शेयर बाजार में तेजी-मंदी

शेयर बाजार में तेजी-मंदी  

सूर्य बुध की मेष में युति, बुध का पूर्वास्त होना, बुध का अतिचारी होना, शुक्र का सूर्य और बुध से पीछे होना और बुध का सूर्य से आगे होना मई मास में शेयर बाजार में तेजी का संकेत देते हैं। 1 सोमवार बाजार तेज खुलेगा, 15.08 से नरम रहेगा। विद्युत, विद्युत उपकरण, रंग, रसायन, सौंदर्य प्रसाधन, शर्करा के शेयरों में नरमाई रहेगी। वृषभ, सिंह, कुंभ के लिए शुभ दिन। 2. मंगलवार बाजार नरम खुलेगा। 10.19 से सामान्य सुधार रहेगा, 11.28 से अच्छा सुधार रहेगा। वाहन, रंग, रसायन, यंत्र सामग्री, सूचना प्रसारण, दूरसंचार तेज रहेंगे। बैंक, कागज, प्रकाशन में नरमाई रहेगी। वृषभ, वृश्चिक, कुंभ के लिए शुभ दिन। 3 बुधवार बाजार नरम खुलेगा, 11.36 से सुधार रहेगा। कांच, रबड़, टायर, घड़ी, यंत्र सामग्री, ऐल्युमीनियम में सुधार रहेगा। मिथुन, कन्या, धनु के लिए शुभ दिन। 4 गुरुवार तेज दिन। हर प्रकार के शेयरों में तेजी रहेगी। मिथुन, कन्या, मीन के लिए शुभ दिन। 5 शुक्रवार तेज दिन। पुरानी अर्थव्यवस्था की तुलना में नई अर्थव्यवस्था के शेयरों में अच्छी तेजी रहेगी। मिथुन, धनु, मीन के लिए शुभ दिन। 8 सोमवार बाजार नरम खुलेगा। 11.43 से ज्यादा नरम रहेगा। पुरानी अर्थव्यवस्था के शेयर, होटल, वाहन, रबड़, टायर, बेयरिंग, रंग, रसायन, कोयला, सीमंेट में ज्यादा नरमाई रहेगी। मिथुन, धनु, मीन के लिए शुभ दिन। 9 मंगलवार बाजार नरम खुलेगा, 14.36 से तेज। वाहन, सीमेंट, यंत्र सामग्री, बेयरिंग, सौंदर्य प्रसाधन में सुधार होगा। वृषभ, सिंह, वृश्चिक के लिए शुभ दिन। 10 बुधवार बाजार नरम खुलेगा, 10.31 से 13.22 सुधार, 13.22 से नरम। चाय, काॅफी, औषधि, तंबाकू तेल में नरमाई रहेगी। वृषभ, सिंह, वृश्चिक के लिए शुभ दिन। 11 गुरुवार बाजार तेज खुलेगा, 12.39 से सामान्य नरम। वाहन, रबड़, टायर, कांच, यंत्र सामग्री, घड़ी में सुधार होगा। बैंक, कागज, प्रकाशन, शर्करा में नरमाई रहेगी। वृषभ, सिंह, कुंभ के लिए शुभ दिन। 12 शुक्रवार बाजार तेज खुलेगा, 14.14 से नरम। बैंक, कागज, प्रकाशन, शर्करा, वित्त, बीमा कंपनी में नरमाई रहेगी। वृषभ, कुंभ, वृश्चिक के लिए शुभ दिन। 15 सोमवार दोनों ओर की घटा-बढ़ी के बाद बाजार नरम रहेगा। औषधि, तेल, तंबाकू, चाय, काॅफी, खाद्य पदार्थ, रंग, रसायन, वाहन में नरमाई रहेगी। मिथुन, धनु, मीन के लिए शुभ दिन। 16 मंगलवार नरम दिन। हर उछाल पर बेचें। विद्युत, विद्युत उपकरण, जहाजरानी, रंग, रसायन, गृह निर्माण, औषधि, तेल में नरमाई रहेगी। वृषभ सिंह, वृश्चिक के लिए शुभ दिन। 17 बुधवार तेज दिन। कांच, वाहन, यंत्र सामग्री, गृह, घड़ी, टायर, रबड़ में तेजी रहेगी। वृषभ, वृश्चिक, कुंभ के लिए शुभ दिन। 18 गुरुवार बाजार तेज खुलेगा, 13.53 से नरम। वाहन, यंत्र सामग्री, सीमेंट, लोहा, कागज, प्रकाशन में नरमाई रहेगी। मेष, कर्क, मकर के लिए शुभ दिन। 19 शुक्रवार बाजार तेज खुलेगा। 12.47 से 13.29 नरम, 13.29 से सुधार। दूर संचार, सूचना प्रसारण, शर्करा, सौंदर्य सामग्री, आभूषण, हीरों में सुधार रहेगा। कन्या, धनु, मीन के लिए शुभ दिन। 22 सोमवार बाजार तेज खुलेगा, 14.19 से नरम। हर प्रकार के शेयरों में नरमाई रहेगी। मिथुन, कन्या, मीन के लिए शुभ दिन। 23 मंगलवार बाजार नरम खुलेगा, 10.20 से 12.48 सम, 12.48 से तेज रहेगा। बैंक, कागज, सौंदर्य सामग्री, आभूषण, हीरे, सूचना प्रसारण में सुधार रहेगा। मेष, कर्क, मकर के लिए शुभ दिन। 24 बुधवार बाजार नरम खुलेगा। 11.18 से सुधार, 13. 18 से अच्छा सुधार रहेगा। हर प्रकार के शेयरों में सुधार रहेगा। सिंह, वृश्चिक, कुंभ के लिए शुभ दिन। 25 गुरुवार सामान्य घटा-बढ़ी के बाद बाजार टिका रहेगा। हर प्रकार के शेयरों में सामान्य घटा-बढ़ी रहेगी। मिथुन, धनु, मीन के लिए शुभ दिन। 26 शुक्रवार तेज दिन। हर प्रकार के शेयरों में तेजी रहेगी। आज के ऊंचे-नीचे भाव को ध्यान में रखकर एक मास तक व्यापार करें। मेष, कर्क, मकर के लिए शुभ दिन। 29 सोमवार बाजार तेज खुलेगा, 13.18 से नरम। रंग, रसायन, लोहा, यंत्र-सामग्री में नरमाई रहेगी। वृषभ, वृश्चिक, कुंभ के लिए शुभ दिन। 30 मंगलवार बाजार तेज खुलेगा, 10.22 से 14.06 तक नरम, 14.06 से सामान्य सुधार रहेगा। शर्करा, वाहन, विद्युत, विद्युत उपकरण, आभूषण में सुधार रहेगा। मिथुन, कन्या, धनु के लिए शुभ दिन। 31 बुधवार तेज दिन। सूचना प्रसारण, दूर संचार, वाहन, सीमेंट, यंत्र सामग्री में सुधार रहेगा। मिथुन, कन्या, मीन के लिए शुभ दिन। - यह भविष्यवाणी, गोचर ग्रहों को ध्यान में रखकर मार्गदर्शन हेतु की गयी है। - वर्तमान राजनैतिक परिस्थिति को ध्यान में रख कर व्यापार करें। - व्यापारी की सट्टे की प्रवृत्ति और निर्णय शक्ति की कमी की वजह से होने वाले नुकसान के लिए लेखक, संपादक एवं प्रकाशक जिम्मेदार नहीं होंगे।


रुद्राक्ष एवं सन्तान गोपाल विशेषांक  मई 2006

ऐसा माना जाता है कि रुद्राक्ष की उत्पत्ति भगवान शिव के अश्रु कणों से हुई है। ज्योतिष में प्रचलित अनेक उपायों में से रुद्राक्ष का उपयोग ग्रहों की नकारात्मकता एवं इनके दोषों को दूर करने के लिए किया जाता है ताकि पीड़ा को कमतर किया जा सके। अनेक प्रकार के रुद्राक्षों को या तो गले में या बांह में धारण किया जाता है। रुद्राक्ष अनेक प्रकार के होते हैं। इनमें से अधिकांश रुद्राक्षों का नामकरण उनके मुख के आधार पर किया गया है जैसे एक मुखी, दो मुखी, तीन मुखी इत्यादि। इस विशेषांक में रुद्राक्ष के अतिरिक्त सन्तान पर भी चर्चा की गई है। इस विशेषांक के विषय दोनों है। इसमें रुद्राक्ष एवं संतान दोनों के ऊपर अनेक महत्वपूर्ण आलेखों को सम्मिलित किया गया है जैसे: रुद्राक्ष की उत्पत्ति एवं महत्व, अनेक रोगों में कारगर है रुद्राक्ष, सन्तान प्राप्ति के योग, कैसे जानें कि सन्तान कितनी होंगी, लड़का होगा या लड़की जानिए स्वर साधना से, सन्तान बाधा निवारण के ज्योतिषीय उपाय, इच्छित सन्तान प्राप्ति के सुगम उपाय, सन्तान प्राप्ति के तान्त्रिक उपाय आदि। इन आलेखों के अतिरिक्त दूसरे भी अनेक महत्वपूर्ण आलेख अन्य विषयों से सम्बन्धित हैं। इसके अतिरिक्त पूर्व की भांति स्थायी स्तम्भ भी संलग्न हैं।

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.