शनि ग्रह की शुभता के लिए उपाय

शनि ग्रह की शुभता के लिए उपाय  

शनि ग्रह की शुभता के लिए उपाय आचार्य रमेश शास्त्राी जन्मकुंडली अथवा गोचर के अशुभ शनि या शनि की दशा-अंतर्दशा की पीड़ा से प्रभावित जनों को तात्कालिक लाभ एवं प्रगति के लिए सदाचार, सद्व्यवहार व धर्म आदि को अपनी दिनचर्या में आवश्यक रूप से शामिल करना चाहिए। शनि की साढ़ेसाती, ढैया, विंशोत्तरी महादशा। आदि की अशुभता के प्रभाव को समाप्त करने के लिए शनि के तन्त्रोक्त अथवा वेदोक्त मंत्र का जप आदि भी लाभदायक होता है। किसी भी रूप में शनि से प्रभावित लोग जीवन में शनि की अनुकूलता व कृपा प्राप्त करने के लिए निम्न रत्न, यंत्र, मंत्र आदि उपाय करके सुख-समृद्धि हासिल कर सकते हैं। शनि यंत्र: यह यंत्र ताम्रपत्र निर्मित होता है। यदि शनि ग्रह की अशुभता के कारण अनावश्यक उपद्रव, धन खर्च, आदि हो रहा हो ऐसी परिस्थितियों में इस यंत्र की विधिपूर्वक प्राण प्रतिष्ठा करके नित्य धूप-दीप दिखाएं व पूजन करें। फिर रुद्राक्ष की माला पर शनि बीज मंत्र का 108 बार जप करें। यदि यंत्र की पूजा न कर सकें तो शनि ग्रह का लाॅकेट धारण कर सकते हैं। शनि रत्न नीलम यह रत्न शनि ग्रह की शुभता के लिए धारण किया जाता है। इसे शनि ग्रह की महादशा या अंतर्दशा में धारण कर सकते हैं, परंतु इसे धारण करने से पूर्व किसी सुयोग्य अनुभवी ज्योतिषी से परामर्श जरूर लें। शनि उपरत्न नीली: यह रत्न शनि ग्रह का उपरत्न माना जाता है। यदि आप नीलम धारण करने में असमर्थ हांे तो इस रत्न की अंगूठी अथवा लाॅकेट शनिवार को धारण कर सकते हैं। इसे धारण करने से शनि ग्रह के अशुभ प्रभावों का शमन होता है। शनि कवच: यह कवच सात मुखी रुद्राक्ष एवं शनि ग्रह के उपरत्न नीली के संयुक्त मेल से बना होता है। शनि की साढ़ेसाती, ढैया, महादशा, अंतर्दशा से स आचार्य रमेश शास्त्राी, दिल्ली पीड़ित अथवा कुंभ एवं मकर राशि वाले व्यक्ति इस कवच को धारण कर सकते हैं। इस कवच को धारण करने से शनि जन्य अशुभ फलों में न्यूनता आती है। लोहे का छल्ला ः यह छल्ला शनि ग्रह की अनुकूलता के लिए शनिवार को स ा य ं क ा ल गंगाजल, धूप, दीप आदि से पूजन व शनि मंत्र का 108 बार उच्चारण करके दायें हाथ की मध्यमा उंगली में धारण करना चाहिए। आप निम्न शनि मंत्रों में किसी भी मंत्र का अपनी सुविधा अनुसार जप कर सकते हैं- 1. वैदिक शनि मंत्र: शं नो देवीरभिष्टय आपो भवन्तु पीतये शं योरभि स्रवन्तु नः।। 2. शनि तत्रोक्त मंत्र: ¬ प्रां प्रीं प्रौं सः शनये नमः। 3. शनि लघु बीज: ¬ शं शनैश्चराय नमः।
क्या आपको लेख पसंद आया? पत्रिका की सदस्यता लें
shani grah ki shubhta ke lie upayacharya ramesh shastraijanmakundli athva gochar keashubh shani ya shani kidsha-antardasha ki pira seprabhavit janon ko tatkalik labhaevan pragti ke lie sadachar, sadvyavharav dharm adi ko apni dinacharya menavashyak rup se shamil karnachahie. shani ki sarhesati, dhaiya,vinshottari mahadsha. adi ki ashubhtake prabhav ko samapt karne ke lieshni ke tantrokt athva vedokt mantraka jap adi bhi labhdayak hota hai.kisi bhi rup men shani se prabhavitlog jivan men shani ki anukulta vakripa prapt karne ke lie nimn ratn,yantra, mantra adi upay karkesukh-samriddhi hasil kar sakte hain.shni yantra: yah yantra tamrapatra nirmithota hai. yadi shani grah ki ashubhtake karan anavashyak upadrav, dhan kharch,adi ho raha ho aisi paristhitiyon menis yantra ki vidhipurvak pran pratishthakrke nitya dhup-dip dikhaen v pujnkren. fir rudraksh ki mala par shanibij mantra ka 108 bar jap karen. yadiyantra ki puja n kar saken to shani grahka laeket dharan kar sakte hain.shni ratn nilamayah ratn shani grah ki shubhta ke liedharan kiya jata hai. ise shani grahki mahadsha ya antardasha men dharan karskte hain, parantu ise dharan karne se purvakisi suyogya anubhvi jyotishi sepramarsh jarur len.shni uparatn nili: yah ratn shanigrah ka uparatn mana jata hai. yadiap nilam dharan karne men asamarth haneto is ratn ki anguthi athva laeketshnivar ko dharan kar sakte hain. isedharan karne se shani grah ke ashubhaprabhavon ka shaman hota hai.shni kavch: yah kavach sat mukhirudraksh evan shani grah ke uparatn nili kesanyukt mel se bana hota hai. shani kisarhesati, dhaiya, mahadsha, antardasha ses acharya ramesh shastrai, dillipirit athva kunbh evan makar rashi valevyakti is kavach ko dharan kar saktehain. is kavach ko dharan karne se shanijanya ashubh falon men nyunta ati hai.lohe ka challaah yah challa shanigrah kianukulta kelie shanivar kos a y n k a lagangajal, dhup, dip adi se pujan vashni mantra ka 108 bar uchcharan karkedayen hath ki madhyama ungli men dharnkrna chahie.ap nimn shani mantron men kisi bhi mantraka apni suvidha anusar jap karskte hain-1. vaidik shani mantra: shan nodevirbhishtay apo bhavantu pitye shanyorbhi sravantu nah..2. shani tatrokt mantra: ¬ pran prin praunsah shanye namah.3. shani laghu bij: ¬ shanshnaishcharay namah.
क्या आपको लेख पसंद आया? पत्रिका की सदस्यता लें


शनि विशेषांक  जुलाई 2008

शनि का खगोलीय, ज्योतिषीय एवं पौराणिक स्वरूप, शनि की साढ़ेसाती, ढैय्या एवं दशा के प्रभाव, शनि के दुष्प्रभावों से बचने एवं उनकी कृपा प्राप्ति हेतु उपाय, शनि प्रधान जातकों के गुण एवं दोष, शनि शत्रु नहीं मित्र भी, एक संदर्भ में विवेचना

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.