सम्मोहन उपचार

सम्मोहन उपचार  मार्च 2012

सम्मोहन उपचार जे. पी. मलिक अनेकों लोग विश्व भर में विभिन्न प्रकार की विधाओं और प्रक्रियाओं का विभिन्न कारणों हेतु प्रयोग कर रहें हैं। सम्मोहन भी इन विधाओं में से एक है जो कि लोग स्वयं व दूसरों के उपयोग हेतु प्रयोग करते हैं। यह प्रश्न स्वाभाविक है कि कोई सम्मोहन को क्यों सीखे या क्यों इसका प्रयोग करे? इस पर टिप्पणी करने से पहले कुछ ऐसे सवालों के बारे में बताना जरूरी है जो कि मुझसे अनेकों बार अनेकों व्यक्तियों ने विभिन्न परिप्रेक्ष्य में पूछे हैं जैसे कि- अपने दोस्त या जीवन साथी की जानकारी के बिना उनके रहस्य जानना; किसी समय-विशेष से जुड़ी याददाश्त को भूलना; जो भी सोचूं, वही सच हो जाये, बच्चों की आदतें उन्हें बताये बिना बदलना, अपने बाॅस को काबू में रखना, बगैर मेहनत के कार्य पूरा करना, बिना व्यायाम व खाने की परवाह किये बिना वजन कम करना इत्यादि। इस प्रकार के प्रश्न लोग सम्मोहन के बारे में अनुचित जानकारी के कारण पूछते हैं। वस्तुतः सम्मोहन कोई अलौकिक शक्ति नहीं है बल्कि यह तो मन की एक ऐसी दशा है जहां बातें मानने की प्रवृŸिा बढ़ जाती है जिसके माध्यम से अनेकों सुधार किये जाते हैं। इस प्रक्रिया में व्यक्ति पूर्ण भागीदार रहता है तथा यदि उसको भूलने के लिए नहीं कहा जाये तो पूरी प्रक्रिया को याद रखता है। इस प्रक्रिया में न तो किसी जादू का प्रयोग होता है, न किसी यंत्र-मंत्र-तंत्र का प्रयोग हेाता है और न ही किसी बाह्य शक्ति या दवा का प्रयोग किया जाता है बल्कि व्यक्ति की स्वयं मन की शक्ति को उपचार करने के लिए प्रयोग किया जाता है। सम्मोहक तो मात्र एक गाइड या ड्राइवर की तरह दिशा-निर्देशन व दिशा-नियंत्रण करता है। हम अपनी आदतों के निर्माण के लिए स्वयं जिम्मेदार होते हैं और इसी प्रकार स्वयं सुधार भी कर सकते हैं। भलीभांति प्रशिक्षित कोई मनोवैज्ञानिक या सम्मोहक इस पूरी प्रक्रिया को संभावित बदलाव हेतु संचालित कर सकता है। व्यक्ति इस प्रक्रिया में अपने पूरे नियंत्रण में रहकर वांछित बदलाव पाता है। आवश्यकतानुसार सम्मोहन उपचार की विभिन्न प्रक्रियाएं प्रयोग की जाती हैं। लोग अक्सर बुद्धिमान व बुद्धिहीन शब्दों का प्रयोग करते हैं लेकिन हकीकत यह है कि अवचेतन मन सभी व्यक्तियों का बराबर शक्तिशाली होता है। सभी सामान्य व्यक्ति स्वयं उपचार की शक्ति रखते हैं। इस विश्वास को जगाने के लिए मन की शक्तियों का प्रयोग किया जाता है। जब हमारे पास शक्ति है तो उसका प्रयोग क्यों न करें? यह सब सम्मोहन द्वारा संभावित है। अधिकतर बीमारियों का मनोवैज्ञानिक कारण भी होता है। बीमारियां हमारे शरीर व व्यवहार में प्रकट होती है मनोवैज्ञानिक कारणों को ठीक करने के लिए सम्मोहन या इसी प्रकार की मनोवैज्ञानिक विधियों का प्रयोग किया जाता है। हमारा शरीर तो मन के हाथों प्रयोग किया जाने वाला एक औजार मात्र है। विभिन्न बीमारियों मंे सम्मोहन का प्रभाव आगे आने वाले अंकों में किया जाएगा। यह सर्वमान्य है कि बदलाव की प्रक्रिया हमारे मन से शुरु होती है। क्रमश अगले अंक में...
क्या आपको लेख पसंद आया? पत्रिका की सदस्यता लें
sammohan upcharje. pi. malikanekon log vishva bhar men vibhinnaprakar ki vidhaon aur prakriyaon kavibhinn karnon hetu prayog kar rahen hain.sammohan bhi in vidhaon men se ek haijo ki log svayan v dusron ke upyoghetu prayog karte hain. yah prashnasvabhavik hai ki koi sammohan kokyon sikhe ya kyon iska prayog kare?is par tippani karne se pahle kuchaise savalon ke bare men batana jarurihai jo ki mujhse anekon bar anekonvyaktiyon ne vibhinn pariprekshya men puche hainjaise ki- apne dost ya jivan sathiki jankari ke bina unke rahasyajanna; kisi samy-vishesh se juriyaddasht ko bhulna; jo bhi sochun,vahi sach ho jaye, bachchon ki adtenunhen bataye bina badlna, apne baesko kabu men rakhna, bagair mehanat kekarya pura karna, bina vyayam v khaneki parvah kiye bina vajan kamkrna ityadi. is prakar ke prashnalog sammohan ke bare men anuchitjankari ke karan puchte hain.vastutah sammohan koi alaukik shaktinhin hai balki yah to man ki ek aisidsha hai jahan baten manne ki pravriÿia barhjati hai jiske madhyam se anekonsudhar kiye jate hain. is prakriya menvyakti purn bhagidar rahta hai tathaydi usko bhulne ke lie nahin kahajaye to puri prakriya ko yad rakhtahai. is prakriya men n to kisi jaduka prayog hota hai, n kisiyantra-mantra-tantra ka prayog heata hai auran hi kisi bahya shakti ya dava kaprayog kiya jata hai balki vyakti kisvayan man ki shakti ko upchar karneke lie prayog kiya jata hai.sammohak to matra ek gaid yadraivar ki tarah disha-nirdeshan vadisha-niyantran karta hai. ham apniadton ke nirman ke lie svayanjimmedar hote hain aur isi prakar svayansudhar bhi kar sakte hain. bhalibhantiprashikshit koi manovaigyanik yasammohak is puri prakriya ko sanbhavitbdlav hetu sanchalit kar sakta hai.vyakti is prakriya men apne pureniyantran men rahakar vanchit badlavpata hai. avashyaktanusar sammohnaupchar ki vibhinn prakriyaen prayog kijati hain. log aksar buddhiman vabuddhihin shabdon ka prayog karte hainlekin hakikat yah hai ki avchetanaman sabhi vyaktiyon ka barabarashaktishali hota hai. sabhi samanyavyakti svayan upchar ki shakti rakhtehain. is vishvas ko jagane ke lieman ki shaktiyon ka prayog kiyajata hai. jab hamare pas shakti hai touska prayog kyon n karen? yah sabasammohan dvara sanbhavit hai.adhikatar bimariyon ka manovaigyanikkaran bhi hota hai. bimariyan hamareshrir v vyavhar men prakat hoti haimnovaigyanik karnon ko thik karneke lie sammohan ya isi prakar kimnovaigyanik vidhiyon ka prayog kiyajata hai. hamara sharir to man ke hathonprayog kiya jane vala ek aujarmatra hai. vibhinn bimariyon mane sammohnka prabhav age ane vale ankon menkiya jaega. yah sarvamanya hai kibdlav ki prakriya hamare man se shuruhoti hai.kramash agle ank men...
क्या आपको लेख पसंद आया? पत्रिका की सदस्यता लें


टैरो पद्धति विशेषांक  मार्च 2012

फ्यूचर समाचार पत्रिका के टैरो पद्धति विशेषांक में क्या है टैरो कार्डों की रूपरेखा, मजर आरकाना कार्डों की चित्र, माइनर अरकाना का विराट कैनवास, अैरो की रहस्यमयी दुनिया का परिचय, टैरो कार्ड प्रयोग विधि, अच्छी कार्ड रीडिंग के लिए, टैरो पद्धति एवं भारतीय ज्योतिष, टैरो एवं एंजल कार्ड रीडिंग, पुरुष वर्ग टैरो विद्या में क्यों नहीं ? आदि आलेख शामिल किये गए हैं। इसके अतिरिक्त वर वधू का मिलान, वास्तु परामर्श, वास्तु प्रश्नोतरी, विवादित वास्तु, यंत्र समीक्षा/मंत्र ज्ञान, हेल्थ कैप्सुल, लाल किताब, ज्योतिष सामग्री, सम्मोहन, सत्यकथा, स्वास्थ्य, पावन स्थल, ग्रहों की कहानी आदि विषयों पर भी विस्तृत चर्चा की गई है।

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.