पर्वत पर बसा स्वर्गलोक है तिरूपति

पर्वत पर बसा स्वर्गलोक है तिरूपति

राकेश कुमार सिन्हा ‘रवि’

महिमामय भारत देश के दक्षिण प्रांत आंध्र प्रदेश के शांतिमय, सौंदर्ययुक्त व रमणीय वातावरण से सराबोर पवित्र पुनीत तिरूमलै पर्वतमाला के अंचल में विराजमान श्री वेंकटेश्वर तिरूपति बालाजी का स्थान युगों-युगों से भक्तों, पर्यटकों व... और पढ़ें

देवी और देवस्थानमन्दिर एवं तीर्थ स्थल

मई 2016

व्यूस: 3181

मन्नत प्राप्ति का जाग्रत केंद्र: भगवती स्थान

मन्नत प्राप्ति का जाग्रत केंद्र भगवती स्थान कालीपीठ को कोई भक्त ‘तारापीठ’ से तो कोई कोलकाता के ‘दक्षिणेश्वर’ अथवा ‘कालीघाट’ से जोड़ता है पर इसकी महिमा भी इस क्षेत्र में कुछ कम नहीं। भक्तों का एक विशाल वर्ग मातृ आराधना में तन-मन स... और पढ़ें

देवी और देवस्थानमन्दिर एवं तीर्थ स्थल

दिसम्बर 2016

व्यूस: 3115

शिव शक्ति आराधना का फलदायी केंद

शिव शक्ति आराधना का फलदायी केंद

राकेश कुमार सिन्हा ‘रवि’

युगों-युगों से भारतभूमि को शृंगारित करने वाली शिवप्रिया गंगा देश की पहचान है और इसके तट पर तीर्थों का बाहुल्य है। अटूट जनास्था और धार्मिक आस्था, विश्वास की प्रतीक बनी मातृरूपा मां गंगा के तट पर जयादातर शैव तीर्थ, शक्ति तीर्थ... और पढ़ें

देवी और देवस्थानअध्यात्म, धर्म आदिमन्दिर एवं तीर्थ स्थल

जुलाई 2016

व्यूस: 3115

देश के प्रमुख शनि धाम

देश के प्रमुख शनि धाम

फ्यूचर पाॅइन्ट

शनि का नाम जपने से अनेक कष्टों का शमन होता है। शनि शांति का अनुष्ठान यदि शनि मंदिरों में जाकर किया जाए तो उसका प्रभाव शीघ्र होता है। शनि के सिद्ध स्थलों की जानकारी प्रायः कम ही लोगों को होती है। इस आलेख में कुछ प्रसिद्ध शनि धामो... और पढ़ें

देवी और देवस्थानग्रहमन्दिर एवं तीर्थ स्थल

जून 2016

व्यूस: 3251

सर्वकल्याणक श्री पंचमुखी हनुमान जी

सर्वकल्याणक श्री पंचमुखी हनुमान जी

राकेश कुमार सिन्हा ‘रवि’

संसार भर के वीरों में अद्वितीय, ज्ञानियों में सर्वश्रेष्ठ, अष्टसिद्धि के स्वामी श्री रामभक्त हनुमान की आराधना प्राचीन काल से लेकर आज तक संपूर्ण भारतीय प्रायद्वीप में निर्बाध रूप से जारी है जो भक्तों के कल्याणार्थ इस भू-धरा प... और पढ़ें

देवी और देवस्थानअध्यात्म, धर्म आदिमन्दिर एवं तीर्थ स्थल

जून 2016

व्यूस: 3231

विद्या बाधा मुक्ति के सरल उपाय

विद्यार्थियों को अक्सर स्मरण न रहने की शिकायत रहती है। पढ़ने में ध्यान न लगना, मेहनत के बावजूद वांछित फल न मिलना, पाठ भूल जाना, परीक्षा का भय सताना आदि अनेक ऐसे व्यवधान हैं... और पढ़ें

देवी और देवउपायशिक्षारत्नमंत्ररूद्राक्षयंत्र

फ़रवरी 2010

व्यूस: 8127

शनि शांति हेतु हनुमत् उपासना का महत्व

हनुमान जी और शनि के बारे में चर्चा करें तो हनुमान जी सूर्य के शिष्य हैं और शनि पुत्र। एक संकटमोचक हैं और दूसरे पाप कर्मों के लिए दंडित करने वाले। एक अग्नि व दूसरे वायु से उत्पन्न हुए। दोनों एक दूसरे के घोर विरोधी होते हुए भी एक दू... और पढ़ें

देवी और देवउपायअध्यात्म, धर्म आदिपर्व/व्रतमंत्र

जून 2016

व्यूस: 3027

श्रीविद्या साधना

श्रीविद्या साधना

डॉ. अरुण बंसल

महालक्ष्मी को समस्त देवियों में सर्वश्रेष्ठ माना जाता है। श्रीचक्रनगरसाम्राज्ञी पराम्बा षोडशी श्रीविद्याभगवती राजराजेश्वरी श्रीललितामहात्रिपुरसुन्दरी को महालक्ष्मी का सर्वश्रेष्ठ रूप माना जाता है। दीपावली के शुभ मुहूर्त में इनकी उ... और पढ़ें

देवी और देवउपायपर्व/व्रतमंत्र

अकतूबर 2016

व्यूस: 12906

यहां सबकी भरती है झोली

यहां सबकी भरती है झोली

राकेश कुमार सिन्हा ‘रवि’

पवित्र, पुनीत और ऐतिहासिक मगध की धरती प्रारंभ काल से ही ऋषि-मुनि, साधक-संत, दरवेश, सूफी संत और फकीरों की साधना स्थली से भरा-पूरा है। आज भी इस पूरे क्षेत्र में एक से बढ़कर एक ऐसे-ऐसे स्थान हैं जहां दवा से ज्यादा दुआ का असर है... और पढ़ें

देवी और देवस्थानमन्दिर एवं तीर्थ स्थलयात्रा

नवेम्बर 2017

व्यूस: 3080

सरोवर

सरोवर

फ्यूचर पाॅइन्ट

पवित्र नदियों के बारे में तो सभी जानते हैं। लेकिन पवित्र सरोवर के बारे में सभी को बहुत कम पता है। सरोवर को हम तालाब या कोई कुंड नहीं कह सकते सरोवर को हम झील कह सकते हैं। भारत में अनगणित झीले हैं लेकिन उनमें से केवल पांच का ही म... और पढ़ें

देवी और देवस्थानमन्दिर एवं तीर्थ स्थल

मार्च 2016

व्यूस: 3353

सर्वकल्याणकारिणी हैं लक्ष्मी स्वरूपा माँ पद्मावती

आदि अनादि काल से धर्म सम्मत रहे भारतवर्ष में सनातन देवी-देवताओं के पूजन क्रम में धन की अधिष्ठात्री देवी विष्णु प्रिया लक्ष्मी जी की आराधना विभिन्न अभीष्टों की पूर्ति के लिए की जाती है। इतिहास गवाह है कि वैदिक कालीन त्राय मह... और पढ़ें

देवी और देवस्थानमन्दिर एवं तीर्थ स्थल

अकतूबर 2016

व्यूस: 3926

जैन धर्म के दो अविस्मरणीय स्थल

जैन धर्म के दो अविस्मरणीय स्थल

राकेश कुमार सिन्हा ‘रवि’

पारसनाथ यह संसार नश्वर है। यही कारण है कि इस दुनिया-जहान में जो आता है एक न एक दिन उसका जाना सुनिश्चित है, परंतु एक ही पर्वत क्षेत्र में किसी धर्म-संप्रदाय के बीस महात्माओं को निर्वाण प्राप्त होना निश्चय ही उसकी प्रतिष्ठा-प... और पढ़ें

देवी और देवस्थानविविधमन्दिर एवं तीर्थ स्थल

अप्रैल 2016

व्यूस: 4254

Ask a Question?

Some problems are too personal to share via a written consultation! No matter what kind of predicament it is that you face, the Talk to an Astrologer service at Future Point aims to get you out of all your misery at once.

SHARE YOUR PROBLEM, GET SOLUTIONS

  • Health

  • Family

  • Marriage

  • Career

  • Finance

  • Business

लोकप्रिय विषय

करियर बाल-बच्चे चाइनीज ज्योतिष दशा वर्ग कुंडलियाँ दिवाली डऊसिंग सपने शिक्षा वशीकरण शत्रु यश पर्व/व्रत फेंगशुई एवं वास्तु टैरो रत्न सुख गृह वास्तु प्रश्न कुंडली कुंडली व्याख्या कुंडली मिलान घर जैमिनी ज्योतिष कृष्णामूर्ति ज्योतिष लाल किताब भूमि चयन कानूनी समस्याएं प्रेम सम्बन्ध मंत्र विवाह आकाशीय गणित चिकित्सा ज्योतिष Medicine विविध ग्रह पर्वत व रेखाएं मुहूर्त मेदनीय ज्योतिष नक्षत्र नवरात्रि व्यवसायिक सुधार शकुन पंच पक्षी पंचांग मुखाकृति विज्ञान ग्रह प्राणिक हीलिंग भविष्यवाणी तकनीक हस्तरेखा सिद्धान्त व्यवसाय पूजा राहु आराधना रमल शास्त्र रेकी रूद्राक्ष श्राद्ध हस्ताक्षर विश्लेषण सफलता मन्दिर एवं तीर्थ स्थल टोटके गोचर यात्रा वास्तु परामर्श वास्तु दोष निवारण वास्तु पुरुष एवं दिशाएं वास्तु के सुझाव स्वर सुधार/हकलाना संपत्ति यंत्र राशि
और टैग (+)
horoscope