अध्यात्म, धर्म आदि


मन की चंचलता कैसे दूर हो?

मनुष्य ने यह समझ रखा है कि मन को कब्जे में करना बहुत आवश्यक है। मन नहीं लगा तो कुछ नहीं हुआ। राम-राम करने से क्या फायदा? मन तो लगा ही नहीं। मन लग जाय तो ठीक हो जाय, परंतु मन का लगना या न लगना खास बात नहीं है। मन में संसार ... और पढ़ें

देवी और देवअध्यात्म, धर्म आदिपर्व/व्रत

मई 2016

व्यूस: 5208

प्राचीन वेदों में ज्योतिष का वर्णन

वेद शब्द संस्कृत भाषा के विद् धातु से बना है। विद् का आशय विदित अर्थात जाना हुआ, विद्या अर्थात ज्ञान, विद्वान अर्थात ज्ञानी। वेद भारतीय संस्कृति में सनातन धर्म के मूल अर्थात प्राचीनतम और आधारभूत धर्म ग्रन्थ हंै, जिन्हें ईश्वर की... और पढ़ें

ज्योतिषअध्यात्म, धर्म आदिप्राणिक हीलिंग

अकतूबर 2016

व्यूस: 5027

भरत चरित्र

भरत चरित्र

ब्रजकिशोर शर्मा ‘ब्रजवासी’

आत्माराम, आप्तकाम, पूर्णकाम, अवधूत वेष एवं अत्यंत ही सुकुमार अंगों से सुशोभित भगवान् श्रीकृष्ण के परम भक्त श्री शुकदेव जी के श्री चरणारविन्दों में वैराग्य को प्राप्त, अतुलित बलशाली, भगवद्भक्त व योगीराज महाराज परीक्षित् ने ... और पढ़ें

देवी और देवअध्यात्म, धर्म आदिभविष्यवाणी तकनीक

आगस्त 2015

व्यूस: 5021

सिद्धपीठ ‘रजरप्पा’

सिद्धपीठ ‘रजरप्पा’

राकेश कुमार सिन्हा ‘रवि’

प्रकारान्तर से भारतवर्ष में शक्ति पूजा की विशद् परंपरा रही है। यहां देवी विभिन्न रूपों में युगों-युगों से देवताओं, संतों, ऋषि-मुनियों एवं जनसामान्य द्वारा पूजित इस चराचर जगत् में घटित समस्त कार्यों की हेतु प्रतीत होती हैं। संप... और पढ़ें

देवी और देवस्थानअध्यात्म, धर्म आदिमन्दिर एवं तीर्थ स्थल

अकतूबर 2014

व्यूस: 5019

महर्षि कर्दम देवहूति चरित्र व कपिल अवतार

महर्षि कर्दम देवहूति चरित्र व कपिल अवतार

ब्रजकिशोर शर्मा ‘ब्रजवासी’

श्री शुकदेव जी वीतरागी बाबा ने कर्म योगी महाराज परीक्षित को कथा का रसास्वादन कराते हुए कहा- राजन्! सृष्टिकत्र्ता ब्रह्माजी के मस्तिष्क में एक ही धुन है, सृष्टि का अभिवर्द्धन। अपने सभी पुत्रों को उनका एक ही आदेश है, सृष... और पढ़ें

देवी और देवअध्यात्म, धर्म आदिविविध

अकतूबर 2014

व्यूस: 5014

पितृदोष/ऋण का सार्थक विवेचन

जहां ‘कालसर्प योग’ में राहु व केतु की प्रमुख भूमिका होती है वहीं ‘पितृ दोष’ में राहु व शनि की भूमिका बताई जाती है। कुछ आचार्य इसे ‘पितृ ऋण’ की संज्ञा देते हैं। ‘कालसर्प योग’ के समान ही ‘पितृ दोष/ऋण’ से ग्रसित होने के लक्षण इ... और पढ़ें

ज्योतिषउपायअध्यात्म, धर्म आदिभविष्यवाणी तकनीक

सितम्बर 2014

व्यूस: 4988

उद्धव जी की ब्रज यात्रा

उद्धव जी की ब्रज यात्रा

फ्यूचर पाॅइन्ट

उद्धवजी वृष्णिवंशियों में एक प्रधान पुरुष थे। वे साक्षात बृहस्पति जी के शिष्य और परम बुद्धिमान थे। वे भगवान् श्री कृष्ण के प्यारे सखा तथा मंत्री भी थे। एक दिन भगवान् श्रीकृष्ण ने अपने प्रिय भक्त और एकांतप्रेमी उद्धवजी का हाथ अपने ... और पढ़ें

स्थानअध्यात्म, धर्म आदिमन्दिर एवं तीर्थ स्थल

मार्च 2013

व्यूस: 4982

गणेश जी को सर्वप्रिय है दूर्बा और मोदक

गणेश जी को सफेद, या हरी दूर्बा अत्यधिक प्रिय है। दूर्बा की फुनगी में तीन, या पांच पत्तियां होनी चाहिएं। गणपति को, तुलसी छोड़ कर, सभी पुष्प प्रिय हैं।... और पढ़ें

देवी और देवअध्यात्म, धर्म आदिविविध

सितम्बर 2013

व्यूस: 4906

सिद्ध शक्ति पीठ मां भद्रकाली मंदिर

सिद्ध शक्ति पीठ मां भद्रकाली मंदिर

राकेश कुमार सिन्हा ‘रवि’

पर्यटन के दृष्टिकोण से महत्वपूर्ण कई ऐतिहासिक व सांस्कृतिक स्थल झारखंड राज्य में अवस्थित हैं जो अपने समृद्ध सांस्कृतिक एवं धार्मिक अतीत के कारण युगों-युगों से देश-विदेश के पर्यटकों एवं श्रद्धालु-भक्तों के आकर्षण के केंद्र रहे हैं।... और पढ़ें

देवी और देवअध्यात्म, धर्म आदिमन्दिर एवं तीर्थ स्थल

नवेम्बर 2011

व्यूस: 4862

सांचोली मां का व्रत

सांचोली मां का व्रत

ब्रजकिशोर शर्मा ‘ब्रजवासी’

सांचोली मां का व्रत विशेषकर चैत्र या आश्विन मास की नवरात्रियों में करने का विधान है। आषाढ़ व माघ मास के शुक्ल पक्ष में पड़ने वाली नवरात्रि भी इस व्रत के लिए उत्तम है।... और पढ़ें

देवी और देवअध्यात्म, धर्म आदिपर्व/व्रत

मार्च 2010

व्यूस: 4834

Ask a Question?

Some problems are too personal to share via a written consultation! No matter what kind of predicament it is that you face, the Talk to an Astrologer service at Future Point aims to get you out of all your misery at once.

SHARE YOUR PROBLEM, GET SOLUTIONS

  • Health

  • Family

  • Marriage

  • Career

  • Finance

  • Business

लोकप्रिय विषय

करियर बाल-बच्चे चाइनीज ज्योतिष दशा वर्ग कुंडलियाँ दिवाली डऊसिंग सपने शिक्षा वशीकरण शत्रु यश पर्व/व्रत फेंगशुई एवं वास्तु टैरो रत्न सुख गृह वास्तु प्रश्न कुंडली कुंडली व्याख्या कुंडली मिलान घर जैमिनी ज्योतिष कृष्णामूर्ति ज्योतिष लाल किताब भूमि चयन कानूनी समस्याएं प्रेम सम्बन्ध मंत्र विवाह आकाशीय गणित चिकित्सा ज्योतिष Medicine विविध ग्रह पर्वत व रेखाएं मुहूर्त मेदनीय ज्योतिष नक्षत्र नवरात्रि व्यवसायिक सुधार शकुन पंच पक्षी पंचांग मुखाकृति विज्ञान ग्रह प्राणिक हीलिंग भविष्यवाणी तकनीक हस्तरेखा सिद्धान्त व्यवसाय पूजा राहु आराधना रमल शास्त्र रेकी रूद्राक्ष श्राद्ध हस्ताक्षर विश्लेषण सफलता मन्दिर एवं तीर्थ स्थल टोटके गोचर यात्रा वास्तु परामर्श वास्तु दोष निवारण वास्तु पुरुष एवं दिशाएं वास्तु के सुझाव स्वर सुधार/हकलाना संपत्ति यंत्र राशि
और टैग (+)