भूत प्रेतादि पर विशेष जानकारी

भूत प्रेतादि पर विशेष जानकारी  

व्यूस : 15780 | सितम्बर 2012
भूत प्रेतादि पर विशेष जानकारी हम इसको कैसे पहचानें कि अमुक प्राणी किसी दोष से ग्रस्त है अथवा किसी अन्य रोग से- दोष परीक्षण द्वारा जानना मंत्र- अप्रतिचक्रे स्पष्ट विचक्राय स्वाहा।। विधि: उक्त मंत्र से सरसों के आठ दाने लेकर एक कटोरी में जल भरकर उसमें थोड़ा गंगाजल भी डाल दें, तब मंत्र से अभिमंत्रित करके उन दानों को कटोरी से निकालकर सुखा दें। सूखने पर धूप देकर उपरोक्त मंत्र से 108 बार जाप करें। यदि सरसों का एक दाना तिरे, तो समझो भूत दोष है। यदि 2 दाना तिरे तो क्षेत्रपाल दोष है। यदि 3 दाना तिरे तो शक्ति दोष है। यदि 4 दाना तिरे तो यंत्र दोष है। यदि 5 दाना तिरे तो अविनाश देवता का दोष है। 6 दाना तिरे तो शाकिनी, डाकिनी दोष है। यदि 7 दाना तिरे तो विन्ध वासिनी का दोष है। यदि 8 दाना तिरे तो अपने कुल देवता का दोष है। इस तरह से जो भी दोष पाया जाता है उसी का हम भुक्त भोगी का उपचार करते हैं और शीघ्र आराम हो जाता है। जिसके घर में प्रेत वाधा हो तथा कोई भी अतृप्त आत्मा भटकती हो, चाहे वह बदले की भावना से है अथवा किसी ने उसे इस स्थान पर छोड़ा है। तब वह विद्रोही आत्मा उपद्रव मचाती है, घर परिवार को दुःखी करने लगती है, तो इसका एक अचूक उपाय बता रहे हैं। देवी-दुर्गा के किसी योग्य भक्त को बैठाकर दुर्गासप्तशती के नौ पाठ कराएं। इसके पश्चात एक पाठ का विधि-विधान से ह्वन कराएं। पूर्णाहुति के समय लोहबान, गुग्गुल की धूनी, धूप, दीप से संपूर्ण घर में धुंआ कराएं व धूनी दें। धुंआ से घर को पूरी तरह भर दें व हवन की अग्नि से ऐसी आत्माएं जल जाने के भय से भाग खड़ी होती हैं तथा वह हमेशा के लिए घर छोड़ कर चली जाती हैं। हवन सामग्री चंदन का बुरादा, काले तिल, केसर, सफेद तिल, जौ, शुद्ध घी, शुद्ध शक्कर, लौंग-तगर, मोंथा, पंचमेवा, चावल, अष्टगंध, लोहबान यह हवन किसी योग्य पंडित अथवा भक्त से रात को कराना चाहिए। भय से मुक्ति के लिए अंजनीगर्भ संम्भूताय कपीन्द्र सचिवोक्तम रामप्रिय नमस्तुभ्यं हनुमन् रक्ष रक्ष सर्वदा इस मंत्र को सोने से पहले 11 बार पढ़कर तीन ताली बजाकर शयन करना चाहिए। भय समाप्त हो जाता है। प्रेतवाधा निवारण के लिए अनुष्ठान प्रनवऊं पवन कुमार खल विन पावक ज्ञानधन, जासु हृदय आगार बसहिं राम सर चाप धर। इसका प्रतिदिन 11 माला का जाप 49 दिन तक करना चाहिए। हनुमान जी का चित्र अथवा मूर्ति के सामने बैठकर पंचोपचार से उनकी पूजा करें कम से कम सात शनिवार तक और प्रत्येक शनिवार को हनुमान चालीसा के एक सौ पाठ करना चाहिए। इस एक चैंसठ (64) यंत्र को भोजपत्र पर लाल चंदन से लिखकर व उसे मंडवाकर घर के सभी कमरों में टांग देना चाहिए। अलौकिक तामसिक शक्तियों के दर्शन जैसे भूत-प्रेत डाकिनी- शाकिनी, यक्ष-रक्ष पिशाचिनी आदि को देखने के लिए गंुजामूल को रविपुष्य योग में या मंगलवार के दिन शुद्ध शहद में घिसकर आंखों में अंजन की भांति लगाएं, तो आपके सम्मुख ये आसुरी शक्तियां नृत्य करते हुए दिखाई देंगी। यदि इसको कराने की विधि नहीं आती है तो यह क्रिया न करें। किसी भी सात्विक मनोरथ प्राप्ति के लिए मंगलवार के दिन हम यह अनुष्ठान प्रारंभ कर सकते हैं। यह अनुष्ठान 21 दिनों तक करना है। श्री हनुमान जी के चित्र के समक्ष अथवा मूर्ति के समक्ष बैठकर उपरोक्त मंत्र का 21 माला जाप प्रतिदिन आसन पर बैठकर मूंगे की माला से करना है। जहां पर भी पूजा करें, उस स्थान को फिर न बदलें। रात्रिकाल में शांतिमय वातावरण में जाप करें। ब्रह्मचर्य से रहें व 108 पŸाों पर लाल चंदन घिसकर उसमें गंगाजल मिलाकर लाल स्याही से राम राम लिखकर उसे श्री हनुमान जी को पहना दें और रोटी के चूरमा के लड्डू देशी घी व शक्कर मिलाकर भोग लेगा दें तथा दूसरे दिन यह प्रसाद बांट दें व स्वयं भी सेवन करें। इस प्रकार हम सभी देवी देवताओं की शक्तियों का समावेश अपने अंदर कर सकते हैं। जब आपके अंदर देवी शक्ति होगी होगी तो आसुरी शक्तियां स्वयं उस प्राणी को देखते ही भाग खड़ी होती हैं।

Ask a Question?

Some problems are too personal to share via a written consultation! No matter what kind of predicament it is that you face, the Talk to an Astrologer service at Future Point aims to get you out of all your misery at once.

SHARE YOUR PROBLEM, GET SOLUTIONS

  • Health

  • Family

  • Marriage

  • Career

  • Finance

  • Business

भूत-प्रेत, पितृदोष निवारण विशेषांक  सितम्बर 2012

फ्यूचर समाचार पत्रिका के भूत प्रेत एवं पितृदोष निवारण विशेषांक में भूत प्रश्नोत्तरी, प्रतादि शक्तियों का रहस्य व प्रभाव, भूत प्रेत एक तार्किक विवेचन, ऋणानुबंधन पीड़ा निवारण, प्रेत कल्प अर्थात गडुड़ पुराण, ज्योतिष व प्रेत दोष, भूत प्रेतों की रहस्यमयी दुनियां, बालारिष्ट एवं भूत प्रेत बाधा, ऊपरी बाधा और ज्योतिषीय विनियोग, ऊपरी बाधा निवारण एवं हनुमान उपासना, भूत प्रेत बाधा होने पर क्या करें, पितृदोष रहस्य, पितृदोष कारण निवारण, भूत संबंधी अविस्मरणीय अनुभव, प्रेत बाधा निवारक ज्योतिषीय सामग्री, दिनमान एवं रात्रिमान में परिवर्तन क्यों, वास्तु परामर्श, वास्तु प्रश्नोतरी, विवादित वास्तु, यंत्र समीक्षा/मंत्र ज्ञान, हेल्थ कैप्सुल, लाल किताब, ज्योतिष सामग्री, मंत्र चिकित्सा, सम्मोहन, मुहूर्त विचार, पिरामिड एवं वास्तु, हस्तरेखा विज्ञान, सत्यकथा, दाम्पत्य सुख के उपाय, सर्वोपयोगी कृपा यंत्र, आदि विषयों पर गहन चर्चा की गई है।

सब्सक्राइब


.