सिंहस्थ गुरु में विवाह वर्जित क्यों?

सिंहस्थ गुरु में विवाह वर्जित क्यों?  

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार विवाह विषयों में वर का सूर्य बल एवं चंद्र बल तथा वधू का गुरु बल एवं चंद्र बल देखा जाता है। सूर्य आत्मकारक ग्रह है। गुरु हृदयकारक एवं जीवन को प्रशस्त करने वाला ग्रह है। चंद्रमा मन का कारक ग्रह भी माना जाता है। विवाहादि शुभ एवं मांगलिक कार्यों में, वर-वधू के गृहस्थ जीवन को प्रशस्त बनाने के लिए, तीनों ग्रहों के शुभत्व की महत्ता है। अतः सामान्य रूप से गुरु का सत्व गुण राशि धनु और मीन के सूर्य में तथा सूर्य की रजोगुण राशि सिंह में गुरु का गोचर गुरुर्वादित्य दोष कहा जाता है। भारतीय हिंदू पद्धति में चाहे कोई भी धर्म अथवा विचारधारा हो, सभी में लगभग प्रत्येक शुभ कार्यों में देवताओं की उपस्थिति अनिवार्य है, जैसे वास्तु पूजा हो, वैवाहिक कार्य हो, हवन हो, सभी में उस कार्य से संबंधित देवता का आह्वान कर अघ्र्यादि अर्पित किया जाता है। अतः विवाह जैसे विशिष्ट कार्यों में, जा ‘दश महादानों’ में से एक है (इसी में कन्या दान भी सम्मिलित है) देवताओं की अनुपस्थिति स्वीकार्य नहीं हो सकती। इसी कारण ‘सिंहस्थ गुरु’ में शुभ कार्यों को वर्जित कहा गया है। इसी के साथ यह तथ्य भी ध्यान में रखना होगा कि शुभत्व कारक ग्रह गुरु, सौर मंडल के सम्राट सूर्य की राशि में होने से, सूर्य के ही प्रभाव में रह कर, संसार के सभी प्राणियों को अपना शुभ आशीर्वाद देने में असमर्थ रहता है। बृहस्पति समस्त देवतागणों में पूज्य हैं। गुरु बुद्धि, ज्ञान, सद्गुण, सत्यता, श्रद्धा, समृद्धि, सम्मान, दया एवं न्याय का भी कारक ग्रह है। वैवाहिक विषयों, पुत्र प्राप्ति, धन प्राप्ति, भवन-भूमि आदि के लिए गुरु अत्यंत महत्वपूर्ण ग्रह (देव) माना जाता है। स्त्री की कुंडली में गुरु पति की भूमिका भी निभाता है। इसी प्रकार गुरु विवाहादि शुभ मांगलिक कार्यों के लिए उत्तम माना जाता है। अधिसंख्य ज्योतिषीय सूत्र एवं योग गुरु की स्थिति के अनुसार सृजित किये गये हैं। ज्यादातर ज्योतिष के शुभ योग एवं सूत्र में गुरु की स्थिति महत्वपूर्ण स्थान रखती है। गुरु की स्वराशि धनु एवं मीन है। जातक के गर्भ का नौवां महीना पूर्ण कर जन्म लेने के कारण गुरु को काल पुरुष की नवी ं-धन ु राशि दी गयी है तथा जन्म के बाद अंत में शरीर त्याग (मृत्यु) होने के कारण काल पुरुष, अथवा जातक की अंतिम राशि मीन भी गुरु को ही दी गयी है। अतः गुरु सब ग्रहों में सर्वोपरि बुद्धि बल का कारक है। गुरु के बारे में एक तथ्य और भी प्राप्त होता है, जो विचारणीय है। यह एक पौराणिक तथ्य है, जिसका संबंध गुरुर्वादित्य संचरण से है। इस पौराणिक कथा में उल्लेख है कि देवासुर में परस्पर संग्राम के मध्य में एक देवता अमृत कलश ले कर वहां से भाग चले। दैत्यों ने उस देवता का पीछा किया। 12 वर्षों तक निरंतर पीछा किया जाता रहा। इस अवधि में उस देवता ने हरिद्वार, प्रयाग, नासिक तथा उज्जैन आदि 4 स्थानों पर विश्राम किया। इन स्थलों पर अमृत की कुछ बूंदें छलक जाने से वहां आज भी कुंभ मेले का आयोजन होता है। पौराणिक मतांतर से यह कथा इस प्रकार भी है: समुद्र मंथन से प्राप्त अमृत कलश को गरुड़ जी ले भागे। कहीं गरुड़ के स्थान पर इंद्रपुत्र जयंत का भी उल्लेख मिलता है कि अमृत कलश ले जाने के मार्ग में नासिक, प्रयाग, उज्जैन एवं हरिद्वार में अमृत की बूंदंे छलक जाने से इन स्थानों में कुंभ का आयोजन होने लगा। जब यह घटना घटी तो गुरु एवं सूर्य दोनों ही सिंह राशि में थे। अतः तब से सिंहस्थ गुरु के समय में गंगा एवं गोदावरी के मध्य के क्षेत्र में शुभ कार्य वर्जनीय हो गये। कालांतर में कभी संपूर्ण भूभाग और कभी मात्र गंगा-गोदावरी के मध्यवर्ती क्षेत्रों में, गुरुर्वादित्य के समय, मांगलिक कार्य स्थगित किये जाने लगे। जीवे सिंहस्थे धन्वमीन स्थितेऽर्के विष्णौ निद्वाणे चाधिमासे च लग्नम्। नीचेऽस्तं वापते लग्न नाथेऽशपे वा जीवे शुक्रे वाऽस्तं गते वाऽपि नेष्टम।। मांगलिक कार्यों के लिए इस श्लोक में यह बताया गया है कि गुरु जब संह राशि में हो, सूर्य गुरु की धनु अथवा मीन राशि में हो, विष्णु सहित सभी देव निद्रावस्था में हांे, (चातुर्मास), लग्नेश अथवा नवांशेश का स्वामी नीचस्थ या अस्त हो, गुरु अथवा शुक्र अस्त हों, तो विवाह एवं मांगलिक कार्य नहीं करना चाहिए। अतः इन सब स्थितियों में विवाह कार्यों का निषेध है। यदि सिंहस्थ गुरु में, विशेष कर मघा नक्षत्र में, गुरु का प्रवेश होने पर विवाहादि कार्य हों, तो वह वर-कन्या दोनों के लिए घातक हैं। ऋषियों ने इन स्थितियों का पूर्व में भी अध्ययन किया है और उसी के अनुसार उन्होंने अंश भेद, देश भेद तथा सूर्य राशि भेद से 3 प्रकार के परिहार बताये हैं। उनका कहना है कि जब सूर्य राशि में, सूर्य के ही नवमांश में, अर्थात संचरण के समय 4ै 130 20श् से 4ै 160 40श् तक गुरु का भ्रमण हो, तब इस बीच के समय में किसी भी प्रदेश में, देश के किसी भी भाग में विवाहादि शुभ कार्य नहीं करना चाहिए। इस बारे में राज मार्तंड का श्लोक इस प्रकार है, जिसमें भी उपर्युक्त बातों को स्वीकारा गया है: सिंह राशौ तु सिहांशे यदा भवति वाक्पतिः सर्व देशेष्वयं त्याज्यो दम्पत्योः निधन प्रदः।। वशिष्ठ ऋषि के वचन इस प्रकार मान्य हैं: उनका कहना है कि सिंहस्थ गुरु का अशुभ प्रभाव गोदावरी के उत्तर से गंगा के दक्षिण में पड़ने वाले क्षेत्रों के लिए ही मान्य है, अन्य क्षेत्रों के लिए नहीं। परंतु यह मत पराशर ऋषि नहीं स्वीकारते थे; अर्थात सिंह के प्रथम 5 नवांशों का भोग करने के पश्चात् सिंहस्थ गुरु में गंगा एवं गोदावरी के मध्य क्षेत्रों में विवाहादि कार्य किये जा सकते हैं। गंगा-गोदावरी के मध्य में आ रहे क्षेत्र सिंहस्थ गुरु में शुभ कार्यों के लिए वर्जित हैं। सप्त ऋषियों के मत से वशिष्ठ जी की अगली व्याख्या में इसकी व्यवस्था वर्तमान के लिए अधिक अनुकूल है, जो इस प्रकार हैः विचारों की भिन्नता को देखते हुए आचार्यों ने समस्त प्रकार से विचार कर कहा कि सिहंस्थ गुरु यदि मघा नक्षत्र तक का भोग कर चुका हो, तो शेष समय में सभी कार्य किये जा सकते हैं। सिंहस्थ गुरु के समय गंगा-गोदावरी के मध्यवर्ती क्षेत्रों की सीमा, समय के अनुसार परिवर्तित होती रही है। इन क्षेत्रों के विषय में यह अवश्य ध्यान रखना होगा कि वर्तमान में राजनैतिक एवं भौगोलिक कारणों से इन क्षेत्रों की आज की स्थिति एवं पौराणिक स्थिति में पर्याप्त अंतर आ चुका है। मुंबई कभी महागुजरात का भाग था एवं आज का उड़ीसा पौराणिक समय का कलिंग है। इसमें वर्तमान का पुरी तथा गंजाम जिला भी समाहित है। पूर्वी बंगाल का समस्त क्षेत्र पहले गौड़ प्रांत था। आज वह भिन्न हो गया है। सिंहस्थ गुरु में विवाह हों या न हांे, इसके लिए आचार्य एकमत नहीं हैं। वास्तव में यह देखने में आता है कि मुख्य नियम का ही अधिकतर पालन होता है और मुख्य नियम के अपवाद को समाज व्यवहार में नहीं लाता है। उदाहरणस्वरूप, नाड़ी दोष में विवाह वर्जित है। यद्यपि नाड़ी दोष का परिहार भी है, लेकिन यह व्यवहार में नहीं लाया जाता है। नाड़ी दोष के संबंध में यह भी कहा गया है कि नाड़ी दोष केवल ब्राह्मणों के लिए है। परंतु समाज, इसके अपवाद में न जा कर, मुख्य नियम ‘‘नाड़ी दोष में विवाह वर्जित है’’ का ही पालन करता है। सिंहस्थ गुरु के संबंध में भी यही नियम समाज लगाता है। अतः सिंहस्थ गुरु में विवाह करना शास्त्रानुकूल नहीं कहा जा सकता है। जो जातक इस असमंजस जैसी परिस्थिति में लगभग 1 वर्ष तक प्रतीक्षा नहीं कर सकते हैं, उनके लिए शास्त्रों में परिहार भी दिया गया है, जो निम्न बातों से दृष्टिगोचर होता है। सिंह के गुरु में यदि मेष का सूर्य हो, तो गुरु दोष नहीं रहता। ऐसी स्थिति में विवाह किये जाने पर विवाहित सुखी होते हैं। इस बार 16 अप्रैल 2016 से 27 अप्रैल 2016 तक सूर्य मेष में रहेगा। अतः यह समय मांगलिक कार्यों के लिए शुभ है। नारद संहिता, देवी भागवत, मुहूत्र्त चिंतामणि, राज मार्तंड, वराह मिहिर आदि की उक्तियों से सिंहस्थ गुरु के सिंह नवमांश में विवाह आदि शुभ कृत्य त्याज्य हैं। सिंह राशि की नक्षत्र सारणी राशि नक्षत्र चरण नक्षत्र स्वामी अंश व कला सिंह मघा 1 2 3 4 केतु 0.00 से 13.20 सिंह पूर्व फाल्गुन 1 2 3 4 शुक्र 13.20 से 26.40 सिंह उत्तरा फाल्गुन 1 सूर्य 26.40 से 30.00 वराह मिहिर के अनुसार: ‘‘उद्यानचूडाव्रतबन्धदीक्षाविवाहयात्रादि वधूप्रवेशः तडागकूपत्रिदशप्रतिष्ठा बृहस्पतौ सिंहगते न कुर्यात्।।’’ अर्थात्, सिंह की राशि में जब बृहस्पति हो, तो मुंडन, व्रतबंध, दीक्षा, विवाह, (विशेष) यात्रा, देवादि प्रतिष्ठा, ये सब शुभ कृत्य न करें। अब ज्योतिषीय कारणों की चर्चा करें, तो जिन जातकों के लिए सिंह का गुरु अपने गोचर में वैवाहिक काल निर्मित करता हो, साथ ही विवाह की दशाएं भी उसी समय लगती हों, तब क्या करें ? ऐसे समय पर यदि जातक विवाह नहीं करेगा, तो अगली बार योग न जाने कब बने। इससे ज्योतिषीय सिद्धांतों की नींव भी हिल जाएगी और सूत्र झूठे साबित होंगे। अतः ऐसी स्थिति में जातक को सिंह राशि के सिंह नवमांश को त्यागना चाहिए। बाकी के समय में मुहूर्तानुसार विवाह किया जा सकता है। बृहस्पति द्वारा मेष से ले कर मीन राशि तक 12 राशियों में परिभ्रमण के समय, हिंदू धर्मानुसार, भारत की भिन्न-भिन्न नदियों पर पवित्र पर्व काल माना गया है। गुरु के मेष राशिस्थ होने पर गंगा नदी पर, वृषभ् में नर्मदा पर, मिथुन में सरस्वती पर, कर्क में यमुना पर, सिंह में गोदावरी पर, कन्या में कृष्णा पर, तुला में कावेरी पर, वृश्चिक में ताम्रपर्णी पर, धनु में भागीरथी पर, मकर में तुंगभद्रा पर, कुंभ में सिंधु पर और मीन राशि में गुरु होने पर रेवा नदी पर पर्व काल होते हैं। ऐसे जातक, जिनकी कुंडली में गुरु की स्थिति सुदृढ़ हो और जिस राशि में गुरु का शुभ भ्रमण हो, उसी राशि वाले पर्व पर जातक को संबंधित नदी पर अनुष्ठान एवं स्नान करना चाहिए। इस प्रकार उस जातक को गुरु के शुभत्व का अधिक लाभ प्राप्त होगा तथा खराब गुरु का प्रभाव लुप्त होगा। उदाहरण के लिए यदि जातक की कुंडली में लग्नेश गुरु हो तथा लग्न भाव में ही स्थित हो, सिंह राशि नवम् भाव में हो और उसपर गुरु का गोचर हो, तो ऐसे जातक के लिए इस समय गोदावरी में स्नान आदि करना भाग्यवर्द्धक होगा; अर्थात वर्तमान पर्व (गोदावरी क्षेत्र) में यदि धनु लग्न के जातक स्नानादि करेंगे, तो उन्हें अधिक लाभ मिलेगा। गुरु की शुभता का उपाय जिन जातकों को विवाह एवं मांगलिक कार्य करना वर्तमान में नितांत आवश्यक हो, वे जातक गुरु की शुभता को पाने के लिए इस प्रकार का उपाय कर सकते हैं: सर्वप्रथम् जातक, ईशान दिशा में ‘श्वेत कलश’ की स्थापना कर, उसमें पंच गव्य, कुशोदक, विष्णु क्रांता, शतावरी आदि का प्रक्षेपण करें। चैकोर पीढ़ी पर बृहस्पति की स्वर्ण प्रतिमा की स्थापना कर उसमें प्राण प्रतिष्ठा करें। इसके बाद प्रतिमा की षोडशोपचार पूजा करें। पीला कपड़ा, पीला यज्ञोपवीत, पीला चंदन, पीला चावल, पीला पुष्प, घी का दीपक और दही-भात आदि प्रतिमा को अर्पित करें। 16000 × 4 = 64000 बृं बृहस्पतये नमः, का संकल्पपूर्वक जप करें। अंत में पीपल की लकड़ी, घृत, मधु, मिस्री से दशांश हवन करें और ताम्र पत्र में जल भर कर बृहस्पति को अघ्र्य प्रदान करें। अंत में पुष्प ले कर प्रार्थना करें: भक्तया भत्ते सुराचार्य होमपूजादि सत्कृतम्। तत्वं गृहाण शीत्मर्भ बृहस्पते नमो नमः। जीवो बृहस्पतिः सूरिराचार्यो गुरुरंगिराः। वाचस्पतिर्देवमंत्री शुभं कुर्यात सदा मम।। इसके पश्चात गुरु विसर्जन करें एवं प्रतिमा को दान अथवा विसर्जित करें अथवा शुद्धतापूर्वक यथाशक्ति घर आदि में स्थापित करें। यथासंभव बृहस्पति की वस्तुओं का दान एवं ब्राह्मण भोजन करावें।


अंक ज्योतिष विशेषांक  जून 2015

फ्यूचर पाॅइंट के इस लोकप्रिय अंक विशेषांक में अंक ज्योतिष से सम्बन्धित लेख जैसे अंक ज्योतिष का उद्भव- विकास, महत्व और सार्थकता, गरिमा अंकशास्त्र की, अंक ज्योतिष एक परिचय, अंकों की विशेषताएं, अंक मेलापक: प्रेम सम्बन्ध व दाम्पत्य सुख, नाम बदलकर भाग्य बदलिए, कैसे हो आपका नाम, मोबाइल नम्बर, गाड़ी आपके लिये शुभ, मास्टर अंक, लक्ष्मी अंक भाग्य और धन का अंक, अंक फलित के तीन चक्र प्रेम, बुद्धि एवं धन, अंक शास्त्र की नजर में तलाक, कैसे जानें अपने वाहन का शुभ अंक इत्यादि शामिल किये गये हैं। इसके अतिरिक्त अन्य अनेक लेख जैसे अंक ज्योतिष द्वारा नामकरण कैसे करें, चमत्कारिक यंत्र, कर्मफल हेतुर्भ, फलित विचार, सत्य कथा, भागवत कथा, विचार गोष्ठी, पावन स्थल, वास्तु का महत्व, कुछ उपयोगी टोटके, ग्रह स्थिति एवं व्यापार आदि के साथ साथ व्रत, पर्व और त्यौहार आदि के बारे में समुचित जानकारी दी गई है।

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.