भविष्यवाणी तकनीक


रजनीकांत

रजनीकांत

शरद त्रिपाठी

एक साधारण परिवार में बिन मां के बच्चे को जीवन में जितने संघर्ष करने पड़ते हैं शिवाजी राव गायकवाड यानी रजनीकांत ने उन सबका सामना किया। बचपन से ही रजनीकांत को अभिनय का शौक था। कठिन से कठिन दौर में भी अपने जज्बे को बरकरार रखत... और पढ़ें

ज्योतिषप्रसिद्ध लोगज्योतिषीय विश्लेषणकुंडली व्याख्याभविष्यवाणी तकनीक

जनवरी 2017

व्यूस: 4031

आप और आपका ‘लव स्टाईल’

स्त्री जीवन में प्रेम की बहुत महत्ता होती है। पुरुष और स्त्री के सोचने का ढंग बिल्कुल अलग होता है और यह बात उनके प्यार करने और उसे जाहिर करने के तरीके पर भी लागू होती है। स्त्री पुरुषों से कहीं ज्यादा भावुक होती है और हर लग्न/राशि... और पढ़ें

ज्योतिषज्योतिषीय विश्लेषणकुंडली व्याख्याभविष्यवाणी तकनीकराशि

अकतूबर 2014

व्यूस: 3739

रोगों से बचाए सूर्य

पृथ्वी के प्र्राणियों के लिए सूर्य का बहुत ज्यादा महत्व है। समस्त धरा पर निवास कर रहे प्राणि जगत हेतु सूर्य जीवन प्रदाता है। सूर्य वह पिंड या ग्रह है जिससे हमें ऊर्जा प्राप्त होती है। सूर्य से प्राप्त ऊर्जा ही है जो इस संसार ... और पढ़ें

ज्योतिषस्वास्थ्यज्योतिषीय योगचिकित्सा ज्योतिषग्रहभविष्यवाणी तकनीक

जनवरी 2006

व्यूस: 3855

वास्तु दोष एवं उपाय

वास्तु दोष एवं उपाय

डॉ. अरुण बंसल

किसी भी घर, व्यवसाय, उद्योग या बिल्डिंग में कोशिश करने पर भी कुछ न कुछ वास्तु दोष रह जाता है जिसके कारण कष्ट उठाने पड़ते हैं। यदि पुराना बना हुआ घर हो या फ्लैट हो तो हमें उसे उसी रूप में स्वीकार करना पड़ता है। तोड़कर वास्तु दोष को ठी... और पढ़ें

ज्योतिषवास्तुभविष्यवाणी तकनीकवास्तु परामर्शवास्तु दोष निवारणवास्तु पुरुष एवं दिशाएंवास्तु के सुझाव

दिसम्बर 2016

व्यूस: 3853

भाग्य का आकलन

भाग्य का आकलन

सीताराम सिंह

महाभारत ग्रंथ में, अपने सर्वगुण संपन्न पुत्रों की दुर्दशा देखकर, कुंती श्री कृष्ण से कहती हैं:- ‘‘ न विद्या न बलं न च पौरूषं भाग्यं फलति सर्वदा’’ अर्थात् ‘‘विद्या, बल और पौरूष की अपेक्षा भाग्य ही हर समय फलीभूत होता है।’’... और पढ़ें

ज्योतिषप्रसिद्ध लोगज्योतिषीय विश्लेषणकुंडली व्याख्याभविष्यवाणी तकनीक

अकतूबर 2015

व्यूस: 4226

नववर्ष 2017

नववर्ष 2017

डॉ. अरुण बंसल

26 जनवरी 2017 को शनि धनु राशि में गोचर करेंगे, 6 अप्रैल को वक्री होकर 21 जून को वृश्चिक राशि में जाएंगे तथा 25 अगस्त को मार्गी होकर 26 अक्तूबर को पुनः धनु राशि में लौटेंगे। गुरु 12 सितंबर तक कन्या राशि में रहेंगे तत्पश्चात तुला रा... और पढ़ें

ज्योतिषप्रसिद्ध लोगज्योतिषीय विश्लेषणभविष्यवाणी तकनीकगोचर

जनवरी 2017

व्यूस: 3743

ज्योतिष शास्त्र की सार्थकता ज्योतिष विज्ञान

विज्ञान ‘कार्य-कारण के सिद्धांत’ पर आधारित है। परंतु असंख्य घटनाएं ऐसी हैं, जिनका कारण समझने में चोटी के वैज्ञानिक अपने आपको सर्वथा असमर्थ पा रहे हैं। सिद्धांतों के व्यभिचार मात्र से ज्योतिष शास्त्र की वैज्ञानिकता का प्रतिवाद नहीं... और पढ़ें

ज्योतिषज्योतिषीय योगकुंडली व्याख्याघरविवाहग्रहभविष्यवाणी तकनीक

जनवरी 2012

व्यूस: 3834

वैवाहिक जीवन: शुभ तथा अशुभ योग

ज्योतिष शास्त्र अनुसार वैवाहिक जीवन में गुरु तथा शुक्र ग्रह की प्रमुख भूमिका है क्योंकि यही दोनों ग्रह स्त्री तथा पुरुष जातकों के शादी के कारक ग्रह हैं तथा द्वितीय, सप्तम तथा द्वादश भाव का वैवाहिक जीवन में विशेष योगदान है। जहां ... और पढ़ें

ज्योतिषज्योतिषीय विश्लेषणज्योतिषीय योगविवाहग्रहभविष्यवाणी तकनीक

अप्रैल 2016

व्यूस: 5167

इन्फर्टिलिटी

इन्फर्टिलिटी

नीरज शर्मा

‘‘फर्टिलिटी अर्थात प्रजनन क्षमता से जुड़ी समस्यायें स्त्री और पुरूष दोनों में ही पायी जाती हैं। हमारी कुंडली जीवन के प्रत्येक पक्ष को स्पष्ट रूप से दर्शाती है। पुरूष की कुंडली में शुक्र और सूर्य तथा स्त्री की कुंडली में... और पढ़ें

ज्योतिषज्योतिषीय योगबाल-बच्चेभविष्यवाणी तकनीक

सितम्बर 2014

व्यूस: 3947

कालसर्पयोग एक अध्ययन

लग्न से गणना करने पर यदि केतु पहले आए तो इसे काल अमृत या शुभ योग जानना चाहिए। लग्न या लनेश से शुभ ग्रह का संबंध भी कालसर्प योग को भंग करता है।... और पढ़ें

ज्योतिषज्योतिषीय विश्लेषणज्योतिषीय योगकुंडली व्याख्याभविष्यवाणी तकनीक

मई 2011

व्यूस: 3405

ग्रहों के बल का मापक षड्बल

भविष्यकथन में ग्रह बल की गणना अति आवश्यक है। यदि ग्रह योगकारक है तो वह पूर्ण फल तभी दे सकता है जब वह बली हो। मारक ग्रह निष्फल हो सकता है यदि वह निर्बल हो। इस बलाबल को जानने के लिए ज्योतिष की सर्वोत्कृष्ट पद्धति है-षड्बल ...... और पढ़ें

ज्योतिषज्योतिषीय विश्लेषणभविष्यवाणी तकनीक

मई 2006

व्यूस: 4409

भाग्य का खेल

भाग्य का खेल

आभा बंसल

समीर ने अपने वैवाहिक जीवन के जो सपने देखे थे वे पूरे नहीं हो सके। उसके जीवन में जो कुछ भी घटा वह ग्रहों की ही करामात थी। इसे अपनी नियति न मानकर उसने इसके विपरीत जाना चाहा और परिणाम उसके दुःखद अंत के रूप में सामने आया। ऐस... और पढ़ें

ज्योतिषदशाकुंडली व्याख्याभविष्यवाणी तकनीकगोचर

जनवरी 2006

व्यूस: 3950

Ask a Question?

Some problems are too personal to share via a written consultation! No matter what kind of predicament it is that you face, the Talk to an Astrologer service at Future Point aims to get you out of all your misery at once.

SHARE YOUR PROBLEM, GET SOLUTIONS

  • Health

  • Family

  • Marriage

  • Career

  • Finance

  • Business

लोकप्रिय विषय

करियर बाल-बच्चे चाइनीज ज्योतिष दशा वर्ग कुंडलियाँ दिवाली डऊसिंग सपने शिक्षा वशीकरण शत्रु यश पर्व/व्रत फेंगशुई एवं वास्तु टैरो रत्न सुख गृह वास्तु प्रश्न कुंडली कुंडली व्याख्या कुंडली मिलान घर जैमिनी ज्योतिष कृष्णामूर्ति ज्योतिष लाल किताब भूमि चयन कानूनी समस्याएं प्रेम सम्बन्ध मंत्र विवाह आकाशीय गणित चिकित्सा ज्योतिष Medicine विविध ग्रह पर्वत व रेखाएं मुहूर्त मेदनीय ज्योतिष नक्षत्र नवरात्रि व्यवसायिक सुधार शकुन पंच पक्षी पंचांग मुखाकृति विज्ञान ग्रह प्राणिक हीलिंग भविष्यवाणी तकनीक हस्तरेखा सिद्धान्त व्यवसाय पूजा राहु आराधना रमल शास्त्र रेकी रूद्राक्ष श्राद्ध हस्ताक्षर विश्लेषण सफलता मन्दिर एवं तीर्थ स्थल टोटके गोचर यात्रा वास्तु परामर्श वास्तु दोष निवारण वास्तु पुरुष एवं दिशाएं वास्तु के सुझाव स्वर सुधार/हकलाना संपत्ति यंत्र राशि
और टैग (+)
horoscope