ज्योतिष, हस्तरेखा या अन्य विद्याओं द्वारा आयु निर्णय

ज्योतिष, हस्तरेखा या अन्य विद्याओं द्वारा आयु निर्णय  

आयु का निर्णय हस्तरेखा द्वारा और घटनाओं का समय जानना भी हस्तरेखा द्वारा जाना जा सकता है। पराशर ऋषि के अनुसार आयु गणना की लगभग 82 विधियां है। जन्म कुंडली विशेष के लिए किस विधि का उपयोग किया जाना चाहिए। इसका निर्णय ग्रहबल और भाव बल के द्वारा किया जाता है। जन्म से मृत्यु तक का समय आयु कहलाता है। इस आयु को भी हमारे ऋषि मुनियों ने अरिष्टायु, अल्पायु, मध्यायु, दीर्घायु, परमायु आदि में बांटा है। आयु निर्णय की विभिन्न विधियां हैं- अंशायु: इसका उपयोग लग्न बली होने पर किया जाता है। पिंडायु: सूर्य बली होने पर इस विधि का उपयोग किया जाता है। निसर्गायु: चंद्रमा जब बली हो तो इस विधि का उपयोग किया जाता है। भिन्नाष्टक वर्ग आयु: मंगल बली होने पर इस विधि का उपयोग किया जाता है। रश्मि आयुर्दाय: जब बुध बली हो तब प्रयोग करें। नक्षत्र आयु: गुरु के बली होने पर इस विधि का उपयोग किया जाता है। काल चक्र आयुर्दाय: जब शुक्र बली हो तो इस विध का उपयोग करते हैं। सर्वाष्टक वर्ग आयु: इस विधि का उपयोग शनि के बली होने पर किया जाता है। जैमिनी आयुर्दाय: आयु खंड के लिए जैमिनी आयुर्दाय में और भी विधियां है। वारायु: मानसागरी में जन्म के साप्ताहिक दिन के अनुसार स्थूल आयु का वर्णन है परंतु यह सटीक नहीं है। राश्यायु: जन्म राशि के अनुसार आयु का निर्णय मानसागरी में है। यह भी सटीक नहीं है। केन्द्रायु: केंद्रों में राशियों के अंकों का योग पर उसको उससे गुणा किया जाता है। उसके बाद जिस केंद्र में मंगल, शनि या राहु स्थित हो उस राशि के अंकों का गुणनफल से घटा लिया जाता है। जो शेष बचे वही आुय निर्णय है। पुरूषाकार ग्रह चक्र: मानव की आकृति बनाने के बाद उसके मस्तिष्क में जिस नक्षत्र में सूर्य होता है उसे लिख लें। अन्य नक्षत्र चक्र के अनुसार बनाया जाता है। शरीर के जिस भाग में जन्म नक्षत्र होता है वही आयु होती है। चक्र में नक्षत्रों का स्थान निर्धारण: जिस नक्षत्र में सूर्य हो वह मस्तक पर रखा जाएगा। अंक नक्षत्र आयु मस्तक 3 नक्षत्र 100 वर्ष मुख 3 नक्षत्र 80 वर्ष दोनों कन्धे 2 नक्षत्र 80 वर्ष (एक-एक दोनों तरफ) दोनों बाँहें 2 नक्षत्र 77 वर्ष (एक-एक दोनों तरफ) हृदय 5 नक्षत्र 77 वर्ष दोनों हाथ 2 नक्षत्र 68 वर्ष नाभि 1 नक्षत्र 68 वर्ष गुदा 1 नक्षत्र 60 वर्ष दोनों घुटनें 2 नक्षत्र 8 वर्ष पाँव 6 नक्षत्र 6 वर्ष लग्न सूर्य चंद्रमा तीनों बल हीन हो तो 17 वर्ष, 1 मास, 20 दिन प्रत्येक ग्रह की आयु समझ कर गणना करनी चाहिए। अंश आयु: एक नवांश एक वर्ष की आयु प्रदान करता है अर्थात लग्न और प्रत्येक ग्रह जितने नवांश में स्थित होता है उतने ही वर्ष आयु प्रदान करता है। सभी ग्रह स्पष्ट और लग्न स्पष्ट को मिनटों में बदल दें और उसे 200 से (3°20श्) भाग दें जो भागफल आये वह लब्धि वर्ष होगा यदि भागफल 12 से अधिक आये तो उसे 12 से घटा दें। शेष को क्रमशः 12.30 को 60.60 से गुणा करके बार बार 200 से भाग देने पर मास दिन घटी पल मिलेगें। उदाहरण सूर्य 1रा 70 56‘ सूर्य नवांश कुंडली में 12वीं राशि में है अर्थात सूर्य ने मेष से 12-1=11 नवांश पूरे कर लिये और 12वें नवांश में भी 7056‘ - 6040‘ =1016‘= 76 कला चल चुका है। एक नवांश में 200 कला होते हैं। 76»200=0.38 वर्ष अर्थात .38ग12 = 456»200 = 2 मास 2.56 मास .56ग30 = .1680»200 = 8.80 दिन .80ग60 = .4800»200 = 24 पल अर्थात सूर्य की अंश आयु 11 वर्ष, 2 मास, 8 दिन, 48 घटी आयु संस्कार। 1. यदि ग्रह उच्च या वक्री हो तो उपरोक्त प्राप्त आयु को तीन से गुणा करेंगे। 2. यदि ग्रह वर्गोत्तम, स्वराशि या स्वदे्रष्काण हो तो प्रत्येक को दो से गुणा करेंगे। 3. यदि ग्रह उच्च का हो तो वर्गोत्तम या वक्री हो तो एक प्रकार की वृद्धि की जायेगी। आयु हानि के नियम आयु हानि (घटाना) निम्नलिखित नियमों से होगी। 1. चक्राद्धी हानि: चक्र का आधा भाग। जन्म कुंडली में 7वें भाव से लेकर 12वें भाव तक जो ग्रह स्थित हो उनमें चक्रार्द्ध हानि की जाती है। भाव 7वां 8वां 9वां 10वां 11वां 12वां अशुभ ग्रह 1»6 1»5 1»4 1»3 1»2 पूर्ण घटाएं हानि शुभ ग्रह 1»12 1»10 1»8 1»6 1»4 1»2 घटाएं यदि किसी भाव में एक से अधिक ग्रह हो तो जो ग्रह सबसे अधिक बली होगा उस ग्रह की हानि होगी। बाकी ग्रहों को नहीं घटाया जायेगा। अस्तंगत हरण: चक्राध हानि के बाद जो ग्रह अस्त हो उस ग्रह की प्राप्त आयु को आधा कर दिया जाता है। शुक्र एवं शनि की अस्तगत हानि नहीं होती। शत्रुक्षेत्री हरण: यदि कोई ग्रह अपने शत्रु की राशि में हो तो अस्तगत हरण के बाद बनी हुई आयु का 1»3 भाग घटाया जाता है। यदि ग्रह वक्री और शत्रुक्षेत्री हो तो केवल अस्तगत हरण ही होगा। यदि मंगल ग्रह मकर राशि में स्थित है तो उसमें शत्रुक्षेत्री हरण नहीं होगा। क्रुरोदय हरण: जब कोई क्रुर ग्रह सूर्य, मंगल, शनि यदि लग्न में हो तो क्रुर ग्रह हरण होगा। क्रुर ग्रह साधन के लिए सबसे पहले लग्न स्पष्ट को (राशि छोड़कर) हरण करना है। मिनटों को शत्रु क्षेत्री हरण के बाद प्राप्त आयु को मिनटों से गुणा करेंगे तो 21600 मिनट अर्थात 360 अंश से भाग देंगे जो भागफल प्राप्त होगा वह उस ग्रह का क्रुर उदय ग्रह होगा। यदि किसी शुभ ग्रह की लग्न पर दृष्टि हो तो क्रुर उदय हरण आधे का होगा। यदि कोई शुक्र ग्रह लग्न में स्थित हो और वह लग्न के अंशों के समीप हो तो क्रुर उदय हरण आधा होगा। पिंड आयु ज्ञात करने की विधि: अपने उर्द्धव में रहने पर सूर्य के 19, चंद्रमा के 20, मंगल के 15, बुध के 12, गुरु के 15, शुक्र के 21 और शनि के 20 वर्ष होते हैं। यही पिंडायु है। स्वोत्वशुद्धो ग्रह शोध्य षडाश्यूषो भकण्डुलात। स्वपिण्डगुणितो भक्ता यादिमानने वारुराः।। अर्थात ग्रह स्पष्ट में से परमोच्च को घटा कर उस षडमाधिककर ले अर्थात 6 राशि से कम हो तो 12 से घटा कर शेष को लें और 6 राशि से अधिक हो तो यथावत लें उस शेष को ग्रह की आयु से गुणाकर के 12 से भाग देने पर वर्ष होते हैं। हानि वृद्धि संस्कार: वक्री ग्रह के शत्रुक्षेत्री संस्कार को छोड़कर शेष हानि वृद्धि संस्कार अंशायु की तरह गिने जायेंगे। ग्रह नक्षत्र स्वामी भोगांश भोगांश रा 0 कला दशमलव तक लग्न 1 23 18 53.30 सूर्य कृत्तिका सूर्य 1 7 56 37.93 चंद्र मूल केतु 8 3 35 243.58 मंगल कृत्तिका सूर्य 1 7 49 37.82 बुध अश्विनी बुध 0 12 45 12.75 गुरु उ.भा. शनि 11 13 21 343.35 शुक्र पुनर्वसु गुरु 2 20 19 80.32 शनि(व) उ.फा. सूर्य 5 2 26 152.43 राहु(व) पू.भा. गुरु 10 22 45 322.75 केतु(व) पू.फा. शुक्र 4 22 45 142.75 पिंडायु ग्रह भोगांश बिंदु अंतर सकल आयु प्रदत्त वर्ष अंश 1800 से अधिक सूर्य 37.93 10 332.07 332ग19»360=17.526 चंद्रमा 243.58 33 210.58 210.58ग 25»360=14.624 मंगल 37.82 298 260.18 260.18ग 15»360=10.841 बुध 12.75 165 207.75 207ग75ग12»360=6.925 गुरु 343.35 95 248.35 248.35ग15»360=10.348 शुक्र 80.32 357 296.68 276.68ग21»360=16.140 शनि(व) 152.43 200 312.43 312.43ग20»360=17.357 लग्न 3.990 योग= 78.221 ग्रह सकल चक्रपथ शत्रु अस्तगत क्रूरोदय शुद्ध आयु आयु हरण क्षेत्रीय हरण हरण वर्षों में सूर्य 17.526 - 1»3 - 0.756 10.928 चंद्र 14.624 1»10 - - - 13.162 मंगल 10.841 - - 1»2 - 5.420 बुध 6.925 1»2 - - - 3.463 गुरु 10.348 1»4 - - - 7.761 शुक्र 16.140 - - - - 16.140 शनि(व) 17.357 - - - - 17.357 लग्न 3.990 - - - - 3.990 योग 78.221 0.221ग12 = 2.652 मास 0.652ग30 = 19.560 दिन जातक की पिंड आयु 78 वर्ष 2 मास 19.56 दिन क्रुरोदय हरण सूर्य से किया है क्योंकि यह मंगल की अपेक्षा लग्न के समीप है। अंशायु ग्रह भोगांश अंशों में मिनट 200 से विभाजित ग्रहदत्त आयु रा. 0 ‘ परिवर्तित और शेष वर्ष वर्ष मास दिन सूर्य 1 7 56 37.56 2276 11.76 11 4 17 चंद्र 8 3 35 243.35 14615 1.15 9 0 27 मंगल 1 7 49 37.49 2269 11.69 11 04 04 बुध 0 12 45 12.45 765 03.165 03 09 27 गुरु 11 13 21 343.21 20601 07.801 07 00 01 शुक्र 2 20 19 80.19 4819 00.19 00 01 05 शनि(व) 5 02 26 152.26 9146 09.146 09 08 22 लग्न 1 23 18 53.18 3198 03.198 03 11 26 48 41 129 48 05 09 ग्रह आयु भरण भरण के चंद्रोदय शत्रु क्षेत्रीय अस्तंगत आयु के बाद आयु हानि हानि हानि व. मा. दि. व. मा. दि. वर्ष मास दिन सूर्य 11 04 17 - 11 04 17 - 1»3 - 07 07 01 चंद्र 01 00 27 - 01 10 27 1»10 - - 00 11 19 मंगल 11 04 04 - 11 04 04 - - 1»2 05 08 02 बुध 03 09 27 - 03 09 27 1»2 - - 01 10 29 गुरु 07 00 01 ग2 14 00 02 1»4 - - 10 06 27 शुक्र 00 01 05 - 00 01 05 - - - 00 01 05 शनि(व) 09 08 22 ग3 29 02 06 - - - 29 02 06 लग्न 03 11 26 - - - - - - - 3 11 26 योग 55 56 115 वर्ष मास दिन 59 11 25 सही उम्र 59 वर्ष 11 मास 25 दिन यह सटीक विधि है। नैसर्गिक आयु: जब सूर्य और लग्न से चंद्र बली हा तब नैसर्गिक विधि से आप ज्ञात की जाती है। यह पिंडायु की भोति है। इस में सूर्य , चंद्र, मंगल, बुध, गुरु, शुक्र और शनि अपने उच्च बिंदु पर आयु क्रमशः 20, 1, 2, 9, 18, 20 और 50 वर्ष देते हैं। नीच बिंदु पर इसका आधा वर्ष होता है। आयु की हानि पिंडायु की तरह ही होती है। यह विधि सभी कुंडलियों पर लागू नहीं की जाती। नक्षत्रायु: यह भी पिंडायु की तरह है अंतर यह है कि इसमें राहु-केतु भी सम्मिलित किये जाते हैं। सूर्य 6 वर्ष, चंद्र 10 वर्ष, मंगल 7 वर्ष, राहु 18 वर्ष, गुरु 16 वर्ष, शनि 19 वर्ष, बुध 17 वर्ष, केतु 7 वर्ष और शुक्र 20 वर्ष। इनकी विंशोत्तरी महादशा का समय होता है। यह आयु उच्च बिंदू पर होती है। नीच बिंदू पर इसकी आधीइसका भरण कोई नहीं होता, हरण पिंडायु की तरह ही होते हैं। जैमिनी मत से आयु विचार 1. लग्नेश - अष्टमेश 2. जन्म लग्न और चंद्रमा 3. जन्म लग्न और होरा लग्न। इन तीनों से भी आयु का विचार किया जाता है। दीर्घायु मध्यायु अल्पायु लग्नेश चर राशि लग्नेश चर राशि लग्नेश चर राशि अष्टमेष चर राशि लग्नेश चर राशि लग्नेश चर राशि लग्नेश स्थिर राशि लग्नेश स्थिर राशि लग्नेश स्थिर राशि अष्टमेश द्विस्वभाव राशि अष्टमेश चर राशि अष्टमेश स्थिर राशि लग्नेश द्विस्वभाव राशि लग्नेश द्विस्वभाव राशि लग्नेश द्विस्वभाव राशि अष्टमेश स्थिर राशि अष्टमेश द्विस्वभाव राशि अष्टमेश चर राशि लग्नेश और अष्टमेश किस राशि पर बैठा है उस राशि के नंबर के चर, स्थिर, द्विस्वभाव ज्ञात करें। जैसे सूर्य 1 नंबर चंद्रमा 2 नंबर, मंगल 3 नंबर, बुध 4 नंबर, गुरु 5 नंबर, शुक्र 6 नंबर, शनि 7 नंबर, राहु 8 नंबर, केतु 9 नंबर के हैं। जब कुंडली में केन्द्रांक, त्रिकोणांक केन्द्रस्थ ग्रहांक त्रिकोणास्थ ग्रह। इन चारो संख्याओं को जोड़ कर 12 से गुणा करें और 10 से भाग दें जो वर्षादि शेष आये उसमें 12 घटाने पर आयु प्रमाणित होगी। मृत्यु के कारण यदि अष्टम भाव में कोई ग्रह हो और अष्टम भाव पर किसी ग्रह की दृष्टि न हो तो मृत्यु अष्टम भाव के स्वामि के स्वभाव के कारण होगी। अष्टम भाव यदि जिस ग्रह में हो मृत्यु त्रिदोष से संबंधित मृत्यु होगी। स्वामी त्रिदोष (वात पित्त कफ) सूर्य पित्त चंद्रमा वात तथा कफ मंगल पित्त बुध पित्त और कफ गुरु कफ शुक्र वात तथा कफ यदि अष्टम भाव में ग्रह स्थित हो अथवा अष्टम भाव पर उनकी दृष्टि हो तो उनमें सर्वाधिक बली ग्रह के कारण उससे संबंधित बीमारी के कारण मृत्यु होगी। सूर्य: आग का द्योतक है इसलिए ज्वर से मृत्यु। चंद्रमा: जल का कारक है । हैजा, पेचिश, रक्तदोष, डूबना आदि से मृत्यु संभव। मंगल: दुर्घटनाएं, अरत्रघात, हैजा, पलेग आदि। बुध: मस्तिष्क ज्वर, चेचक गुरु: कोई भी बीमारी जो ठीक से पहचानी न जाए शुक्र: अत्यधिक मद्यपान शनि: भूख अथवा अधिक जोजन करने से मृत्यु। यदि अष्टम भाव में दो से अधिक ग्रह हो तो दो बीमारियां भी हो सकती है। यदि अष्टम भाव में चर राशि हो तो मृत्यु घर से दूर। यदि राशि स्थिर हो तो घर में यदि द्विस्वभाव में राशि हो तो मृत्यु घर के समीप, अस्पताल आदि में हो सकती है। मृत्यु को जानने के लिए चंद्रमा यदि मेष में 26, वृष में 12, मिथुन में 13, कर्क में 25, सिंह में 24, कन्या में 14, तुला में 4, वृश्चिक में 23, धनु में 18, मकर में 20, कुंभ में 21, मीन में 10 अंश हो तो मृत्यु योग है। इस प्रकार लग्न में मेष 80, वृषभ 90, मिथुन 220, कर्क 220, सिंह 250, कन्या 140, तुला 40, वृश्चिक 230, धनु 180, मकर 200, कुंभ 270, मीन 100 में हो तो मृत्यु योग होता है। इसके अतिरिक्त शीघ्र मृत्यु के निम्नलिखित योग हैं Û केंद्र अष्टम में कई पाप ग्रह हो। Û लग्न अष्टम या लग्न सप्तम में कई पाप ग्रह हो Û लग्न या चंद्रमा पाप मध्य में हो। Û निर्बल चंद्रमा 6,8,12 में हो। Û क्षीण या पाप चंद्रमा 1, 7, 9, 5 भावों में हो। Û 7, 8 भावों में कई पाप ग्रह हों। इन योगों के रहने पर केंद्र में कोई शुभ ग्रह न हो या लग्न चंद्रमा पर शुभ दृग्योग न हो तो शीघ्र ही मृत्यु हो जाती है। मृत्यु निर्णय करने के लिए मारक का ज्ञान कर लेना चाहिए। लग्नेश, षष्टेश, अष्टमेश, गुरु और शनि इनके संबंध से मारकेश का विचार किया जाता है। 1. अष्टमेश बली होकर 3,4,6,10,12 स्थानों में हो तो मारक होता है। 2. लग्नेश से अष्टमेश बलवान हो तो अष्टमेश की अंतर्दशा मारक होती है। 3. शनि षष्टेश अथवा अष्टमेश होकर लग्नेश को देखता हो तो लग्नेश भी मारक हो जाता है। 4. अष्टमेश सप्तम भाव में बैठकर पाप ग्रह की दशा-अंतर्दशा में मारक होता है। 5. मंगल की दशा में शनि और शनि की दशा में मंगल रोग देता है। 6. अष्टमेश चतुर्थ स्थान में शत्रुक्षेत्री हो तो मारक बन जाता ह। 7. द्वितीया और सप्तम स्थान मारक है। इन दोनों के स्वामी द्वितीया और सप्तम में रहने वाले पाप ग्रह मारकेश बन जाते हैं। 8.. शनि यदि मारकेश के साथ हो तो मारकेश को हटाकर स्वयं मारक बन जाता है। 9. द्वादशेश भी पाप ग्रह होने से मारक बन जाता है। 10. राहु या केतु 1,7,8,12 भावों में हो अथवा मारकेश से 7वें भाव में या मारकेश के साथ हो तो मारक होते हैं। 11. मकर और वृश्चिक लग्न वालों के लिए राहु मारक है। 12. अष्टम भाव आयु का भाव है। शनि गोचर से मृत्यु शनि-गुरु सूर्य चंद्र स्पष्ट को जोड़े - इस जोड़ से जो राश्यांश मिले उन राश्यांशों पर जब शनि गोचर करे तो कष्ट कारक। अल्पायु योग में पहली बार, मध्यायु योग में दूसरी बार तथा दीर्घायु योग में तीसरी बार । उक्त राश्यांशों में शनि का गोचर हो तब मृत्यु होती है। दशान्तर्दशा शुभ हो तो मृत्यु तुल्य कष्ट अर्थात दुर्घटना, अपमान हो सकता है। शन्याष्टक के शोध्यपिंड को शनि के अष्टम राशि की शून्याष्टक रेखाओं से गुणा कर 27 से भाग देने पर शेष संख्यक नक्षत्र में शनि या गुरु गोचर करे तो स्वयं की मृत्यु संभव है। इनके त्रिकोण नक्षत्र भी मृत्यु कारक हो सकते हैं। हस्तरेखा द्वारा मृत्यु का कारण हस्तरेखा के माध्यम से भी मृत्यु को काफी हद तक जाना जा सकता है कि व्यक्ति की मृत्यु किस कारण से होगी। दुर्घटना से, बीमारी से कत्ल से, आत्महत्या से, गोली लगने से या किसी अन्य कारणों से। दुर्घटनावश मृत्यु के लक्षण: जीवन रेखा मोटी हो, मस्तिष्क रेखा दोषपूर्ण हो या गहरी हो काली या खंडित हो साथ ही दोनों हाथों की मस्तिष्क रेखाओं में द्वीप हो या टूटी हो शनि की उंगली के नीचे तिल ाहे। भाग्य रेखा मोटी हो तथा जीवन रेखा को काटती हुई कई रेखाएं हो तो मृत्यु दुर्घटना से होती है। हवाई दुर्घटना के लक्षण: जीवन रेखा के साथ यदि कोई अन्य जीवन रेखा हो और वह दोनों आपस में मिल जाये तथा बड़े द्वीप की आकृति बना ले तो व्यक्ति की हवाई दुर्घटना होती है। बीमारी के कारण मृत्यु: वैसे जो अनेक बीमारी से मृत्यु के कारण होते हैं परंतु यहां स्वास्थ्य बिगड़ने से मृत्यु का कारण होता है। जीवन रेखा यदि अन्य रेखाओं से मोटी हो तथा हथेली पर बड़े-बड़े काले धब्बे हो। मंगल रेखा को मोटी रेखाएं काटती हो। भाग्य रेखा में त्रिकोण बनते हो, मस्तिष्क रेखा मोटी, पतली या जंजीरनुमा हो। अंगूठा आगे की तरफ झूकता हो स्वास्थ्य रेखा टूटी हो तो व्यक्ति की बीमारी से मृत्यु होती है। घटनाओं का हस्तरेखा द्वारा कीरो की सप्तवर्षीय नियम को काफी ठीक पाया गया है। कीरो जीवन रेखा और शनि रेखा सप्तवर्षीय नियम के अनुसार बांटते हैं। मस्तिष्क रेखा और हृदय रेखा पर वह आयु संबंधी निशान नहीं लगाते बल्कि छोटी मस्तिष्क रेखा का अर्थ मस्तिष्क का कम विकास और छोटी रेखा का अर्थ कम भावुकता मानते हैं। वे बुध रेखा और सूर्य रेखा पर शनि रेखा के आयु संबंधी नियम लागू करते हैं। मंगल रेखा , जीवन रेखा की समानांतर रेखा है। उसमें वे जीवन रेखा का आयु संबंधी नियम लागू करते हैं। जीवन रेखा का आरंभ गुरु पर्वत के नीचे है और समापन कलाई के निकट है। अतः बचपन के वर्षों का हाल आरंभ स्थान से देखें। रेखा के मध्य भाग से यौवन का और कलाई के नीचे बुढापा का हाल ज्ञात होता है। जीवन रेखा पर उम्र संबंधी निशान लगाने की सरल विधि है कि शुक्र पर्वत के केंद्र से एक तिरछी रेखा छोटी उंगली कनिष्ठका की जड़ के बाहरी भाग तक लगाये। यह रेखा जिस स्थान पर जीवन रेखा को काटती है वह 35 वर्ष का समय है। दूसरी आड़ी रेखा शुक्र पर्वत के केंद्र से हथेली के दूसरे किनारे पर सीधी लगाई जाती है। यह रेखा जीवन रेखा को जिस भाग पर काटती है वह 49 वर्ष है। तीसरी रेखा शुक्र पर्वत केंद्र के कलाई की ऊपरी रेखा के किनारे तक लगाई जाती है। यह रेखा जिस स्थान पर जीवन रेखा को काटती है वह 63 वर्ष की आयु है। जीवन रेखा के अंतिम भाग पर 98 वर्ष की आयु है। 0 से 98 वर्ष के मध्य के जीवन रेखा के तीनों निश्चत समय का ज्ञात हो जाता है।


ज्योतिष, मेदिनीय ज्योतिष व रमल विशेषांक  अकतूबर 2011

रिसर्च जर्नल आॅफ एस्ट्राॅलाजी नामक ज्योतिष पत्रिका के इस अंक में ज्योतिष, रमल व मेदिनीय ज्योतिष आदि महत्वपूर्ण विषयों पर शोध उन्मुख आलेख शामिल किये गए हैं।

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.