यंत्र सम्बन्धी अनिवार्यताएं

यंत्र सम्बन्धी अनिवार्यताएं  

यंत्र संबंधी अनिवार्यताएं यंत्र में देवताओं का निवास होता है यंत्र में देवता का वास न होने पर वह मात्र धातु का एक टुकड़ा या निर्जीव पदार्थ ही बनकर रह जाता है। यदि यंत्र की आकृति गलत हो अथवा उसमें अन्य किसी प्रकार की त्रुटि हो तो अधिकतम निवेदन करने पर भी देवता उस यंत्र से प्रसन्न नहीं होते जिस कारण उस यंत्र में चमत्कारी शक्ति का प्रवेश नहीं हो पाता। यंत्रों का लाभ प्राप्त करने के लिए उन्हें उर्जान्वित करना अतिआवश्यक होता है। केवल ऊर्जायुक्त यंत्र ही जीवन को सफल और समृद्ध बना सकता है और उसके लिए कुछ दिशा निर्देशों का पालन करना बाध्यकारी होता है। यंत्रों का प्रयोग करने की सरल विधि: जब हम यंत्र की पूजा करते हैं, हम अपनी इच्छाओं, अभीष्ट व आकांक्षाओं की पूर्ति हेतु दैवी सहायता मांगते हैं। परम आस्था, श्रद्धा एवं पूर्ण विश्वास से की गई यंत्र पूजा ही, बाधाएं दूर करके हमें स्वास्थ्य, सुखी व समृद्ध जीवन तथा मार्गदर्शन देती है। यंत्र की स्थापना प्राण प्रतिष्ठा एवं उसे हितकारी बनाने संबंधी दिशापूर्ण निर्देश इस प्रकार हैं- Û सर्वप्रथम अपना शरीर पवित्र करें व चितवृŸिा को सकारात्मक बनाएं। पूर्व अथवा उŸार की ओर मुख करके आसन पर विराजमान हों। पूजा की चैकी पर नया कोरा लाल वस्त्र बिछाएं। यंत्र खोलें व उसे चैकी पर रखें। साथ ही प्रसादी भी रखें। सुगंध अथवा दीपक जलाएं। उसके सामने ताजे फूल रखें। तांबे अथवा मिट्टी का कलश लें, आम के ताजे पŸो उसके मुख पर चारों ओर लगाकर बीच में नारियल रखें। नारियल के चारों ओर मौली बांधें। एक ताजे पŸो में जल लेकर अपने ऊपर व पूजा की चैकी के चारों ओर छिड़कें। अपनी कलाई पर मौली (कलावा) बांधें तथा माथे पर रोली व चावल का तिलक लगाएं। अपनी आंखें बंदकर यंत्र पर एकाग्र चिŸा से ध्यान लगाएं, अपनी इच्छापूर्ति हेतु, आशीर्वाद हेतु आशीर्वाद मांगें, यंत्र से संबंधित मंत्रोच्चारण करें अथवा 108 बार गुरु मंत्र का जप करें। कुछ समय पश्चात आपको लगेगा कि आपकी मनः स्थिति एक उन्न्ात धरातल पर है क्योंकि यंत्र की दिव्य शक्ति आपके जीवन को दिशा देने हेतु एक प्रकाश स्तम्भ बन चुकी है।



यंत्र, शंख एवं दुर्लभ सामग्री विशेषांक  जुलाई 2012

फ्यूचर समाचार पत्रिका के यंत्र शंख एवं दुर्लभ सामग्री विशेषांक में शंख प्रश्नोत्तरी, यंत्र परिचय, रहस्य, वर्गीकरण, महिमा, शिवशक्ति से संबंध, विश्लेषण तथा यंत्र संबंधी अनिवार्यताओं पर प्रकाश डाला गया है। इसके अतिरिक्त श्रीयंत्र का अंतर्निहित रहस्य, नवग्रह यंत्र व रोग निवारक तेल, दक्षिणावर्ती शंख के लाभ, पिरामिड यंत्र, यंत्र कार्य प्रणाली और प्रभाव, कष्टनिवारक बहुप्रभावी यंत्र, औषधिस्नान से ग्रह पीड़ा निवारण, शंख है नाद ब्रह्म एवं दिव्य मंत्र, बहुत गुण है शंख में, अनिष्टनिवारक दक्षिणावर्ती शंख, दुर्लभ वनस्पति परिचय एवं प्रयोग, शंख विविध लाभ अनेक आदि विषयों पर विस्तृत, ज्ञानवर्द्धक व अत्यंत रोचक जानकारी दी गई है। इसके अतिरिक्त क्या नरेंद्र मोदी बनेंगे प्रधानमंत्री, प्रमुख तीर्थ कामाख्या, विभिन्न धर्म एवं ज्योतिषीय उपाय, फलादेश प्रक्रिया की आम त्रुटियां, नवरत्न, वास्तु परामर्श, वास्तु प्रश्नोतरी, विवादित वास्तु, यंत्र समीक्षा/मंत्र ज्ञान, हेल्थ कैप्सुल, लाल किताब, ज्योतिष सामग्री, सम्मोहन, सत्यकथा, आदि विषयों को भी शामिल किया गया है।

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.