कांवर यात्रा चाहे पूर्ण समर्पण

कांवर यात्रा चाहे पूर्ण समर्पण  

कांवर यात्रा चाहे पूर्ण समर्पण श्री गंगाजल से भगवान शिव का अभिषेक निश्चय ही सर्वश्रेष्ठ माना जाता है। तभी तो सामान्यतः श्रावण मास के आरंभ होते ही शिव भक्त अपने कंधे पर कांवर रखकर एक लंबी यात्रा पर निकल जाते हैं और हरिद्वार आदि पावन तीर्थों से गंगाजल लाकर श्रावण मास की शिवरात्री में शिवलिंग का अभिषेक करते हैं। परंतु भगवान शिव की प्रसन्नता व कृपा प्राप्त करने के लिये मीलों पैदल चलकर आने का जीवट ही पर्याप्त नहीं है बल्कि भगवान की प्रसन्नता प्राप्ति के लिये उस के पीछे जो मूल वस्तु छिपी है वह तो है बस हमारा उनके प्रति प्रेम और संपूर्ण समर्पण भाव जिसके बिना शिव भाव व शिवमयता का रंचमात्र भी आभास नहीं होता। अतः यदि वास्तव में हम भगवान शिव को प्रसन्न करना चाहते हैं तो कांवर यात्रा के दौरान हमें पूर्ण सात्विक भावना और शुद्ध सात्विक विचार रखने चाहिये तथा प्रतिदिन संकल्प करना चाहिये कि मैं क्रोध, अहंकार, असत्य से परे रहूंगा, प्रत्येक प्राण् ाीमात्र का सम्मान करूंगा और सभी में शिवरूप के दर्शन करूंगा और भगवान शिव के प्रति पूर्ण प्रीति और समर्पण के साथ यात्रा पूरी करूंगा। ऐसी भावना के साथ कांवरियां यदि गंगा जल लाकर भगवान शिव का अभिषेक करेंगे तो निश्चित ही भगवान आशुतोष सदैव सर्वविध कल्याण करेंगे।



कांवरिया विशेषांक  आगस्त 2012

फ्यूचर समाचार पत्रिका के कावंरिया विशेषांक में शिव पूजन और कावंर यात्रा की पौराणिकता, पूजाभिषेक यात्रा, कावंर की परंपरा, विदेशों में शिवलिंग पूजा, क्या कहता है चातुर्मास मंथन, कावंरियों का अतिप्रिय वैद्यनाथ धाम, शनि शांति के अचूक उपाय, सर्वोपयोगी कृपा यंत्र, रोजगार प्राप्त करने के उपाय, आदि लेखों को शामिल किया गया है। इसके अतिरिक्त वास्तु परामर्श, वास्तु प्रश्नोतरी, विवादित वास्तु, यंत्र समीक्षा/मंत्र ज्ञान, हेल्थ कैप्सुल, लाल किताब, ज्योतिष सामग्री, नंदा देवी राज जात, क्यों होता है अधिकमास, रोग एवं उपाय, श्रीगंगा नवमी, रक्षा बंधन, कृष्ण जन्माष्टमी व्रत, धार्मिक क्रिया कलापों का वैज्ञानिक आधार, सम्मोहन, मुहूर्त विचार, पिरामिड एवं वास्तु, सत्यकथा, सर्वोपयोगी कृपा यंत्र, आदि विषयों पर गहन चर्चा की गई है।

सब्सक्राइब

अपने विचार व्यक्त करें

blog comments powered by Disqus
.