टैरो कार्ड द्द्वारा जानिए अपने मन का हाल

टैरो कार्ड द्द्वारा जानिए अपने मन का हाल  

टरै ा ेकाडसर्् द्वारा जानिए अपन े मन का हाल सपना कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की चैदस तिथि को ‘‘रूप चैदस’’ एवं ‘‘नरक नाशिनी चतुर्दशी’’ कहा जाता है। ये दिन दीवाली से एक दिन पहले आता है और कहते हैं कि इस दिन श्री कृष्ण ने नरकासुर का संहार किया था। परंपरा के अनुसार इस दिन भक्ति पूजा करने से आपको बाह्य व आंतरिक सुंदरता व रूप का वरदान मिलता है। इसीलिए इस दिन को ‘‘रूप चैदस’’ भी कहा जाता है। इसके साथ ही इस दिन तन व मन को शुद्ध करके पूजा अर्चना करने से जीवन की कठिन से कठिन नरक जैसी दुर्लभताओं से मुक्ति भी मिलती है इसीलिए इस दिन को ‘‘नरक नाशिनी चतुर्दशी’’ भी कहा जाता है। आइए हम जानें टैरो काडर््स के द्वारा कि यह दीपावली विभिन्न राशियों के लिए क्या सौगात लाने वाला है तथा साथ ही जानिए टैरो सलाह जिससे आप इस दीपावली को और भी आनंददायक बना सकें। मेष: आपके टैरो कार्ड बताते हैं कि आपका मन कुछ ऐसी शक्तिशाली भावनाओं से नियंत्रित व ग्रसित है जिससे आप चाहकर भी बाहर नहीं निकल पा रहे हैं, परिवर्तन लाना चाहते हैं लेकिन बहुत अधिक बंधे हुए महसूस करते हैं, हालातों को बदलना चाहते हैं, कुछ ऐसी मनःस्थितियां हैं जिनसे आप अप्रसन्न हैं। टैरो सलाह: इन स्थितियों से उबरने के लिए आपको अपने जीवन के सभी अस्वस्थ कारक जिनमें आप बुरी तरह संलिप्त हैं उनको तोड़ना होगा। कुछ चीजों से जुड़ाव अच्छा है लेकिन अत्यधिक लगाव आपको परेशान करता है। आपको इनसे बाहर आना है और आप ऐसा कर सकते हैं। स्वयं पर विश्वास रखें क्योंकि आपको स्वयं अज्ञानता की जंजीरों से मुक्त होने से कोई नहीं रोक सकता। वृषभ: आपके कार्ड कहते हैं कि पूर्व में किये गये कुछ कर्म जो वर्तमान व भविष्य का आधार बनते हैं, आपको उन्हीं के अनुसार न्याय मिलेगा जैसे कहते हैं कि जो बोएंगे वही काटेंगे। आपका मन कुछ हैरानी की अवस्था में है, सुख क्षण भंगुर है और पूर्व के कर्मों से मिला दुख बहुत बड़ा महसूस हो रहा है। टैरो सलाह: आपको सलाह दी जाती है कि आप अपने मन की आंखें खोल लें, सच है कि भूतकाल में किये गये कुछ कर्म बदले नहीं जा सकते हैं लेकिन वर्तमान में हम उनकी दिशा को मोड़ अवश्य सकते हैं बेशक उसके लिए आपको थोड़ा परिश्रम करना पड़े और जब आप सच्चाई जानते हैं तो अपने मन को दृढ़ निश्चयी बनाएं ताकि आप ऐसे कुछ गलत निर्णय न लें जिसका परिणाम आपको स्वयं ही भुगतना पड़े। मिथुन: काडर््स बताते हैं कि आपका मन परेशान है क्योंकि सवाल है चुनाव का, क्या सही है और क्या गलत, क्या कहना उचित रहेगा अथवा अनुचित। क्योंकि कठिन है बहुत सी चीजों में किसी एक को चुनना, शक है, डर है, संशय है कौन सी राह ठीक है, कौन गलत मन ऐसी कल्पनाओं में खोया है जिसका स्थायित्व नहीं। टैरो सलाह: बहुत से विकल्पों में से चुनना यद्यपि कठिन है लेकिन लालच को मन से हटा दीजिए, अपने अंतर्मन में झांकिए और सोचिए। वहीं से आपको आवाज अवश्य आयेगी, उसका अनुकरण कीजिए पांव को धरती पर जमाइए और सिर को संशय के बादलों से बाहर निकालिए। कर्क: आपके मन में दर्द है, कुछ टूटन है, कुछ बिखर रहा है, कुछ टूट रहा है, उदासी है, निराशा है, मन की अवस्था बहुत व्यथित है, सच भी है क्योंकि स्थितियां आपके काबू से बाहर हैं। टैरो सलाह: आपको सलाह दी जाती है कि परिवर्तन की आवश्यकता है। आगे बढ़िए, बेशक इसके लिए जितना आपको मिला, उसके लिए भगवान को धन्यवाद दीजिए और विश्वास रखिए कि अभी भी आपने सब कुछ नहीं खोया, वो आप हमेशा वापस पा सकते हैं और ऐसा कुछ जिसे हम बदल नहीं सकते उसकी चिंता छोड़ जीवन पथ पर आगे बढ़ना होगा। सिंह: आपके कार्ड्स आपकी मनःस्थिति के बारे में ये बताते हैं कि आप स्वयं को लेकर सुकून व शांति में हैं, और आप पीछे मुड़कर देखें अगर आपने बहुत कुछ पाया भी है, तो जितनी मेहनत की उतना मिला भी है क्या? लेकिन अब आप रुकना क्यों चाहते हैं? थकने क्यों लगे हैं? टैरो सलाह: मन को थकने मत दीजिए। अगर आपने बहुत कुछ पाया भी है तो भी जीवन के निरंतर चलते रहने के प्रवाह की आदत की तरह आपको भी फिर और आगे बढ़ना है। सीखना है, चलना है। अगर प्रभु सफलता देते हैं, पर आगे बढ़ने की ईच्छा रुक जाती है तो स्थिति आलस्य और अवनति की तरफ बढ़ने में देर नहीं लगाती। मन से अच्छा महसूस करने की स्थिति को बरकरार रखिए। कन्या: कार्ड्स बताते हैं, कि आपका मन जो इस समय ऊपर से बिल्कुल शांत दिखाई दे रहा है, अंदर से शांत नहीं है, हम इसे तूफान से पहले आने वाली शांति समझें या बाद की अशांति? पर इस वक्त आप ऊपर से चुपचाप हैं लेकिन सच है कि काफी संकटों से उबरने के बाद भी मन चिंतित है, अभी और तथा आने वाले संकटों का अंदेशा भी परेशान कर रहा है लेकिन सोचिए काफी कुछ तो निकल ही गया, बाकी भी निकल जायेगा। टैरो सलाह: जरूरत है चिंतन और मनन की। बाहरी दुनिया की चुनौतियों से निबटने से पहले आप अपने अंदर की चुनौतियों पर ध्यान दें और इसके लिए आप थोड़ा विश्राम लें, ध्यान में बैठें, इसके अलावा आध्यात्मिकता की तरफ बढ़ें, ये आपके बहुत प्रश्नों का उŸार देगी। दुख भी अधिक समय तक नहीं रहते। तुला: आपके टैरो कार्ड बताते हैं कि आपका मन अभी कल्पनाओं की दुनिया में व्यस्त है। आपका स्वभाव भावनात्मक व रोमांटिक तो है लेकिन इस समय आप दुविधा में हैं। आदत के मुताबिक सपने देखें या यथार्थ की कड़वी सच्चाई को झेलें। मन की ऐसी स्थिति है कि जो भी परेशानी आ रही है आप उसको झेल नहीं पा रहे हैं और मन बार-बार पलायन की स्थिति पैदा कर देता है। आपकी वास्तविकता आपके स्वभाव से बिल्कुल विपरीत है। टैरो सलाह: आप अपने सपनों को पाना चाहते हैं अच्छी बात है लेकिन अपने सपनों में इतना भी मत उलझें कि आपको यथार्थ का अंदाज न रहे। मन की अस्थिर अवस्था से बाहर आइए और जिन कार्यों को आप कर नहीं सकते उन्हें हाथ में मत लीजिए। मन को केवल उस सीमा तक ले जाएं जहां पर आप उस पर निंयत्रण कर सकते हैं और इस तरह के अभ्यास से अपने जीवन को भी नियंत्रित कीजिए। वृश्चिक: इस वक्त आपका मन परंपराओं, रीति-रिवाजों व सांस्कृतिक मान्यताओं को ही उचित मान रहा है और हो सकता है आपके विचार व नियम अन्य लोगों के लिए कठिन व कड़ा अनुशासन लिए हुए हो, लेकिन यह सच है कि फिर भी अन्य लोग आपको एक शिक्षक की तरह एक परामर्शदाता की तरह समझते हैं। टैरो सलाह: ये सच है कि बुद्धिमŸाा अनुभवों व जीवन में कई बार कठिन कष्ट भोगने के बाद प्राप्त होती है, लेकिन नवीनता को एक चुनौती की तरह स्वीकार करें क्योंकि ‘नया’ सब कुछ बुरा नहीं हो सकता और समय के साथ-साथ बदलना और आगे बढ़ना भी पड़ता है। धनु: आपके मन की स्थिति भावुक है और इस वक्त आप काफी कलात्मक हो रहे हैं। रुझान काव्य, कला, गीत-संगीत की तरफ हैं। आप रिश्तों को भी महत्व दे रहे हैं,क्योंकि आप जानते हैं कि आपका मन अकेलापन व एकांत सहन नहीं कर पाएगा। अभी आप मन से अधिक सोचने लगे हैं और ऐसा करना किसी काल्पनिक दुनिया में पहंुचने जैसा है लेकिन हां आपके मन में इतनी शक्ति व दृढ़ता है कि आप न केवल अपने मन की बातों पर दूसरों की गोपनीय बातें जो आपको बताते हैं, उनको भी अपने तक ही रखते हंै। टैरो सलाह: आपके अंदर बहुत से स्त्रियोचित गुण हैं जैसे दया, कृपा, सहानुभूति इत्यादि। जरूरत है आपको अपनी अंतर्दृष्टि को बढ़ावा देने की और ऐसा करके आप जीवन की बहुत सी परेशानियों से उबर जायेंगे और ये भी कि कभी-कभी मन की दृष्टि के साथ-साथ आंखों से वास्तविकता देखना भी जरूरी होता है। मकर: आपका मन एक बच्चे की तरह भावुक, मासूम एवं चंचल है। मन की उŸाम स्थिति है लेकिन जैसे बच्चे कई बार खेल में इतने मस्त होते हैं और आगे आने वाली चीजों से टकरा कर चोट लगा लेते हैं वैसे ही आपको भी अपने मन की आंखें खोलनी हैं, सोच विचार करना है कि आपके लिए क्या उचित है अथवा अनुचित क्योंकि यदि आप इसी तरह मस्त चाल से चीजों को अनदेखा करके चलते रहे तो जीवन में रिस्क रहेगा क्योंकि ऐसा करके आप आगे आने वाली रुकावटों व खतरों के प्रति सावधान नहीं होंगे। टैरो सलाह: अंत तक पहुंचने के लिए आरंभ करना पड़ता है, लेकिन आप अपनी आत्मा की आवाज को मत नकारिए, थोड़ा ध्यानपूर्वक चलिए, अपने अनुभवों से सीखिए। एक खुला दृष्टिकोण व विश्वास रखिए, बस थोड़ा ध्यान रखने की जरूरत हैं जो होगा अच्छा ही होगा। कुंभ: कार्ड्स इस वक्त आपकी शुभ मनःस्थिति नहीं बता रहे। कुछ आंतरिक पीड़ा की तरफ इशारा है और यही नकारात्मक भावना सोच पर हावी होकर उन्नति को रोक रही है। टैरो सलाह: कुछ परेशानियां हंै लेकिन कुछ कठिनाइयां आप अधिक नकारात्मक सोचकर बना रहे हैं। सर्वप्रथम काल्पनिक समस्याओं को सोचना व देखना बंद करें और फिर वास्तविक समस्याओं से एक-एक करके निपटें, अपने देखने व सोचने के अंदाज को बदलेंगे तो हालात पर आसानी से काबू पा लेंगे याद रखिए कि आपके अंदर आंतरिक शक्ति, दृढ़ता व सहनशीलता है। मीन: आपके मन की स्थिति इस समय एक बच्चे की तरह है जो जीवन को लेकर उत्साहित तो है लेकिन इस संसार के प्रति जिसकी समझ अभी पूर्णरूप से विकसित नहीं हुई है। जिस तरह बच्चा अपनी ही मस्ती में रहता है दुनिया की भौतिकता की उसे कोई चिंता नहीं होती, ठीक वैसे ही आप भी महसूस करते हैं, लेकिन जिस तरह बच्चा अंधेरे से डरता है आप भी अपने अंदर के डर को अंदर ही छुपाए बैठे हैं। टैरो सलाह: सलाह दी जाती है कि बचपन का आनंद लें लेकिन उससे ऊपर उठकर अपने अंदर के डर व संदेहों पर भी नजर डालें, तब आप जानेंगे कि डर का कोई भौतिक स्वरूप नहीं है बल्कि ये तो आपके अंदर यूं ही पड़ा था। आप डर से भी उबर जायेंगे और ये समझ जायेंगे कि इंसान अपने आपसे नहीं भाग सकता। टैरो सलाह: सलाह दी जाती है कि बचपन का आनंद लें लेकिन उससे ऊपर उठकर अपने अंदर के डर व संदेहों पर भी नजर डालें, तब आप जानेंगे कि डर का कोई भौतिक स्वरूप नहीं है बल्कि ये तो आपके अंदर यूं ही पड़ा था। आप डर से भी उबर जायेंगे और ये समझ जायेंगे कि इंसान अपने आपसे नहीं भाग सकता। मित्रों सब ही सोचते हंै कि जीवन में शांति कैसे मिल सकती है लेकिन फिर भी आज प्रत्येक व्यक्ति अशांत है, अशांत मन निरंतर सोचता रहता है। इस निरंतर चिंतन के तनाव से छुटकारा पाकर जब मनुष्य भाव की अवस्था में पहुंचता है तब उसे शांति मिलती है।



श्री महालक्ष्मी विशेषांक  नवेम्बर 2012

फ्यूचर समाचार पत्रिका के श्री महालक्ष्मी विशेषांक में महालक्ष्मी के उद्गम की पौराणिकता, हिन्दू धर्म शास्त्रों में महालक्ष्मी के स्वरूप का वर्णन, विश्व के अन्य धर्म ग्रंथों में महालक्ष्मी के समकक्ष, देवी-देवताओं के नाम तथा उनसे जुडी दन्त कथाएँ, लक्ष्मी पूजन विधि एवं शुभ मुहूर्त, दीपावली पूजन पैक, देवी कमला साधना, तंत्रोक्त लक्ष्मी कवच, लक्ष्मीजी के साथ गणपति पूजन क्यां, लक्ष्मीपूजन के विशेष उपाय, दीपावली पर किये जाने वाले विशेष उपाय व मंत्र, लक्ष्मी प्राप्ति के 51 अचूक उपाय, दीपावली पर किये जाने वाले अनूठे प्रयोगदीपावली पर किये जाने वाले दीपावली पर किये जाने वाले अदभुत टोटके, महालक्ष्मी के प्रमुख पूजा स्थल तथा उनकी महता और मान्यता के अतिरिक्त जन्मकालिक संस्कार, अहोईअष्टमी व्रत, फलादेश में अंकशास्त्र की भूमिका, वास्तु परामर्श, वास्तु प्रश्नोतरी, विवादित वास्तु, यंत्र समीक्षा/मंत्र ज्ञान, हेल्थ कैप्सुल, लाल किताब, टैरो कार्ड, सत्यकथा, अंक ज्योतिष के रहस्य, आदि विषयों पर गहन चर्चा की गई है।

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.