एशिया में लंबी आयु के लिए चीन में मशरूम का इस्तेमाल 6000 वर्षों से भी ज्यादा समय से किया जाता रहा है। अब तो विश्व के लगभग सभी देशों में इसकी भीनी खास महक के कारण इसका सामान्य रूप से इस्तेमाल किया जाता है। इसे सभी शहरों में सुपर मार्केट स्टोरों से वर्ष भर खरीदा जा सकता है। स्वास्थ्य लाभ: इसमें एक पदार्थ जिसे लेंटिनान ;स्मदजपदंदद्ध कहा जाता है, शरीर में बीमारियों से लड़ने की शक्ति ;प्उउनदम ेलेजमउद्ध को बढ़ाता है - खासकर वायरस संक्रमणों के विरुद्ध। कैंसर निरोधी: लेंटिनान एक बीटा ग्लुकाॅन कैंसर निरोधी भी है। हृदय रोग में लाभकारी: पिछले 10 वर्षों के अनुसंधान से पता चला है कि मशरूम में पाया जाने वाला पदार्थ एरीटेडेनीन ;म्तपजंकमदपदमद्ध रक्त में कोलेस्ट्राॅल की मात्रा कम करने में सक्षम है। यूं तो मशरूम की बहुत सारी किस्में मिलती हैं, परंतु उनमें चार सबसे मशहूर हैं- शिटाके, ;ैीपजंामद्ध मेटाकेए ;डंपजंामद्ध, रेशी ;त्मपेीपद्ध और बटन मशरूम ;ठनजजवद डनेीतववउद्ध। मशरूम खाने में अति स्वादिष्ट होता है। यह कोई सब्जी नहीं परंतु एक प्रकार की जीवित फफंूदी है जिसमें न तो जड़ होती है, न पŸो, न फूल और न ही फल। शिटाके ;ैीपजंामद्ध भूरे, मेटाके गुच्छे में भूरे और रेशी ;त्मेीपद्ध लाल रंग की होती है। बटन मशरूम, सफेद रंग का होता है। एक पाव मशरूम हमें देता है प्रतिदिन की जरूरत का 53 प्रतिशत तक सेलेनियम ;ैमसमदपनउद्ध, 20 प्रतिशत तक लौह तत्व, 10 प्रतिशत तक विटामिन सी, रेशा तथा जिंक। इनमें पाया जाने वाला सेलेनियम, एन्टीआॅक्सीडेंट के सक्षम तरीके से कार्य करने के लिए अति आवश्यक है। इसलिए मशरूम कैंसर के साथ साथ दमा, सांस रोग, जोड़ों के दर्द ;।तजीतपजपेद्ध तथा हृदय रोग से बचाव भी करता है। इनमें बी समूह के विटामिन, बी1, बी2, बी3, बी6 भी पाए जाते हैं। फ्राइड मशरूम बनाने का तरीका: बटन मशरूम को काटकर रख लें, तेल को कड़ाही में गर्म करें। पहले जीरा डाल कर भूनें, फिर प्याज डाल कर भूनें - जब तक भूरा न हो जाए। अब अदरक, हरी मिर्च, धनिया पाउडर और हल्दी पाउडर डालकर एक मिनट तक भूनें। फिर कटा हुआ टमाटर और लाल मिर्च डालकर 5 मिनट तक भूनें। अब कटे हुए मशरूम डाल दें और कम आंच पर 10 मिनट तक पकाएं। अब गरम मसाला डाल कर 5 मिनट तक पकाएं, आंच से उतार लें धनिया काट कर डालें। बस आपका मशरूम चावल के साथ खाने के लिए तैयार है।


पराविद्याओं को समर्पित सर्वश्रेष्ठ मासिक ज्योतिष पत्रिका  दिसम्बर 2006

श्री लक्ष्मी नारायण व्रत | नूतन गृह प्रवेश मुहूर्त विचार |दिल्ली में सीलिंग : वास्तु एवं ज्योतिषीय विश्लेषण |भवन निर्माण पूर्व आवश्यक है भूमि परिक्षण

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.