चेहरा पढकर भविष्य बताएं

चेहरा पढकर भविष्य बताएं  

चेहरा पढ़कर भविष्य बताएं किसी व्यक्ति के चेहरे पर विभिन्न बाह्य तथा आंतरिक तत्वों के कारण, उसके व्यक्तित्व की झलक दिखाई दे जाती है। चेहरे की आकृति को पढ़ने का ज्ञान मुखाकृति विज्ञान और सामुद्रिक विज्ञान के अध्ययन से प्राप्त होता है, आइए जानें। कभी भी किसी व्यक्ति की मुखाकृति देखकर भविष्य कथन किया जा सकता है लेकिन किसी एक लक्षण के आधार पर तुरंत किसी निर्णय पर नहीं पहुंच जाना चाहिए, क्योंकि चेहरे का कोई एक लक्षण संपूर्ण भविष्य का सूचक नहीं होता। अतः शुभाशुभ लक्षणों के सूक्ष्म विश्लेषण के बाद ही किसी निर्णय पर पहुंचना उचित होता है। ‘‘सामुद्रिक शास्त्र वह कला अथवा विज्ञान ह,ै जिसम ंे मानव की मख्ु ााकृति या संपूर्ण शरीराकृति के बाह्य चिह्नों या लक्षणों के संयोग से उसके व्यक्तित्व की प्रधान चारित्रिक विशेषताओं का अध्ययन किया जाता है।’’ दूसरे शब्दों में, ‘‘सामुद्रिक शास्त्र वह कला तथा विज्ञान है जिसमें मानव शरीर के प्रमुख चैदह आंतरिक तथा बाह्य तत्वों की पृष्ठभूमि में ग्रह पर्वतों, रेखाओं (विशेष) एवं अन्य छोटे-बड़े चिह्नों के सांकेतिक लक्षणों के आधार पर उसके जीवन के सभी कालों का अध्ययन किया जाता है।’’ पाश्चात्य देशों में सामुद्रिक शास्त्र को फिजियोनाॅमी कहते हैं। चेहरा जहां एक ओर व्यक्ति का स्वभाव बताता है, वहीं दूसरी ओर उसके भाग्य, समस्या, आरोग्य आदि की बातें भी बताता है। इसलिए मानव के चेहरे को एक प्रदर्शक दर्पण भी कहा जाता है। चेहरे से व्यवसाय अथवा नौकरी के भविष्य कथन करने की दो प्रणालियां हंै- Û अनुमान प्रणाली और अनुभव प्रणाली। प्रथम प्रणाली के अनुसार जहां एक ज्ञान से दूसरा ज्ञान प्राप्त कर सामान्य से विशेष की ओर जाया जाता है, वहां द्वितीय प्रणाली के अनुसार परीक्षण से परिणाम पर पहुंच कर विशेष से सामान्य की ओर जाया जाता है। सामुद्रिक शास्त्र के अध्ययन से हम यह जान सकते हैं कि व्यक्ति को किस प्रकार के व्यापार अथवा किस प्रकार की नौकरी से लाभ होगा। प्रत्येक व्यक्ति के मन में यह जानने की इच्छा रहती है कि उसे व्यवसाय से लाभ होगा अथवा नौकरी से। हम मन में जिस काम को करने की इच्छा रखते हैं, अगर शारीरिक रूप से समर्थ न हों, तो वह काम नहीं कर सकते। किसी के मन में व्यवसाय करने की इच्छा हो, लेकिन उसमें इसकी क्षमता न हो अथवा वह शारीरिक रूप से असमर्थ हो, तो व्यवसाय नहीं कर सकता। सामुद्रिक शास्त्र के आधार पर हम पता लगा सकते हैं कि किसी व्यक्ति में किस कार्य के गुण हैं। अलग-अलग व्यक्ति की मुखाकृति अलग-अलग होती है। फलकथन मुखाकृति के अनुरूप ही करना चाहिए। यहां उल्लेख कर देना जरूरी है कि व्यवसाय या नौकरी तभी लाभप्रद होगी जब व्यक्ति खुद परिश्रम करे। जिन लोगों की आकृति कुत्ते, बैल या घोड़े से मिलती हो, वे सरल और नीतिवान होते हैं। व्यवसाय के प्रति कौन से गुणों का होना जरूरी है, यह जानना बहुत आवश्यक है। सामुद्रिक शास्त्र हमें व्यक्ति में व्यवसाय के गुण हैं या नहीं, इससे अवगत कराता है। अगर किसी व्यक्ति का चेहरा वायुतत्व प्रधान हो, तो वह कभी स्थिर, कभी अस्थिर, कभी सौम्य और कभी उच्छृंखल हो सकता है। कभी बुद्धि मत्तापूर्ण तो कभी मूर्खतापूर्ण क्रियाएं करता है। उसका स्वभाव कभी आशावादी तो कभी निराशावादी हो सकता है। वह संगीत, हास्य व व्यंग्य का प्रेमी, मनमौजी, उथले स्वभाव का एवं पर्यटन पे्रमी हो सकता है। उसमें काम वासना के प्रति आकर्षण, असत्यवादिता, चिड़चिड़ापन आदि भरे होते हैं। वह अक्सर बीमार रहता है। आवाज के द्वारा भी हम पता लगा सकते हैं कि व्यक्ति का चेहरा किन गुणों से युक्त है। जो लोग कला के क्षेत्र से जुड़े होते हैं, उनकी आवाज में एक बुलंदी होती है। यह गूंज, गंभीरता या नाद ऐसा प्रतीत होता है मानो दुंदुभि, मृदंग, मेघ या सिंह गर्जन हुआ हो। इस स्वर का आदि, मध्य और अंत तीनों संतुलित होते हैं। जो लोग गायन, संगीत आदि से जुड़े होते हंै, उनका चेहरा स्नायुतत्व प्रधान होता है। लेकिन उनकी प्रतिभा में फर्क होता है। जिन लोगों का अपना व्यवसाय होता है उनकी आकृति सामान्यतः गोल तथा ललाट उठा हुआ होता है। कनपटी के पास का मार्ग चैड़ा, आंखें बड़ी तथा भूरी, भौंहें पतली, मुंह छोटा, होंठ भरे हुए तथा कुछ खुले, दांत बड़े व कुछ पीले, ठोड़ी गोल किंतु पीछे को हटी हुई, नाक छोटी और वाणी धीमी होती है। जिन जातकों में ये गुण पाए जाते हैं वे सामान्यतः कल्पज्ञ, सौंदर्यप्रेमी, स्वप्नदर्शी, मनमौजी, संवेदनशील, निराश, चंचल, एकांतप्रेमी एवं सहृदय होते हैं। उन्हें साहित्य एवं संगीत से विशेष प्रेम होता है। जो लोग नाट्यकला से जुड़े होते हैं, उनका चेहरा शुक्र ग्रह से प्रभावित रहता है। उनका चेहरा लंबा, कुछ वर्तंुल, कम उभरा हुआ एवं स्निग्ध होता है। आंखें श्वेत, दांत सुंदर, साफ एवं पंक्तिबद्ध, भौंहें हल्की, रंग साफ, बाल काले एवं वाणी कोमल होती है। ऐसे जातक सहिष्णु, एकांतप्रिय, भावुक, प्रशंसाप्रिय, कामुक, संगीत या नाटकप्रेमी, रेशमी वस्त्रों और गुलाबी या पीले रंग के शौकीन होते हैं। कलाकारों के कानों के ऊपर का भाग वर्तुल, स्निग्ध, स्वच्छ एवं सामान्य होता है। कान के बाहरी स्वरूप एवं स्थिति का कान के छिद्रों, ग्रंथियांे एवं नाड़ी तंतुओं पर अत्यधिक प्रभाव होता है। ये सभी गुण मनुष्य के स्वभाव एवं चरित्र के निर्धारक होते हैं।
क्या आपको लेख पसंद आया? पत्रिका की सदस्यता लें
chehra parhakar bhavishya bataenkisi vyakti ke chehre par vibhinn bahya tatha antrik tatvon kekaran, uske vyaktitva ki jhalak dikhai de jati hai. chehre kiakriti ko parhne ka gyan mukhakriti vigyan aur samudrik vigyanke adhyayan se prapt hota hai, aie janen.kbhi bhi kisi vyaktiki mukhakriti dekhakar bhavishyakathan kiya ja sakta hai lekinkisi ek lakshan ke adhar par turantkisi nirnay par nahin pahunch janachahie, kyonki chehre ka koi ekalakshan sanpurn bhavishya ka suchak nahinhota. atah shubhashubh lakshanon ke sukshmavishleshan ke bad hi kisi nirnayapar pahunchna uchit hota hai.‘‘samudrik shastra vah kala athvavigyan h,ai jisam ne manav ki makhu aakritiya sanpurn sharirakriti ke bahya chihnon yalakshanon ke sanyog se uske vyaktitvaki pradhan charitrik visheshtaon kaadhyayan kiya jata hai.’’dusre shabdon men, ‘‘samudrik shastra vahkla tatha vigyan hai jismen manvshrir ke pramukh chaidah antrik tathabahya tatvon ki prishthabhumi men grah parvaton,rekhaon (vishesh) evan anya chote-barechihnon ke sanketik lakshanon ke adharapar uske jivan ke sabhi kalon kaadhyayan kiya jata hai.’’pashchatya deshon men samudrik shastra kofijiyonaemi kahte hain.chehra jahan ek or vyakti kasvabhav batata hai, vahin dusri orauske bhagya, samasya, arogya adiki baten bhi batata hai. islie manvke chehre ko ek pradarshak darpan bhikha jata hai.chehre se vyavsay athva naukri kebhvishya kathan karne ki do pranaliyanhanai-û anuman pranali aur anubhavapranali.pratham pranali ke anusar jahan ekagyan se dusra gyan prapt kar samanyase vishesh ki or jaya jata hai, vahandvitiya pranali ke anusar parikshanase parinam par pahunch kar vishesh sesamanya ki or jaya jata hai.samudrik shastra ke adhyayan se hamayah jan sakte hain ki vyakti kokis prakar ke vyapar athva kisaprakar ki naukri se labh hoga.pratyek vyakti ke man men yah janneki ichcha rahti hai ki use vyavsayse labh hoga athva naukri se.ham man men jis kam ko karneki ichcha rakhte hain, agar sharirikrup se samarth n hon, to vah kamnhin kar sakte. kisi ke man menvyavsay karne ki ichcha ho, lekinausmen iski kshamata n ho athvavah sharirik rup se asamarth ho, tovyavsay nahin kar sakta. samudrikshastra ke adhar par ham pata lagaskte hain ki kisi vyakti men kiskarya ke gun hain.alg-alag vyakti ki mukhakritialg-alag hoti hai. falkthnmukhakriti ke anurup hi karnachahie.yhan ullekh kar dena jaruri hai kivyavsay ya naukri tabhi labhapradhogi jab vyakti khud parishram kare.jin logon ki akriti kutte, bailya ghore se milti ho, ve saral aurnitivan hote hain. vyavsay ke pratikaun se gunon ka hona jaruri hai, yahjanna bahut avashyak hai. samudrikshastra hamen vyakti men vyavsay ke gunhain ya nahin, isse avagat karata hai.agar kisi vyakti ka chehra vayutatvapradhan ho, to vah kabhi sthir, kabhiasthir, kabhi saumya aur kabhiuchchrinkhal ho sakta hai. kabhi buddhimattapurn to kabhi murkhatapurn kriyaenkrta hai. uska svabhav kabhiashavadi to kabhi nirashavadi hoskta hai. vah sangit, hasya v vyangyaka premi, manmauji, uthle svabhavka evan paryatan perami ho sakta hai.usmen kam vasna ke prati akarshan,asatyavadita, chirchirapan adi bharehote hain. vah aksar bimar rahta hai.avaj ke dvara bhi ham pata lagaskte hain ki vyakti ka chehra kingunon se yukt hai. jo log kala kekshetra se jure hote hain, unki avajmen ek bulandi hoti hai. yah gunj,ganbhirta ya nad aisa pratit hotahai mano dundubhi, mridang, megh ya sinhagarjan hua ho. is svar ka adi,madhya aur ant tinon santulit hotehain. jo log gayan, sangit adi sejure hote hanai, unka chehra snayutatvapradhan hota hai. lekin unki pratibhamen fark hota hai. jin logonka apna vyavsay hota hai unkiakriti samanyatah gol tatha lalatautha hua hota hai.knpti ke pas ka marg chaira,ankhen bari tatha bhuri, bhaunhen patli,munh chota, honth bhare hue tatha kuchkhule, dant bare v kuch pile, thorigol kintu piche ko hati hui, nakchoti aur vani dhimi hoti hai.jin jatkon men ye gun pae jatehain ve samanyatah kalpagya, saundaryapremi,svapnadarshi, manmauji, sanvednshil,nirash, chanchal, ekantapremi evan sahridyhote hain. unhen sahitya evan sangit sevishesh prem hota hai.jo log natyakla se jure hote hain,unka chehra shukra grah se prabhavitrhta hai. unka chehra lanba, kuchavartanul, kam ubhra hua evan snigdhahota hai. ankhen shvet, dant sundar, safaevan panktibaddh, bhaunhen halki, rang saf,bal kale evan vani komal hotihai. aise jatak sahishnu, ekantapriya,bhavuk, prashansapriya, kamuk, sangit yanatakapremi, reshmi vastron aur gulabiya pile rang ke shaukin hote hain.klakaron ke kanon ke upar ka bhagavartul, snigdh, svachch evan samanyahota hai.kan ke bahri svarup evan sthitika kan ke chidron, granthiyane evan naritantuon par atyadhik prabhav hota hai.ye sabhi gun manushya ke svabhav evanchritra ke nirdharak hote hain.
क्या आपको लेख पसंद आया? पत्रिका की सदस्यता लें


टैरो कार्ड एवं भविष्य कथन की वैकल्पिक पद्वतियां   मई 2007

भविष्य कथन में तोते का प्रयोग, क्या है राम शलाका ? नाडी शास्त्र और भृगु संहिता का रहस्य, ताश के पतों द्वारा भविष्य कथन, क्रिस्टल बाळ, पांडुलम द्वारा भविष्य कथन, हस्ताक्षर, अंक एवं घरेलू विधियों द्वारा भविष्य कथन

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.