिद्धान्त व्यवसाय पूजा राहु आराधना रमल शास्त्र रेकी रूद्राक्ष श्राद्ध हस्ताक्षर विश्लेषण सफलता मन्दिर एवं तीर्थ स्थल टोटके गोचर यात्रा वास्तु परामर्श वास्तु दोष निवारण वास्तु पुरुष एवं दिशाएं वास्तु के सुझाव स्वर सुधार/हकलाना संपत्ति यंत्र राशि
और टैग (+)
horoscope