कालसर्प दोष से मुक्ति के लिए लाल किताब के अचूक उपाय

कालसर्प दोष से मुक्ति के लिए लाल किताब के अचूक उपाय  

कालसर्प दोष से मुक्ति के लिए लाल किताब के अचूक उपाय चंदा जैन कालसर्प का संबंध पितृ दोष से है। इस योग से प्रभावित व्यक्ति का जीवन तनावपूर्ण और संघर्षमय रहता है। उसके कार्यों में बाधाएं आती रहती हैं। उसके विवाह और विवाहित होने की स्थिति में संतानोत्पत्ति में विलंब होता है। इसके अतिरिक्त शिक्षा में बाधा, दाम्पत्य जीवन कलह, मानसिक अशांति, रोग, धनाभाव, प्रगति में रुकावट आदि की संभावना रहती है। कुंडली के जिस भाव से कालसर्प की सृष्टि होती है, उस भाव से संबंधित कष्टों की प्रबल संभावना रहती है। ज्योतिष की अन्य विधाओं की भांति लाल किताब में भी कालसर्प दोष के शमन के कुछ उपाय बताए गए हैं जिनका भावानुसार संक्षिप्त विवरण यहां प्रस्तुत है। प्रथम भाव में राहु और सप्तम भाव में केतु हो तो- अपने वजन के बराबर जौ या गेहूं अथवा कोई अन्य खाद्यान्न्ा बहते जल में प्रवाहित करें। किसी भी प्रकार का राजकीय कोप होने पर अपने वजन के बराबर कोयला बहते जल मंे में प्रवाहित करें। बीमार होने की स्थिति में मसूर की दाल और एक सिक्का 3 दिन तक प्रतिदिन भंगी को दें। धन की प्राप्ति के लिए बिल्ली की जेर कपड़े मंे बांधकर घर में रखें। चांदी की चेन धारण करें। बहते पानी में नारियल प्रवाहित करें। द्वितीय में राहु और अष्टम में केतु हो तो- चांदी की डिबिया में सोने या चांदी की ठोस गोली केसर के साथ सदैव अपने पास रखें। हाथी के पैरों की मिट्टी कुएं में गिराएं। धार्मिक स्थान में केसर और चंदन दान करें। साथ ही प्रत्येक धर्म स्थल में यथासमय यथा योग्य सेवा अर्चना करते रहें। कानों में सोना पहनें। तृतीय भाव में राहु और नवम भाव में केतु हो तो- घर में हाथी का दांत और सोने का टुकड़ा रखें। बुद्धिजीवी वर्ग का सदैव आदर करें। कुŸाा पालें। यदि वह मर जाए या भाग जाए तो दूसरा ले आएं। चतुर्थ भाव में राहु और दशम भाव में कितु हो तो- घर में चांदी की डिबिया में शहद भरकर रखना चाहिए। चांदी धारण करें। कोई नया कार्य या रुका पड़ा कार्य संपन्न करने से पहले 400 ग्राम साबुत धनिया एवं 400 ग्राम बादाम बहते जल में प्रवाहित करें। मकान की केवल छत कभी न बदलें। बदलना हो, तो पूरा घर पुनः बनवाएं। पंचम में राहु और एकादश में केतु हो तो- चांदी का हाथी बनाकर घर में रखें। शराब और मांस से दूर रहें। रात के समय पत्नी के सिराहने में पांच मूलियां रखें और प्रातः उठकर उन्हें मंदिर में दान करें। किसी कार्य हेतु घर से निकलने से पूर्व सोने को गर्म कर दूध में बुझाएं और उसमें केसर मिलाकर पीएं। केसर का तिलक करें। षष्ठ में राहु और द्वादश भाव में केतु हो तो- मां सरस्वती की मूर्ति घर में रखें और उस पर नित्य नीले रंग के फूल चढ़ाएं (कम से कम छः दिन नियमित)। हमेशा कुŸाा पालें। यदि मर जाए या भाग जाए, तो दूसरा पालें। बहते पानी में मूंग प्रवाहित करें। सप्तम में राहु और लग्न में केतु हो तो- चांदी की ईंट बनवाकर घर में रखें। शनिवार को 105 बादाम या 7 नारियल बहते जल में प्रवाहित करें। संयम बरतें, विवाहेतर संबंध से बचें। अष्टम में राहु और द्वितीय में केतु हो तो- चांदी का चैकोर टुकड़ा हमेशा अपनी जेब में रखें। व्यापार ठप होने की स्थिति में 43 दिन तक खोटे सिक्के बहते पानी में बहाएं । प्रतिदिन घर से निकलते समय केसर या हल्दी का तिलक करें। नवम में राहु और तृतीय में केतु हो तो- कुŸाा पालें। घर का मुखिया न बनें। सिर पर चोटी रखें और तिलक लगाएं। बहते पानी में चावल एवं गुड़ प्रवाहित किया करें। भाइयों से विवाद न करें। दशम में राहु और चतुर्थ में केतु हो तो- नीले, काले रंग की टोपी या पगड़ी पहनें। मसूर की दाल या गुड़ बहते जल में प्रवाहित करें। प्रतिकूल घटनाओं से बचने के लिए बहते पानी में नींबू प्रवाहित करें। दूध में गर्म सोना बुझाकर पीने से लाभ होगा। कानों में सोना धारण करें। एकादश में राहु और पंचम में केतु हो तो- ब्राह्मणों को सोना व पीले वस्त्र दान करें और स्वयं तिलक करें। गुड़, चावल, दूध आदि बहते पानी में प्रवाहित करें। चांदी के गिलास में पानी पीया करें। गुरुवार को पीले कपड़े में चने या चने की दाल बांधकर दान करें तथा उस दिन लहसुन और प्याज का सेवन न करें। द्वादश में राहु और षष्ठ में केतु हो तो- योगासन करते रहें। रात को सोते समय लाल कपड़े में सौंफ और मिश्री बांधकर सिरहाने में रखें। भोजन रसोई घर में बैठकर करें। सोने की अंगूठी धारण करें। दूध में केसर मिलाकर या सोना बुझाकर पीएं। ध्यातव्य है कि कुंडली में जिस भाव से पूर्ण या आंशिक कालसर्प योग बन रहा हो उसी के अनुरूप उक्त उपाय करने चाहिए।
क्या आपको लेख पसंद आया? पत्रिका की सदस्यता लें
kalasarp dosh se mukti ke lielal kitab ke achuk upaychanda jainkalasarp ka sanbandh pitri dosh sehai. is yog se prabhavitavyakti ka jivan tanavpurn aursangharshamay rahta hai. uske karyon menbadhaen ati rahti hain. uske vivahaur vivahit hone ki sthiti mensantanotpatti men vilanb hota hai. iskeatirikt shiksha men badha, dampatya jivanakalah, mansik ashanti, rog, dhanabhav,pragti men rukavat adi ki sanbhavnarhti hai.kundli ke jis bhav se kalasarp kisrishti hoti hai, us bhav se sanbandhitakashton ki prabal sanbhavna rahti hai.jyotish ki anya vidhaon ki bhantilal kitab men bhi kalasarp dosh keshaman ke kuch upay batae gae hainjinka bhavanusar sankshipt vivaran yahanprastut hai.pratham bhav men rahu aur saptamabhav men ketu ho to- apne vajan ke barabar jau ya gehunathva koi anya khadyanna bahtejal men pravahit karen. kisi bhi prakar ka rajkiya kophone par apne vajan ke barabrkoyla bahte jal mane men pravahitkren. bimar hone ki sthiti men masur kidal aur ek sikka 3 din takapratidin bhangi ko den. dhan ki prapti ke lie billi kijer kapre mane bandhakar ghar men rakhen. chandi ki chen dharan karen. bahte pani men nariyal pravahitkren.dvitiya men rahu aur ashtam men ketuho to- chandi ki dibiya men sone ya chandiki thos goli kesar ke sathsdaiv apne pas rakhen. hathi ke pairon ki mitti kuen mengiraen. dharmik sthan men kesar aur chandndan karen. sath hi pratyek dharmasthal men yathasamay yatha yogyaseva archana karte rahen. kanon men sona pahnen.tritiya bhav men rahu aur navmbhav men ketu ho to- ghar men hathi ka dant aur soneka tukra rakhen. buddhijivi varg ka sadaiv adar karen.kuÿaa palen. yadi vah mar jae yabhag jae to dusra le aen.chturth bhav men rahu aur dashmbhav men kitu ho to- ghar men chandi ki dibiya men shahadabharakar rakhna chahie. chandi dharan karen. koi naya karya ya ruka parakarya sanpann karne se pahle 400gram sabut dhaniya evan 400 grambadam bahte jal men pravahitkren. makan ki keval chat kabhi nabdlen. badlna ho, to pura gharpunah banvaen.pancham men rahu aur ekadash menketu ho to- chandi ka hathi banakar ghar menrkhen. sharab aur mans se dur rahen. rat ke samay patni ke sirahne menpanch muliyan rakhen aur pratah uthkraunhen mandir men dan karen. kisi karya hetu ghar se niklnese purva sone ko garm kar dudh menbujhaen aur usmen kesar milakrpien. kesar ka tilak karen.shashth men rahu aur dvadash bhav menketu ho to- man sarasvati ki murti ghar men rakhenaur us par nitya nile rang keful charhaen (kam se kam chah dinniyamit). hamesha kuÿaa palen. yadi mar jaeya bhag jae, to dusra palen. bahte pani men mung pravahit karen.saptam men rahu aur lagn men ketuho to- chandi ki int banvakar ghar menrkhen. shanivar ko 105 badam ya 7nariyal bahte jal men pravahitkren. sanyam barten, vivahetar sanbandh sebchen.ashtam men rahu aur dvitiya men ketuho to- chandi ka chaikor tukra hameshaapni jeb men rakhen. vyapar thap hone ki sthiti men 43din tak khote sikke bahte panimen bahaen . pratidin ghar se niklte samykesar ya haldi ka tilak karen.navam men rahu aur tritiya men ketuho to- kuÿaa palen. ghar ka mukhiya n banen. sir par choti rakhen aur tilklgaen. bahte pani men chaval evan gurapravahit kiya karen. bhaiyon se vivad n karen.dasham men rahu aur chaturth men ketuho to- nile, kale rang ki topi ya pagriphnen. masur ki dal ya gur bahte jalmen pravahit karen. pratikul ghatnaon se bachne ke liebhte pani men ninbu pravahit karen. dudh men garm sona bujhakar pine selabh hoga. kanon men sona dharan karen.ekadash men rahu aur pancham menketu ho to- brahmanon ko sona v pile vastradan karen aur svayan tilak karen. gur, chaval, dudh adi bahte panimen pravahit karen. chandi ke gilas men pani piyakren. guruvar ko pile kapre men chane yachne ki dal bandhakar dan karenttha us din lahsun aur pyajka sevan n karen.dvadash men rahu aur shashth men ketuho to- yogasan karte rahen. rat ko sote samay lal kapre mensaunf aur mishri bandhakar sirhanemen rakhen. bhojan rasoi ghar men baithakar karen. sone ki anguthi dharan karen. dudh men kesar milakar ya sonabujhakar pien.dhyatavya hai ki kundli men jis bhav sepurn ya anshik kalasarp yog banrha ho usi ke anurup ukt upaykrne chahie.
क्या आपको लेख पसंद आया? पत्रिका की सदस्यता लें


काल सर्प विशेषांक  अप्रैल 2009

कालसर्प योग विशेषांक में कालसर्प योग के सभी पहलूओं पर प्रकाश डाला गया है. इस विशेषांक में कालसर्प योग क्या है, कार्यसर्प निवारण के विभिन्न उपाय, कालसर्प योग से प्रभावित विशिष्ट कुंडलियों का विश्लेषण तथा कालसर्प योग किसे सर्वाधिक प्रभावित करता है. आदि विषयों का विश्लेषण किया गया है.

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.