उत्तर पश्चिम का बंद कोना

उत्तर पश्चिम का बंद कोना  

पिछले महीने पंडित जी करनाल में रह रहे एक समृद्ध व्यवसायी परिवार के यहां वास्तु परीक्षण करने गए। उनसे मिलने पर उन्होंने बताया कि जब से वे अपने नए घर में आए हैं उनके पुत्र के जीवन में एक के बाद एक समस्या खड़ी हो गई है। उसका स्वास्थ्य बहुत खराब रहता है। काफी बार अस्पताल में भर्ती हुआ है। सेहत खराब होने की वजह से उनके व्यवसाय में अस्थिरता उत्पन्न हो गई है। उनका एक बेटा तथा एक बेटी है। बेटे की शादी कुछ वर्ष पहले की थी परन्तु संतान होने में भी रुकावटें आ रही हैं। बेटी की भी शादी हो चुकी है परन्तु भाई के स्वास्थ्य को लेकर वह भी काफी चिंतित रहती है जिसकी वजह से उसे माइग्रेन की समस्या हो गई है। वह अकेले ही पूरे परिवार का पालन पोषण कर रहे हैं जिसकी वजह से काफी हतोत्साहित हो चुके हैं। बीमारी पर अत्यधिक खर्चों की वजह से घर में आर्थिक समस्याएं हो गई हैं। वास्तु परीक्षण करने पर पाए गए दोष: - उनके घर के उत्तर, उत्तर-पूर्व में सीढ़ियां बनी थीं जो कि वंशवृद्धि, आर्थिक व मानसिक परेशानियों का कारण होती हैं। - उत्तर में रसोई बनी थी तथा रसोई के उत्तर में गैस तथा दक्षिण पूर्व में सिंक बना था जो वैचारिक मतभेद, भारी खर्च व मानसिक तनाव का कारण होती है। - उत्तर-पश्चिम का कोना बंद था जो कि जीवन में उत्साह की कमी, निराशा तथा परेशानियों का कारण होता है। - उत्तर-पश्चिम बढ़ा हुआ था। - दक्षिण-पश्चिम में द्वार था। - घर के उत्तर-पूर्व में सैप्टिक टैंक था। सुझाव: - उत्तर-पूर्व में बनी सीढ़ियों को लाॅबी की दक्षिण की दीवार के साथ बनाने को कहा गया। - रसोई को दक्षिण-पूर्व में बैठक की जगह बनाने की सलाह दी गई। - उत्तर-पश्चिम में बने वाशिंग एरिया की छत हटाने की सलाह दी जिससे वह कोना खुल सके। - दक्षिण-पश्चिम के दरवाजे को अन्दर की ओर से तीन फुट ऊंची दीवार बनाकर बंद करने को कहा गया। - उत्तर-पूर्व में बने सैप्टिक टैंक को पूर्व में स्थानांतरित कराया गया। पंडित जी ने उन्हें आश्वासन दिया कि सभी सुझावों को कार्यान्वित करने के पश्चात उनके जीवन में सुख शांति बढ़ेगी तथा बेटे के स्वास्थ्य में भी बढ़ोरी होगी।



वास्तु विशेषांक  दिसम्बर 2012

फ्यूचर समाचार पत्रिका के वास्तु विशेषांक में वास्तुशास्त्र के सिद्धांत - वर्तमान समय में उपयोगिता, ज्योतिष, वास्तु एवं अंकशास्त्र के संयुक्त क्रियान्वयन की रूपरेखा, वास्तुशास्त्र एवं फेंगशुई- समरूपता एवं विभिन्नता, वास्तु पुरूष का प्रार्दुभाव एवं पूजन विधि, वास्तु शास्त्र का वैज्ञानिक दृष्टिकोण, भूखंड चयन की गणीतीय विधि, गृह निर्माण एवं सुख समृद्धि का वास्तु, वास्तु एवं फेंगशुई, वास्तु दोष कारण व निवारण, वास्तु एवं बागवाणी, वृक्षों व पौधों से वास्तु लाभ कैसे लें, वास्तु मंत्र, वास्तु शास्त्र एवं धर्म, वास्तुशास्त्र में शकुन एवं अपशकुन, लाभदायक वास्तु सामग्री, क्रिस्टल की उपयोगिता, फलादेश में अंकशास्त्र की भूमिका, पाइथागोरियन अंक ज्योतिष, वास्तु के अनुसार शेक्षणिक संस्थान, हवन प्रदूषण में कमी लाता है, मां त्रिपुर सुंदरी का चमत्कारी शक्तिपीठ, वास्तु परामर्श, वास्तु प्रश्नोतरी, विवादित वास्तु, यंत्र समीक्षा/मंत्र ज्ञान, हेल्थ कैप्सुल, अंक ज्योतिष के रहस्य, आदि विषयों पर गहन चर्चा की गई है।

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.