तंत्र शास्त्र : प्रक्रित्यानुरूप उपासना एवं प्राप्तियां

तंत्र शास्त्र : प्रक्रित्यानुरूप उपासना एवं प्राप्तियां  

तंत्र शास्त्र के सभी गं्रथों का मुख्य उद्देश्य सिद्धि लाभ तथा महाकाली, महालक्ष्मी तथा महासरस्वती की अनुग्रह प्राप्ति ही है। इसीलिये शक्ति की उपासना की जाती है। आसुरी प्रकृति वाले व्यक्ति उसे मांस-मद्य आदि से पूजते हैं। उससे उन्हें उसी प्रकार की मारण, उच्चाटन आदि आसुरी सिद्धियां ही प्राप्त होती हैं। दैवी प्रकृति यानी सात्विक भाव वाले व्यक्ति उसकी पंचोपचार उपासना गंध-पुष्प आदि पदार्थों तथा जप, ध्यानादि निर्मल साधनों से करते हैं जिससे उन्हें दिव्य सिद्धियां (अष्ट सिद्धियां अणिमा, महिमा, गरिमा, लघिमा, प्राप्ति, इशिता, वशिता तथा प्राकाम्या) प्राप्त हो जाती हैं जो साधक की सभी बाधाओं का निराकरण तंत्र शास्त्र: प्रकृत्यानुरूप उपासना एवं प्राप्तियां करके उसे अंत में जीवन्मुक्ति प्रदान करती हैं। इसके अतिरिक्त जहां तक राजसी भाव का प्रश्न है, ऐसे भाव की प्रधानता वाले साधकों की साधना-यात्रा केवल इस प्रत्यक्ष लोक अर्थात् पृथ्वी और उसकी परिधि में आने वाले क्षेत्रों में स्थित सीमित एवं क्षीयमान व नाशवान अनित्य आधिभौतिक सुखों की प्राप्ति और निरंतर उपलब्धि तक सीमित रहती है। इसीलिये वे अपनी संपूर्ण मनः शक्ति का प्रयोग षोड़शोपचारयुक्त राजसी वैभवपूर्ण आडम्बरों से परिपूर्ण यज्ञ पूजनादि उपासना का आश्रय लेते हैं और इस लोक का सब कुछ प्राप्त कर लेते हैं परंतु दिव्य प्राप्तियों से सर्वदा दूर ही रहते हैं।



दीपावली विशेषांक  October 2017

फ्यूचर समाचार का अक्टूबर का विशेषांक पूर्ण रूप से दीपावली व धन की देवी लक्ष्मी को समर्पित विशेषांक है। इस विशेषांक के माध्यम से आप दीपावली व लक्ष्मी जी पर लिखे हुए ज्ञानवर्धक आलेखों का लाभ ले सकते हैं। इन लेखों के माध्यम से आप, लक्ष्मी को कैसे प्रसन्न करें व धन प्राप्ति के उपाय आदि के बारे में जान सकते हैं। कुछ महत्वपूर्ण लेख जो इस विशेषांक में सम्मिलित किए गये हैं, वह इस प्रकार हैं- व्रत-पर्व, करवा चैथ व्रत, दीपावली एक महान राष्ट्रीय पर्व, दीपावली पर ‘श्री सूक्त’ का विशिष्ट अनुष्ठान, धन प्राप्त करने के अचूक उपाय, दीपावली पर करें सिद्ध विशेष धन समृद्धि प्रदायक मंत्र एवं उपाय, आपका नाम, धन और दिवाली के उपाय, दीपावली पर कैसे करें लक्ष्मी को प्रसन्न, शास्त्रीय धन योग आदि।

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.