स्वर विज्ञान से भविष्य का ज्ञान

स्वर विज्ञान से भविष्य का ज्ञान  

स्वर विज्ञान से भविष्य का ज्ञान पं. शरद त्रिपाठी प्राचीन काल में स्वर विज्ञान से भी फल कथन किया जाता था। इसका आधार श्वास-प्रश्वास (स्वर) को बनाया जाता है। स्वर तीन प्रकार के होते हैं: दायां स्वर: मेरुदंड के दायें भाग से नासिका के दायें छिद्र में आई हुई प्राण वायु का नाम दायां स्वर है। बायां स्वर: मेरुदंड के बायें भाग से नासिका के बायें छिद्र में आई हुई प्राण वायु का नाम बायां स्वर है। सुषुम्ना स्वर: मेरुदंड से नासिका छिद्रों में आई हुई प्राण वायु को सुषुम्ना स्वर कहते हैं। यमुना, सूर्य और पिंगला दायें स्वर के तथा गंगा, चंद्र और इंगला बायें तथा स्वर के नाम हैं। गंगा और यमुना नाड़ियों के बीच बहने वाले स्वर का नाम सुषुम्ना है। उपर्युक्त तीनों नाड़ियों का संगम भौंहों के बीच होता है जहां पर दैवी शक्ति वाले लोग शक्ति की आराधना के लिए ध्यान केंद्रित करते हैं। दायां स्वर पुल्लिंग (शिव) और बायां स्त्रीलिंग (शक्ति) का प्रतीक है। अतः प्रिय और स्थिर कार्य, शक्ति क े प्रवाह में अर्थात चंद्र स्वर में और अप्रिय तथा अस्थिर कार्य शिव के प्रवाह में अर्थात सूर्य स्वर में होते हैं। सुषुम्ना स्वर का उदय शिव और शक्ति के योग से होता है। इसलिए व्यावहारिक कार्यों को यह होने ही नहीं देता है, किंतु ईश्वर के भजन में अत्यंत सहायक होता है। भवसागर को पार करने में यह जहाज की तरह सहायता करता है। दीर्घायु की परीक्षा यदि सारी रात सूर्य स्वर तथा सारे दिन चंद्र स्वर चले, तो समझना चाहिए कि दीर्धायु प्राप्त होगी तथा शरीर निरोग रहेगा और दैहिक, दैविक और भौतिक ताप किसी तरह नहीं सताएंगे। किसी महीने की प्रतिपदा को सूर्योदय से संध्या तक सूर्य स्वर चलता रहे, तो समझना चाहिए कि एक माह तक शरीर अस्वस्थ रहेगा। छठे वर्ष मृत्यु भी समीप आ जाएगी। इंद्रिय शक्ति का ह्रास होगा और विभिन्न प्रकार की चिंताएं सताएंगी। विवाह संबंधी प्रश्नोत्तर प्रश्न: विवाह होगा या नहीं? यदि होगा, तो कब? उत्तर: यदि प्रश्नकर्ता ज्योतिषी के दायीं ओर बैठकर प्रश्न करे और उत्तरदाता का दायां स्वर चलता हो, तो विवाह शीघ्र होगा। इसके विपरीत यदि प्रश्नकर्ता उत्तरदाता के बायीं ओर बैठकर प्रश्न करे और उस समय उत्तरदाता का दायां स्वर चलता हो, तो विवाह में विलंब होगा। यदि प्रश्नकर्ता ज्योतिषी के बायी ं आरे बैठकर प्रश्न करे और उस समय ज्योतिषी का भी बायां स्वर प्रवाहित हो रहा हो, तो विवाह नहीं होगा। यदि प्रश्नकर्ता दायीं अथवा बायीं ओर अर्थात किसी भी तरफ बैठ कर प्रश्न करे और ज्योतिषी का सुषुम्ना स्वर चलता हो, तो विवाह नहीं होगा। यदि प्रश्नकर्ता का बायां और ज्योतिषी का दायां स्वर चलता हो, तो कुछ दिनों के पश्चात विवाह हो जाएगा। यदि प्रश्नकर्ता का बायां और स्वरज्ञानी का सुषुम्ना स्वर चलता हो, तो विवाह नहीं होगा। यदि प्रश्नकर्ता और ज्योतिषी दोनों का ही सुषुम्ना स्वर चलता हो, तो विवाह की कौन कहे, बात तक नहीं होगी। यदि प्रश्नकर्ता का सुषुम्ना और ज्योतिषी का दायां स्वर चल रहा हो, तो विवाह कुछ समय के पश्चात अवश्य होगा। चोरी से संबंधित प्रश्नोत्तर प्रश्न: चोरी गई वस्तु मिलेगी या नहीं? उत्तर: यदि प्रश्नकर्ता का दायां और ज्योतिषी का बायां स्वर चल रहा हो, तो चोरी गई वस्तु कठिनाई से मिलेगी। ऐसी अवस्था में कुछ सख्ती से काम लेना होगा। यदि प्रश्नकर्ता का बायां और स्वरज्ञानी का दायां स्वर चलता हो, तो वस्तु मिलेगी अवश्य, किंतु देर से। यदि प्रश्नकर्ता और उत्तरदाता दोनों का बायां स्वर चलता हो, तो वस्तु नहीं मिलेगी अथवा कठिनाई से मिलेगी। यदि प्रश्नकर्ता का सुषुम्ना स्वर और ज्योतिषी का बायां स्वर चलता हो, तो वस्तु का पता नहीं चलेगा, मिलना तो दूर की बात है। यदि प्रश्नकर्ता और उत्तरदाता दोनों का सुषुम्ना स्वर चले, तो यह अत्यंत खराब योग है- वस्तु कदापि नहीं मिलेगी। यदि प्रश्नकर्ता का बायां और ज्योतिषी का सुषुम्ना स्वर चलता हो तो वस्तु नहीं मिलेगी। पुत्र संतान और स्वर विज्ञान  जब स्त्री का बायां और पुरुष का दायां स्वर चल रहा हो और पृथ्वी तथा जल (वायु व तेज तत्व) के संयोग में अर्द्धरात्रि के समय गर्भाधान किया गया हो, तो पुत्र उत्पन्न होगा। ऋतुकाल के बाद की चैथी रात में गर्भ रहने से अल्पायु तथा दरिद्र पुत्र पैदा होता है। ऋतुकाल के बाद की छठी रात में गर्भ रहने से साधारण आयु वाला पुत्र उत्पन्न होता है। ऋतुकाल के बाद की आठवीं रात में गर्भ रहने से ऐश्वर्यशाली पुत्र पैदा होता है। ऋतुकाल के बाद की दसवीं रात्रि में गर्भ रहने पर चतुर पुत्र पैदा होता है। ऋतु काल के बाद की सोलहवीं रात में गर्भ रहने पर सर्वगुण संपन्न पुत्र पैदा होता है।
क्या आपको लेख पसंद आया? पत्रिका की सदस्यता लें
svar vigyan se bhavishya ka gyanpan. sharad tripathiprachin kal men svar vigyanse bhi fal kathan kiya jatatha. iska adhar shvas-prashvasa(svar) ko banaya jata hai. svar tinaprakar ke hote hain:dayan svar: merudand ke dayen bhagse nasika ke dayen chidra men ai huipran vayu ka nam dayan svar hai.bayan svar: merudand ke bayen bhagse nasika ke bayen chidra men ai huipran vayu ka nam bayan svar hai.sushumna svar: merudand se nasikachidron men ai hui pran vayu kosushumna svar kahte hain.ymuna, surya aur pingla dayen svar kettha ganga, chandra aur ingla bayen tathasvar ke nam hain. ganga aur yamunanariyon ke bich bahne vale svar kanam sushumna hai.uparyukt tinon nariyon ka sangmbhaunhon ke bich hota hai jahan par daivishakti vale log shakti ki aradhnake lie dhyan kendrit karte hain.dayan svar pulling (shiv) aur bayanstriling (shakti) ka pratik hai. atahpriya aur sthir karya, shakti k e pravahmen arthat chandra svar men aur apriyattha asthir karya shiv ke pravah menarthat surya svar men hote hain.sushumna svar ka uday shiv aurashakti ke yog se hota hai. islievyavharik karyon ko yah hone hinhin deta hai, kintu ishvar ke bhajan menatyant sahayak hota hai. bhavsagrko par karne men yah jahaj ki tarhshayta karta hai.dirghayu ki parikshaydi sari rat surya svar tatha saredin chandra svar chale, to samjhnachahie ki dirdhayu prapt hogi tathashrir nirog rahega aur daihik, daivikaur bhautik tap kisi tarhnhin sataenge. kisi mahine ki pratipdako suryoday se sandhya tak suryasvar chalta rahe, to samjhna chahieki ek mah tak sharir asvastharahega. chathe varsh mrityu bhi samip ajaegi.indriya shakti ka hras hoga aurvibhinn prakar ki chintaen sataengi.vivah sanbandhi prashnottaraprashna: vivah hoga ya nahin? yadihoga, to kab?uttara: yadi prashnakarta jyotishi kedayin or baithakar prashn kare aurauttaradata ka dayan svar chalta ho,to vivah shighra hoga. iske vipritydi prashnakarta uttaradata ke bayinor baithakar prashn kare aur us samyauttaradata ka dayan svar chalta ho,to vivah men vilanb hoga.ydi prashnakarta jyotishi ke bayi n arebaithakar prashn kare aur us samayajyotishi ka bhi bayan svar pravahitho raha ho, to vivah nahin hoga.ydi prashnakarta dayin athva bayin orarthat kisi bhi taraf baith kar prashnakare aur jyotishi ka sushumna svarchlta ho, to vivah nahin hoga. yadiprashnakarta ka bayan aur jyotishika dayan svar chalta ho, to kuchdinon ke pashchat vivah ho jaega.ydi prashnakarta ka bayan aur svaragyanika sushumna svar chalta ho, tovivah nahin hoga. yadi prashnakarta aurajyotishi donon ka hi sushumna svarchlta ho, to vivah ki kaun kahe,bat tak nahin hogi. yadi prashnakartaka sushumna aur jyotishi ka dayansvar chal raha ho, to vivah kuchasamay ke pashchat avashya hoga.chori se sanbandhit prashnottaraprashna: chori gai vastu milegiya nahin?uttara: yadi prashnakarta ka dayan aurajyotishi ka bayan svar chal rahaho, to chori gai vastu kathinai semilegi. aisi avastha men kuch sakhtise kam lena hoga.ydi prashnakarta ka bayan aur svaragyanika dayan svar chalta ho, to vastumilegi avashya, kintu der se. yadiprashnakarta aur uttaradata donon kabayan svar chalta ho, to vastu nahinmilegi athva kathinai se milegi.ydi prashnakarta ka sushumna svar aurajyotishi ka bayan svar chalta ho,to vastu ka pata nahin chalega, milnato dur ki bat hai. yadi prashnakartaaur uttaradata donon ka sushumnasvar chale, to yah atyant kharab yoghai- vastu kadapi nahin milegi. yadiprashnakarta ka bayan aur jyotishi kasushumna svar chalta ho to vastu nahinmilegi.putra santan aur svar vigyan jab stri ka bayan aur purushka dayan svar chal raha ho aurprithvi tatha jal (vayu v tejatatva) ke sanyog men arddharatri kesamay garbhadhan kiya gaya ho,to putra utpann hoga.ritukal ke bad ki chaithi ratmen garbh rahne se alpayu tathadridra putra paida hota hai.ritukal ke bad ki chathi ratmen garbh rahne se sadharan ayuvala putra utpann hota hai. ritukal ke bad ki athvinrat men garbh rahne se aishvaryashali putra paida hota hai. ritukal ke bad ki dasvinratri men garbh rahne par chatur putrapaida hota hai. ritu kal ke bad ki solhvinrat men garbh rahne par sarvagunsanpann putra paida hota hai.
क्या आपको लेख पसंद आया? पत्रिका की सदस्यता लें


टैरो कार्ड एवं भविष्य कथन की वैकल्पिक पद्वतियां   मई 2007

भविष्य कथन में तोते का प्रयोग, क्या है राम शलाका ? नाडी शास्त्र और भृगु संहिता का रहस्य, ताश के पतों द्वारा भविष्य कथन, क्रिस्टल बाळ, पांडुलम द्वारा भविष्य कथन, हस्ताक्षर, अंक एवं घरेलू विधियों द्वारा भविष्य कथन

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.