कुछ उपयोगी टोटके

कुछ उपयोगी टोटके  

कुछ उपयोगी टोटके छोटे-छोटे उपाय हर घर में लोग जानते हैं, पर उनकी विधिवत् जानकारी के अभाव में वे उनके लाभ से वंचित रह जाते हैं। इस लोकप्रिय स्तंभ में उपयोगी टोटकों की विधिवत् जानकारी दी जा रही है। नये उद्योग धंधों को कामयाव बनाने हेतु: प्रायः ऐसा देखा गया है कि मालिक अपने पुराने उद्योग से आशातीत सफलता पाकर अपना दूसरा नया उद्योग भी लगाना चाहता है। जब नया काम चालू करता है तो अनेकों वाधायें सामने आकर खड़ी हो जाती हैं। उनको हटाने के लिए अचूक टोटका दिया जा रहा है इससे आशातीत सफलता मिलेगी। शनिवार के दिन अपने पुराने उद्योग से कोई भी लोहे की वस्तु लाकर नये संस्थान में रख दें तथा उस स्थान को पवित्र कर लें व गंगा जल से शुद्ध कर लें। लोहे की वस्तु रखने से पहले साबुत काले उड़द डालकर उस पर वस्तु को रख दें, लेकिन जहां पर वह वस्तु रखी है उस स्थान को न बदलें। ऐसा करने से आपके नये उद्योग का भी काम सुचारू रूप से चलने लगेगा। नये व्यापार अथवा उद्योग में साझेदारी हेतु अचूक उपाय: प्रायः देखा जाता है जहां धन की लागत अत्यधिक हो, तो उसे अकेला प्राणी नहीं उठा सकता। तब वह कुछ साझेदारी बनाकर व धन में वृद्धि कर उद्योग को चलाने का कार्यक्रम तैयार करता है। किंतु एक कहावत प्रसिद्ध है कि साझे की हंडिया संदा चैराहे पर फूटती है अर्थात् आपस में लड़ाई, झगड़े इतने बढ़ जाते हैं कि कोर्ट-कचहरी तक चले जाते हैं। इस प्रकार की समस्या से छुटकारा पाने के लिए किसी दीपावली की रात को कच्चा सूत ले आयें तथा उसको मां लक्ष्मी जी के सामने बैठकर श्रद्धा के साथ बांटें। उसमें रोली के छींटे भी लगाएं, फिर कंपनी के द्वार पर टांग दें तथा धूप देकर गंगाजल छिड़ककर वहां शुद्धता व पवित्रता बनाये रखें तथा यह बोलें ‘‘मम कार्य सिद्धि कुरु कुरु स्वाहा।’’ यह क्रिया प्रत्येक दीपावली पर करते रहें तो साझेदारी में कभी झगड़ा नहीं होगा तथा काम स्वयं सुचारू रूप से चलता रहेगा। कर्मचारी काम छोड़कर न भागें: प्रायः हर कारखाने या कंपनी आदि के अंदर कुछ ऐसे दिमाग वाले भी लोग होते हैं जो धीरे-धीरे कर्मचारियों के मन में असंतोष पैदा करके व स्वयं को बिचैलिया रखकर बंदरवांट की क्रिया से अपना तथा अपने परिवार का पेट भरते हैं। अपने आपको ऐसे लोगों से कैसे बचायें जो कर्मचारियों से त्यागपत्र दिलाकर काम बंद करने की स्थिति में लाकर खड़ा कर देते हैं। ऐसी समस्या से छुटकारा पाने के लिए किसी भी शनिवार को अपने कारखाने के आते-जाते समय मार्ग में यदि कोई लोहे की कील मिल जाती है उसे गंगाजल में धोकर धूप लगाकर किसी स्थान में ठोक दें और हनुमान जी के निम्न मंत्र का 108 बार धूप दीप देकर एक माला का जप करें। मंत्र - ऊँ सर्वदुःख हराय नमः।।



भूत-प्रेत, पितृदोष निवारण विशेषांक  सितम्बर 2012

फ्यूचर समाचार पत्रिका के भूत प्रेत एवं पितृदोष निवारण विशेषांक में भूत प्रश्नोत्तरी, प्रतादि शक्तियों का रहस्य व प्रभाव, भूत प्रेत एक तार्किक विवेचन, ऋणानुबंधन पीड़ा निवारण, प्रेत कल्प अर्थात गडुड़ पुराण, ज्योतिष व प्रेत दोष, भूत प्रेतों की रहस्यमयी दुनियां, बालारिष्ट एवं भूत प्रेत बाधा, ऊपरी बाधा और ज्योतिषीय विनियोग, ऊपरी बाधा निवारण एवं हनुमान उपासना, भूत प्रेत बाधा होने पर क्या करें, पितृदोष रहस्य, पितृदोष कारण निवारण, भूत संबंधी अविस्मरणीय अनुभव, प्रेत बाधा निवारक ज्योतिषीय सामग्री, दिनमान एवं रात्रिमान में परिवर्तन क्यों, वास्तु परामर्श, वास्तु प्रश्नोतरी, विवादित वास्तु, यंत्र समीक्षा/मंत्र ज्ञान, हेल्थ कैप्सुल, लाल किताब, ज्योतिष सामग्री, मंत्र चिकित्सा, सम्मोहन, मुहूर्त विचार, पिरामिड एवं वास्तु, हस्तरेखा विज्ञान, सत्यकथा, दाम्पत्य सुख के उपाय, सर्वोपयोगी कृपा यंत्र, आदि विषयों पर गहन चर्चा की गई है।

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.