ग्रह स्थिति एवं व्यापार

ग्रह स्थिति एवं व्यापार  

गोचर फल विचार मासारंभ में देव गुरु बृहस्पति और दैत्य गुरु शुक्र में परस्पर राशि संबंध का योग बना होने से देश में अशुभ समाचारों में वृद्धि होगी तथा देश के अंदर परस्पर झगड़ों और हिंसक घटनाओं के होने का योग बनता है और यह योग राजनैतिक विवादों को भी बढ़ाएगा जिससे अशांतमय माहौल बनेगा। सूर्य व मंगल का शनि से समसप्तक योग बनाना बाहरी देशों से आपसी संबंधों में मतभेद और युद्धमय माहौल बना देगा। सीमाओं पर अत्यधिक सैन्य हलचलें हांेगी। प्राकृतिक आपदाओं के कारण देश में जन-धन हानि का योग बनेगा। बढ़ती महंगाई के कारण आम जनता के मन में सरकार के प्रति रोष की भावना को बढ़ाएगा। 16 जून को मंगलवारी अमावस्या का होना तथा सूर्य व मंगल का शनि से षडाष्टक योग बनाना राजनैतिक टकराव और कहीं प्रांतीय सत्ता परिवर्तन तथा हिंसक उपद्रवों के कारण टकराव ग्रह स्थिति एवं व्यापार पं. दिव्यदीप गौड़ मासारंभ में सूर्य वृष में, चंद्रमा तुला में, मंगल वृष में, बुध वृष में, गुरु कर्क में, शुक्र कर्क में, शनि वृश्चिक में, राहु कन्या में तथा केतु मीन में, नेप्च्यून कुंभ में, यूरेनस मीन में तथा प्लूटो धनु राशि में स्थित होंगे। तथा जनमानस में भय का माहौल रहेगा। इस मास में उत्तरी क्षेत्रों में अच्छी वर्षा के योग हैं तथा इस मास के अंत में देश में बाढ़ इत्यादि प्राकृतिक प्रकोपों से जन-धन की हानि का संकेत देता है। गोचर ग्रह परिवर्तन व नक्षत्र वेध 3 जून को शुक्र पुष्य नक्षत्र में आकर सर्वतोभद्र वेध चक्र द्वारा ज्येष्ठा नक्षत्र को वेधेगा। 4 जून को वक्री शनि अनुराधा के प्रथम चरण में आएगा। 6 जून को मंगल मृगशिरा नक्षत्र में आकर उ.षा. नक्षत्र को तथा दक्षिण वेध रेवती नक्षत्र को वेधेगा तथा गुरु ग्रह अश्लेषा नक्षत्र के तृतीय चरण में आएगा। 8 जून को सूर्य भी मृगशिरा नक्षत्र में आकर नक्षत्र संबंध बनाएगा तथा उ.षा., चित्रा व रेवती नक्षत्रों को वेधेगा। 9 जून को बुध ग्रह उदय होगा। 15 जून को सूर्य मिथुन राशि में आएगा और इसी दिन मंगल भी मिथुन राशि में आकर दोनों ग्रह शनि से षडाष्टक योग बनाएगा। 17 जून को शुक्र अश्लेषा नक्षत्र में आकर गुरु से नक्षत्र संबंध बनाएगा तथा अनुराधा नक्षत्र को वेधेगा। 18 जून को चंद्र दर्शन गुरुवार के दिन 45 मुहूर्ती में होगा। 22 जून को सूर्य आद्र्रा नक्षत्र में आकर पू.षा., हस्त और उ. भानक्षत्रों को वेधेगा। 25 जून को मंगल भी आद्र्रा नक्षत्र में आकर पू. षा., हस्त तथा उ. भा. नक्षत्रों को वेधेगा। 26 जून को गुरु ग्रह अश्लेषा नक्षत्र के चतुर्थ चरण में आएगा। 30 जून को बुध मृगशिरा नक्षत्र में आकर उ. षा. नक्षत्र को वेधेगा। सोना व चांदी मासारंभ में 3 जून को सोना व चांदी के बाजारों में मंदी का वातावरण रहेगा। 4 जून को बाजारों में बदलाव देकर तेजी का रूख बनाएगा। 6 जून को बाजारों में उतार-चढ़ाव के बाद तेजी का माहौल बनाएगा। 8 जून को बाजारों में पुनः मंदी का रूख बनाएगा। 11 जून को चांदी के बाजारों में तेजी और सोने के बाजारों में पूर्वरूख को बरकरार रखेगा। 15 जून को बाजारों में तेजी की लहर को चलाएगा। 17 जून को बाजारों में मंदी का ही दायक बनाएगा। 18 जून को बाजारों में मंदी का माहौल ही बनाएगा। 22 जून को बाजारों में उतार-चढ़ाव का वातावरण ही बनाएगा। 26 जून को बाजारों में मंदी के रूख को ही आगे चलाएगा। 30 जून को बाजारों में पुनः मंदी का माहौल ही बनाएगा। गुड़ एवं खांड मासारंभ में 3 जून को गुड़ व खांड के बाजारों में मंदी का माहौल ही बनाएगा। 4 जून को बाजारों में पुनः मंदी का वातावरण ही बनाएगा। 6 जून को बाजारों में तेजी की लहर को चलाएगा। 8 जून को बाजारों में उतार-चढ़ाव के बाद मंदी का योग ही बनाएगा। 11 जून को बाजारों में मंदी का योग ही दर्शाता है। 16 जून को गुड़ के बाजारों में तेजी का रूझान तथा खांड में उतार-चढ़ाव का वातावरण बनाएगा। 17 जून को बाजारों में पुनः तेजी का रूख ही बनाएगा। 18 जून को बाजारों में मंदी का योग ही दर्शाता है। 22 जून को बाजारों में तेजी का माहौल ही बनाएगा। 26 जून को बाजारों में पुनः तेजी की लहर को चलाएगा। 30 जून को बाजारों में मंदी का योग ही दर्शाता है। अनाजवान व दलहन मासारंभ में 3 जून को गेहूं, जौ, चना, ज्वार, बाजरा इत्यादि अनाजों तथा मूंग, मौठ, मसूर, अरहर इत्यादि दलहन के बाजारों में तेजी का वातावरण ही बनाएगा। 4 जून को बाजारों में तेजी की लहर को चलाएगा। 6 जून को बाजारों में तेजी का योग ही दर्शाता है। 8 जून को बाजारों में उतार-चढ़ाव के बाद मंदी का वातावरण ही बनाएगा। 11 जून को बाजारों में पुनः तेजी का रूख ही बनाएगा। 15 जून को बाजारों में तेजी की लहर को ही चलाएगा। 17 जून को बाजारों में मंदी का योग ही दर्शाता है। 18 जून को बाजारों में तेजी का रूख ही बरकरार रखेगा। 22 जून को बाजारों में तेजी का ही दायक बनाएगा। 26 जून को बाजारों में तेजी का वातावरण ही बनाएगा। 30 जून को गेहूं, जौ, चना, ज्वार, बाजरा इत्यादि अनाजों तथा मूंग, मौठ, मसूर, अरहर इत्यादि दलहनों में मंदी का रूझान ही बनाएगा। घी व तेलवान मासारंभ में 3 जून को बाजारों में मंदी का योग ही दर्शाता है। 4 जून को बाजारों में तेजी का रूख ही बनाएगा। 6 जून को बाजारों में पुनः मंदी का रूझान बनाएगा। 8 जून को बाजारों में तेजी की लहर को चलाएगा। 11 जून को बाजारों में तेजी का वातावरण ही बनाएगा। 15 जून को बाजारों में तेजी का योग ही दर्शाता है। 17 जून को बाजारों में तेजी का रूख की बनाएगा। 18 जून को बाजारों में तेजी का ही दायक बनाएगा। 22 जून को बाजारों में तेजी के माहौल को ही आगे बनाएगा। 26 जून को बाजारों में तेजी की लहर को ही बनाएगा। 30 जून को बाजारों में उतार-चढ़ाव के साथ तेजी को ही आगे बढ़ाने में सहायक होगा।


अंक ज्योतिष विशेषांक  जून 2015

फ्यूचर पाॅइंट के इस लोकप्रिय अंक विशेषांक में अंक ज्योतिष से सम्बन्धित लेख जैसे अंक ज्योतिष का उद्भव- विकास, महत्व और सार्थकता, गरिमा अंकशास्त्र की, अंक ज्योतिष एक परिचय, अंकों की विशेषताएं, अंक मेलापक: प्रेम सम्बन्ध व दाम्पत्य सुख, नाम बदलकर भाग्य बदलिए, कैसे हो आपका नाम, मोबाइल नम्बर, गाड़ी आपके लिये शुभ, मास्टर अंक, लक्ष्मी अंक भाग्य और धन का अंक, अंक फलित के तीन चक्र प्रेम, बुद्धि एवं धन, अंक शास्त्र की नजर में तलाक, कैसे जानें अपने वाहन का शुभ अंक इत्यादि शामिल किये गये हैं। इसके अतिरिक्त अन्य अनेक लेख जैसे अंक ज्योतिष द्वारा नामकरण कैसे करें, चमत्कारिक यंत्र, कर्मफल हेतुर्भ, फलित विचार, सत्य कथा, भागवत कथा, विचार गोष्ठी, पावन स्थल, वास्तु का महत्व, कुछ उपयोगी टोटके, ग्रह स्थिति एवं व्यापार आदि के साथ साथ व्रत, पर्व और त्यौहार आदि के बारे में समुचित जानकारी दी गई है।

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.