सर्वोपयोगी कृपा यंत्र

सर्वोपयोगी कृपा यंत्र  

सर्वोपयोगी कृपा यंत्र चह 60 रेखा कल्पदेव श्री गणेश कृपा यंत्र श्री गणेश कृपा यंत्र सर्व सिद्धिदायक व नाना प्रकार की उपलब्धियां व सिद्धियां देने वाला यंत्र है। इस यंत्र का पूजन करते समय देवताओं के प्रधान गणाध्यक्ष गणपति का ध्यान किया जाता हैं। इस यंत्र में श्री गणेश एक हाथ में पाश, एक हाथ में मोदक एवं वरद मुद्रा में सुशोभित एक दंत त्रिनेत्र कनक सिंहासन पर विराजमान हैं। भगवान् श्री गणेश का सिंहासन कच्छप पीठ पर स्थापित हैं। इस यंत्र के प्रभाव से और भक्त की आराधना से व्यक्ति-विशेष पर ऋद्धि-सिद्धि की वर्षा होती है। साधक को इष्ट-कृपा की अनुभूति प्राप्त होने लगती है। उसके कार्यों में आने वाली बाधाएं स्वतः दूर होने लगती हैं। व्यक्ति को अतुलनीय धन, यश और कीर्ति की प्राप्ति होती हैं। भगवान श्री गणेश का महत्व सभी देवों में सर्वोपरि हैं। उन्हें हर नए कार्य, हर बाधा या विघ्न के समय बड़ी उम्मीद से याद किया जाता है और दुखों, मुसीबतों से छुटकारा पाया जाता है। गणेश यंत्र अपने साधक के कार्यों में आने वाली हर प्रकार की बाधा से उसकी रक्षा करता है। जो इस यंत्र का पूजन करता है वह अपने हर कार्य में सफल होता है। जो व्यक्ति किसी भी क्षेत्र में सफलता और उन्नति प्राप्त करना चाहता है उसे अपने घर के पूजा घर में श्री गणेश कृपा यंत्र स्थापित कर, नित्य इसका पूजन करना चाहिए। श्री गणेश कृपा यंत्र की शुभता से साधक के जीवन में सफलता के नए मार्ग खुलते हैं। यह यंत्र व्यापारिक उन्नति व धन प्राप्ति के लिए भी सबसे अधिक अनुकूल माना जाता है। श्री गणेश कृपा यंत्र की अद्भुत शक्तियों से साधक को निर्णय लेते समय बौद्धिक सहयोग प्राप्त होता है तथा उसकी रूचि बौद्धिक कार्यों में स्वतः ही बढ़ जाती है। श्री गणेश कृपा यंत्र विशेषता 1. श्री गणेश कृपा यंत्र में भगवान् श्री गणेश वरद मुद्रा में सिंहासन पर विराजित हैं। 2. श्री गणेश प्रतिमा कूर्म-पृष्ठ पर स्थापित है। कूर्मपृष्ठ पर होने के कारण श्री विष्णु जी का आशीर्वाद स्वतः प्राप्त हो रहा है। 3. श्री गणेश प्रतिमा पर श्री गणेश यंत्र छत्र बनकर इसे अद्वितीय बना रहा है। 4. श्री गणेश कृपा यंत्र में सबसे उपर ऊँ है जो स्वयं में सभी शक्तियों को समाहित किये हुए है। इस प्रकार यह यंत्र दुर्लभ यंत्र हैं। श्री दुर्गा माता कृपा यंत्र श्री दुर्गा माता कृपा यंत्र उपासक के जीवन में ऊर्जा व सकारात्मकता का संचार करता है। यह यंत्र बुराइयों एवं नकारात्मकता से दूर रखता है तथा जीवन में किसी भी प्रकार की बाधा को पार करने में सहायता करता है। इसके अतिरिक्त इस यंत्र को घर में स्थापित करने से सौभाग्य में वृद्धि होती है तथा धन-लाभ के अवसर प्राप्त होते हैं। यदि व्यक्ति को अपने व्यापार में किसी प्रकार की कोई बाधा आ रही हो तो वह भी दूर होती है। घर एवं परिवार में सामंजस्य तथा सुख-शांति बनाए रखने में यह यंत्र चमत्कारिक सिद्ध हो सकता है। इस यंत्र की उपासना से व्यक्ति को भाग्य का सहयोग प्राप्त होने लगता है। व्यापार एवं नौकरी संबंधी लाभों की प्राप्ति में सहयोग देने वाला यह यंत्र आर्थिक स्थिति को प्रबल करने का कार्य करता है। श्री दुर्गा कृपा यंत्र उपयोगिता श्री दुर्गा कृपा यंत्र के प्रभाव से व्यापारिक क्षेत्र में उन्नति प्राप्त होती है। शत्रु से घर व दुकान की रक्षा होती है। ऋण आदि से मुक्ति मिलती है। परिवार मंे विवाद और कलह का नाश होता है। यह यंत्र सोये हुए भाग्य को जगाने वाला यंत्र है। इस यंत्र के द्वारा व्यक्ति को जीवन में धन से संबंधित समस्याओं में लाभ होता है। जो व्यक्ति आर्थिक समस्याओं से परेशान हो, वह व्यक्ति इस यंत्र का नियमित पूजन करे, तो उसे निश्चित रूप से लाभ होता है। इस यंत्र को घर-दुकान, आॅफिस या फैक्टरी में स्थापित करने से विशेष लाभ होता है। श्री दुर्गा कृपा यंत्र विशेषता 1. श्री दुर्गा कृपा यंत्र कूर्म-पृष्ठ पर बना है। 2. इस यंत्र में माता दुर्गा कूर्म-पृष्ठ पर प्रतिमा रूप में विराजमान है। 3. श्री माता दुर्गा की प्रतिमा पर श्री दुर्गा यंत्र छत्र समान सुशोभित है। 4. श्री दुर्गा यंत्र पर देवाधिदेव भगवान श्री भोलेनाथ का त्रिशूल इस यंत्र को दुर्लभ बना रहा है। श्री हनुमान जी कृपा यंत्र किसी विशेष कार्य को करने से पूर्व मन में यह विचार आता है कि यह कार्य पूर्ण होगा या नहीं। कई बार कुछ कारणों से असफलता भी हाथ लगती है। जो व्यक्ति जीवन के हर क्षेत्र में सफलता प्राप्त करना चाहता है, उसे प्रतिदिन इस यंत्र का पूजन करना चाहिए। इसके अतिरिक्त जिन व्यक्तियेां की कुंडली में मांगलिक योग हो, उन व्यक्तियों के लिए भी इस यंत्र का पूजन करना लाभकारी सिद्ध हो सकता है। इसकी पूजा करने से सभी कार्य सफल होते हैं, मंगल ग्रह के दुष्प्रभाव दूर होते हैं। राजनीति, गृहस्थ जीवन, नौकरी पेशा आदि क्षेत्रों में परेशानी होने पर इस यंत्र की प्रतिष्ठा करके पूजा करने से सभी समस्याओं का अंत होता हैं। श्री हनुमान जी कृपा यंत्र उपयोगिता श्री हनुमान कृपा यंत्र आपको प्रतियोगिताओं में सफलता दिलाने में सहयोग करेगा। इसकी शुभता से आप अपने व्यापारिक शत्रुओं को पराजित करने में सफल रहेंगे। यह यंत्र अपने साधक को मानसिक कष्टों से भी मुक्ति दिलाता है। श्री हनुमान जी कृपा यंत्र को अपने वाहन में लगा कर इसका नियमित जप करने पर व्यक्ति को वाहन दुर्घटनाओं से राहत मिलती हैं। यदि दुकान या कार्यालय प्रतियोगियों के कारण सही रूप से न चल पा रहा हो, तो इस स्थिति में यह यंत्र विशेष लाभकारी रहेगा। वैवाहिक जीवन में सुख-शांति बनाए रखने के लिए श्री हनुमान जी कृपा यंत्र चमत्कारी फल देता है। श्री हनुमान जी कृपा यंत्र के प्रभाव से व्यक्ति को आकस्मिक उन्नति और सफलता प्राप्त होती है। इस यंत्र को जीवन के अनेक क्षेत्रों में अनुकूल फल प्राप्त करने के लिए प्रयोग करना सर्वदा शुभ फलकारी रहता है। श्री हनुमान जी कृपा यंत्र की यह विशेषता है कि इस यंत्र को शनि दोष निवारण और मंगल दोष निवारण दोनों के लिए प्रयोग किया जा सकता है। श्री हनुमान जी कृपा यंत्र विशेषता श्री हनुमान जी कृपा यंत्र कच्छप पीठ पर बना हैं। इस यंत्र में श्री हनुमान कूर्म पृष्ठ पर वरद मुद्रा में प्रतिमा रूप में स्थापित हैं। श्री हनुमान जी की प्रतिमा पर श्री हनुमान यंत्र भी हैं, जो इस यंत्र की शक्तियों में वृद्धि कर रहा है। यंत्र पर सबसे ऊपर भगवान शिव का त्रिशूल हैं। जो आराधक को अशुभ शक्तियों के प्रभाव से बचा कर रखता है।



भूत-प्रेत, पितृदोष निवारण विशेषांक  सितम्बर 2012

फ्यूचर समाचार पत्रिका के भूत प्रेत एवं पितृदोष निवारण विशेषांक में भूत प्रश्नोत्तरी, प्रतादि शक्तियों का रहस्य व प्रभाव, भूत प्रेत एक तार्किक विवेचन, ऋणानुबंधन पीड़ा निवारण, प्रेत कल्प अर्थात गडुड़ पुराण, ज्योतिष व प्रेत दोष, भूत प्रेतों की रहस्यमयी दुनियां, बालारिष्ट एवं भूत प्रेत बाधा, ऊपरी बाधा और ज्योतिषीय विनियोग, ऊपरी बाधा निवारण एवं हनुमान उपासना, भूत प्रेत बाधा होने पर क्या करें, पितृदोष रहस्य, पितृदोष कारण निवारण, भूत संबंधी अविस्मरणीय अनुभव, प्रेत बाधा निवारक ज्योतिषीय सामग्री, दिनमान एवं रात्रिमान में परिवर्तन क्यों, वास्तु परामर्श, वास्तु प्रश्नोतरी, विवादित वास्तु, यंत्र समीक्षा/मंत्र ज्ञान, हेल्थ कैप्सुल, लाल किताब, ज्योतिष सामग्री, मंत्र चिकित्सा, सम्मोहन, मुहूर्त विचार, पिरामिड एवं वास्तु, हस्तरेखा विज्ञान, सत्यकथा, दाम्पत्य सुख के उपाय, सर्वोपयोगी कृपा यंत्र, आदि विषयों पर गहन चर्चा की गई है।

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.