अनिष्ट निवारक दक्षिणावर्ती शंख

अनिष्ट निवारक दक्षिणावर्ती शंख  

व्यूस : 6941 | जुलाई 2012
अनिष्ट निवारक दक्षिणावर्ती शंख गोपाल राजू अनेकानेक धर्म-ग्रंथों में दक्षिणावर्ती शंख की गौरव-गाथा वर्णित है। परंतु दक्षिणावर्ती शंख का कल्प प्रयोग आश्चर्यजनक और अद्वितीय सफलता प्रदान करता है तथा बहुविध अनिष्टों का निवारण करता है। जानिए इस लेख में इस शंख की कल्प विधि, पूजा सामग्री, पूजन विधि तथा ध्यान मंत्रों के बारे में ताकि आप उनका पूरा लाभ प्राप्त कर सकें। दक्षिणावर्ती शंख कल्प में लिखा है- जिस घर में यह शंख रहता है वह कभी भी धन-धान्य से रिक्त नहीं रहता। भगवान विष्णु का आयुध होने के कारण यह अत्यंत मंगलकारी है। जिस परिवार में शास्त्रोक्त उपायों द्वारा इसकी स्थापना की जाती है, वहां भूत, प्रेत, पिषाच, ब्रह्मराक्षस द्वारा पहुचाये जा रहे दुर्भिक्षों का स्वतः ही समाधान होने लगता है। शत्रु-पक्ष कितना भी बलषाली क्यों न हो, इसके प्रभाव से हानि नहीं पहंुचा पाता। इसके प्रभाव से दुर्घटना, मृत्यु-भय, चोरी आदि से रक्षा होती है। दक्षिणावर्ती शंख की महिमा अनेक प्रामाणिक ग्रंथों में मिलती है। महाभारत में सभी योद्धाओं ने युद्ध-घोष के लिए अलग-अलग शंख बजाये थे। गीता में इस विषय में लिखा है - श्री कृष्ण भगवान ने पांचजन्य, अर्जुन ने देवदत्त, भीम सेन ने पौंड्र शंख बजाया था। युधिष्ठिर ने अनंत-विजय, नकुल ने सुघोष एवं सहदेव ने मणिपुष्पक नामक शंख बजाया था। पुलस्त्य संहिता में वर्णित है- लक्ष्मी को प्राप्त करना और उसे स्थाई रुप से निवास देने का एक मात्र प्रयोग दक्षिणावर्ती शंख प्रयोग ही है, जो कि अपने में आष्चर्यजनक रुप से धन देने में समर्थ है। इसके प्रयोग से ऋण, दरिद्रता तथा रोग आदि मिट जाता है तथा हर प्रकार से संपन्नता आने लगती है। विष्वामित्र संहिता में वर्णन आता है- दक्षिणावर्ती शंख कल्प प्रयोग से जो सफलता मिलती है, वह आष्चर्यजनक रुप से अद्वितीय है। धन वर्षा करने और सुख, समृद्धि प्रदान करने में इसकी तो कोई तुलना ही नहीं है। गौरक्ष संहिता में लिखा है- दक्षिणावर्ती शंख कल्प प्रयोग एक श्रेष्ठ तांत्रिक प्रयोग है। इसका प्रभाव तुरंत तथा अचूक होता है। मार्कन्डेय पुराण के अनुसार - भगवती लक्ष्मी के सभी प्रयोगों में दक्षिणावर्ती शंख प्रयोग ही सर्वाधिक प्रामाणिक व धनवर्षा करने में समर्थ है। इसका प्रयोग उज्जवल रत्नों का सागर है। लक्ष्मी संहिता में लिखा है- सभी प्रकार से दरिद्रता, दुःख, अभाव, रोग आदि को मिटाने में दक्षिणावर्ती कल्प प्रयोग आष्चर्यजनक रुप से सफलता प्रदान करता है। विष्णुपुराण के अनुसार- समुद्र मंथन से प्राप्त 14 रत्नों में शंख माता लक्ष्मी का सहोदर भाई है। अतः जहां शंख है, वही लक्ष्मी का वास है। स्वर्ग लोक में अष्ट सिद्धियों एवं नवनिध् िायों में भी शंख का स्थान महत्वपूर्ण है। धार्मिक कृत्यों, अनुष्ठान-साधना, तांत्रिक क्रियाओं आदि में शंख का प्रयोग सर्वविदित है। परंतु विडम्बना है कि सामान्यतः खंडित शंख मिलते हैं जिनका हम उचित प्रयोग नहीं कर पाते हंै। परिणामतः हमें वांछित फल भी नहीं मिल पाते हैं। शंख अनेक नामों से मिलते हैं। जैस लक्ष्मी शंख, गौमुखी शंख, कामधेनु शंख, विष्णु शंख, देव शंख, चक्र शंख, पौंड्र शंख, सुघोष शंख, मणिपुष्पक शंख, राक्षस शंख, शेषनाग शंख, शनि, राहु, केतु आदि शंख। आकृति के अनुसार इन्हें तीन श्रेणियों में रखा गया है- दक्षिणावर्ती शंख अर्थात् दायें हाथ से पकड़ा जाने वाला, वामावर्ती अर्थात् वायें हाथ से पकड़ा जाने वाला तथा मध्यावर्ती अर्थात् बीच में खुले मुह वाला शंख। अपने चमत्कारिक गुणों के कारण दक्षिणावर्ती तथा मध्यावर्ती शंख सरलता से नहीं मिल पाते। सौभाग्य से यदि आपको निर्दोष शंख मिल जाए तो उसे किसी शुभ मुहूर्त में गंगा जल, गौघृत, कच्चा दूध, मधु, गुड़ आदि से अभिषेक करके अपने पूजा स्थल में लाल कपड़े के आसन पर स्थापित कर लीजिए। इससे लक्ष्मी का चिर स्थाई निवास बना रहेगा। यदि लक्ष्मी जी की विषेष कृपा के आप अभिलाषी हैं तो दक्षिणावर्ती शंख का जोड़ा अर्थात् नर और मादा दो शंखों को देव प्रतिमा के सम्मुख स्थापित कर लें। शंख की विभिन्न प्रजातियों के अनुरुप शास्त्रों में विभिन्न प्रयोजनों की व्याख्या मिलती है। यथानाम अन्नपूर्णा शंख घर में धन-धान्य की वृद्धि करता है। मणिपुष्पक तथा पांचजन्य शंख से भवन के विभिन्न वास्तु दोषों का निवारण होता है। ऐसे शंख में जल भर कर भवन में छिड़कने से सौभाग्य का आगमन होता है। गणेष शंख में रखा हुआ जल सेवन करने से अनेक रोगों का शमन होता है। विष्णु नामक शंख से कार्य स्थल में छिड़काव करने से उन्नति के अवसर बनने लगते हैं। जो साधक दक्षिणावर्ती शंख कल्प करना चाहते हैं, वे सरल-सा यह प्रयोग करके देखें, उनको आषातीत लाभ अवष्य ही मिलेगा। पूजा सामग्री: मुख्य सामग्री तो निर्दोष तथा पवित्र शंख ही है। इसके अतिरिक्त शुद्ध घी का दीपक, अगरबत्ती, कुमकुम, केसर, चावल, जल का पात्र, पुष्प, कच्चा दूध, चांदी का वर्क, इत्र, कपूर तथा नैवैद्य अर्थात् प्रसाद की व्यवस्था पूर्व में करके रख लें। पूजन विधि: शुभ मुहूर्त में प्रातः स्नान कर शुद्ध वस्त्र धारण करें। एक पात्र में सामने शंख रख लें। उसे दूध तथा जल से स्नान कराएं। साफ कपडे़ से उसे पोंछ कर उस पर चांदी का वर्क लगाएं। घी का दीपक जला कर अगरबत्ती जला लें। दूध तथा केसर मिश्रित घोल से शंख पर ‘श्रीं’ एकाक्षरी मंत्र लिख कर उसे तांबे अथवा चांदी के पात्र में स्थापित कर दें। अब निम्न मंत्र का जप करते हुए इस पर कुमकुम चावल तथा इत्र अर्पित करें। श्वेत पुष्प शंख पर चढ़ा कर प्रसाद भोग के रुप में अर्पित करें। मंत्र- ऊं श्रीं क्लीं श्रीधर करस्थायपयोनिधि जाताय श्री दक्षिणावर्ती शंखाय ऊं श्रीं क्लीं श्रीकराय पूज्याय नमः।। अब मन, क्रम तथा वचन से शंख का ध्यान करें। ध्यान मंत्र- ऊं श्रीं क्लीं ब्लूं दक्षिणावर्तीशंखाय भगवते विष्वरुपाय सर्वयोगीष्वराय त्रैलोक्यनाथाय सर्वकामप्रदाय सर्वद्धि समृद्धि वांछितार्थसिद्धिदाय नमः। ¬ सर्वाभरण भूषिताय प्रषस्यांगोपांगसंयुताय कल्पवृक्षाधः - स्थिताय कामधेनु - चिन्तामणि - नवनिधिरुपाय चतुर्दषरत्नपरिवृताय महासिद्धि - संहिताय लक्ष्मीदेवतायुताय कृष्ण् ादेवताकर ललिताय- श्री शंखमहानिध् ाये नमः। ध्यान मंत्र ही आवाहन मंत्र है अर्थात् स्तुति मंत्र है। इसके साथ 11 माला बीज मंत्र अथवा पांचजन्य गायत्री शंख मंत्र की जपना आवष्यक है। बीज मंत्र- ऊं श्रीं क्लीं ब्लूं दक्षिणमुखाय शंख निध् ाये समुद्रप्रभवाय नमः। शंख गायत्री मंत्र- पांचजन्याय विद्महे। पावमानाय धीमहि। तन्नो शंखः प्रचोदयात्। ऋद्धि-सिद्धि तथा सुख-समृद्धि के लिए एक बहुत ही सरल सा प्रयोग है। यदि आपके पास कोई दक्षिणावर्ती शंख है तो उसका उपरोक्त ध्यान मंत्र से पूजन कर लें। गायत्री अथवा बीज मंत्र अथवा दोनों मंत्र शंख के सामने बैठ कर जपते रहें। एक मंत्र पूरा होने पर शंख में ठीक अग्नि में सामग्री होम करने की तरह चावल तथा नाग केसर दांये हाथ के अंगूठे तथा मध्यमा तथा अनामिका उंगली से छोड़ते रहें। जब शंख भर जाए तो उसे घर में स्थापित कर लें। ध्यान रखें कि शंख की पूंछ उत्तर-पूर्व दिषा की ओर रहे। किसी शुभ मुहूर्त अथवा दीवाली से पूर्व धन त्रयोदषी के दिन पुराने चावल तथा नागकेसर उपरोक्त विधि से पुनः बदल लिया करें। इस प्रकार सिद्ध किया हुआ शंख लाल कपड़े में लपेट कर धन, आभूषण आदि रखने के स्थान पर स्थापित करने से जीवन के हर क्षेत्र में निरंतर श्री की प्राप्ति होने लगती है।

Ask a Question?

Some problems are too personal to share via a written consultation! No matter what kind of predicament it is that you face, the Talk to an Astrologer service at Future Point aims to get you out of all your misery at once.

SHARE YOUR PROBLEM, GET SOLUTIONS

  • Health

  • Family

  • Marriage

  • Career

  • Finance

  • Business

यंत्र, शंख एवं दुर्लभ सामग्री विशेषांक  जुलाई 2012

फ्यूचर समाचार पत्रिका के यंत्र शंख एवं दुर्लभ सामग्री विशेषांक में शंख प्रश्नोत्तरी, यंत्र परिचय, रहस्य, वर्गीकरण, महिमा, शिवशक्ति से संबंध, विश्लेषण तथा यंत्र संबंधी अनिवार्यताओं पर प्रकाश डाला गया है। इसके अतिरिक्त श्रीयंत्र का अंतर्निहित रहस्य, नवग्रह यंत्र व रोग निवारक तेल, दक्षिणावर्ती शंख के लाभ, पिरामिड यंत्र, यंत्र कार्य प्रणाली और प्रभाव, कष्टनिवारक बहुप्रभावी यंत्र, औषधिस्नान से ग्रह पीड़ा निवारण, शंख है नाद ब्रह्म एवं दिव्य मंत्र, बहुत गुण है शंख में, अनिष्टनिवारक दक्षिणावर्ती शंख, दुर्लभ वनस्पति परिचय एवं प्रयोग, शंख विविध लाभ अनेक आदि विषयों पर विस्तृत, ज्ञानवर्द्धक व अत्यंत रोचक जानकारी दी गई है। इसके अतिरिक्त क्या नरेंद्र मोदी बनेंगे प्रधानमंत्री, प्रमुख तीर्थ कामाख्या, विभिन्न धर्म एवं ज्योतिषीय उपाय, फलादेश प्रक्रिया की आम त्रुटियां, नवरत्न, वास्तु परामर्श, वास्तु प्रश्नोतरी, विवादित वास्तु, यंत्र समीक्षा/मंत्र ज्ञान, हेल्थ कैप्सुल, लाल किताब, ज्योतिष सामग्री, सम्मोहन, सत्यकथा, आदि विषयों को भी शामिल किया गया है।

सब्सक्राइब


.