ग्रहफल एवं राशिफल

ग्रहफल एवं राशिफल  

ग्रहफल एवं राशिफल पं. उमेश शर्मा जब कोई ग्रह अपनी निश्चित राशि अर्थात वह राशि जिसका वह स्वामी गिना जाता है, या ऊँच-नीच फल की ठहराई हुई राशि (देखें सूत्र नं. 4), या अपने पक्के घर (देखें सूत्र नं. 2) की बजाय किसी दूसरी राशि में जा बैठे या किसी दूसरे ग्रह का साथी हो जाये या किसी ग्रह की जड़ अदला-बदली कर ले तो ऐसी हालत में वह ग्रह राशिफल अर्थात शक्की हालत का होगा जिसके बुरे असर से बचने के लिए उसके शक का लाभ उठाया जा सकता हैं। इसके विरुद्ध यानि ऊपर कही हुई हालत के उलट हाल पर अर्थात ग्रह अपनी निश्चित राशि या अपने पक्के घर में बिना किसी ग्रह का साथी बने स्थित हो तो वह ग्रह ग्रहफल यानि पक्की हालत का ग्रह होगा जिसके बुरे असर को बदलने की कोशिश नाकाम होगी बल्कि यह काम इन्सानी शक्ति से बाहर होगा। उदाहरणः- उदाहरण कुंडली द्वारा इस सूत्र को अच्छी तरह समझा जा सकता है। उदाहरण कुंडली में बृह. पूर्ण रुप से ग्रहफल का है क्योंकि वह अपने पक्के घर में स्थित है। अतः इसका कोई उपाय नहीं होगा। बाकी समस्त ग्रह उपाय के काबिल होगें। मंगल व शनि भी अपने पक्के घर में हैं परन्तु मंगल का चन्द्र के साथ होने से वह शनि का बुनिम्न तालिका द्वारा जानें कौन सा ग्रह ग्रहफल का राजा होगा एवं कौन राशिफल या साथी मंत्री होगा। कौन ग्रहफल का राजा होगा कौन राशिफल उसका साथी मंत्री होगा 1. बालिग ग्रह ’ 1. नाबालिग ग्रह ’ 2. 9 ग्रह 2. 12 राशियां 3. किस्मत का ग्रह 3. किस्मत को जगाने वाला ग्रह 4. एक-दो-तीन के क्रम से पहले भावों में स्थित ग्रह जब वह निश्चित जगहों से किसी दूसरी जगह हों। 4. बाद के भावों के ग्रह जब कि वह अपनी निश्चित जगह से हटे हुए हो। 5. भाव नं. 1 के ग्रह 5. भाव नं. 9 के ग्रह 6. जन्म के समय लग्न में स्थित ग्रह अपने दौरे के समय तक 6. राशि नं. के हिसाब से उम्र पर बोलने ग्रह अपनी राशि में बोलने की अवधि अर्थात 3 वर्ष तक 7. जन्मसमय का ग्रह(विस्तार से सूत्र नं. 9 देखें) 7. जन्मदिन का ग्रह (विस्तार से सूत्र नं.9 देखें) टिप्पणीः- आम तौर पर वर्षफल के हिसाब से तख्त( लग्न)पर आने वाला ग्रह राजा बनता है और राशि नं. पर बोलने वाला ग्रह मंत्री बनता है। जो ग्रह वर्षफल के हिसाब से तख्त(लग्न) का दौरा कर ले वह बालिग हो जाता है। सूर्य अगर जन्मकुंडली में पहले या 5वें या 11वें भाव या बुध 6ठे भाव में हो तो सारे ग्रह बालिग माने जाते हैं। ’ जन्मकुंडली में लग्न में स्थित ग्रह को छोड़ कर बाकि सभी ग्रह नाबालिग माने जाते हैं। विशेषः- अ. सूर्य कभी राशि फल का नहीं होता सिवाय भाव नं. 1 व 5 में स्थित सूर्य के। सूर्य इन भावों में जिस राशि में होता है उस राशि का स्वामी ग्रह एवं उसके बराबर के ग्रह (देखें सूत्र नं. 3) राशिफल के हो जायेगें। सूर्य के संबंध से राशिफल हो गये ग्रह के अशुभ असर को दूर करने के लिए खुद सूर्य के उपाय से वह शुभ असर देने लग जायेगा लेकिन अगर सूर्य का खुद अपना ही असर दूसरों पर बुरा हो रहा हो तो सूर्य के शत्रु ग्रहों को शुभ करने का उपाय करें । उदाहरण के तौर पर अगर सूर्य सप्तम स्थान में हो और शनि से टकराव हो रहा हो तो चन्द्र को नष्ट करने से सूर्य की मदद होगी। ब. भाव नं. 1 व 5 में स्थित सूर्य अपने मित्र व शत्रु ग्रह को सहायता कर दिया करता है। ऐसी हालत में राशिफल का सवाल या किसी उपाय की जरुरत न होगी। स. चन्द्र हमेशा राशिफल का होता है।



यंत्र, शंख एवं दुर्लभ सामग्री विशेषांक  जुलाई 2012

फ्यूचर समाचार पत्रिका के यंत्र शंख एवं दुर्लभ सामग्री विशेषांक में शंख प्रश्नोत्तरी, यंत्र परिचय, रहस्य, वर्गीकरण, महिमा, शिवशक्ति से संबंध, विश्लेषण तथा यंत्र संबंधी अनिवार्यताओं पर प्रकाश डाला गया है। इसके अतिरिक्त श्रीयंत्र का अंतर्निहित रहस्य, नवग्रह यंत्र व रोग निवारक तेल, दक्षिणावर्ती शंख के लाभ, पिरामिड यंत्र, यंत्र कार्य प्रणाली और प्रभाव, कष्टनिवारक बहुप्रभावी यंत्र, औषधिस्नान से ग्रह पीड़ा निवारण, शंख है नाद ब्रह्म एवं दिव्य मंत्र, बहुत गुण है शंख में, अनिष्टनिवारक दक्षिणावर्ती शंख, दुर्लभ वनस्पति परिचय एवं प्रयोग, शंख विविध लाभ अनेक आदि विषयों पर विस्तृत, ज्ञानवर्द्धक व अत्यंत रोचक जानकारी दी गई है। इसके अतिरिक्त क्या नरेंद्र मोदी बनेंगे प्रधानमंत्री, प्रमुख तीर्थ कामाख्या, विभिन्न धर्म एवं ज्योतिषीय उपाय, फलादेश प्रक्रिया की आम त्रुटियां, नवरत्न, वास्तु परामर्श, वास्तु प्रश्नोतरी, विवादित वास्तु, यंत्र समीक्षा/मंत्र ज्ञान, हेल्थ कैप्सुल, लाल किताब, ज्योतिष सामग्री, सम्मोहन, सत्यकथा, आदि विषयों को भी शामिल किया गया है।

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.