आर्थिक उन्नति कारक दक्षिणावर्ती शंख

दक्षिणावर्ती शंख का अपने चमत्कारी गुणों क कारण अपना विशेष महत्व है. यह शंख विदेश दुर्लभ तथा सर्वाधिक मूल्यवान होता है. असली दक्षिणावर्ती शंख कों प्राण प्रतिष्ठित कर के उद्दोग – व्यवसाय स्थल, कार्यालय, दुकान अथवा घर में स्थापित कर ... और पढ़ें

ज्योतिषउपायमंत्र

आगस्त 2009

व्यूस: 38946

स्वप्नेश्वरी देवी साधना

स्वप्न निद्रावस्था में ही नहीं देखे जाते, जागृत अवस्था में भी देखे जाते हैं। जब व्यक्ति निद्रावस्था में होता है तो सूक्ष्माकार होकर अपने भूत और भविष्य से संपर्क स्थापित करता है प्रस्तुत है शुभ अशुभ एवं मिश्रित फल विचार।... और पढ़ें

देवी और देवमंत्रयंत्र

जून 2010

व्यूस: 35605

लक्ष्मी सिद्धि के सूत्र

लक्ष्मी चंचला हिया, एक घर में टिक कर नहीं बैठती। आज जो करोडपति है एक झोंके में दिवालिया बन जाता है, निर्धन लक्ष्मीवान बन जाता है। यह सब लक्ष्मी की चंचल प्रवृति के कारण ही है। जीवन में लक्ष्मी की अनिवार्यता है, धनी होना मानव जीवन क... और पढ़ें

देवी और देवउपायमंत्रसंपत्तियंत्र

नवेम्बर 2007

व्यूस: 34458

रुद्राक्ष: एक वरदान

रुद्राक्ष: एक वरदान

ओम प्रकाश दार्शनिक

रुद्राक्ष एक ऐसा फल फल जिसके अंदर लगभग सभी देवी-देवता निवास करते हैं। रूद्राक्ष को धारण करने से हर प्रकार के दुःखां का शमन होता है। इस लेख में एक मुखी रुद्राक्ष से लेकर 14 मुखी रुद्राक्ष के बारे में विस्तृत जानकारी दी जा रही ह... और पढ़ें

देवी और देवउपायअध्यात्म, धर्म आदिमंत्ररूद्राक्षराशि

मई 2014

व्यूस: 33349

कष्ट निवारण हेतु देव आराधना

हिंदू धर्मावलंबियों के ३३ करोड देवी देवता हैं। अनेक वेदों में उनका उल्लेख मिलता है। तथा अनेक अट्ठारह पुराणों में उनकी विविध गाथाएं तथा पूजा अर्चना की विधियां विस्तारपूर्वक दी गई है। गीता में भी अध्याय तीन में इस विषय पर भगवान कृष्... और पढ़ें

देवी और देवउपायमंत्र

फ़रवरी 2007

व्यूस: 32371

नवग्रह के विभिन्न उपाय

नवग्रह के विभिन्न उपाय

फ्यूचर पाॅइन्ट

मानव जीवन सुखी हो सर्वेभवन्तु सुखिनः के उद्देश्यों से मानव जीवन पर पड़ने वाले कुप्रभाव व्यवधानादि के निवारण हेतु प्रस्तुत उपाय ग्रहणीय है। पाठक इन नौ ग्रहों की अनुकूलता हेतु ये उपाय, विधि अपनाकर निश्चित रूप से लाभ उठा सकते हैं।... और पढ़ें

ज्योतिषउपायमंत्रयंत्र

सितम्बर 2010

व्यूस: 27223

दुर्गासप्तशती के मंत्रों से कार्य सिद्धि

दुर्गा सप्तशती का पाठ दो प्रकार से होता है- एक साधारण व दूसरा सम्पुट। सप्तशती में कुल सात सौ मंत्र है। इस आलेख में प्रस्तुत है सप्तशती के सिद्ध सम्पुट मंत्रों का विवरण। इन मंत्रों का नवरात्र में जप करने से शीघ्र फल की प्राप्ति होत... और पढ़ें

देवी और देवमंत्र

अकतूबर 2010

व्यूस: 25832

षट्कर्म साधन

षट्कर्म साधन

डॉ. अरुण बंसल

शरीर एवं मन के रोगों की शांति से लेकर किसी को अपनी ओर आकर्षित करने या स्तंभन करने के लिए भारतीय वेद शास्त्रों में अनेक प्रकार के अनुष्ठानों का वर्णन है। प्रसतुत लेख में षट्कर्म साधना क्रिया की विधि व विभिन्न कार्यों के लिए कौन सा ... और पढ़ें

ज्योतिषअन्य पराविद्याएंउपायबाल-बच्चेशिक्षाशत्रुमंत्रविवाहसफलतासंपत्ति

आगस्त 2010

व्यूस: 19994

शाबर-मेरू-तंत्र

शाबर-मेरू-तंत्र

ब्रजकिशोर शर्मा ‘ब्रजवासी’

शाबर मंत्र साधना प्रारंभ करने से पूर्व ‘शाबर-मेरू-तंत्र’ का या ‘सर्वार्थ साधक मंत्र’ या सुमेरू मंत्र का जप अत्यंत आवश्यक है; क्योंकि यह मंत्र उच्च कोटि के गुरुओं के अभाव व साधक की आवश्यक योग्यता की पूर्णता का प्रतीक है... और पढ़ें

उपायअध्यात्म, धर्म आदिमंत्र

आगस्त 2014

व्यूस: 17540

नवग्रहों से रोग ज्ञान

नवग्रहों से रोग ज्ञान

फ्यूचर पाॅइन्ट

रोग दो तरह के होते हीं- दोषज एवं कर्मज। जिन रोगों का उपचार दवाओं से हो जाता हों, उन्हें दोषज तथा जिनका उपचार दवाओं से नहीं हो उन्हें कर्मज कहते है। कर्मज रोग मनुष्य को पूर्व जन्म के बुरे कार्यों और पापी ग्रहों से पीड़ित होने के कार... और पढ़ें

ज्योतिषस्वास्थ्यमंत्रग्रहभविष्यवाणी तकनीक

सितम्बर 2006

व्यूस: 16451

Ask a Question?

Some problems are too personal to share via a written consultation! No matter what kind of predicament it is that you face, the Talk to an Astrologer service at Future Point aims to get you out of all your misery at once.

SHARE YOUR PROBLEM, GET SOLUTIONS

  • Health

  • Family

  • Marriage

  • Career

  • Finance

  • Business

लोकप्रिय विषय

करियर बाल-बच्चे चाइनीज ज्योतिष दशा वर्ग कुंडलियाँ दिवाली डऊसिंग सपने शिक्षा वशीकरण शत्रु यश पर्व/व्रत फेंगशुई एवं वास्तु टैरो रत्न सुख गृह वास्तु प्रश्न कुंडली कुंडली व्याख्या कुंडली मिलान घर जैमिनी ज्योतिष कृष्णामूर्ति ज्योतिष लाल किताब भूमि चयन कानूनी समस्याएं प्रेम सम्बन्ध मंत्र विवाह आकाशीय गणित चिकित्सा ज्योतिष Medicine विविध ग्रह पर्वत व रेखाएं मुहूर्त मेदनीय ज्योतिष नक्षत्र नवरात्रि व्यवसायिक सुधार शकुन पंच पक्षी पंचांग मुखाकृति विज्ञान ग्रह प्राणिक हीलिंग भविष्यवाणी तकनीक हस्तरेखा सिद्धान्त व्यवसाय पूजा राहु आराधना रमल शास्त्र रेकी रूद्राक्ष श्राद्ध हस्ताक्षर विश्लेषण सफलता मन्दिर एवं तीर्थ स्थल टोटके गोचर यात्रा वास्तु परामर्श वास्तु दोष निवारण वास्तु पुरुष एवं दिशाएं वास्तु के सुझाव स्वर सुधार/हकलाना संपत्ति यंत्र राशि
और टैग (+)