देश विदेश की सफल हस्तियों के राज दर्शाती हस्तरेखाएँ.

देश विदेश की सफल हस्तियों के राज दर्शाती हस्तरेखाएँ.  

देश विदेश की सफल हस्तियों के राज दर्शाती हस्तरेखाएं भारती आनंद हाथ की रेखाएं किसी व्यक्ति के जीवन को दिशा देती हैं। यदि शुभ हों, तो उसे पाताल की गहराइयों से उठाकर आसमान की ऊंचाइयों पर पहुंचा देती हैं, और अशुभ हों, तो खाक में मिला देती हैं। जीवन के विभिन्न क्षेत्रों में जो लोग आसमान की बुलंदियों पर पहुंचे हैं, उनके पीछे उनके हाथ की रेखाओं की भूमिका अहम रही है। यहां तीन प्रमुख क्षेत्रों, रजनीति, सिने जगत और उद्योग जगत, में शीर्ष पर पहुंचे सफल लोगों की हस्त रेखाओं का विश्लेषण प्रस्तुत है। अटल बिहारी वाजपेयी: जैसा कि आप चित्र में देख रहें हैं, इनका हाथ समकोणिक है व आधार बराबर है। हृदय रेखा का अंत सूर्य की उंगली के नीचे हो रहा है। हृदय रेखा की स्थिति के फलस्वरूप लोग कार्यकुशल होते हैं। उंगलियां बिल्कुल सीधी हैं व सूर्य रेखाएं एक से अधिक हैं जिसकी वजह से इन्होंने हमारे देश पर प्रधानमंत्री के रूप में राज किया। शनि, सूर्य, बुध, मंगल, राहु, केतु, चंद्र, शुक्र, गुरु आदि के बहुत अच्छी स्थिति में होने की वजह से इन्हें देश विदेश में बहुत ख्याति मिली। किंतु मंगल पर राहु की छाया पड़ने से इन्हें स्वास्थ्य संबंधी शिकायतों का सामना करना पड़ा। आडवाणी आडवाणी जी का हाथ भी समकोणिक है हुए है। हृदय रेखा स्पष्ट रूप से गुरु पर्वत के नीचे जा रही है जिसकी वजह से वह राजनीति की एक सशक्त शख्सियत के रूप में उभरे। सोनिया गांधी इनका हाथ मिश्रित है व मस्तिष्क रेखा मंगल ग्रह तक जा रही है। हृदय रेखा उंगलियांे से काफी नीचे है व मस्तिष्क रेखा द्विभाजित है इनके भी आधार बराबर हैं। गुरु की उंगली सूर्य की उंगली से काफी बड़ी है। उंगलियां सीधी हैं। गुरु, बुध, सूर्य एवं चद्र की स्थिति बहुत अच्छी है जिसके फलस्वरूप एक विदेश में जन्म लेने वाली महिला ने भारत में अपनी छाप छोड़ी व अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया। उंगलियों का आधार बराबर होने के फलस्वरूप उनमें नेतृत्व क्षमता अपार है। मस्तिष्क रेखा के साफ सुथरी होने के कारण उनकी बुद्धि कुशाग्रह है। ऐसी स्त्रियां किसी भी बड़ी समस्या का सटीक समाधान निकाल लेती हैं। इनकी जीवन रेखा दर्शाती है कि नियमों के प्रति इनका रवैया सख्त है अनुशासनहीन लोगों के लिए इनके मन में कोई विशेष जगह नहीं होती है।सूर्य उच्चकरेटि का होने की वजह से हमेशा ही कर्मशील होती हैं। मायावती जैसा कि आप चित्र में देख रहे हैं, इनका हाथ मांसल है। जीवन रेखा, मस्तिष्क रेखा व भाग्य रेखा में त्रिकोण है। जीवन रेखा पूर्ण रूप से गोलाई नहीं लिए हुए है, किंतु उंगलियों का आधार बराबर है। गुरु, बुध, सूर्य और मंगल हाथ में पूरी तरह संतुलित हैं। भाग्य रेखा जीवन रेखा से निकलकर शनि ग्रह की तरफ जा रही है। शनि उन्हें डबल शक्ति दे रहा है, जिसकी वजह से हस्त रेखाओं में बने दोष इनकी सफलता में बाधक बनने से रुक गए हैं। एक कठिन जीवन जीने वाली महिला की तरक्की वाकई आश्चर्यजनक है क्योंकि भाग्य रेखा जीवन रेखा से निकली है। ऐसी महिलाएं बहुत ही कर्मठ होती हैं और मरते दम तक राज करती हैं व हमेशा किसी न किसी चर्चा का विषय बनी रहती हैं। मनमोहन सिंह सरल, सौम्य और अंतर्मुखी व्यक्तित्व के स्वामी आर्थिक सुधारों के प्रणेता हैं जो रिजर्व बैंक के गर्वनर जैसे उच्च पद पर आसीन रहने के बाद विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र के प्रधान मंत्री के रूप में 5 साल का कार्य काल पूरा करने के बाद और अधिक शक्तिशाली होकर उभरे और पुनः प्रधान मंत्री बनने वाले शख्स का नाम है मनमोहन सिंह। जैसा कि आप चित्र में देख रहे हैं, इनकी उंगलियों के चारों आधार बराबर हैं, हाथ मांसल व चैकोर है, जीवन रेखा दोहरी है, मस्तिष्क रेखा शनि पर्वत के मध्य खत्म हो रही है व मस्तिष्क रेखा मोटी से पतली हो गई है। मंगल का क्षेत्र साफ सुथरा है। उंगलियां के सभी पर्व बराबर हैं अर्थात कोई भी पर्व छोटा बड़ा नहीं है। हाथ गुलाबी व रूई की तरह कोमल हैं। इन सभी लक्षणों की वजह से यह 10 वर्ष का अपना कार्यकाल पूर्ण करेंगे। देश-विदेश में इनका सम्मान बना रहेगा और इनका शत्रु पक्ष हमेशा निर्बल रहेगा। ऐसे लोगों के हाथों से हमेशा भलाई के ही कार्य होते हैं यह गलत कामों से कोसों दूर रहते हैं और सामाजिक कार्य करते रहने में विश्वास रखते हैं। बराक ओबामा अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा सर्वशक्तिमान और विश्व भर की आर्थिक और सैन्य शक्तियों पर नियंत्रण रखने वाले गोरों के देश में नस्लवाद व रंग भेद को धूल चटाते हुए पहले अश्वेत राष्ट्रपति बनने वाली शख्सियत का नाम है। इस सर्वोच्च पद पर पहुंचने में इनके हाथ की भूमिका अहम है। जैसा कि आप चित्र में देख रहे हैं, इनकी हथेली चैड़ी और आधार बराबर हैं। भाग्य रेखाएं जीवन रेखा से निकल कर सीधे शनि पर्वत पर जा रही हैं। जीवन रेखा के साथ-साथ सशक्त मंगल रेखा है और हाथ सामान्य से ज्यादा भारी है। अति बलशाली चंद्र, बुध, शनि, गुरु, शुक्र व राहु और केतु इन्हें शत्रुओं से लड़ने की ताकत दे रहे हैं। सूर्य रेखा की संख्या एक से अधिक है। हृदय रेखा बहुत ही सशक्त है जिसने इन्हें कर्मठ बनाया। ताकतवार ग्रह व स्पष्ट सुंदर रेखाओं ने ही इन्हें ताकतवर के साथ-साथ विश्व प्रसिद्ध हस्ती बनाया है। आने वाले समय में ये रेखाएं अपना और अधिक शुभ प्रभाव दिखाएंगी। ऐश्वर्या राय बालीवुड की सबसे सुंदर और सफल अभिनेत्री होने के साथ-साथ अभिनय की दुनिया के शहंशाह अमिताभ बच्चन के घर की बहू बनने का सौभाग्य प्राप्त करने वाली शख्सियत का नाम ऐश्वर्या राय है। आज उनकी हस्त रेखाएं उन्हें अभिषेक बच्चन जिस कलाकार को दिल्ली आकाशवाणी केंद्र से फेल कर दिया गया और रेशमा और शेरा जैसी फिल्म में गूंगे का रोल दिया गया। क्योंकि उसकी आवाज के कारण वह शक्स बना हिन्दी फिल्मों का बादशाह यह उन्हीं की संतान है अभिषेक बच्चन को शुरुआती दौर में इन्हें इतना अच्छा रिस्पांस नहीं मिला किंतु हस्त रेखाओं में आये दोष निकल जाने के बाद इन्हें ख्याति मिलती चली गई। आज अभिषेक बच्चन एक ‘सैलिब्रिटी’ हैं। तो आइए जानिए उनकी हाथ की रेखाएं क्या कहती हैं। जैसा कि आप चित्र में देख रहे हैं, इनका आधार बराबर है। जीवन रेखा गोल है, हृदय रेखा सीधे शनि पर्वत को छू रही है और भाग्य रेखा शनि से निकल कर शनि तक जा रही है, जिसकी वजह से इनकी गिनती सफल कलाकारों में होती है। रितिक रोशन अपनी पहली ही फिल्म ‘कहो ना प्यार है’ से कामयाबी का झंडा गाड़ने वाले रितिक रोशन जल्द ही सबके चहेते बन गए और फिल्म जगत की एक मशहूर हस्ती बनने में इन्हें देर नहीं लगी। इनके सीधे हाथ में दो अंगूठे हैं। मस्तिष्क रेखा सीधी स्पष्ट रूप से बुध पर्वत के नीचे समाप्त हो रही है जो अपने आप में एक अद्भुत लक्षण है। जीवन रेखा के साथ मंगल रेखा भी है। हाथ चैड़ा और उंगलियां लंबी हैं। गुरु, शुक्र, और सूर्य ग्रहों के साथ-साथ सूर्य रेखा बहुत स्पष्ट है। बुध ग्रह भी स्पष्ट स्थिति दर्शा रहा है जिसकी वजह से ऐसे लोग महान हस्ती बनते हैं। रतन टाटा भारतीय उद्योग जगत के लौह पुरुष का नाम है रतन टाटा। मूल रूप से पूर्णतया स्वदेशी उद्योगों को निर्भरता देने का श्रेय इन्हीं को जाता है। आधुनिक युग में एक से एक महंगी और आधुनिक आलीशान कारों के जमाने में आम आदमी के लिए ‘लख टकिया’ कार नेनो की प्रस्तुति के कारण रत्न टाटा इन दिनों विशेष रूप से चर्चा में हैं। इनके हाथ में जीवन रेखा पूर्ण रूप से गोलाई लिए हुए है और इसके साथ पूर्ण से से मंगल रेखा भी है जिसने इन्हें बहुत कार्य कुशल बनाया है। मस्तिष्क रेखा चंद्र क्षेत्र की तरफ झुक रही है व हृदय रेखा जीवन रेखा के अंदर जा रही है जो कि एक विशेष लक्षण है ऐसे व्यक्ति जो सोचते हैं वह अवश्य करते हैं। सूर्य रेखा आधार बराबर, सूर्य ग्रह का उन्नत होना हृदय रेखा का उंगलियां से काफी दूरी पर होना, सभी पोरों का बराबर होना, हाथ भारी व, गुलानी, व गुरु ग्रह का भी अत्यंत सशक्त होने भी मनुष्य को एक महान कार्य करने के लिए जन्म लेना होता है। व एक महान हस्ती बन कर उभरते हैं। अनिल अंबानी भारतीय अर्थव्यवस्था का दर्पण कहे जाने वाले धीरु भाई अंबानी के घर में जन्मे छोटे पुत्र का नाम है अनिल अंबानी विश्वभर के सुख, संपदा व ऐशोआराम को जन्म के समय ही प्राप्त करने का सौभाग्य इन्हें प्राप्त हुआ। इनकी उंगलियां पतली व शुक्र काफी उन्नत हैं जिसके फलस्वरूप इन्होंने सिने जगत की अभिनेत्री टीना मुनीम से शादी की व अपनी कंपनी ‘एड लैब’ खोली। भाग्य रेखाओं की संख्या एक से अधिक होने के कारण इन्हें बचपन से ही सभी प्रकार के सुख मिले। सभी उंगलियों का आधार बराबर है। गुरु की उंगली सूर्य की उंगली से काफी लंबी है जिसकी वजह से आज इन्हें विश्व भर में ख्याति मिल रही है। जीवन रेखा थोड़ी सी फैली है और गोलाई लिए हुए है जिसके फलस्वरूप उम्र बढ़ने के साथ-साथ इन्हें धन, यश व सम्मान की प्राप्ति भी होती रही। बिल गेट्स विश्व के सबसे अमीर व्यक्ति का दर्जा प्राप्त करने वाले बिल गेट्स ने अपनी प्रतिभा और ज्ञात के बलबूते पर कंप्यूटर तकनीक को प्रसारित कर अपार धन संपदा प्राप्त की। आज वह कंप्यूटर जगत में अपना एक अलग स्थान रखते हैं। इनके हाथ में मस्तिष्क रेखा गुरु की उंगली के नीचे से निकलकर सीधे बुध की उंगली के नीचे समाप्त हो रही है। सूर्य रेखा जीवन रेखा को छू रही है और हृदय रेखा गुरु की उंगली के नीचे समाप्त हो रही है। उंगलियां लंबी व पतली, हाथ मांसल व आधार बराबर है। भाग्य रेखा के साथ जुड़ी अन्य बराबर रेखाएं, सूर्य रेखा के साथ चलती कई अन्य सूर्य रेखाएं और सभी सशक्त ग्रह ये सब उनकी उन्नति में सहायक रहे जिन्होंने उन्हें अपार धन संपदा तथा ख्याति दी। तात्पर्य यह कि रेखाएं, ग्रह, नक्षत्र, यव आदि यदि शुभ हों तो व्यक्ति ‘सेलिब्रिटी’ बन जाता है। भाग्य उसका साथ देता है, सफलता उसके कदम चूमती है, लक्ष्मी उसके घर वास करती है और उसे सभी सुखों की प्राप्ति होती है।



हस्तरेखा विशेषांक  जुलाई 2009

हस्तरेखा विशेषांक में हस्तरेखा का इतिहास, विकास एवं उपयोगिता, विवाह, संतान सुख, व्यवसाय सुख, व्यवसाय, शिक्षा, स्वास्थ्य व आर्थिक स्थिति हेतु हस्तरेखा का विश्लेषण, हस्तरेखा एवं ज्योतिष में संबंध, क्या हस्तरेखाएँ बदलती है, भविष्य में बदलने वाली घटनाओं को हस्तरेखाओं से कैसे जाना जाए इन सभी विषयों को आप इस विशेषांक में पढ़ सकते है.

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.