नैऋत्य-अत्यधिक महत्वपूर्ण स्थान

नैऋत्य-अत्यधिक महत्वपूर्ण स्थान  

नैत्य-अत्यधिक महत्वपूर्ण स्थान पिछले माह पंडित जी आगरा के एक व्यापारी के यहां वास्तु परीक्षण करने गये। उनसे मिलने पर पता चला कि वह अपने जीवन में इतने उतार-चढ़ाव देख चुके हैं कि अब हिम्मत हौसला जवाब दे गया है। उन्होंने अपनी पत्नी व मां को एक सड़क दुर्घटना में खो दिया था। दो पुत्र एवं एक पुत्री है। पुत्रों के सुख में भी कमी बनी हुई है। विवाहित बड़ा पुत्र आर्थिक समस्याओं से जूझ रहा है तो छोटे पुत्र की विवाहित जिंदगी में ग्रहण लगा है। पहली पत्नी से तलाक हो गया है। परन्तु दोनों बच्चों के लिए मुकदमेबाजी चल रही है। दोनों भाई मिलकर व्यापार संभाल रहे थे पर आपस में किसी न किसी बात को लेकर झगड़ते रहते हैं। भाइयों के जीवन में परेशानियों की वजह से देहली में विवाहित बहन को भी मानसिक तनाव बना रहता है। व्यापार में भी नुकसान, मुकदमेबाजी तथा कोई न कोई समस्या बनी रहती है। वास्तु परीक्षण करने पर पाए गए वास्तु दोष: दक्षिण-पश्चिम के फर्श का लैवल बाकी सभी दिशाओं से नीचा था, जो कि दुघर्टना एवं मुकदमेबाजी का कारण होता है। बिल्डिंग का दक्षिण-पश्चिम का कोना कटा हुआ था, जो कि घर के मालिक के जीवन में खुशियों के कटने का कारण होता है। जीवन में स्थिरता की कमी रहती है। दुर्घटना हो सकती है। दक्षिण-पश्चिम में दो गढ्ढे थे, जो कि अनचाहे खर्चे तथा जीवन में गंभीर आर्थिक समस्याओं का कारण होता है। दक्षिण-पश्चिम में जैनरेटर रखा था, जो कि आर्थिक हानि एवं मानसिक तनाव का कारण होता है। दक्षिण-पश्चिम में मुख्य द्वार था, जो कि मालिक को घर से दूर रखता है अर्थात उसका घर से मन उचाट रहता है और अनावश्यक खर्चों का भी कारण होता है। पूर्व में लोहे की सीढ़ी बनी थी। इस दिशा में मैटल होने से विकास में अवरोध उत्पन्न होता है। ब्रह्मस्थान पर भारी स्टोर तथा शौचालय बना था, जो कि खर्चे, बीमारी तथा सभी ओर से विकास में बाधक होता है। उत्तर में रसोई थी जो कि घर में वैचारिक मतभेद, लड़ाई-झगड़े या भारी खर्च का कारण होती है। रसोई के बाहर दक्षिण की दीवार पर बड़ा सा शीशा लगा था जिससे अनावश्यक खर्चे व बीमारी घर में रहती है। दक्षिण में सैप्टिक टैंक था, जो कि व्यापार में हानि का कारण होता है। सुझाव: दक्षिण-पश्चिम के कोने में फर्श के ऊपर प्लेटफार्म बनाने को कहा गया तथा उसके ऊपर भारी स्टोर बनाने की सलाह दी गई। दक्षिण-पश्चिम के कोने को कवर करने को कहा गया तथा उसे सभी दिशाओं से ऊंचा करने की सलाह दी गई। दक्षिण-पश्चिम में बने गढ्ढों को तुरंत भरने की सलाह दी गई। दक्षिण-पश्चिम में रखे जैनरेटर को दक्षिण में करवाया गया। दक्षिण-पश्चिम में मुख्य द्वार को छोटा करके केवल पश्चिम की ओर छोटे गेट से आने की सलाह दी गई तथा दक्षिण-पश्चिम में ऊंची दीवार बनाने को कहा गया। पूर्व में बनी लोहे की सीढ़ी की जगह लकड़ी की सीढ़ी लगाने की सलाह दी गई। ब्रह्मस्थान से शौचालय व स्टोर हटाने की सलाह दी तथा शौचालय दक्षिण की ओर द्वार के पास बनवाने को कहा गया। रसोईघर को पश्चिम की ओर बने बैठक की जगह बनाने की सलाह दी गई तथा ज्यादा जगह होने से स्टोर भी वहीं बनाने को कहा गया। दक्षिण में लगे शीशे को उत्तर-पूर्व की दीवार पर लगवाया गया। सैप्टिक टैंक को तुरंत हटाना संभव नहीं था इसलिए उन्हें टैंक के कवर के नीचे के हिस्से में लाल तथा ऊपर पीला पेंट करने की सलाह दी गई जिससे उसकी नकारात्मक ऊर्जा कम हो सके। पंडित जी ने उन्हें आश्वासन देते हुए कहा कि सभी सुझावों का कार्यान्वित करने के पश्चात उन्हें अवश्य ही काफी लाभ मिलेगा तथा उनके जीवन में स्थिरता तथा खुशी का आगमन होगा।



यंत्र, शंख एवं दुर्लभ सामग्री विशेषांक  जुलाई 2012

फ्यूचर समाचार पत्रिका के यंत्र शंख एवं दुर्लभ सामग्री विशेषांक में शंख प्रश्नोत्तरी, यंत्र परिचय, रहस्य, वर्गीकरण, महिमा, शिवशक्ति से संबंध, विश्लेषण तथा यंत्र संबंधी अनिवार्यताओं पर प्रकाश डाला गया है। इसके अतिरिक्त श्रीयंत्र का अंतर्निहित रहस्य, नवग्रह यंत्र व रोग निवारक तेल, दक्षिणावर्ती शंख के लाभ, पिरामिड यंत्र, यंत्र कार्य प्रणाली और प्रभाव, कष्टनिवारक बहुप्रभावी यंत्र, औषधिस्नान से ग्रह पीड़ा निवारण, शंख है नाद ब्रह्म एवं दिव्य मंत्र, बहुत गुण है शंख में, अनिष्टनिवारक दक्षिणावर्ती शंख, दुर्लभ वनस्पति परिचय एवं प्रयोग, शंख विविध लाभ अनेक आदि विषयों पर विस्तृत, ज्ञानवर्द्धक व अत्यंत रोचक जानकारी दी गई है। इसके अतिरिक्त क्या नरेंद्र मोदी बनेंगे प्रधानमंत्री, प्रमुख तीर्थ कामाख्या, विभिन्न धर्म एवं ज्योतिषीय उपाय, फलादेश प्रक्रिया की आम त्रुटियां, नवरत्न, वास्तु परामर्श, वास्तु प्रश्नोतरी, विवादित वास्तु, यंत्र समीक्षा/मंत्र ज्ञान, हेल्थ कैप्सुल, लाल किताब, ज्योतिष सामग्री, सम्मोहन, सत्यकथा, आदि विषयों को भी शामिल किया गया है।

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.