वह समय दूर नहीं जब अनेक बीमारियों का इलाज संगीत के द्वारा किया जाएगा। ‘संगीत चिकित्सा’ को एक कारगर नुस्खे के रूप में अमल में लाया जाने लगा है। संगीत का हमारे स्वास्थ्य पर गहरा असर पड़ता है। दुनिया भर में संगीत पर अध्ययन किये जा रहे हैं जिसके सकारात्मक परिणाम सामने आ रहे हैं। शोध के अनुसार यह स्पष्ट हो गया है कि पसंदीदा और अनुकूल संगीत सुनकर अनेक बीमारियों का या तो समुचित निदान किया जा सकता है अथवा उनसे जीवन पर पड़ने वाले प्रतिकूल प्रभावों को काफी हद तक रोका जा सकता है। इस चिकित्सा पद्धति क े जरिय े रक्तचाप में कमी आती है, दिल की धड़कन नियमित होती है, अवसाद को दूर भगाया जा सकता है और चिंता को काफी हद तक कम किया जा सकता ह ै। इसक े माध्यम स े ध्यान केंद्रित करने की क्षमता का विकास होता है और सृजन शीलता में अपेक्षित वृद्धि होती है। संगीत हम सभी के जीवन का अभिन्न हिस्सा है। चाहे सुनने वाला हो या सुनाने वाला, संगीत सभी के दिल के तारों को झंकृत करता है। संत कबीर के शब्दों में ‘नाद एक ऐसा संगीत है, जो बिना डोरी के शरीर में बजता है।’ आधुनिक विज्ञान इस बात को स्वीकार करने लगा है कि संगीत हमारी नब्ज, रक्त संचार, हमारे हृदय की धड़कन, श्वांस-प्रक्रिया तथा शारीरिक गतिविधिया े ं म े ं ऊर्जा वान तरंगें पैदा करता है। हाल के वर्षों में भारत में इस चिकित्सा पद्धति के प्रति लोगों में उत्सुकता बढ़ी है। जिन लोगों को किसी भी तरह के आॅपरेशन के दौर से गुजरना पड़ा है, वे दर्द निवारक दवाइयों की आवश्यकता को संगीत चिकित्सा के माध्यम से कम कर सकते हैं। संगीत चिकित्सा द्वारा उल्टी की शिकायत कम होती है, दर्द से निजात मिलती है, पार्किंसन बीमारी में शरीर के अंगों में स्थिरता आती है। संगीत चिकित्सा का प्रयोग सिर-दर्द आ ैर सर्दी -ज ुकाम ज ैसी रा ेजमर्रा की परेशानियों को दूर करने में भी सफलतापूर्वक किया जा सकता है। अमेरिका और यूरोप के अनेक देशों में इस चिकित्सा पद्धति का प्रयोग आॅटिज्म, पार्किंसन, अल्जाइमर और हांटिगडन आदि बीमारियों के निदान के लिए किया जा रहा है। भारतीय उपमहाद्वीप म े ं स ंगीत चिकित्सा द्वारा मानवीय मन एवं तन की जटिलताआ े ं का े स ुलझान े का इतिहास काफी प ुराना ह ै, ल ेकिन वत्र्तमान में इस पद्धति को पश्चिम के देशों में अधिक अपनाया गया है। भारत द ेश म े ं स ंगीत की विभिन्न विधाओ ं द्वारा शरीर, मस्तिष्क और आत्मा तक की चिकित्सा के उल्लेख मिलते हैं। संगीत में मानवीय मन के प्रायः समस्त पहलुओं को स्पंदित करने की अपार क्षमता है। संगीत हमारे मन के सभी पक्षों को प्रभावित करता है। दर्द, विषाद, तनाव, क्रोध, शोक, प्रेम तथा काम आदि भावों पर संगीत का गहरा प्रभाव पड़ता है। यह तथ्य भी उभरकर सामने आया है कि संगीत के प्रभाव से पिट्यूटरी ग्रंथि को उत्प्रेरित किया जा सकता है। मान्यता है कि संगीत चिकित्सा द्वारा शरीर की कोशिकाओं में होने वाले कंपन से बीमार व्यक्ति की चेतनावस्था में सुधारकारी परिणाम सामने आते हैं। निमोनियाग्रस्त रोगियों के लिए तेज संगीत सुनना लाभदायक होता है। ‘ऐनेस्थिसियोलाॅजिका स्कैंडिनाविका’ नामक पत्रिका में प्रकाशित अध्ययन की एक रिपोर्ट के अनुसार कुछ स्त्रियों का आॅपरेशन किया गया। उन्हें बेहोशी के दौरान राहत प्रदान करने वाला संगीत और समुद्री लहरों की आवाजें सुनाई गईं। ऐसे मरीजों पर परिणाम काफी उत्साहवर्धक रहे। ‘वेस्टर्न रिजर्व यूनिवर्सिटी’, क्वींसलैंड में प्रोफेसर वीटर की देख-रेख में पांच सौ रोगियों पर अध्ययन किया गया। 18 से 70 वर्ष की आयु वाले मरीज को आॅपरेशन के बाद की जाने वाली चिकित्सकीय देख-रेख के अतिरिक्त संगीत चिकित्सा भी दी गई। ये रोगी उन रोगियों के मुकाबले जल्दी स्वस्थ हुए। यही नहीं उन्होंने चलने-फिरने, ल ेटन े-ब ैठन े, सा ेन े-जागन े आदि में अधिक सहजता और स्फूर्ति का अनुभव किया। संगीत चिकित्सा में उपचार का कोई निश्चित और निर्धारित नियम नहीं है। इस कार्य में संलग्न लोगों की मान्यता है कि दिन में किसी भी समय एक निश्चित स्थान पर इस चिकित्सा का प्रयोग किया जा सकता है। विशेषज्ञों का मानना है कि इस चिकित्सा में रा ेगी का े खाली प ेट नही ं रहना चाहिए। संगीत सत्रों के दौरान रोगी को वाद्य यंत्रों तथा संगीत की कुछ भावपूर्ण धुनों के साथ एकाकार होना पड़ता है। उसे अपने मनपंसद किसी भी संगीत यंत्र के साथ प्रयोग करने की सुविधा उपलब्ध कराई जाती है। संगीत के निश्चित राग एवं छंद रोगी क े बीच एक भावनात्मक स ेत ु का निर्माण करते हैं। रोगी को अपने स्वर को अपनी सुविधा, क्षमता और इच्छा के अनुसार प्रयोग करने की पूरी छूट होती है। रोगियों के मध्य एक ऐसा संगीतमय और भावुक माहौल निर्मित किया जाता है, जिसमें मरीज किसी भी तरह के प्रयोग के लिए स्वयं को स्वतंत्र पाता है। मरीज द्वारा व्यक्त की जाने वाली प्रतिक्रियाएं और हाव-भाव उसके लिए आगे की पद्धति निश्चित करते हैं। मरीज को सामाजिकता के अनुभवों, उसक े आत्मविश्वास म े ं व ृद्धि आ ैर परस्पर बातचीत की स्वतंत्रता प्रदान करते हुए उसे एक स्नेहपूर्ण वातावरण प्रदान किया जाता है। बहुत से रोगी अपन े मनपस ंद गीत आ ैर ध ुन क े जरिये खुद ही स्वस्थ होने का मार्ग तलाश लेते हैं। फ्रांस के मशहूर संगीत चिकित्सक अल्फ्रेड टोमाटिस पचास वर्षों तक एक लाख मरीजों पर अनुसंधान के बाद इस नतीजे पर पहुंचे हैं कि स्वर विकारों से ग्रस्त कोई व्यक्ति यदि छः महीने तक प्रतिदिन एक घंटे तक ‘मोजार्ट’ का संगीत सुनें, तो उसका स्वर दोष तो दूर होगा ही, उसकी अभिव्यक्ति में भी निखार आएगा। स ंगीत चिकित्सा का प ्रया ेग प ्रसव क े प ूर्व जन्म ल ेन े वाल े बच्चा े ं क े लिए भी किया जाता है। अमेरिकी चिकित्सक प ्रा े. स ुसान व ेबर क े अन ुसार स ंगीत म े ं तन तथा मन दोनों को प्रभावित करने की अपार क्षमता है। मुंबई पुलिस ने भी तनाव घटाने के लिए संगीत का इस्तेमाल श ु रू किया ह ै। र्नइ दिल्ली स्थित इंद्रप्रस्थ अपोलो अस्पताल में ‘बाॅडी माइंड क्लीनिक’ में भी आज-कल संगीत चिकित्सा सभी डाॅक्टरों और रोगियों के आकर्षण का केंद्र बनी हुई है।


रेकी एवं प्राणिक हीलिंग  मई 2016

मई माह के फ्यूचर समाचार वैकल्पिक एवं अध्यात्मिक चिकित्सा पद्धति का समर्पित एक विशेषांक है। ये चिकित्सा पद्धतियां शरीर के पीड़ित अंग को ठीक करने में आश्चर्यजनक रूप से काम करती हैं। इन चिकित्सा पद्धतियों का शरीर पर कोई नकारात्मक प्रभाव भी नहीं पड़ता अथवा इनका कोई साईड इफैक्ट नहीं होता। इस विशेषांक के महत्वपूर्ण आलेखों में सम्मिलित हैंः प्राणिक हीलिंगः अर्थ, चिकित्सा एवं इतिहास, रेकी उपचार:अनोखी अनुभूति है, रेकी: एक अद्भुत दिव्य चिकित्सा, चुंबकीय जल एवं लाभ, मंत्रोच्चार द्वारा - गोली, इंजेक्शन और दवा के बिना इलाज, संगीत से उपचार, एक्यूपंक्चर व एक्यूप्रेशर पद्धति आदि। इनके अतिरिक्त स्थायी स्तम्भों में बहुत से लाभदायक व रोचक आलेख भी पूर्व की भांति सम्मिलित किए गये हैं।

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.