तंत्र में प्रयुक्त शब्दों की धारक -मारक शक्ति

तंत्र में प्रयुक्त शब्दों की धारक -मारक शक्ति  

तंत्र में प्रयुक्त शब्दों की धारक-म6 ाअरगस्कत शक्ति तंत्र के छः प्रयोगों - मारण, वशीकरण उच्चाटन आदि छः कार्मिक प्रयोगों में कुछ मनोवृत्तिसूचक सांकेतिक शब्दों का प्रयोग किया जाता है। ये शब्द हैं - नमः, स्वाहा, वषट् वौषट्, हुम् और फट्। अंतः करण की शांत अवस्था में नमः शब्द का प्रयोग किया जाता है। वस्तुतः सारी भीषण, घातक और अपकारी शक्तियां विनय के सामने नत्मस्तक हो जाती हैं। इस मनोवृत्ति से साधक अपने शत्रुओं की सारी विरोधी भावनाओं को हटाकर उनपर अपना अधिकार जमाकर उनका नियंत्रक बन जाता है। ‘स्वाहा’ शब्द व्यक्ति की यथा शक्ति दूसरे के परोपकार के लक्ष्य की प्राप्ति के लिये अपने सभी लौकिक व आध्यात्मिक साधनों को लगा देने अर्थात् उसके लिये अपना सबकुछ झोंक देने की भावना को व्यक्त करता है। वस्तुतः यही सही शिव भाव है। बषट्: शब्द से अन्तःकरण की जो वृत्ति परिलक्षित होती है उसमें अपने शत्रुओं के संबंधियों का अनिष्ट साधन करने अर्थात् उन का प्राण हरण कर लेने तक की भावना रहती है। जबकि वौषट् शब्द अपने शत्रुओं के हृदयांे में एक दूसरे के प्रति द्वेष उत्पन्न करके, उन्हें उनके अनिष्टकारी कार्यों में संयुक्त प्रयास से हटाकर उन्हें व्यक्ति के स्तर पर एकाकी छोड़ देने के भाव को व्यक्त करता है। इससे शत्रुओं की एकजुट होकर कार्य करने वाली शक्ति छिन्न-भिन्न होकर निष्फल हो जाती है। ‘हुम’् शब्द उस क्रोध को अभिव्यक्त करता है जो व्यक्ति के सर्वविध बल के प्रयोग द्वारा अपने शत्रुओं को उनके स्थान अर्थात् अपने लक्ष्य से हटा देने के भाव से उत्पन्न होता है। यह भाव महाकाली के शस्त्रधारी संहारकारी स्वरूप को भी प्रगट करता है। ‘फट्’ शब्द स्वयं सक्रिय शस्त्र प्रयोग द्वारा शत्रु का समूल विनाश कर देने वाले भाव का परिचायक है जो साक्षात् रुद्र की उस विनाशकारी शक्ति का प्रतीक है जिसका प्रयोजन नव-निर्माण के लिये, अप्रासंगिक और प्रयोजन विहीन खंडहरों का समूल उच्छेदन करके, नये धरातल की व्यवस्था करना है। इन छह शब्दों में ब्रह्मा, विष्णु व महेश की महासरस्वती, महालक्ष्मी और महाकाली नामक शक्तियों का समावेश है जो साधक के मन के स्तर पर उतर कर उसे अपने लक्ष्य के लिये संपूर्ण एकाग्र भाव से परिपूरित कर देती है तथा साध्य प्राप्ति के क्षण तक उसे चैन से बैठने नहीं देती।



तंत्र एवं दश महाविद्या विशेषांक  अकतूबर 2012

फ्यूचर समाचार पत्रिका के तंत्र एवं दशमहाविद्या विशेषांक में दस महाविद्याओं का संक्षिप्त परिचय व मंत्र, तंत्र एवं दस महाविद्या, तंत्र में प्रयुक्त शब्दों की धारक मारक शक्ति, शिव शक्ति का साक्षात श्री विग्रह श्रीयंत्र, तंत्र का आरंभि अर्थ एवं अंतिम लक्ष्य, तंत्र मंत्र अभिन्न संबंध, तंत्र परिभाषा एवं महत्वपूर्ण प्रयोग, दैनिक जीवन में तंत्र, दश महाविद्याओं का लौकिक एवं आध्यात्मिक विवेचन तथा इनके प्रसिद्ध शक्ति पीठों की जानकारी, तंत्र व् महाविद्या की प्राचीनता, मूल एवं विकास के विभिन्न प्रक्रम, तंत्र के अधिपति देव एवं मूल अधिष्ठात्री देवी, दश महाविद्या रहस्य, इसके अतिरिक्त तंत्र की शिक्षा भूमि तारापीठ, फलादेश में अंकशास्त्र की भूमिका, वास्तु परामर्श, वास्तु प्रश्नोतरी, विवादित वास्तु, यंत्र समीक्षा/मंत्र ज्ञान, हेल्थ कैप्सुल, लाल किताब, ज्योतिष सामग्री, मंत्र चिकित्सा, सम्मोहन, मुहूर्त विचार, टैरो कार्ड, सत्यकथा, अंक ज्योतिष के रहस्य, आदि विषयों पर गहन चर्चा की गई है।

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.