सीढ़ियां प्रगति की प्रतीक हैं। घर में सीढ़ियों के लिए सर्वोŸाम दिशा दक्षिण, पश्चिम या दक्षिण-पश्चिम होती हैं। - सीढ़ियों का पत्थर फिसलने वाला न हो। - सीढ़ियां भूलकर भी उŸार-पूर्व में न बनाएं। इस दिशा में बनी सीढ़ियां धननाश, व्यापार में हानि तथा कर्जों का कारण बन सकती हैं। इससे संतान पर दुष्प्रभाव पड़ सकता है। - सीढ़ियां हमेशा विषम संख्या (3, 5, 7, 11, 13) में हों तथा उŸार से दक्षिण या पूर्व से पश्चिम की ओर जाने वाली हों। - सुविधाजनक, संुदर व मजबूत सीढ़ियां अच्छे वास्तु की परिचायक होती हैं। - सीढ़ियों के टूटे किनारे वास्तुदोष उत्पन्न करते हैं, अतः इनकी मरम्मत समय रहते करवा लेनी चाहिए। - अधिक घुमावदार सीढ़ियां अच्छी नहीं होतीं। - सीढ़ियों के नीचे रसोईघर, पूजाघर या बाथरूम न बनवाएं। हां स्टोर रूम बनाया जा सकता है। - घर के केंद्र (ब्रह्मस्थान) में सीढ़ियां सीढ़ियां कैसी हों? होने से घर के सदस्यों को मानसिक तनाव का सामना करना पड़ सकता है। - सीढ़ियां घर के अंदर या बाहर कहीं भी बनाई जा सकती हैं। - सीढ़ियों की ऊंचाई व चैड़ाई इस आकार में हो कि बच्चे, बूढ़े आसानी से बिना थके चढ़ सकें। ऊंचाई सात इंच तथा चैड़ाई दस इंच से एक फुट तक हो सकती है। - सार्वजनिक स्थानों जैसे अस्पताल, स्कूल या किसी अन्य काॅम्प्लेक्स में चैड़ाई एक से सवा फुट तक रखी जा सकती है।


पराविद्याओं को समर्पित सर्वश्रेष्ठ मासिक ज्योतिष पत्रिका  दिसम्बर 2006

श्री लक्ष्मी नारायण व्रत | नूतन गृह प्रवेश मुहूर्त विचार |दिल्ली में सीलिंग : वास्तु एवं ज्योतिषीय विश्लेषण |भवन निर्माण पूर्व आवश्यक है भूमि परिक्षण

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.