कैसे जानें अपने वाहन का शुभ अंक

कैसे जानें अपने वाहन का शुभ अंक  

आधुनिक काल में एवं हमारी रोजमर्रा की जिंदगी में वाहन का कितना महत्व है ये तो हम सभी अच्छी तरह से जानते हैं। जिस दिन हम पैदा होते हैं हम अपने भाग्य के अंक के साथ जुड़ जाते हैं। समझ लीजिए हमारे भाग्य का खाता उस दिन से खुल जाता है। यदि हम अपने भाग्य के अंक के मित्र अंकों के साथ हैं तो जीवन सुखमय है और यदि शत्रु अंकों के साथ हंै तो जीवन दुखमय बना रहेगा। दुनिया की चाहे कोई भी चीज हो उसकी सही पहचान केवल अंकों के आधार पर ही की जा सकती है जैसे कि घर का नंबर, फोन नंबर, वाहन नंबर इत्यादि। यदि अंकों का ज्ञान न रहे तो अंकों के बिना सारा संसार स्थिर सा हो जाएगा जैसे कि बिना आत्मा के शरीर। अन्य कई और भी चीजें हैं जिनके माप में अंकों का प्रयोग होता है जैसे कि दूरियां, क्षेत्रफल, अन्य वस्तुएं, हमारी आयु के वर्ष। बिना अंकों के इनकी वास्तविक पहचान कर पाना नामुमकिन के बराबर है। आपने कभी सोचा है कि भाग्य का अंक (जन्मदिन व दिनांक) आपके नाम के अंक के साथ कितनी मित्रता व शत्रुता रखता है। अंकों की आपसी मित्रता एवं शत्रुता में ही आपका भविष्य छिपा है। आइये अंक विद्या के माध्यम से जानते हैं कि वाहन लेते समय या उसका प्रयोग करते समय किस प्रकार हम इस विद्या के प्रयोग से अपने वाहन से मिलने वाले सुख में वृद्धि कर सकते हैं। नियम 1. जातक अगर स्वयं वाहन चलाता है, तो उसे अपने मूलांक के मित्र अंक का वाहन अंक लेना चाहिए। 2. जातक अगर वाहन को व्यवसाय के लिए प्रयोग में लाना चाहता है तो वाहन का अंक भाग्यांक का मित्र होना चाहिए। 3. जातक का वाहन अगर उसका चालक चलाता है तो चालक का नामांक, वाहन के रजि. नंबर (सभी अक्षर व अंक) का एक अंक आपस में मित्र होना चाहिए। उदाहरण: जातक का जन्म दिनांक 16.12.1978 है। जातक की कार जिसका रजि. नंक्स्3ब्।।6658 है खरीदना चाहता है। यदि जातक वाहन को स्वयं चलाएगा तो गाड़ी के अंतिम चार अंकों के योग उसके मूलांक पर आधारित होना चाहिए। व्यक्ति का मूलांक = 7 (मित्र) भाग्यांक = 1$7$1$2$1$9$7$8 = 36 = 9 वाहन के अंतिम 4 अंकों का योग =25 = 7 (मित्र) 1. यह व्यक्ति इस रजि. नं. के वाहन को स्वयं चलाये तो लाभदायक रहेगा। इस व्यक्ति का मूलांक है 7 और वाहन के अंतिम 4 अंकों का योग भी 7 है जो कि अंक सारणी के अनुसार मित्र हैं। 2. इस व्यक्ति का भाग्यांक 9 है और गाड़ी के अंतिम 4 अंकों का योग 7 है। अंक 9 और 7 मित्र-शत्रु सारणी के अनुसार मित्र हैं। अतः यह वाहन व्यवसाय के लिए भी प्रयोग में लाया जा सकता है। 3. परंतु यह ध्यान रखें कि यदि व्यवसाय या स्वयं के लिए व्यक्ति किसी ड्राइवर को रखता है तो उसका नामांक गाड़ी के रजि. नंके योग अंक 4 का मित्र होना चाहिए। नामांक ज्ञात करने के लिए सेफेरियल तालिका की मदद लें। अंकों का पूर्ण लाभ उठाने के लिए नीचे दी गई अंक मित्र-शत्रु सारणी का प्रयोग करें।


दीपावली विशेषांक  October 2017

फ्यूचर समाचार का अक्टूबर का विशेषांक पूर्ण रूप से दीपावली व धन की देवी लक्ष्मी को समर्पित विशेषांक है। इस विशेषांक के माध्यम से आप दीपावली व लक्ष्मी जी पर लिखे हुए ज्ञानवर्धक आलेखों का लाभ ले सकते हैं। इन लेखों के माध्यम से आप, लक्ष्मी को कैसे प्रसन्न करें व धन प्राप्ति के उपाय आदि के बारे में जान सकते हैं। कुछ महत्वपूर्ण लेख जो इस विशेषांक में सम्मिलित किए गये हैं, वह इस प्रकार हैं- व्रत-पर्व, करवा चैथ व्रत, दीपावली एक महान राष्ट्रीय पर्व, दीपावली पर ‘श्री सूक्त’ का विशिष्ट अनुष्ठान, धन प्राप्त करने के अचूक उपाय, दीपावली पर करें सिद्ध विशेष धन समृद्धि प्रदायक मंत्र एवं उपाय, आपका नाम, धन और दिवाली के उपाय, दीपावली पर कैसे करें लक्ष्मी को प्रसन्न, शास्त्रीय धन योग आदि।

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.