अध्यात्म, धर्म आदि


मोक्षदायिनी नगरी काशी

मोक्षदायिनी नगरी काशी

फ्यूचर पाॅइन्ट

वाराणसी विश्वविख्यात दर्शनीय पावन भूमि है। बड़ी प्राचीन मान्यता है कि काशी में मरण होने से मुक्ति हो जाती है। अनेक संत-महात्मा इसी कारण वाराणसी में शरीर त्याग करना चाहते हैं प्रस्तुत है मोक्षदायिनी नगरी वाराणसी की आध्यामिक महत्ता क... और पढ़ें

देवी और देवस्थानअध्यात्म, धर्म आदिमन्दिर एवं तीर्थ स्थल

मार्च 2010

व्यूस: 7394

भगवान विष्णु का प्रिय मास वैशाख

वैशाख मास परम पावन मास है। यह भगवान विष्णु का प्रिय मास है, इसलिए इस मास स्नान, तर्पण, मार्जन, पूजन आदि का विशेष महत्व है।... और पढ़ें

देवी और देवअध्यात्म, धर्म आदिपर्व/व्रत

मई 2010

व्यूस: 7351

शक्ति पीठ-श्री नैना देवी मंदिर

जिस स्थान पर सती के नैन गिरे वही स्थान, शक्ति पीठ श्री नैना देवी के नाम से प्रसिद्ध हुआ। आइए जानें इस लेख के द्वारा इस सिद्ध पीठ की महिमा... और पढ़ें

अध्यात्म, धर्म आदिमन्दिर एवं तीर्थ स्थल

जुलाई 2011

व्यूस: 7199

वास्तु के दृष्टिकोण से वैष्णो देवी मंदिर

पवित्र भारत भूमि का कण कण देवी-देवताओं के चरण रज से पवित्र है। इसलिए भारत में हर जगह तीर्थ है। परन्तु कुछ तीर्थ ऐसे भी हैं जो भारत ही नहीं पूरे विष्व की धर्मपरायण जनता को अपनी ओर आकर्षित करते हंै। इन तीर्थों के दर्षन हर वर... और पढ़ें

फेंग शुईदेवी और देवस्थानअध्यात्म, धर्म आदिवास्तुभवनमन्दिर एवं तीर्थ स्थल

अप्रैल 2014

व्यूस: 7154

श्राद्ध कर्म: कब, क्यों और कैसे?

भारतीय शास्त्रों में ऐसी मान्यता है कि पितृगण पितृपक्ष में पृथ्वी पर आते हैं और 15 दिनों तक पृथ्वी पर रहने के बाद अपने लोक लौट जाते हैं। शास्त्रों में बताया गया है कि पितृपक्ष के दौरान पितृ अपने परिजनों के आस-पास रहते ... और पढ़ें

ज्योतिषउपायअध्यात्म, धर्म आदिभविष्यवाणी तकनीक

सितम्बर 2014

व्यूस: 7138

भारत के चार धाम

भारत के चार धाम

फ्यूचर पाॅइन्ट

आदि गुरु ने भारत के चारों दिशाओं में चार धामों की स्थापना की। ये चार धाम निम्न हैं: जगन्नाथपुरी यह धाम पूर्व में स्थित है। ‘जगन्नाथ’ का अर्थ है - ‘‘जगत के स्वामी’’ जो कि श्रीहरि के अवतार श्रीकृष्ण भगवान हैं। यह पूर्व दिशा म... और पढ़ें

देवी और देवअध्यात्म, धर्म आदिपर्व/व्रत

अप्रैल 2016

व्यूस: 7095

राजा प्राचीन बर्हि को नारदजी द्वारा आत्मज्ञान

चक्रवर्ती सम्राट के पद का मोह त्यागकर श्री शुकदेव बाबा जी के चरणों में स्थित महाराज परीक्षित् ने पूछा - भगवन्! पृथु वंश की राज्य परंपरा व भक्त श्रेष्ठ नारदजी द्वारा राजा प्राचीन बर्हिं को दिए आत्म विषयक ज्ञान का कृपा करके श्रवण... और पढ़ें

देवी और देवअध्यात्म, धर्म आदिविविध

मार्च 2015

व्यूस: 7041

बिहार का खजुराहो - नेपाली मंदिर

बिहार का खजुराहो - नेपाली मंदिर

राकेश कुमार सिन्हा ‘रवि’

आदि-अनादि काल से सामाजिक प्रकाश स्तम्भ की भांति मंदिरों का अस्तित्व भारतीय समाज में विद्यमान रहा है। समाज को सही, स्वच्छ व् सटीक मार्गदर्शन देने वाले इन देवालयों में प्राकृतिक देवों के अलावा विभिन्न देवी-देवताओं की प्रतिमाएं स्थाप... और पढ़ें

देवी और देवस्थानअध्यात्म, धर्म आदिमन्दिर एवं तीर्थ स्थल

अप्रैल 2013

व्यूस: 6817

द्वादश ज्योतिर्लिंग के प्रतीक श्री पशुपति नाथ

नेपाल में नागमति के किनारे स्थित कांतिपुर में पशुपतिनाथ विराजमान है। पशुपतिनाथ का मंदिर धर्म, कला, संस्कृति की दृष्टि से अद्वितीय है। इस मंदिर के दर्शन से मनुष्य का अगला जन्म पशु योनि में नहीं होता ऐसा लोगों का विश्वास है। चलिए चल... और पढ़ें

देवी और देवस्थानअध्यात्म, धर्म आदिमन्दिर एवं तीर्थ स्थल

फ़रवरी 2010

व्यूस: 6754

माघामास - महात्म्य एवं व्रत

माघामास - महात्म्य एवं व्रत

ब्रजकिशोर भारद्वाज

भारतीय संवत्सर का ग्यारहवां चान्द्रमास और दसवां सौरमास ‘माघ' कहलाता है। इस मास में प्रयाग, काशी, कुरुक्षेत्र, हरिद्वार तथा अन्य तीर्थ स्थलों और नदियों में स्नान का विशेष महत्व है। पुराणानुसार इस मास का धार्मिक एवं आध्यात्मिक महत्व... और पढ़ें

देवी और देवअध्यात्म, धर्म आदिपर्व/व्रत

जनवरी 2010

व्यूस: 6631

Ask a Question?

Some problems are too personal to share via a written consultation! No matter what kind of predicament it is that you face, the Talk to an Astrologer service at Future Point aims to get you out of all your misery at once.

SHARE YOUR PROBLEM, GET SOLUTIONS

  • Health

  • Family

  • Marriage

  • Career

  • Finance

  • Business

लोकप्रिय विषय

करियर बाल-बच्चे चाइनीज ज्योतिष दशा वर्ग कुंडलियाँ दिवाली डऊसिंग सपने शिक्षा वशीकरण शत्रु यश पर्व/व्रत फेंगशुई एवं वास्तु टैरो रत्न सुख गृह वास्तु प्रश्न कुंडली कुंडली व्याख्या कुंडली मिलान घर जैमिनी ज्योतिष कृष्णामूर्ति ज्योतिष लाल किताब भूमि चयन कानूनी समस्याएं प्रेम सम्बन्ध मंत्र विवाह आकाशीय गणित चिकित्सा ज्योतिष Medicine विविध ग्रह पर्वत व रेखाएं मुहूर्त मेदनीय ज्योतिष नक्षत्र नवरात्रि व्यवसायिक सुधार शकुन पंच पक्षी पंचांग मुखाकृति विज्ञान ग्रह प्राणिक हीलिंग भविष्यवाणी तकनीक हस्तरेखा सिद्धान्त व्यवसाय पूजा राहु आराधना रमल शास्त्र रेकी रूद्राक्ष श्राद्ध हस्ताक्षर विश्लेषण सफलता मन्दिर एवं तीर्थ स्थल टोटके गोचर यात्रा वास्तु परामर्श वास्तु दोष निवारण वास्तु पुरुष एवं दिशाएं वास्तु के सुझाव स्वर सुधार/हकलाना संपत्ति यंत्र राशि
और टैग (+)