श्री कृष्ण जन्मांग

अकतूबर 2004

व्यूस: 10139

श्री कृष्ण जन्मांग

डॉ. अरुण बंसल

श्री कृष्ण का जन्म भाद्र कृष्ण अष्टमी को मथुरा में 21 जुलाई, 3228 ई. पू. हुआ। 125 वर्ष 7 माह के पश्चात वे चैत्र शुक्ल प्रतिपदा शुक्रवार तद्नुसार 18 फरवरी, 3102 ई. पू. को ब्रह्मस्वरूप विष्णु भगवान में लीन हो गये। उसी दिन कलियुग ... और पढ़ें

ज्योतिषदेवी और देवज्योतिषीय विश्लेषणज्योतिषीय योगकुंडली व्याख्याभविष्यवाणी तकनीक

क्या है- पूजा में आरती का महत्व

जुलाई 2013

व्यूस: 10097

पूजा-पाठ का एक महत्वपूर्ण अंग है, ‘आरती’ं शास्त्रों में आरती को ‘आरक्तिका’ ‘आरर्तिका’ और ‘नीराजन’ भी कहते हैं। किसी भी प्रकार की पूजा-पाठ, यज्ञ-हवन, पंचोपचार-षोडशोपचार पूजा आदि के बाद आरती अंत में की जाती है। पूजा-पाठ में जो त्रुट... और पढ़ें

देवी और देवअध्यात्म, धर्म आदिविविध

विशिष्ट महत्व है काशी के कालभैरव का

जून 2013

व्यूस: 10038

विशिष्ट महत्व है काशी के कालभैरव का

राकेश कुमार सिन्हा ‘रवि’

भारत देश की सांस्कृतिक राजधानी और मंदिरों की महानगरी वाराणसी में मंदिरों की कोई कमी नहीं। काशी तीर्थ में उत्तर से लेकर दक्षिण तक और पूरब से लेकर पश्चिम तक एक से बढ़कर एक मान्यता प्राप्त पौराणिक देवालय हैं पर इनकी कुल संख्या कितनी ह... और पढ़ें

देवी और देवस्थानअध्यात्म, धर्म आदिविविधमन्दिर एवं तीर्थ स्थल

सती चरित्र व दक्ष यज्ञ विध्वंस-पूर्णत्व कथा

नवेम्बर 2014

व्यूस: 10029

शुकदेव बाबा ने महाराज परीक्षित को भागवत कथा श्रवण कराते हुए बताया कि राजन् ! मनु-शतरूपा की कन्या आकूति का विवाह पुत्रिका धर्म के अनुसार रूचि प्रजापति से तथा प्रसूति कन्या का विवाह ब्रह्माजी के पुत्र दक्ष प्रजापति से किया। उ... और पढ़ें

देवी और देवविविध

शक्ति का संचरण और शक्ति आराधना

अकतूबर 2010

व्यूस: 10014

आद्याशक्ति की उपासना ग्रहों के अनिष्ट परिणामों से रक्षा कर सकती है। सभी लोगों विशेषकर ज्योतिष फलादेश देने वालों को तो शक्ति उपासना बहुत शक्ति प्रदान करती है। महाकाली, महासरस्वती, महालक्ष्मी, नवदुर्गा, दशविद्या, गायत्री अनेक रूपों ... और पढ़ें

देवी और देवविविध

श्रीदुर्गासप्तशती महायज्ञ/अनुष्ठान

अकतूबर 2010

व्यूस: 9755

भगवती मां दुर्गा की प्रसन्नता के लिए जो अनुष्ठान किए जाते हैं उनमें दुर्गा सप्तशती का अनुष्ठान विशेष कल्याणकारी माना गया है। इस अनुष्ठान को ही शक्ति साधना भी कहा गया है। श्री दुर्गा सप्तशती का अनुष्ठान कैसे करें आइए जानें इस लेख द... और पढ़ें

देवी और देवपर्व/व्रत

51 शक्ति पीठ

अकतूबर 2010

व्यूस: 9751

51 शक्ति पीठ

मितु सहगल

सती का शरीर 51 खंडों में विभक्त होकर जिस स्थान पर गिरे वे हिन्दुओं के प्रमुख तीर्थ स्थल माने जाते हैं। ऐसा माना जाता है कि जहां शक्ति पीठ स्थापित है, वे स्थल ब्रह्मांड की ऊर्जा के असीम भंडार है। ये शक्तिपीठ भारत, पाकिस्तान, श्रीलं... और पढ़ें

देवी और देवमन्दिर एवं तीर्थ स्थल

विद्या एवं ज्ञान प्राप्ति के ज्योतिषीय उपाय

फ़रवरी 2010

व्यूस: 9578

आज के भौतिक युग में विद्या एवं ज्ञान की अधिक आवश्यकता है। विद्या एक ऐसा धन है, जिसे न कोई छीन सकता है, न कोई चुरा सकता है।... और पढ़ें

देवी और देवउपायशिक्षामंत्रयंत्र

अश्वत्थ व्रत एवं महिमा

मई 2010

व्यूस: 9543

अश्वत्थ व्रत एवं महिमा

ब्रजकिशोर भारद्वाज

अश्वत्थ पीपल के वृक्ष का ही एक नाम है। पंचदेव वृक्षों में अश्वत्थ का स्थान सर्वोपरि है। प्रस्तुत है ब्रह्मांड पुराण में ब्रह्माजी द्वारा अश्वत्थ व्रत पूजा की महिमा का बखान का वर्णन..... और पढ़ें

देवी और देवउपायअध्यात्म, धर्म आदिपर्व/व्रत

भगवद् प्राप्ति के सरल उपाय

फ़रवरी 2011

व्यूस: 9525

भगवान को पाने के सरल-सुगम लेकिन उतने ही कठिन मार्ग पर चलने के लिए क्या व्यवहारिक कार्य होने चाहिए और किन किन बाधाओं को पार करना आवश्यक है, आइए, उसे सहज रूप में जानने का प्रयास करें।... और पढ़ें

देवी और देवउपायविविध

Ask a Question?

Some problems are too personal to share via a written consultation! No matter what kind of predicament it is that you face, the Talk to an Astrologer service at Future Point aims to get you out of all your misery at once.

SHARE YOUR PROBLEM, GET SOLUTIONS

  • Health

  • Family

  • Marriage

  • Career

  • Finance

  • Business

लोकप्रिय विषय

करियर बाल-बच्चे चाइनीज ज्योतिष दशा वर्ग कुंडलियाँ दिवाली डऊसिंग सपने शिक्षा वशीकरण शत्रु यश पर्व/व्रत फेंगशुई एवं वास्तु टैरो रत्न सुख गृह वास्तु प्रश्न कुंडली कुंडली व्याख्या कुंडली मिलान घर जैमिनी ज्योतिष कृष्णामूर्ति ज्योतिष लाल किताब भूमि चयन कानूनी समस्याएं प्रेम सम्बन्ध मंत्र विवाह आकाशीय गणित चिकित्सा ज्योतिष Medicine विविध ग्रह पर्वत व रेखाएं मुहूर्त मेदनीय ज्योतिष नक्षत्र नवरात्रि व्यवसायिक सुधार शकुन पंच पक्षी पंचांग मुखाकृति विज्ञान ग्रह प्राणिक हीलिंग भविष्यवाणी तकनीक हस्तरेखा सिद्धान्त व्यवसाय पूजा राहु आराधना रमल शास्त्र रेकी रूद्राक्ष श्राद्ध हस्ताक्षर विश्लेषण सफलता मन्दिर एवं तीर्थ स्थल टोटके गोचर यात्रा वास्तु परामर्श वास्तु दोष निवारण वास्तु पुरुष एवं दिशाएं वास्तु के सुझाव स्वर सुधार/हकलाना संपत्ति यंत्र राशि
और टैग (+)