अंजल टैरो-एंजल चिकित्सा एवं टैरो का अदभुत संगम

अंजल टैरो-एंजल चिकित्सा एवं टैरो का अदभुत संगम  

व्यूस : 3378 | नवेम्बर 2012
एंजल टैरो-एंजल चिकित्सा एवं टैरो का अद्भुत संगम रविन्दर सिंह लगभग 300 वर्षों से टैरो भविष्य जानने एवं जीवन के रहस्यों को प्रकट करने का सक्षम साधन रहा है। शुरुआत से टैरो केवल विशेषज्ञों एवं इस कला में पारंगत विशिष्ट व्यक्तियों तक सीमित रहा है। जहां टैरो की भविष्यवाणी करने के लिए उपयुक्तता और सटीकता पर कोई संदेह नहीं है वहीं पर टैरो पर बने कुछ चित्रों का हमारे मन पर भय पैदा करना भी स्वाभाविक है। जब से एंजल चिकित्सा प्रचलन में आई है, उसके साथ ही एंजल कार्ड डेक भी प्रचलित हुई है। एंजल एवं टैरो डेक में एक मुख्य अंतर यह है कि एंजल कार्ड डेक पर सामान्यतः एंजल, परियों, देवी-देवताओं इत्यादि के चित्र होते हैं और टैरो डेक पर मानव एवं मानव जीवन से संबंधित चित्र होते हैं। इसमें मानव द्वारा निर्मित हथियारों जैसे तलवार इत्यादि के चित्र भी होते हैं। एंजल कार्ड पर कई संदेश भी होते हैं जो उस कार्ड के मुख्य संदेश पर प्रकाश डालते हैं। डोरीन वर्च् एंजल चिकित्सा क्षेत्र में एक जाना माना नाम है जिन्होंने रैडली वैलंटाइन नामक टैरो विशेषज्ञ के साथ मिलकर एंजल टैरो की रचना की है जो टैरो एवं एंजल चिकित्सा का एक अद्भुत संगम है। टैरो ने अनगिनत लोगों के जीवन को प्रभावित किया है एवं उन्हें शांति, सांत्वना एवं शक्ति प्रदान की है। टैरो के साथ काम करना एक ज्ञानी व्यक्ति से सलाह लेने के समान है जो आपकी शक्तियों एवं कमियों को समान दृष्टि से देखता है और भविष्य के बारे में सभी जानकारी देता है। एंजल टैरो कार्ड डेक ने टैरो के सभी महत्वपूर्ण पहलुओं को यथावत बनाये रखा है और केवल सकारात्मक, सौम्य, शांत एवं शीतलता प्रदान करने वाले शब्दों एवं चित्रों का प्रयोग किया है। इस नीवन डेक में मनुष्य की भावनाओं की समूची शृंखला को बनाये रखा है परंतु पारंपरिक टैरो के भयपूर्ण चित्रों एवं शब्दों का सकारात्मक रूपांतर किया है ताकि वे भयभीत करने के स्थान पर प्रेरित एवं आलोकित करें। नये एंजल टैरो के चित्र एवं संदेश पारंपरिक टैरो प्रयोग करने वालों के लिए अपरिचित अवश्य होंगे परंतु सभी कार्डों के संदेश सटीक, सकारात्मक एवं प्रेरणा स्रोत हैं। इस डेक में पारंपरिक डेक के मूल अर्थों को बनाये रखते हुए उन्हंे सरल बनाने का भी प्रयत्न किया गया है। एंजल कार्ड डेक की विशेषताएं: एंजल कार्ड डेक में पारंपरिक टैरो डेक की भांति 78 कार्ड हैं। मुख्य अर्काना में 22 कार्ड हैं जिन्हें 15 आर्केंजल द्वारा प्रदर्शित किया गया है। यह आर्केंजल इस कार्ड की विशेषता से मेल खाते हैं। मुख्य अर्काना के कार्डों की सूची निम्नलिखित है- 1. ड्रीमर (स्पप्नद्रष्टा)-आर्केंजल मैटाट्रान 2. मैजीशियन (जादूगर)-आर्केंजल रेजियल 3. हाई प्रीसटेस (महा पुजारिन)-आर्केंजल हैनियल 4. एंप्रेस (साम्राज्ञी)-आर्केंजल ग्रेब्रियल 5. एंप्रर (सम्राट)-आर्केंजल माइकल 6. यूनिटी (एकता)-आर्केंजल संदलफन 7. लवर्स (प्रेमी जोड़ा)-आर्केंजल राफियल 8. चैरियट (रथ)-आर्केंजल मैटाट्रान 9. जस्टिस (न्याय)-आर्केंजल रागुअल 10. हर्मिट (वैरागी)-आर्केंजल रेज़ियल 11. व्हील (चक्र)-आर्केंजल माइकल 12. स्ट्रेंथ (शक्ति)-आर्केंजल आरियल 13. अवेकनिंग (जागृति)-आर्केंजल गेब्रियल 14. रिलीज (निर्गमन)-आर्केंजल अज़रायिल 15. बैलेंस (संतुलन)-आर्केंजल ज़ैडकियल 16. ईगो (अहम्)-आर्केंजल जोफियल 17. लाईफ एक्सपीरियंस (जीवन अनुभव)-आर्केंजल शेमुअल 18. स्टार (तारा)-आर्केंजल जोफियल 19. मून (चंद्र)-आर्केंजल हैनियल 20. सन (सूर्य)-आर्केंजल यूरियल 21. रिन्यूअल (नवीनीकरण)-आर्केंजल जैरीमीयल 22. वल्र्ड (संसार)-आर्केंजल माईकल एंजल कार्ड डेक के सृजनकर्ताओं के अनुसार मूल टैरो डेक में जस्टिस (न्याय) आठवां कार्ड था एवं स्ट्रेंथ (शक्ति) ग्यारहवां कार्ड था परंतु रेडर वेट डेक में इस क्रम को बदल दिया गया। इस बदलाव के कारण ज्ञात नहीं हैं और इसने मुख्य अर्काना की जीवन धारा के क्रम को भंग कर दिया। एंजल कार्ड डेक ने इस मूल क्रम को पुनस्र्थापित किया है। आप यह भी पायेंगे कि डेविल (शैतान) कार्ड को बदलकर ईगो (अहम्) कर दिया गया है और टावर (मीनार) कार्ड को बदलकर लाईफ एक्सपीरियंस (जीवन अनुभव) कर दिया गया है। लघु अर्काना: लघु अर्काना में चार रंग होते हैं जो चार तत्वों केा दर्शाते हैं। एंजल टैरो में निम्नलिखित वस्तुओं द्वारा चार तत्वों को दर्शाया गया है। पृथ्वी - परियां वायु - यूनीकार्न (पौराणिक जंतु जो घोड़े जैसा होता है और उसके सिर पर एक सींग होता है)। जल - मत्स्य कन्या अग्नि - ड्रैगन (सर्प दैत्य) एंजल टैरो डेक में हर तत्व के कार्ड को भिन्न रंग में दर्शाया गया है। इस डेक के कार्डों के रंग इस प्रकार हैं। पृथ्वी - हरा वायु - राॅयल ब्लू (गहरा नीला) जल - नीला अग्नि - बरगंडी (गहरा जामुनी) मुख्य अर्काना - राॅयल पर्पल (जामुनी) एंजल कार्ड डेक का उपयोग कैसे करें? डोरीन वर्च् के अनुसार आप मुख्य अर्काना एवं लघु अर्काना को दो अलग डेक के रूप में उपयोग कर सकते हैं। आप मुख्य अर्काना के कार्डों को किसी भी एंजल कार्ड डेक के साथ मिलाकर भी प्रयोग में ला सकते हैं। एंजल कार्ड डेक के सृजनकर्ताओं के द्वारा सेलटिक क्राॅस विधि के उपयोग की सलाह दी गई है। सेलटिक क्राॅस विधि में 10 कार्ड निकाले जाते हैं जैसा ऊपर दिखाया गया है। कार्ड-1 आपकी परिस्थिति को दर्शाता है। कार्ड-2 आपकी परिस्थिति को प्रभावित करने वाली चुनौती को दर्शाता है। कार्ड-3 आपकी समस्या के आधार को दर्शाता है। कार्ड-4 आपका भूत जो आपकी परिस्थिति से संबंधित है। कार्ड-5 आपके वर्तमान को दर्शाता है। कार्ड-6 आपके निकट भविष्य को दर्शाता है। कार्ड-7 परिस्थिति में आपकी शक्ति को दिखाता है। कार्ड-8 आपके आसपास के व्यक्तियों के आपके ऊपर पड़ने वाले प्रभाव को दर्शाता है। कार्ड-9 आपकी आशाएं एवं भय को प्रदर्शित करता है। काडर्- 10 आपक े परिणाम का े दशार्त ा ह।ै एंजल कार्ड डेक को प्राप्त करने के लिए एवं उसके बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए आप निम्नलिखित पते पर संपर्क कर सकते हैं।

Ask a Question?

Some problems are too personal to share via a written consultation! No matter what kind of predicament it is that you face, the Talk to an Astrologer service at Future Point aims to get you out of all your misery at once.

SHARE YOUR PROBLEM, GET SOLUTIONS

  • Health

  • Family

  • Marriage

  • Career

  • Finance

  • Business

श्री महालक्ष्मी विशेषांक  नवेम्बर 2012

futuresamachar-magazine

फ्यूचर समाचार पत्रिका के श्री महालक्ष्मी विशेषांक में महालक्ष्मी के उद्गम की पौराणिकता, हिन्दू धर्म शास्त्रों में महालक्ष्मी के स्वरूप का वर्णन, विश्व के अन्य धर्म ग्रंथों में महालक्ष्मी के समकक्ष, देवी-देवताओं के नाम तथा उनसे जुडी दन्त कथाएँ, लक्ष्मी पूजन विधि एवं शुभ मुहूर्त, दीपावली पूजन पैक, देवी कमला साधना, तंत्रोक्त लक्ष्मी कवच, लक्ष्मीजी के साथ गणपति पूजन क्यां, लक्ष्मीपूजन के विशेष उपाय, दीपावली पर किये जाने वाले विशेष उपाय व मंत्र, लक्ष्मी प्राप्ति के 51 अचूक उपाय, दीपावली पर किये जाने वाले अनूठे प्रयोगदीपावली पर किये जाने वाले दीपावली पर किये जाने वाले अदभुत टोटके, महालक्ष्मी के प्रमुख पूजा स्थल तथा उनकी महता और मान्यता के अतिरिक्त जन्मकालिक संस्कार, अहोईअष्टमी व्रत, फलादेश में अंकशास्त्र की भूमिका, वास्तु परामर्श, वास्तु प्रश्नोतरी, विवादित वास्तु, यंत्र समीक्षा/मंत्र ज्ञान, हेल्थ कैप्सुल, लाल किताब, टैरो कार्ड, सत्यकथा, अंक ज्योतिष के रहस्य, आदि विषयों पर गहन चर्चा की गई है।

सब्सक्राइब


.